विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप : आकाश सांगवान ने पहला मुकाबला जीता

नई दिल्ली :  भारतीय मुक्केबाज आकाश सांगवान (67 किग्रा) ने यहां चल रही एआईबीए पुरुष विश्व चैंपियनशिप के पहले मुकाबले में तुर्की के फुरकान एडम पर 5-0 की आसान जीत से दूसरे दौर में प्रवेश किया।


मौजूदा राष्ट्रीय चैंपियन फुरकान का अगला मुकाबला जर्मनी के डेनियल क्रोटर से होगा जिन्हें पहले दौर में बाइ मिली है। कल रात खेले गये मुकाबले में भारतीय मुक्केबाज ने शुरू से एडम पर दबदबा बनाकर एकतरफा जीत हासिल की।


इससे पहले रोहित मोर (57 किग्रा) ने इक्वाडोर के जीन कैसेडो को 5-0 से हराया था। उनका अगला मुकाबला बोस्निया हर्जेगोविना के एलन राहिमिच से होगा।


एशियाई चैंपियन संजीत (92 किग्रा) और सचिन कुमार (80 किग्रा) को पहले दौर में बाइ मिली है।


सचिन 30 अक्टूबर को दूसरे दौर में अमेरिका के रॉबी गोंजालेज जबकि संजीत 29 अक्टूबर को रूस के आंद्रे स्तोस्की से भिड़ेंगे।


इस चैंपियनशिप में 100 देशों के 600 से अधिक मुक्केबाज भाग ले रहे हैं। कुछ भार वर्गों में मुक्केबाजों को क्वार्टर फाइनल में पहुंचने के लिये कम से कम तीन मुकाबले जीतने होंगे। इनमें भारत के शिव थापा (63.5 किग्रा) भी शामिल हैं जो पहले मुकाबले में कीनिया के विक्टर ओडियाम्बो न्याडेरा से भिड़ेंगे।



...

कोहली ने पूरी खेल भावना से हार स्वीकार की : सना मीर

दुबई : पाकिस्तान की महिला क्रिकेट टीम की पूर्व कप्तान सना मीर का मानना है कि विराट कोहली हार को पूरी खेल भावना से स्वीकार करने में भी आदर्श खिलाड़ी हैं जिससे भारतीय कप्तान के सुरक्षा भाव का भी पता चलता है।


भारत टी20 विश्व कप के अपने पहले मैच में पाकिस्तान से 10 विकेट से हार गया था। यह विश्व कप (वनडे और टी20) में पाकिस्तान की भारत पर पहली जीत है। मैच के बाद कोहली ने विजयी टीम के नायक मोहम्मद रिजवान को गले लगाया था।


मीर ने आईसीसी की आधिकारिक वेबसाइट पर अपने कॉलम में लिखा, ‘‘विराट कोहली ने पूरी शिष्टता के साथ हार स्वीकार की और मैं उनकी खेल भावना की प्रशंसा करती हूं। शीर्ष खिलाड़ियों का इस तरह का व्यवहार देखना वास्तव में बहुत अच्छा है।’’


उन्होंने आगे लिखा, ‘‘इससे उनके अंदर के सुरक्षा भाव का भी पता चलता है। इसका मतलब है कि वह वापसी करने को लेकर पूरी तरह आश्वस्त हैं।’’


मीर ने कहा कि अगर भारत बड़ी जीत से टूर्नामेंट में वापसी करता है तो उन्हें आश्चर्य नहीं होगा।


उन्होंने कहा, ‘‘अगर भारत जल्द ही बड़ी जीत के साथ वापसी करता है तो मुझे हैरानी नहीं होगी और मुझे उम्मीद है कि हम टूर्नामेंट में भारत और पाकिस्तान को एक बार फिर से एक दूसरे के खिलाफ खेलते देख सकते हैं। ’’







...

टी20 विश्व कप : हम जानते हैं कि खेल कहां गलत हुआ : कोहली

दुबई : भारतीय कप्तान विराट कोहली का मानना है कि उनकी टीम को इस बात का सटीक अंदाजा है कि पाकिस्तान के खिलाफ पहला मैच कहां गया और कहां चूक हुई। उन्होंने कहा कि पहले छह ओवरों में पाकिस्तान की शानदार गेंदबाजी का मतलब था कि भारत पुरुष टी20 विश्व कप के अपने शुरुआती मैच में अतिरिक्त 20-25 रन नहीं बना सका। भारत को रविवार को दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में पाकिस्तान ने दस विकेट से शिकस्त दी।


कोहली ने मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कहा, एक टीम के तौर पर हमें यह समझने की जरूरत है कि बीच में वहां के हालात की हकीकत क्या थी। वहीं 20-25 अतिरिक्त रन अच्छे होते। लेकिन पहले छह में शानदार गेंदबाजी ने हमें अतिरिक्त रन हासिल नहीं होने दिया। हम वास्तव में जानते हैं कि खेल कैसे हाथ से चला गया और यह कहां गलत हो गया। हमारे पास इसकी पूर्ण स्पष्टता है, यह जानना अच्छी बात है कि आप एक टीम के रूप में कहां गलत हुए।


कोहली ने कहा, तो, आप काम कर सकते हैं और इसे सुधारने की कोशिश कर सकते हैं और आगे बढ़ सकते हैं क्योंकि इस टूर्नामेंट में हमारे पास अभी भी बहुत सारे मैच हैं। अगर हम अपनी प्रक्रियाओं का पालन करते हैं, तो हम निश्चित रूप से महसूस कर सकते हैं कि हम इन गलतियों पर काम कर सकते हैं।


यह बताते हुए कि मैच कैसे समाप्त हो गया, विशेष रूप से पाकिस्तान के पीछा के दौरान तस्वीर में आने के बाद, कोहली ने कहा, अगर पिच बल्लेबाजी करने के लिए थोड़ी बेहतर हो जाती है, तो आप शुरू हो जाते हैं। तब आप पीछा करने के बारे में अधिक आत्मविश्वास महसूस करना शुरू कर देते हैं। क्या हुआ। पाकिस्तान की पारी के दूसरे हाफ में जितनी अधिक ओस आई और वे स्ट्राइक रोटेट करने में सफल रहे।



...

भारत की शर्मनाक हार, पाकिस्तान ने रोका विजय अभियान

दुबई : बल्लेबाजों के लचर प्रदर्शन और गेंदबाजों के परिस्थितियों के अनुकूल गेंदबाजी करने में नाकाम रहने के कारण भारत को आईसीसी टी20 विश्व कप के सुपर 12 के ग्रुप दो मैच में रविवार को यहां पाकिस्तान से 10 विकेट से करारी हार का सामना करना पड़ा जिससे उसका अपने इस चिर प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ पिछले 29 वर्षों से चला आ रहा विजय अभियान भी थम गया।


भारत ने विश्व कप (वनडे और टी20) में 1992 के बाद इस मैच से पहले तक सभी 12 मैचों (वनडे में सात और टी20 में पांच) में जीत दर्ज की थी लेकिन पहले शाहीन शाह अफरीदी (31 रन देकर पांच) की अगुवाई में पाकिस्तानी गेंदबाजों के सामने उसके बल्लेबाज नहीं चले और बाद में रही सही कसर कप्तान बाबर आजम (52 गेंद पर नाबाद 68, छह चौके, दो छक्के) और मोहम्मद रिजवान (55 गेंदों पर नाबाद 78, छह चौके तीन छक्के) की पहले विकेट के लिये अटूट शतकीय साझेदारी ने पूरी कर दी।


भारत ने सात विकेट पर 151 रन बनाये थे लेकिन पाकिस्तान ने 17.5 ओवर में बिना किसी नुकसान के 152 रन बनाकर एकतरफा जीत दर्ज करके अपने विश्व कप अभियान की शानदार शुरुआत की।


भारत ने टॉस गंवाया और इसके एक समय वह तीन विकेट पर 31 रन बनाकर संघर्ष कर रहा था। विराट कोहली (49 गेंदों पर 57 रन, पांच चौके, एक छक्का) ने ऋषभ पंत (30 गेंदों पर 39 रन, दो चौके, दो छक्के) के साथ चौथे विकेट के लिये 40 गेंदों पर 53 रन की साझेदारी की जिससे भारत सम्मानजनक स्कोर तक पहुंच पाया।


इसके उलट पाकिस्तानी बल्लेबाजों ने शुरू से ही भारतीय गेंदबाजों पर दबाव बनाया। कोहली के गेंदबाजों से लेकर क्षेत्ररक्षण की सजावट में वह आक्रामकता नहीं दिखी जिसके कारण उन्हें दुनिया के सफल कप्तानों में गिना जाता है। विश्व कप के बाद टी20 की कप्तानी छोड़ने का मन बना चुके कोहली को यह हार वर्षों तक सालती रहेगी।


रिजवान ने भुवनेश्वर के पहले ओवर में ही चौका और छक्का लगाया। कोहली को पावरप्ले में ही वरुण चक्रवर्ती को गेंद सौंपनी पड़ी। पाकिस्तान ने पहले छह ओवरों में बिना किसी नुकसान के 43 रन बनाये।


बाबर और रिजवान का ‘फुटवर्क, प्लेसमेंट और टाइमिंग’ बहुत अच्छा था जिसके सामने भारत के तेज गेंदबाजों और स्पिनरों की एक नहीं चली। इन दोनों ने स्ट्राइक रोटेट करके भारत पर दबाव बनाया। भारत के दोनों स्पिनरों ने आठ ओवर में 61 रन लुटाये जबकि तेज गेंदबाजों में पैनापन नहीं दिखा।


बाबर जल्द ही अपने आक्रामक रंग में उतर आये। उन्होंने रविंद्र जडेजा पर छक्के से शुरुआत की और फिर चक्रवर्ती के एक ओवर में दो छक्के लगाये। इनमें से दूसरे छक्के से उन्होंने अर्धशतक भी पूरा किया। भारतीय स्पिनरों को ओस के कारण गेंद पर पकड़ बनाने में परेशानी हो रही थी।


रिजवान ने 41 गेंदों पर अर्धशतक पूरा किया और जल्द ही वह अपने कप्तान की बराबरी पर पहुंच गये। इसके बाद उन्होंने मोहम्मद शमी पर छक्का और दो चौके लगाकर 18वें ओवर में अपनी टीम को लक्ष्य तक पहुंचा दिया।


इससे पहले भारत के लिये शुरुआत किसी भी तरह से अनुकूल नहीं रही। कोहली ने टॉस गंवाया और भारत ने उसके बाद 13 गेंद और छह रन के अंदर दोनों सलामी बल्लेबाजों रोहित शर्मा (शून्य) और केएल राहुल (तीन) के विकेट गंवा दिये।


रोहित की बायें हाथ के तेज गेंदबाज के सामने कोण लेकर अंदर आती गेंद पर कमजोरी फिर खुलकर सामने आयी। अफरीदी ने उन्हें पहले ओवर में पगबाधा आउट करने के बाद अगले ओवर की पहली गेंद पर राहुल की गिल्लियां बिखेरी।


सूर्यकुमार यादव (आठ गेंदों पर 11) को हसन अली (44 रन देकर दो) ने विकेट के पीछे रिजवान के हाथों कैच कराया जिससे पावरप्ले के बाद भारत का स्कोर तीन विकेट पर 36 रन हो गया।


कोहली का अफरीदी पर ‘कॉउ कार्नर’ पर लगाया गया छक्का दर्शनीय था, लेकिन सूर्यकुमार के आउट होने के बाद उन्हें भी संभलकर खेलना पड़ा। पंत के लेग स्पिनर शादाब खान पर शार्ट फाइन लेग पर लगाये गये चौके से भारत नौ ओवर में 50 रन के पार पहुंचा।


पंत ने हसन अली पर पारी के 12वें ओवर में एक हाथ से लगातार गेंदों पर स्क्वायर लेग और लांग ऑफ पर छक्के जड़े। लेकिन जब वह खतरनाक नजर आ रहे थे तब उन्होंने शादाब खान (22 रन देकर एक) की गेंद हवा में लहराकर आसान कैच थमा दिया।


इससे रन गति फिर धीमी पड़ गयी। भारत 15 ओवर में तिहरे अंक तक पहुंच पाया। भारत ने बीच के नौ ओवरों में 64 रन बनाये और पंत का विकेट गंवाया। उसने अंतिम पांच ओवरों में तीन विकेट के एवज में 51 रन जोड़े।


कोहली ने पाकिस्तान ने 45 गेंदों में अर्धशतक जमाया लेकिन छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये उतरे रविंद्र जडेजा (13 गेंदों पर 13) संघर्ष करते नजर आये। कोहली 19वें ओवर में आउट हुए और इस तरह से पाकिस्तान के खिलाफ टी20 विश्व कप में लगातार चौथी पारी में नाबाद नहीं रह पाये। हार्दिक पंड्या भी 11 रन बना पाये।







...

भारत पर जीत के जश्न में पाकिस्तान में जमकर हुई आतिशबाजी, सड़कों पर उतरे प्रशंसक

कराची : आईसीसी विश्व कप में भारत के खिलाफ 12 मैचों की हार का सिलसिला टूटने के बाद पाकिस्तान के क्रिकेटप्रेमी जश्न मनाने सड़कों पर उतर आये और पूरे देश में जमकर आतिशबाजी हुई। पाकिस्तान ने दुबई में टी20 विश्व कप के पहले मैच में भारत को दस विकेट से हराया। खुशी में सराबोर प्रशंसकों ने कराची में कार के हॉर्न बजाये और पटाखे छोड़े। यहां सार्वजनिक स्थानों पर बड़ी स्क्रीन लगाई गई थी और कोरोना प्रतिबंधों में रियायतों के बाद होटलों में भी मैच के प्रसारण का बंदोबस्त था।


कुछ जगहों पर पुलिस ने जीत के जश्न में हवाई फायरिंग की घटनायें भी दर्ज की है। प्रधानमंत्री और विश्व कप 1992 विजेता पूर्व कप्तान इमरान खान ने ट्वीट किया, ‘‘पाकिस्तानी टीम और खासकर बाबर आजम को बधाई जिसने मोर्चे से अगुवाई की। रिजवान और शाहीन शाह अफरीदी ने भी शानदार प्रदर्शन किया। देश को आप पर नाज है।’’ पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष रमीज राजा ने ट्वीट किया ,‘‘अलहमदुलिल्ला। यह पहली जीत है और सबसे यादगार भी। पाकिस्तानियों के लिये यह गर्व का पल जिसके लिये पूरी टीम को धन्यवाद। यह यादगार सफर की शुरूआत है।’’ पाकिस्तान के प्रशंसकों ने कार की खिड़कियों से झंडे लहराये। कॉलेज के छात्र फरहान ने कहा, ‘‘हमने भारत को विश्व कप में पहली बार हराया ही नहीं है बल्कि जिस अंदाज में हराया है, वह काबिले तारीफ है।’’ मैच से पहले कराची की सड़कों पर वीराना छाया था लेकिन मैच खत्म होते ही जलसा शुरू हो गया। सेना प्रमुख ने भी टीम को बधाई देते हुए कहा कि देश को उन पर फख्र है। पूर्व टेस्ट स्पिनर इकबाल कासिम ने कहा, ‘‘मुझे लगा था कि पाकिस्तान यह मैच जीत सकता है लेकिन इस तरह एकतरफा जीत से हम हैरान है।’’ मुंबई पर आतंकी हमले के बाद से भारत और पाकिस्तान के द्विपक्षीय क्रिकेट संबंध बंद है। पाकिस्तान ने 2012 में सीमित ओवरों की संक्षिप्त श्रृंखला के लिये भारत का दौरा किया लेकिन दोनों टीमों का सामना आईसीसी टूर्नामेंटों और एशिया कप में ही होता आया है।






...

कमला हैरिस के 'अभूतपूर्व' उदय को बताती अमेरिका के भारतीय पत्रकार की नयी किताब

वाशिंगटन : वाशिंगटन के एक भारतीय पत्रकार और लेखक ने कमला हैरिस के पहली महिला उपराष्ट्रपति बनने और कई वर्जनाओं को तोड़ते हुए इस प्रक्रिया में उनके ''अभूतपूर्व'' उदय का वर्णन करती अपनी एक नयी किताब में उनके कुछ अनछुए तथ्यों को उजागर करने का प्रयास किया है।


उदाहरण के लिए हैरिस का पूरा नाम कमला देवी हैरिस है और उनके नाम के मध्य में 'देवी' कैसे आया क्योंकि जब वह पैदा हुई थीं तो उनके जन्म प्रमाण पत्र में ''अय्यर'' उपनाम जुड़ा था। लेखक चिदानंद राजघट्टा ने अपनी पुस्तक ''कमला हैरिस : फेनोमेनल वुमन'' में ऐसी ही दिलचस्प बातों का खुलासा किया है। यह किताब इस महीने के आखिर में लोगों के बीच आएगी।


लेखक लिखते हैं कि जब कमला छोटी थीं तो कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में हैरिस के माता-पिता करीबी मित्रों में अर्थशास्त्री और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के समकालीन लॉर्ड मेघनाद देसाई, अमर्त्य सेन और अजीत सिंह थे।


हैरिस (57) का जन्म 20 अक्टूबर 1964 को कैलिफोर्निया के ओकलैंड में हुआ था। उनकी मां श्यामला गोपालन एक पारंपरिक तमिल ब्राह्मण परिवार से थीं। वह 19 साल की उम्र में 1958 में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में पोषण और एंडोक्रायोनोलॉजी का अध्ययन करने के लिए भारत से अमेरिका आ गयी । यहीं पर उनकी मुलाकात हैरिस के पिता डोनाल्ड हैरिस से हुई, जो ब्रिटिश जमैका के एक अफ्रीकी मूल के अमेरिकी थे।


हार्पर कोलिन्स इंडिया द्वारा प्रकाशित पुस्तक में राजघट्टा लिखते हैं कि हैरिस जब छोटी थीं तब डोनाल्ड ने दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में फेलोशिप के तहत पढ़ाई की।


पुस्तक हैरिस की मां के परिचय से शुरू होती है। लेखक के पिता लगभग उसी समय अमेरिका आए थे जब श्यामला गोपालन यहां आई थीं। राजघट्टा के पिता ने कंसास राज्य में कृषि और डेयरी विज्ञान का अध्ययन किया। लेखक ने बताया कि कहानी इतनी दिलचस्प थी कि हैरिस के बड़े होने, उनके जीवन और करियर का बयां करने में यह लंबी कथा बनती गई।


राजघट्टा ने कहा, ''यह एक प्रकार की जीवनी है, लेकिन व्यापक दायरे में यह भारतवंशी-अमेरिकी समुदाय के इतिहास की पड़ताल करती है (जिनमें मिश्रित नस्ल के बच्चों में एक मैं भी हूं) और अश्वेत अमेरिकियों के साथ भारत के संबंध, जिसमें जॉर्ज वॉशिंगटन कार्वर, बुकर वाशिंगटन, और वेब डुबॉइस और महात्मा गांधी जैसे अश्वेत कार्यकर्ताओं के बीच आदान-प्रदान शामिल है। महात्मा गांधी के सहयोगी मेडेलीन स्लेड (मीराबाई) और चार्ली एंड्रयूज ने हावर्ड में व्याख्यान दिया, जिसने मार्टिन लूथर किंग जूनियर के पूर्व के नागरिक अधिकार कार्यकर्ता की पीढ़ी को प्रभावित किया।''


तीन सौ से अधिक पृष्ठों वाली यह पुस्तक मताधिकार आंदोलन और महिलाओं के राजनीतिक प्रतिनिधित्व और प्रभुत्व में आने वाली बाधाओं को भी दर्शाती है। राजघट्टा ने किताब में लिखा है, ''कमला के लिए खाना बनाना थेरेपी और कला दोनों है।''


वह लिखते हैं, ''इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम पाक कला के साथ कमला के जुड़ाव की व्याख्या कैसे करते हैं, उनके उदय ने भारत के कुछ सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाले खाद्य पदार्थों को ऐतिहासिक राजनीतिक परिदृश्य और मौखिक संस्कृति में शामिल किया है। इनमें से कुछ हैं, जैसे इडली और डोसा और भिंडी को दो तरह से पकाया जाता है जो कमला के बचपन की यादें रही हैं।''


लेखक विदेशी संपादक और द टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार में यूएस ब्यूरो के प्रमुख हैं, वह पुस्तक में लिखते हैं, ''सारे सबूत बताते हैं कि कमला अमेरिकी इतिहास की सबसे प्रभावशाली और शक्तिशाली नेता होंगी।




...

पाकिस्तान सरकार आईएमएफ की मांग पूरी करने को कृषि आय पर कर लगाने की सोच रही

नई दिल्ली :  पाकिस्तान सरकार अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की मांग को पूरा करने के लिए कृषि आय पर संघीय कर लगाने पर विचार कर रही है और कानूनी विशेषज्ञों का कहना है कि यह संविधान में संशोधन के बिना संभव है।


प्रस्ताव पर पाकिस्तान और आईएमएफ के बीच चर्चा हो चुकी है और कानूनी संशोधन का मसौदा भी तैयार कर लिया गया है।


पाकिस्तान के कर अधिकारियों ने आईएमएफ को बताया है कि चौथे टैक्स कानून संशोधन अध्यादेश में कानूनी संशोधन पेश किया जा सकता है।


सूत्रों ने बताया कि समीक्षा वार्ता के दौरान आईएमएफ की एक बड़ी मांग कृषि क्षेत्र को संघीय कर के दायरे में लाने की थी।


हालांकि, दोनों पक्ष आर्थिक नीतियों के लिए ज्ञापन (एमईएफपी) पर सहमत नहीं हो पाए।


संघीय कानून और न्याय मंत्री फारोग नसीम ने द एक्सप्रेस ट्रिब्यून को बताया, संविधान संशोधन के बिना कृषि आय को संघीय कर के दायरे में लाया जा सकता है।


रिपोर्ट में कहा गया है कि फेडरल बोर्ड ऑफ रेवेन्यू (एफबीआर) के अध्यक्ष और वित्त सलाहकार पहले ही कानून मंत्री के साथ इस मुद्दे को उठा चुके हैं।


हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि देश में बढ़ती राजनीतिक और आर्थिक अस्थिरता के बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान प्रस्ताव को मंजूरी देंगे या नहीं।


रिपोर्ट में कहा गया है कि 1973 के संविधान के तहत, संघीय सरकार कृषि आय पर कर नहीं लगा सकती थी, क्योंकि मामला प्रांतीय क्षेत्र में आता था।


हालांकि, प्रांतीय सरकारें, समय के साथ, जमींदारों के प्रभाव के कारण इस मामले से बचती रहीं।


संघीय सरकार ने कानून मंत्रालय के परामर्श से एक समाधान खोजा है, जहां केवल 2001 के आयकर अध्यादेश में संशोधन करके कृषि आय पर संघीय आयकर लगाया जा सकता है।


उन्होंने कहा कि कर अधिकारी आयकर कानून की धारा 41 में संशोधन करके कृषि आय की परिभाषा को केवल फसलों से होने वाली आय तक सीमित रखने पर विचार कर रहे हैं।





...

चीन ने छह महीने के लिए तीन अंतरिक्ष यात्रियों को किया रवाना

बीजिंग : चीन का शेनझोउ-13 अंतरिक्ष यान देश के तीन अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर शनिवार को अपने अंतरिक्ष केंद्र पहुंचा। ये अंतरिक्ष यात्री रिकॉर्ड छह महीने तक वहां रहेंगे।


लॉन्ग मार्च-2एफ रॉकेट से शुक्रवार देर रात 12 बजकर 23 मिनट पर अंतरिक्ष यान को भेजा गया और करीब साढ़े छह घंटे बाद शनिवार सुबह छह बजकर 56 मिनट पर यान तियांगोंग अंतरिक्ष केंद्र के कोर मॉड्यूल पहुंचा।


इस अंतरिक्ष यान से रवाना हुए दो पुरुष और एक महिला दूसरे क्रू सदस्य हैं जो अंतरिक्ष केंद्र में गए हैं। यह अंतरिक्ष केंद्र गत अप्रैल में स्थापित किया गया था। पहले क्रू सदस्य तीन महीने तक वहां रहे थे।


इन क्रू सदस्यों में से दो अंतरिक्ष यात्रियों झाई झिगांग (55) और वांग यापिंग (41) को पहले भी अंतरिक्ष यात्रा करने का अनुभव रहा है। ये ग्वांगफू अंतरिक्ष की पहली बार यात्रा कर रहे हैं। उन्हें सेना के एक बैंड और समर्थकों द्वारा लोकप्रिय देशभक्ति गीत गाते हुए रवाना किया गया। चीन ने हाल के वर्षों में अपने अंतरिक्ष कार्यक्रम में काफी तेज प्रगति की है।


ये क्रू सदस्य अंतरिक्ष केंद्र में उपकरण स्थापित करने के लिए तीन स्पेसवॉक करेंगे, अंतरिक्ष में जीवन की संभावनाओं को खोजेंगे और अंतरिक्ष औषधि तथा अन्य क्षेत्रों में प्रयोग करेंगे।


चीन की सेना द्वारा संचालित अंतरिक्ष कार्यक्रम की योजना अंतरिक्ष केंद्र को पूरी तरह संचालन की स्थिति में लाने के लिए अगले दो वर्षों में वहां कई क्रू सदस्यों को भेजने की है। इस साल के अंत तक दो और चीनी मॉड्यूल भेजे जाने हैं।


चीन के विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण इस्तेमाल में अन्य देशों के साथ सहयोग की अपनी प्रतिबद्धता दोहरायी। मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजिआन ने कहा कि चीन अंतरिक्ष यान भेजने में अंतरराष्ट्रीय सहयोग करता रहेगा और ब्रह्मांड के रहस्यों को खोजने में सकारात्मक योगदान देगा।


चीन के अंतरिक्ष कार्यक्रम के गोपनीय प्रकृति के होने और सेना से करीबी संबंध होने को लेकर अमेरिका की आपत्ति के कारण उसे अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र से बाहर रखा गया। इसके कारण चीन ने स्थायी अंतरिक्ष केंद्र शुरू करने से पहले दो प्रयोगात्मक मॉड्यूल अंतरिक्ष में भेजे।


अमेरिकी कानून के मुताबिक अमेरिका और चीन के अंतरिक्ष कार्यक्रमों के बीच संपर्क के लिए कांग्रेस की मंजूरी की आवश्यकता होती है लेकिन चीन फ्रांस, स्वीडन, रूस और इटली समेत अन्य देशों के अंतरिक्ष विशेषज्ञों से सहयोग ले रहा है। चीनी अधिकारियों ने कहा कि अंतरिक्ष केंद्र के पूरी तरह संचालन की स्थिति में आने पर वह दूसरे देशों के अंतरिक्ष यात्रियों को भी अंतरिक्ष केंद्र ले जाने के लिए उत्सुक है।


चीन ने 2003 से अब तक 14 अंतरिक्ष यात्रियों को रवाना किया है। वह पूर्व सोवियत संघ और अमेरिका के बाद अंतरिक्ष में अपने दम पर अंतरिक्ष यात्री को भेजने वाला 2003 में तीसरा देश बन गया था। 





...

इंडोनेशिया में नदी के सफाई अभियान पर गए 11 बच्चे डूबे, 10 को बचाया गया

जकार्ता :  इंडोनेशिया के पश्चिम जावा प्रांत में नदी की सफाई अभियान पर गए एक स्कूल के 11 छात्र डूब गए और 10 अन्य को बचा लिया गया। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी।


स्थानीय अधिकारियों ने बताया कि एक इस्लामिक जूनियर हाई स्कूल के 150 छात्र शुक्रवार को सिलियूर नदी के तट पर सफाई अभियान में हिस्सा ले रहे थे, तभी इनमें 21 छात्र फिसलकर नदी में गिर गए।


बांडुंग तलाश एवं बचाव कार्यालय के प्रमुख डेडेन रिडवानस्याह ने बताया, ‘‘मौसम ठीक था और अचानक बाढ़ की कोई आशंका नहीं थी। जो बच्चे डूबे, उन्होंने एक दूसरे का हाथ पकड़ा था। उनमें से एक बच्चे का पैर फिसल गया जिससे अन्य भी नदी में फिसल गए।’’


पास के निवासियों एवं बचाव दल ने 10 छात्रों को बचा लिया जिन्हें निकट के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बचाव दल ने छात्रों को बचाने के लिए बड़ी नौकाओं का इस्तेमाल किया और शुक्रवार रात को अभियान खत्म होने तक नदी में डूबे सभी छात्रों का पता लगा लिया गया।




...

आईपीएल 2021: वाटसन ने हेजलवुड और मैकग्रा के बीच तुलना की

दुबई : ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर शेन वॉटसन ने चेन्नई सुपर किंग्स के तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज ग्लेन मैक्ग्रा के बीच तुलना की है। उन्होंने बताया कि नियंत्रण और सटीकता के मामले में दोनों के बीच काफी समानताएं हैं।


वॉटसन ने स्टार स्पोर्ट्स सेलेक्ट डगआउट में कहा, हेजलवुड में मुझे जो चीज पसंद है, वह यह है कि उनकी उंगलियों से निकलने वाली गेंद पर उनका नियंत्रण है, और यही मैक्ग्रा के समान बनाता है। जो नियंत्रण मैकग्रा कि गेंदबाजी में तब हुआ करती थी जोश के पास यह छोटी उम्र से है, इसलिए मैने दोनों की तुलना की।


हेजलवुड ने आईपीएल 2021 में चेन्नई के लिए नौ मैचों में 8.51 की इकॉनमी रेट से आठ विकेट लिए हैं। ऑस्ट्रेलिया के लिए 17 टी20 में हेजलवुड ने 7.98 की इकॉनमी रेट से 21 विकेट लिए हैं। आईपीएल 2021 के फाइनल के बाद हेजलवुड टी 20 विश्व कप के लिए अपनी राष्ट्रीय टीम के साथ जुड़ेंगे।






...

टी20 विश्व कप : न्यूजीलैंड के स्पिनरों को गुर सिखा रहे हैं तेज गेंदबाज शेन बांड

दुबई : यह सुनने में भले ही थोड़ा अजीब लगे लेकिन न्यूजीलैंड क्रिकेट ने पूर्व तेज गेंदबाज शेन बांड को टी20 विश्व कप के दौरान विशेष तौर पर राष्ट्रीय टीम के स्पिनरों के साथ काम करने के लिये नियुक्त किया है।


बांड चौथे कोच के रूप में टीम के साथ रहेंगे। वह टीम के स्पिनरों के साथ काम करते हुए गेंदबाजी कोच शेन जर्गेनसेन की मदद करेंगे।


न्यूजीलैंड के मुख्य कोच गैरी स्टीड ने न्यूजीलैंड क्रिकेट से कहा, ‘‘वह विशेष तौर पर स्पिन गेंदबाजों के साथ काम कर रहे हैं। जब आप गेंदबाजों की बड़ी संख्या देखते हो तो यह अच्छा है। इससे शेन (जर्गेनसेन) को मदद मिलेगी।’’


उन्होंने कहा, ‘‘वह विशेष रूप से स्पिनरों के साथ काम कर रहे हैं और रणनीति तय कर रहे हैं। मुंबई (इंडियन्स) के (इंडियन प्रीमियर लीग से) बाहर होने के बाद बांड टीम से जुड़ गये हैं। ’’


बांड मुंबई इंडियन्स के गेंदबाजी कोच भी हैं।


स्टीड को विश्वास है कि उनकी टीम के मुख्य बल्लेबाज केन विलियमसन पाकिस्तान के खिलाफ 26 अक्टूबर को होने वाले टीम के पहले मैच से पूर्व फिट हो जाएंगे। पिछले सप्ताह आईपीएल मैच के दौरान विलियमसन की मांसपेशियों में खिंचाव आ गया था।


विलियमसन सनराइजर्स हैदराबाद की तरफ से आखिरी लीग मैच नहीं खेल पाये थे लेकिन स्टीड ने कहा कि उनकी चोट चिंताजनक नहीं है।


उन्होंने कहा, ‘‘केन फिट है। उनकी मांसपेशियों में हल्का खिंचाव है, लेकिन अब वह अच्छा महसूस कर रहा है। उनकी टीम (सनराइजर्स हैदराबाद) भी प्रतियोगिता से बाहर हो चुकी थी और मैं पक्के तौर पर नहीं कह सकता कि उनके नहीं खेलने का एक कारण यह भी रहा होगा।’’


विलियमसन आईपीएल के बाद न्यूजीलैंड की टीम से जुड़ गये हैं। आईपीएल से जो अन्य खिलाड़ी टीम से जुड़े हैं उनमें जेम्स नीशम और एडम मिल्ने भी शामिल हैं।




...

रोनाल्डो की हैट्रिक, विश्व कप में जगह बनायी डेनमार्क ने

पेरिस : पुर्तगाल के स्टार फुटबॉलर क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने एक और हैट्रिक जमाकर अपनी टीम को विश्व कप फुटबॉल क्वालीफायर्स में आसान जीत दिलायी जबकि डेनमार्क ने एक और जीत से कतर में अगले साल होने वाले टूर्नामेंट में अपनी जगह पक्की की।


यूरोपीय क्वालीफायर्स के मैचों में इंग्लैंड और हंगरी के बीच खेले गये मैच में दर्शकों ने व्यवधान डाला, लेकिन फैरो में खेले गये मैच में रोनाल्डो की चली जिन्होंने क्लब और अपने देश की तरफ से करियर की कुल 58वीं हैट्रिक जमायी। इससे रोनाल्डो के अंतरराष्ट्रीय गोल की संख्या का रिकार्ड 115 पर पहुंच गया है। पुर्तगाल ने उनके करिश्माई प्रदर्शन से इस मैच में लक्समबर्ग को 5-0 से करारी शिकस्त दी। अपना 182वां अंतरराष्ट्रीय मैच खेल रहे रोनाल्डो की यह पुर्तगाल की तरफ से 10वीं हैट्रिक है। रोनाल्डो ने आठवें और 13वें मिनट में पेनल्टी पर गोल किये और 87वें मिनट में हैट्रिक पूरी की। पुर्तगाल की तरफ से अन्य दो गोल ब्रूनो फर्नाडिस और जोओ पालिन्हा ने किये। इस जीत के बावजूद पुर्तगाल ग्रुप ए में सर्बिया से अंक पीछे है लेकिन उसने एक मैच कम खेला है। सर्बिया ने एक अन्य मैच में अजरबेजान को 3-1 से हराया। प्रत्येक ग्रुप से शीर्ष पर रहने वाली टीम विश्व कप के लिये सीधे क्वालीफाई करेगी जबकि दूसरे स्थान की टीम प्लेऑफ में खेलेगी। इस बीच डेनमार्क यूरोपीय देशों में विश्व कप के लिये क्वालीफाई करने वाला दूसरा देश बन गया है। उसने कोपेनहेगेन में खेले गये मैच में जोकिम मेहले के दूसरे हाफ में किये गये गोल की मदद से आस्ट्रिया को 1-0 से हराया। डेनमार्क की यह लगातार आठवीं जीत है जिससे उसने ग्रुप एफ में अपना शीर्ष स्थान सुनिश्चित किया। जर्मनी यूरोप से क्वालीफाई करने वाला पहला देश था।


डेनमार्क ने दूसरे नंबर की टीम स्कॉटलैंड पर सात अंक की अजेय बढ़त हासिल कर ली है। स्कॉटलैंड ने फैरो आइलैंड पर 1-0 से जीत दर्ज की और दूसरे स्थान पर रहने का अपना दावा मजबूत किया। वह तीसरे स्थान की टीम इजराइल से चार अंक आगे है जिसने मोलदोवा को 2-1 से हराया। इंग्लैंड के पास भी क्वालीफाई करने का मौका था लेकिन वेम्ब्ले स्टेडियम में खेले गये मैच में हंगरी ने उसे 1-1 से ड्रा पर रोक दिया। इस मैच के शुरू में पुलिसकर्मियों और हंगरी के समर्थकों के बीच झड़प हो गयी थी। हंगरी के प्रशंसक नस्लीय टिप्पणियां कर रहे थे। इंग्लैंड ग्रुप आई में शीर्ष पर है। वह दूसरे स्थान की टीम पोलैंड से तीन अंक आगे है। पोलैंड ने एक अन्य मैच में अल्बानिया को 1-0 से पराजित किया। स्वीडन ग्रुप बी में यूनान पर 2-0 की जीत से स्पेन से आगे शीर्ष पर पहुंच गया है जबकि ग्रुप सी में स्विट्जरलैंड ने लिथुवानिया पर 4-0 की जीत से अपने अंकों की संख्या इटली के बराबर पहुंचा दी है। इटली गोल अंतर में हालांकि आगे है।







...

इंग्लैंड को ‘बदलना होगा या तबाह होना होगा’: ब्रिटेन की पर्यावरण संबंधी सरकारी एजेंसी

लंदन : ब्रिटेन की एक सरकारी एजेंसी ने बुधवार को कहा कि इंग्लैंड अगर जलवायु परिवर्तन के कारण पैदा होने वाली मौसम की चरम स्थितियों के खिलाफ अपनी सुरक्षा में सुधार नहीं करता है तो उसे भी उसी प्रकार की भीषण बाढ़ों का सामना करना पड़ सकता है, जैसी बाढ़ ने इस बार की गर्मी में जर्मनी को तबाह कर दिया था।


एक रिपोर्ट में, ‘इन्वायरन्मेंट एजेंसी’ ने वैश्विक ग्लोबल वार्मिंग के कारण अधिक गर्म, शुष्क गर्मियां पड़ने, ज्यादा और खतरनाक बाढ़ों के आने, समुद्र तल की ऊंचाई बढ़ने तथा पानी की आपूर्ति को लेकर मांग बढ़ने की चेतावनी दी है।


उसने अनुमान व्यक्त किया है कि वैश्विक औसत तापमान में यदि दो डिग्री सेल्सियस की वृद्धि होती है, तो इंग्लैंड की शीतकालीन वर्षा में छह प्रतिशत की वृद्धि होगी, लेकिन 2050 तक गर्मियों की वर्षा 15 प्रतिशत कम हो जाएगी।


रिपोर्ट में यह भी चेतावनी दी गई है कि 2050 तक लंदन के समुद्र तल 23 सेंटीमीटर और 29 सेंटीमीटर (9 से 11 इंच) के बीच और 2080 तक लगभग 45 सेंटीमीटर बढ़ने की उम्मीद है।


एजेंसी की प्रमुख एम्मा हावर्ड बोएड ने कहा कि यह "सूचक जलवायु प्रभाव अपरिहार्य हैं" और यह "स्वयं को बदलो या तबाह हो जाओ" का मामला है।


उन्होंने कहा, “बदलाव की यह कार्रवाई सरकार, व्यवसायों और समुदायों के लिए भी अभिन्न होनी चाहिए। जब निष्क्रियता की कीमत चुकाने के बजाय जलवायु की बेहतर स्थिति में जल्दी निवेश करना ज्यादा आसान है, तो ऐसे में लोग जल्द ही सवाल करेंगे कि इस संबंध में कदम क्यों नहीं उठाए गए।”




...

तूफान ‘कोम्पासु’ के कारण हांगकांग में स्कूल, बाजार बंद

बीजिंग : हांगकांग के दक्षिणी शहर में बुधवार को आए तूफान के कारण स्कूल, शेयर बाजार में कारोबार और सरकारी सेवाओं प्रभावित हुईं। हांगकांग वेधशाला ने बताया कि ‘कोम्पासु’ तूफान के कारण भारी बारिश से निचले इलाकों में बाढ़ आ सकती है, जिसके मद्देनजर निवासियों को सावधानी बरतनी चाहिए। तूफान के कारण 83 किलोमीटर प्रति घंटे (51 मील प्रति घंटे) की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं और बाद में ये 101 किलोमीटर प्रति घंटे (63 मील प्रति घंटे) की रफ्तार तक चल सकती हैं। दोपहर में हवा की रफ्तार धीरे-धीरे कम होने का अनुमान है। वेधशाला ने कहा कि तूफान के दक्षिण चीन सागर के उत्तरी हिस्से से होते हुए चीन के दक्षिणी द्वीप प्रांत हैनान की ओर बढ़ने और फिर उत्तरी वियतनाम में दस्तक देने का अनुमान है। अधिकारियों ने बताया कि ‘कोम्पासु’ के कारण पहले उत्तरी फिलीपीन में भूस्खलन और अचानक आई बाढ़ से कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई थी और सात लोग अब भी लापता हैं।




...

कैलिफोर्निया विमान हादसे में भारतीय मूल के डॉक्टर समेत दो लोगों की मौत

न्यूयॉर्क : अमेरिका के कैलिफोर्निया राज्य में एक विमान दुर्घटना में भारतीय मूल के हृदय रोग विशेषज्ञ समेत दो लोगों की मौत हो गई और दुर्घटना के कारण पास के मकानों में आग लग गई जिससे काफी क्षति हुई। मीडिया में आई खबरों में यह जानकारी दी गई।


अरिजोना के युमा रीजनल मेडिकल सेंटर (वाईआरएमसी) के अनुसार, दुर्घटनाग्रस्त हुआ दो इंजन का यह विमान संस्थान में कार्यरत डॉ. सुगाता दास का ही था। सोमवार को हुए हादसे में दास की भी मौत हो गई है। सीबीएस-एनबीसी से संबंद्ध टीवी स्टेशन ने बताया कि अभी इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि हादसे के वक्त दास विमान चला रहे थे या नहीं।


वाईआरएमसी के मुख्य चिकित्सा अधिकारी भरत मागू ने एक बयान में कहा, ‘‘स्थानीय हृदय रोग विशेषज्ञ सुगाता दास के विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने की खबर सुनकर हमें गहरा दुख हुआ है। विमान सैंटी (कैलिफोर्निया) के पास दुर्घटनाग्रस्त हुआ।’’


मागू ने कहा, ‘‘वह एक बेहतरीन हृदय रोग विशेषज्ञ और परिवार के प्रति समर्पित व्यक्ति थे। इस मुश्किल वक्त में हम उनके परिवार, मित्रों और सहयोगियों के प्रति संवेदना जताते हैं।’’


सैंटी में संताना हाई स्कूल के पास हुए हादसे के बाद आग लगने से दो मकान जलकर खाक हो गए और पांच अन्य मकानों एवं कई वाहनों को क्षति पहुंची। हालांकि आग अन्य मकानों तक फैलती, उससे पहले ही दमकलकर्मियों ने आग पर काबू पा लिया।


हादसे में मारा गया अन्य व्यक्ति एक यूपीएस कर्मी था जो घटना के वक्त जमीन पर काम कर रहा था। यूपीएस ने यह पुष्टि की है कि विमान हादसे में उसके एक कर्मी की मौत हो गई। एबीसी से संबद्ध केएक्सटीवी ने यूपीएस के बयान के हवाले से बताया, ‘‘हम अपने एक कर्मी की मृत्यु की खबर से दुखी हैं और उनके परिवार एवं मित्रों के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करते हैं। हादसे के शिकार हुए अन्य व्यक्तियों के परिवार एवं मित्रों के प्रति भी हम संवेदना जताते हैं।’’


खबर के अनुसार, दोपहर करीब साढ़े 12 बजे अधिकारियों को ग्रीनकैसल स्ट्रीट के पास के क्षेत्र में विमान हादसे की सूचना मिली। संघीय विमानन प्रशासन (एफएए) के अनुसार यह विमान दो इंजन वाला सेसना सी 340 था जो दोपहर करीब सवा 12 बजे दुर्घटनाग्रस्त हुआ।


एफएए के अनुसार, ‘‘विमान में कितने लोग सवार थे, इस बारे में अभी ज्ञात नहीं है।’’ सेसना सी 340 विमान आमतौर पर व्यवसाय के लिए उपयोग किया जाता है। विमान में छह यात्रियों के बैठने की क्षमता है, जिसमें दो सीटें आगे और दो पीछे होती हैं।


संस्थान की वेबसाइट के अनुसार, बंगाली परिवार में जन्मे दास पुणे में पले-बढ़े। वह ‘‘पावर ऑफ लव फाउंडेशन’’ के निदेशक भी थे। यह एक अमेरिकी गैर-लाभकारी संगठन है जो विदेशों में एड्स और एचआईवी से संक्रमित या प्रभावित महिलाओं और बच्चों की मदद करता है।


वेबसाइट पर बताया गया है कि दास के दो बेटे हैं और वे सैन डिएगो में रहते थे। वह दो इंजन वाले सेसना 340 के मालिक थे और एक प्रशिक्षित पायलट थे, जिन्होंने अपने घर और युमा के बीच उड़ान भरी थी।



...

अगर भारत युद्ध शुरू करे तो जरूर हार जाएगा : चीनी मुखपत्र

नई दिल्ली : चीन के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि भारत के साथ बिगड़ते हालात की स्थिति में चीन को सैन्य संघर्ष के लिए तैयार रहना चाहिए।


ग्लोबल टाइम्स के एक संपादकीय में कहा गया है, नई दिल्ली को एक बात के बारे में स्पष्ट होने की जरूरत है : उसे सीमा नहीं मिलेगी जैसा वह चाहता है। अगर यह युद्ध शुरू करता है, तो यह निश्चित रूप से हार जाएगा। किसी भी राजनीतिक हस्तक्षेप और दबाव को चीन द्वारा नजरअंदाज कर दिया जाएगा।


भारत के साथ सीमा विवाद को संभालने में, चीन के लिए दो काम करना सबसे महत्वपूर्ण है। पहला, हमें इस सिद्धांत पर टिके रहना चाहिए कि भारत चाहे कितनी भी मुसीबत में क्यों न हो, चीन का क्षेत्र चीन का है और हम इसे कभी नहीं सौंपेंगे। भारत अभी भी सीमा मुद्दे पर नींद में चल रहा है। हम इसके जागने का इंतजार कर सकते हैं।


चीनी लोग जानते हैं कि चीन और भारत दोनों एक-दूसरे के साथ लंबे समय तक सीमा गतिरोध को बनाए रखने के लिए पर्याप्त राष्ट्रीय ताकत के साथ महान शक्तियाँ हैं। इस तरह का आपसी अलगाव खेदजनक है, लेकिन अगर भारत ऐसा करने को तैयार है, तो चीन इसे तब तक कंपनी में रखेगा जब तक अंत


गलवान घाटी संघर्ष यह साबित करता है कि चीन भारत-चीन संबंधों को आसान बनाने के लिए अपनी क्षेत्रीय संप्रभुता की रक्षा के लिए कार्रवाई करने से पीछे नहीं हटेगा।


ग्लोबल टाइम्स ने कहा, अगर नई दिल्ली चीन और भारत के बीच अंतर्निहित गतिशीलता को गलत तरीके से समझना जारी रखती है और चीन के संकल्प और ²ढ़ संकल्प को कम आंकती है, तो यह केवल अपने लिए नई गलत सूचना पैदा करेगी और भारत को और नुकसान पहुंचाएगी।


कहा गया है, वार्ता में भारत का रवैया अवसरवादी है। नई दिल्ली मानती है कि चीन को अपनी समग्र राष्ट्रीय रणनीति हासिल करने के लिए अपनी पश्चिमी सीमाओं में स्थिरता की इच्छा के कारण भारत की मदद की जरूरत है।


विशेष रूप से, भारत चीन-अमेरिका संबंधों में गिरावट को प्रमुख रणनीतिक सौदेबाजी चिप्स हासिल करने के अवसर के रूप में देखता है। नई दिल्ली को उम्मीद है कि बीजिंग सीमा मुद्दे पर अपना रुख नरम करेगा और नई दिल्ली को बीजिंग के खिलाफ वाशिंगटन के साथ खुद को संरेखित करने से रोकने के लिए अपनी मांगों को पूरा करेगा।






...

जर्मनी ने फुटबॉल विश्व कप के लिए क्वालीफाई किया

बर्लिन : जर्मनी सोमवार को यूरोप के ग्रुप जे विश्व कप क्वालीफाइंग मुकाबले में काफी गल्तियां करने के बावजूद उत्तरी मेसिडोनिया को 4-0 से हराकर 2022 फुटबॉल विश्व कप के लिए क्वालीफाई करने वाला पहला देश बना।


जर्मनी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए आठ मैचों में सात जीत हासिल की। टीम को मार्च में डुइसबर्ग में उत्तरी मेसिडोनिया के खिलाफ 1-2 से उलटफेर का सामना करना पड़ा था जो उसकी एकमात्र हार रही।


जर्मनी ने अपने चारों गोल दूसरे हाफ में दागे। टीम की ओर से टिमो वर्नर (70वें और 73वें मिनट) ने दो गोल दागे जबकि केई हावर्ट्ज (50वें मिनट) और जमाल मुसियाला (83वें मिनट) ने एक-एक गोल किया।


तुर्की ने भी इंजरी टाइम के नौवें मिनट में पेनल्टी पर बुराक यिल्माज के गोल की बदौलत लात्विया को 2-1से हराकर क्वालीफाई करने की उम्मीदों को जीवंत रखा है। जर्मनी की अंडर 21 टीम के पूर्व कोच स्टीफन कुंट्ज का तुर्की की टीम के कोच के रूप में यह पहला मुकाबला था।


रोटरडम में मेम्फिस डेपाय ने दो गोल किए, दो गोल में मदद की लेकिन एक पेनल्टी पर गोल करने से चूक गए जिससे नीदरलैंड ने जिब्राल्टर को 6-0 से हराकर क्वालीफाई करने की ओर मजबूत कदम बढ़ाए। ग्रुप जी में नीदरलैंड ने नॉर्वे पर दो जबकि तुर्की पर चार अंक की बढ़त बना रखी है।


ग्रुप एच में क्रोएशिया ने ड्रॉ और रूस ने जीत के साथ कम से कम प्ले आफ में खेलना तय कर लिया है।


ग्रुप ई में वेल्स ने कीफर मूर के गोल की बदौलत एस्टोनिया को 1-0 से हराकर बेल्जियम के क्वालीफाई करने के इंतजार को बढ़ा दिया है।


वेल्स और चेक गणराज्य के समान अंक हैं जिसने बेलारूस को 2-0 से हराया। चेक गणराज्य ने हालांकि एक मैच अधिक खेला है।


बेल्जियम की टीम पांच अंक से आगे है और उसका क्वालीफाई करना लगभग तय है।


ग्रुप जी में डेपाय ने बार्सीलोना की ओर से खराब क्लब सत्र को पीछे छोड़ते हुए शानदार प्रदर्शन किया। उनके नाम पर इस साल नीदरलैंड की ओर से 14 गोल हो गए हैं और उन्होंने राष्ट्रीय टीम की ओर से एक कैलेंडर वर्ष में सर्वाधिक 12 गोल के पैट्रिक क्लुवर्ट के रिकॉर्ड को तोड़ा।


नीदरलैंड ने नॉर्वे पर दो अंक की बढ़त बना रखी है जिसने मोंटेनेग्रो को 2-0 से हराया।


ग्रुप एच में क्रोएशिया ने मिडफील्डर लुका मोड्रिक के फ्री किक पर दागे गोल की बदौलत स्लोवाकिया को 2-2 से बराबरी पर रोका। रूस पुराने प्रतिद्वंद्वी स्लोवेनिया को 2-1 से हराकर ग्रुप में शीर्ष पर पहुंच गया है।


विश्व कप में स्वत: क्वालीफाई करने के लिए 2018 विश्व कप के उप विजेता क्रोएशिया को अब अगले महीने रूस को हराना होगा।


एक अन्य मैच में माल्टा ने साइप्रस को 2-2 से बराबरी पर रोका।


ग्रुप जे में जर्मनी के अलावा रोमानिया और आइसलैंड भी जीत दर्ज करने में सफल रहे। रोमानिया ने आर्मेनिया को 1-0 जबकि आइसलैंड ने लिचटेनस्टीन को 4-0 से हराया।


रोमानिया ग्रुप में 13 अंक के साथ दूसरे स्थान पर है। उसने उत्तरी मेसिडोनिया और आर्मेनिया पर एक अंक की बढ़त बना रखी है। आइसलैंड के आठ जबकि लिचटेनस्टीन का एक अंक है।



...

धोनी को मैच का सफल अंत करते हुए देखना भावुक पल : फ्लेमिंग

दुबई : चेन्नई सुपर किंग्स के मुख्य कोच स्टीफन फ्लेमिंग ने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की जमकर प्रशंसा करते हुए कहा कि इस महान विकेटकीपर बल्लेबाज को मैच का सफल अंत करते हुए देखना भावुक कर देने वाला क्षण था।


धोनी ने रविवार को दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ पहले क्वालीफायर के अंतिम क्षणों में मैच का सफल अंत करने की अपनी काबिलियत का फिर से बेजोड़ नमूना पेश करके चेन्नई को चार विकेट से जीत दिलाकर नौवीं बार इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के फाइनल में पहुंचाया।


चेन्नई को आखिरी ओवर में 13 रन की जरूरत थी और धोनी ने टॉम कुरेन पर तीन चौके जड़कर अपनी टीम को जीत दिलायी। इससे पहले उन्होंने अवेश खान पर मिडविकेट क्षेत्र में छक्का लगाया था।


फ्लेमिंग ने मैच के बार वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘यह शानदार पारी थी। यह हमारे लिये भावनात्मक रूप से बहुत अच्छा था। जब भी वह (धोनी) क्रीज पर उतरते हैं तो हम उनके लिये प्रार्थना करते हैं क्योंकि हम जानते हैं कि उन पर दबाव है, उनसे उम्मीदें की गयी हैं और फिर से उन्होंने हमारे लिये मैच विजेता की भूमिका निभायी। इसलिए यह ड्रेसिंग रूम में भावुक करने वाला पल था। ’’


फ्लेमिंग से पूछा गया कि उनकी धोनी से क्या बात होती है, उन्होंने कहा, ‘‘ढेर सारी बातें होती है। हमने इन 20 ओवरों में सबसे अधिक बातें की हैं। तकनीकी को लेकर चर्चा होती है, रणनीति को लेकर बात होती है कि कैसे उस पर अमल करना है और कौन अधिक प्रभाव डाल सकता है।’’


धोनी की पारी से पहले रुतुराज गायकवाड़ ने 70 और रोबिन उथप्पा ने 63 रन की पारियां खेलकर चेन्नई की जीत की नींव रखी।


फ्लेमिंग ने उथप्पा की पारी के बारे में कहा, ‘‘हमें अपने प्रत्येक खिलाड़ी के प्रदर्शन पर गर्व है। इसलिए यह विशेष पारी थी। पहली गेंद से ही उसने अपने इरादे जतला दिये थे।’’






...

टॉम मूडी भारतीय टीम का कोच बनने के इच्छुक

सिडनी : आस्ट्रेलिया के पूर्व आलराउंडर टॉम मूडी चौथी बार भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच पद के लिये आवेदन कर सकते हैं।


फॉक्सस्पोर्ट्स.कॉम.एयू की रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘ऐसा समझा जाता है पूर्व विश्व कप विजेता और अब नामी कोच की निगाह भारतीय टीम के कोच पद पर टिकी हैं जो कि टी20 विश्व कप के बाद रवि शास्त्री का कार्यकाल समाप्त होने पर खाली हो रहा है।’’


अभी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में सनराइजर्स हैदराबाद के साथ क्रिकेट निदेशक के रूप में काम कर रहे 56 वर्षीय मूडी पूर्व में भारतीय टीम का कोच बनने में दिलचस्पी दिखा चुके हैं। उन्होंने इससे पहले 2017 और 2019 सहित तीन बार भारतीय कोच पद के लिये आवेदन किया था लेकिन कभी उनके नाम पर विचार नहीं किया गया।


शास्त्री का भारतीय मुख्य कोच के रूप में कार्यकाल टी20 विश्व कप तक ही है तथा यह 59 वर्षीय पूर्व क्रिकेटर पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि वह सेवा विस्तार के लिये नहीं कहेंगे। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) अब नये कोच की तलाश में है।


मूडी 2013 से 2019 तक सनराइजर्स के मुख्य कोच रहे और इस बीच फ्रेंचाइजी ने 2016 में अपना एकमात्र खिताब भी जीता। तब मूडी के हमवतन डेविड वार्नर उसके कप्तान थे।


उनकी जगह इंग्लैंड के विश्व कप विजेता कोच ट्रेवर बेलिस को सनराइजर्स का कोच बनाया गया था लेकिन फ्रेंचाइजी ने उन्हें क्रिकेट निदेशक नियुक्त किया था। वह श्रीलंकाई टीम को भी कोचिंग दे चुके हैं।


रिपोर्ट के अनुसार मूडी की भारतीय टीम का कोच बनने की आकांक्षा ने वार्नर को इस सत्र के शुरू में कप्तानी से हटाने और फिर उन्हें आखिर के कुछ मैचों से अंतिम एकादश से बाहर करने में अहम भूमिका निभायी।


इसमें कहा गया है, ‘‘ऐसा समझा जाता है कि सनराइजर्स के मालिकों का बीसीसीआई में काफी प्रभाव है और वे वार्नर को पिछले कुछ मैचों से बाहर रखने और युवाओं को मौका देने के फैसले की व्याख्या कर सकते हैं।’’


रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘वार्नर से भी कई अन्य आईपीएल फ्रेंचाइजी ने संपर्क किया है जो इस धाकड़ बल्लेबाज को अंतिम एकादश से बाहर करने के फैसले से हैरान हैं।’’




...

डेनमार्क और इंग्लैंड की विश्व कप क्वालीफाईंग में आसान जीत

जेनेवा : डेनमार्क और इंग्लैंड ने विश्व कप फुटबॉल क्वालीफाईंग मैचों में बड़ी जीत के साथ यूरोपीय ग्रुप चरण में अपने अभियान को नये मुकाम पर पहुंचाया।


स्कॉटलैंड, सर्बिया, स्वीडन, स्विट्जरलैंड और यूक्रेन ने भी अगले साल कतर में होने वाले टूर्नामेंट में जगह बनाने के लिये कम से कम प्लेऑफ में स्थान सुनिश्चित करने की तरफ कदम बढ़ाये।


डेनमार्क ने ग्रुप एफ में मोलदोवा को 4-0 से हराया। यह उसकी लगातार सातवीं ऐसी जीत है जिसमें उसके खिलाफ गोल नहीं हुआ। वह अभी तक 26 गोल दाग चुका है। डेनमार्क यदि मंगलवार को आस्ट्रिया को हरा देता है तो वह विश्व कप के लिये क्वालीफाई कर जाएगा।


ग्रुप के अन्य मैचों में स्कॉटलैंड ने इस्राइल को संघर्षपूर्ण मैच में 3-2 से हराया जबकि आस्ट्रिया ने फेरोइ आइलैंड पर 2-0 से जीत दर्ज की।


इंग्लैंड ने ग्रुप आई में एंडोरा को 5-0 से करारी शिकस्त दी। वह अब ग्रुप में दूसरे स्थान पर काबिज अल्बानिया से चार अंक आगे हो गया है। इंग्लैंड की तरफ से पहले हाफ में बेन चिलवेल और बुकायो साका और दूसरे हाफ में टैमी अब्राहम, जेम्स वार्ड-प्रूस और जैक ग्रीलिश ने गोल किये।


हंगरी ने जून में यूरोपीय चैंपियनशिप में प्रभावशाली प्रदर्शन किया था लेकिन उसे बुडापेस्ट में अपने घरेलू मैदान पर अल्बानिया से 0-1 से हार झेलनी पड़ी। दूसरी तरफ पोलैंड ने वारसा में 56,000 दर्शकों के सामने सैन मैरिनो को 5-0 से शिकस्त दी।


स्विट्जरलैंड ने ग्रुप सी में उत्तरी आयरलैंड को 2-0 से पराजित किया जबकि सर्बिया ने ग्रुप ए में लक्समबर्ग पर 1-0 से करीबी जीत दर्ज की। इस जीत से सर्बिया ग्रुप में पुर्तगाल से एक अंक आगे शीर्ष पर पहुंच गया है। पुर्तगाल ने हालांकि एक मैच कम खेला है। ग्रुप के एक अन्य मैच में आयरलैंड ने अजरबेजान को 3-0 से पराजित किया।


स्वीडन ने ग्रुप बी में कोसोवा को 3-0 से जबकि यूनान ने जार्जिया को 2-0 से हराया। यूक्रेन ने फिनलैंड को 2-1 से हराकर ग्रुप डी में फ्रांस के बाद दूसरे स्थान पर अपनी स्थिति मजबूत की। बोस्निया हर्जेगोविना ने भी कजाखस्तान पर 2-0 से जीत से खुद को दौड़ में बनाये रखा।







...

क्रिस्टन स्टीवर्ट का खुलासा : रानी डायना की भूमिका निभाते अविश्वास क्यों महसूस हुआ?

लंदन : अभिनेत्री क्रिस्टन स्टीवर्ट ने कहा कि उन्हें स्पेंसर में रानी डायना की भूमिका निभाने में अविश्वास महसूस हुआ, क्योंकि उनके खुद के बच्चे नहीं हैं, इसलिए उन्हें नहीं लगा कि वह भूमिका के लिए सही हैं।


31 वर्षीय अभिनेत्री ने स्पेंसर में दिवंगत रानी डायना की भूमिका निभाई है, जो प्रिंस चार्ल्स से डायना के अलग होने से पहले क्रिसमस के तीन दिनों पर केंद्रित है।


उन्होंने कहा, मुझे खेद है, मैं अभी तक मां नहीं बनी हूं। मुझे इसे प्रामाणिक महसूस करने की जरूरत है। यह उस किरदार का एक हिस्सा है।


फीमेलफस्र्ट डॉट को डॉट यूके की रिपोर्ट के अनुसार, फिल्म को आलोचकों से मिली-जुली प्रतिक्रिया मिली है और स्टीवर्ट को हमेशा से पता था कि यह एक विभाजनकारी विषय होगा, लेकिन अंतत: उन्हें लगा कि यह जोखिम के लायक है।


उन्होंने डेली मेल अखबार के स्तंभकार बाज बामिगबॉय से कहा कि मैं निश्चित रूप से जानती थी कि कुछ ऐसा ही होगा, जैसा कि एक ब्रिट कहता है कि यह अच्छे काम से कहीं बढ़कर था।


लेकिन मुझे लगा कि यह इसके लायक है। मैं एक एक्टर के रूप में लंबे समय से काम कर रही हूं और ऐसी चीजें ढूंढना वास्तव में दुर्लभ है जो आपको इस तरह महसूस कराती हैं।


क्रिस्टन डायना के जीवन में सबसे कम अवधियों में से एक को फिर से बनाने के कठिन और असाधारण रूप से कष्टदायक अनुभव के लिए तैयार थी। लेकिन वह इस बात के लिए तैयार नहीं थी कि इसकी रिलीज के बाद वह कितनी खुशी महसूस करेंगी।


क्रिस्टन ने कहा कि डायना के पास वास्तव में निर्णय लेने की ओवरराइडिंग, निरस्त्रीकरण, सुंदर ऊर्जा थी।


अपनी खुद की वैश्विक प्रसिद्धि के बावजूद, ट्वाइलाइट सागा अभिनेत्री ने कहा कि डायना ने जो अनुभव किया, उसकी तुलना में यह कुछ भी नहीं है।




...

सिंगापुर में कोविड-19 के 3,703 नए मामले

सिंगापुर : सिंगापुर में कोविड-19 के 3,703 नए मामले सामने आए हैं जिनमें से 832 मामले सामूहिक आवास में रहने वाले प्रवासी कामगारों के संक्रमित होने के हैं। विदेश से आए तीन लोग संक्रमित पाए गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को यह जानकारी दी।


संक्रमण के नए मामले सामने आने के साथ सिंगापुर में कोरोना वायरस के कुल 1,24,157 मामले हो गए। मंत्रालय की ओर से बताया गया कि संक्रमण के कारण 153 लोग मारे गए हैं जिनमें से 52 लोगों की इस महीने मौत हुई है।


प्रधानमंत्री ली सियन सूंग ने शनिवार को कहा कि बीते कुछ हफ्तों से सिंगापुर में संक्रमण के दैनिक मामलों की संख्या लगातार बढ़ रही है ऐसे में आगामी कुछ महीने चुनौतीपूर्ण होंगे। उन्होंने उम्मीद जताई की मामलों में बढ़ोतरी महीनेभर के भीतर रूक जाएगी।


सूंग ने कहा कि सिंगापुर वायरस के साथ ही जीने की रणनीति पर जोर देगा। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के मामलों में स्थिरता आने के बाद इस ‘‘नई सामान्य’’ स्थिति को अपनाने में तीन से छह महीने का वक्त लगेगा।


आर्थिक गतिविधियां पुन: आरंभ करने के प्रयासों के तहत सरकार ने शनिवार को घोषणा की कि सिंगापुर में टीकाकरण करवा चुके लोगों के लिए पृथक-वास रहित यात्रा की अनुमति होगी।





...

डेनमार्क की प्रधानमंत्री फ्रेडरिक्सन ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भेंट की

नई दिल्ली : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कहा कि भारत और डेनमार्क का ऐतिहासिक एवं साझा मूल्यों और आकांक्षाओं पर आधारित दीर्घकालिक मित्रतापूर्ण संबंध है तथा हरित सामरिक गठजोड़ से यह संबंध अधिक प्रगाढ़ होगा।


भारत की तीन दिवसीय यात्रा पर आई डेनमार्क की प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्सन ने शनिवार को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से भेंट की।


राष्ट्रपति भवन के बयान के अनुसार, राष्ट्रपति कोविंद ने डेनमार्क की प्रधानमंत्री और उनके पति का स्वागत किया तथा डेनमार्क की महारानी मार्गरेथ द्वितीय को अगले वर्ष भारत आने का निमंत्रण दिया जो उनके (डेनमार्क की महारानी) शासन का स्वर्ण जयंती वर्ष तथा भारत की स्वतंत्रता का 75वां साल है।


राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘ भारत और डेनमार्क की मित्रता दीर्घकालिक है और हमारे गर्मजोशी भरे एवं मित्रतापूर्ण संबंधों की जड़े इतिहास से जुड़ी हैं जो साझा मूल्यों एवं आकांक्षाओं पर आधारित हैं। ’’


उन्होंने कहा कि हाल में भारत और डेनमार्क के बीच स्थापित हरित सामरिक गठजोड़ से हमारे संबंध और मजबूत होंगे।


राष्ट्रपति कोविंद ने कहा कि भारत और डेनमार्क के बीच मजबूत कारोबारी एवं निवेश संबंध हैं तथा डेनमार्क के सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र भारत में कई राज्यों में मेक इन इंडिया, जल जीवन मिशन, स्मार्ट सिटी, डिजिटल इंडिया, स्टार्टअप इंडिया, स्वच्छ भारत, निर्मल गंगा, एवं अन्य राष्ट्रीय मिशन को आगे बढ़ाने में सक्रियता से जुटे हुए हैं।


फ्रेडरिक्सन आज सुबह भारत की तीन दिवसीय यात्रा पर नई दिल्ली पहुंची जहां विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने उनकी आगवानी की।


फ्रेडरिक्सन ने राजघाट जाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित की।


इसके बाद, राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रेडरिक्सन का स्वागत किया जहां डेनमार्क की प्रधानमंत्री ने सलामी गारद का निरीक्षण किया।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से वार्ता से पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर ने फ्रेडरिक्सन से भेंट की।


भारत और डेनमार्क ने पिछले वर्ष स्थापित ‘हरित सामरिक गठजोड़’ की प्रगति की समीक्षा की।


उल्लेखनीय है कि 28 सितंबर 2020 को डिजिटल माध्यम से हुई शिखर बैठक में भारत और डेनमार्क ने ‘‘हरित सामरिक गठजोड़’’ स्थापित किया था। दोनों पक्षों ने आपसी हितों से जुड़े क्षेत्रीय और बहुस्तरीय मुद्दों पर भी चर्चा की। फ्रेडरिक्सन 9 से 11 अक्टूबर तक भारत की यात्रा पर आई हैं।


भारत और डेनमार्क के मजबूत कारोबारी एवं निवेश संबंध हैं। भारत में डेनमार्क की 200 से अधिक कंपनियां मौजूद हैं, जबकि डेनमार्क में 60 से अधिक भारतीय कंपनियां हैं। दोनों देशों के बीच नवीकरणीय ऊर्जा, स्वच्छ प्रौद्योगिकी, जल एवं कचरा प्रबंधन, कृषि एवं पशुपालन, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, डिजिटलीकरण, स्मार्ट सिटी, पोत क्षेत्रों में मजबूत सहयोग है।




...

रूस में अमेरिकी राजनयिकों पर चोरी का संदेह : विदेश मंत्रालय

मास्को : रूसी विदेश मंत्रालय ने घोषणा की है कि मास्को में अमेरिकी दूतावास के तीन कर्मचारियों पर एक रूसी नागरिक का निजी सामान चुराने का संदेह है।


शुक्रवार को टीएएसएस न्यूज एजेंसी को दिए एक बयान में, मंत्रालय ने कहा कि रूस ने दूतावास को एक आधिकारिक राजनयिक नोट भेजा है जिसमें संदिग्ध कर्मचारियों के खिलाफ आपराधिक आरोप लगाने के लिए उनकी राजनयिक छूट वापस लेने के लिए कहा गया है।


अमेरिकी दूतावास को एक रूसी नागरिक से व्यक्तिगत सामान की चोरी के संदिग्धों के रूप में पदनाम पर अमेरिकी राजनयिक मिशन के तीन कर्मचारियों से राजनयिक छूट प्राप्त करने के अनुरोध के साथ एक नोट भेजा गया था।


मंत्रालय ने कहा, क्या दूतावास को प्रतिरक्षा वापस लेने से इनकार करना चाहिए, उन लोगों को तुरंत रूसी क्षेत्र छोड़ना चाहिए।


संदिग्धों की पहचान सहित अन्य कोई जानकारी सामने नहीं आई है।





...

यूपी में बने लकड़ी तथा जूट के उत्पादों की विदेश में बढ़ी मांग

लखनऊ : सूबे में पारंपरिक उद्योगों के जरिए निर्यात को बढ़ावा देने को लेकर यूपी सरकार की पहल का असर हुआ है। इसके चलते कोरोना महामारी के बावजूद लकड़ी, सिल्क, जूट और इनसे बने उत्पादों का अमेरिका तथा यूरोप के देशों में निर्यात बढ़ा है। उक्त देशों में यूपी के लखनऊ, कानपुर, सहारनपुर, मुरादाबाद, बरेली, वाराणसी, भदोही और गोरखपुर सहित कई जिलों में लकड़ी, जूट, सिल्क से बनाए गए उत्पाद तथा कालीन आदि की मांग में इजाफा हुआ है।


बीते वर्ष के मुकाबले इस वर्ष अप्रैल और मई माह में 744.15 करोड़ रुपए के कालीन, 72.87 करोड़ के कॉटन एवं सिल्क, 328,60 करोड़ रुपए के टेक्सटाइल और लकड़ी तथा लकड़ी से बने खिलौनों, फोटोफ्रेम तथा अन्य कलाकृतियों का 433.81 करोड़ रुपए का निर्यात हुआ है जो वर्ष 2020 में हुए निर्यात से अधिक है। निर्यात के कारोबार में हुए इस इजाफे से उक्त जिलों में लकड़ी, सिल्क, जूट, कालीन तथा टेक्सटाइल के कारोबार को लाभ हुआ है।


अधिकारियों के अनुसार, निर्यात को बढ़ावा देने को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले प्रोत्साहन के चलते ही इस वित्तीय वर्ष में अप्रैल एवं मई में राज्य से 21,500.85 करोड़ रुपए का निर्यात हुआ है। जो पिछले वर्ष के मुकाबले 152.67 फीसदी अधिक है। केंद्र सरकार द्वारा विभिन्न राज्यों से हुए निर्यात के जारी किए गए लैटेस्ट आंकड़ों में यह खुलासा किया गया है।


केंद्र सरकार द्वारा विभिन्न राज्यों से हुए निर्यात के जारी किए गए इन नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ष अप्रैल -मई में राज्य से 21,500.85 करोड़ रुपए का सामान निर्यात किया गया। जबकि बीते वर्ष अप्रैल-मई में 8511.34 करोड़ रुपए का सामान निर्यात किया गया था।


इन्ही आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ष लकड़ी तथा जूट से बने उत्पाद और रेशम से बनी साड़ी, भदोही में बनी कालीन, दरी के अलावा टेक्सटाइल फैब्रिक, ओवन फैब्रिक, मैन्मेद स्टेपल फैब्रिक, फुटवियर, ग्लासवेयर, आयरन, स्टील, एल्युमिनियम, चावल, चीनी, दूध, आटा, प्लास्टिक उत्पाद, सिल्क, कृत्रिम फूल आदि का विदेशों से खूब निर्यात किया गया। अमेरिका और यूरोप जैसे देशों के साथ ही नेपाल, बंगालदेश और दक्षिण पूर्व एशिया के देशों ने कोरोना काल के दौरान यूपी से बड़ी संख्या में ओडीओपी उत्पाद मंगवाए।


राज्य सरकार के अनुसार, इस वर्ष अप्रैल-मई में 43.51 करोड़ रुपए के कॉटन के कपड़े, 29.36 करोड़ रुपए के सिल्क उत्पाद, 744.15 करोड़ रुपए के कालीन का निर्यात किया गया। इसी प्रकार 742.47 करोड़ रुपए के फुटवियर का निर्यात किया गया, जबकि बीते साल 147.04 करोड़ रुपए का निर्यात किया गया था। इसी प्रकार इस वर्ष अप्रैल-मई में 310.77 करोड़ रुपए के ग्लासवेयर का निर्यात किया गया, जबकि बीते साल 39.99 करोड़ रुपए का निर्यात किया हुआ था। इसी प्रकार इस वर्ष 120.83 करोड़ रुपए के खिलौनों का निर्यात किया गया, जबकि बीते साल 26.19 करोड़ रुपए का निर्यात किया हुआ था। इसी तरह इस वर्ष 744.15 करोड़ रुपए के कालीन और टेक्सटाइल फैब्रिक का निर्यात किया गया, जबकि बीते साल 247.63 करोड़ रुपए का निर्यात किया हुआ था। लेदर से बने पर्स, बेल्ट, बैग तथा अन्य उत्पादों का निर्यात इस वर्ष 493.80 करोड़ रुपए का हुआ, जबकि बीते वर्ष 79.21 करोड़ रुपए के ही लेदर से बने उत्पादों का निर्यात हुआ था।


अब तो ताजे आम, अंगूर के साथ ताजे प्याज व सब्जियों के अलावा मूंगफली, प्रसंस्कृत फल, जूस व मेवे का निर्यात भी यूपी से हो रहा है। फलों व सब्जियों के बीज, खीरे, फूल की भी मांग बढ़ी है। पहली बार जामुन का निर्यात हुआ है।


प्रदेश सरकार द्वारा निर्यात को बढ़ावा देने के लिए शुरू किए गए प्रयासों के चलते ही लकड़ी एवं जूट से बने उत्पादों के अलावा चावल, खिलौने, दवाई, कालीन, सिल्क, उर्वरक, मछली उत्पाद, चीनी और कृत्रिम फूल जैसे सामानों के विदेशों से खूब आर्डर मिले। जिसके चलते अब यूपी निर्यात के मामले में देश में अपने छठवें स्थान पर है। अब प्रदेश सरकार इस स्थान से ऊपर पहुंचने की मंशा रखती हैं। इस कारण दस देशों के राजदूतों के माध्यम से निर्यात को बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है। इसके साथ ही हर जिले में ओवरसीज ट्रेड प्रमोशन और फैसिलिटेशन सेन्टर बनाने का फैसला किया हैं। 




...

खराब दौर से गुजर रही मुंबई इंडियंस को हराकर वापसी करना चाहेगी दिल्ली कैपिटल्स

शारजाह :  पिछले मैच में मिली हार के बाद दिल्ली कैपिटल्स की नजरें आईपीएल में शनिवार को होने वाले मैच के जरिये जीत की राह पर लौटने पर लगी होंगी जबकि खराब फॉर्म से जूझ रही गत चैम्पियन मुंबई इंडियंस एक जीत के बाद लय बनाये रखने की फिराक में होगी। आठ जीत के बाद प्लेआफ में जगह लगभग पक्की कर चुकी दिल्ली को कोलकाता नाइट राइडर्स ने कम स्कोर वाले मैच में तीन विकेट से हराया था। दिल्ली अब 11 मैचों में 16 अंक लेकर दूसरे स्थान पर है और पिछली उपविजेता टीम की कोशिश शीर्ष दो में रहने की होगी ताकि फाइनल में पहुंचने के दो मौके मिल सके। आईपीएल के यूएई चरण में पिछले मैच में दिल्ली को पहली पराजय झेलनी पड़ी। केकेआर के गेंदबाजों ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी के कप्तान के फैसले को सही साबित करते हुए धीमी विकेट का पूरा फायदा उठाया। सितारों से सजी दिल्ली के बल्लेबाजों में से कोई भी 20 ओवरों में एक भी छक्का नहीं लगा सका।


सुनील नारायण की फिरकी के सामने दिल्ली नौ विकेट पर 127 रन ही बना सकी। चोटिल पृथ्वी साव की जगह खेल रहे स्टीव स्मिथ ने 34 गेंद में 39 रन बनाये जबकि ऋषभ पंत ने 36 गेंद में 39 रन जोड़े। निचले मध्यक्रम के बल्ले से सिर्फ 13 रन निकले। अनुकूल पिच पर दिल्ली की स्पिन तिकड़ी रविचंद्रन अश्विन, अक्षर पटेल और ललित यादव छाप छोडने की कोशिश करेंगे। दूसरी ओर मुंबई ने आईपीएल के यूएई चरण में लगातार तीन हार के बाद पिछले मैच में पहली जीत दर्ज की। रिकॉर्ड पांच बार की चैम्पियन मुंबई के बल्लेबाजों ने निराश किया। सूर्यकुमार यादव चार मैचों में 0, 8, 5 और 3 रन ही बना सके। सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा और क्विंटोन डिकॉक अच्छी शुरूआत को बड़ी पारियों में नहीं बदल पाये जिससे मध्यक्रम पर दबाव बना। मुंबई के लिये अच्छी बात यह रही कि पंजाब किंग्स के खिलाफ छह विकेट से मिली जीत में सौरभ तिवारी (45 ) और हार्दिक पंड्या (40) फॉर्म में नजर आये। कीरोन पोलार्ड ने सात गेंद में नाबाद 15 रन बनाकर फिनिशर की भूमिका निभाई। तिवारी अपनी शानदार पारी के दम पर टीम में बने रह सकते हैं और देखना यह है कि खराब फॉर्म में चल रहे ईशान किशन को एक और मौका मिलता है या नहीं। गेंदबाजी में जसप्रीत बुमराह ने लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन स्पिनर फ्लॉप रहे हैं। राहुल चाहर और कृणाल पंड्या पर अच्छे प्रदर्शन का दबाव होगा।


टीमें :


मुंबई इंडियन्स: रोहित शर्मा (कप्तान) क्विंटन डिकॉक, ईशान किशन, सूर्यकुमार यादव, आदित्य तारे, अनमोलप्रीत सिंह, क्रिस लिन, सौरभ तिवारी, अनुकुल रॉय, अर्जुन तेंदुलकर, हार्दिक पंड्या, क्रुणाल पंड्या, जेम्स नीशाम, जयंत यादव, कीरोन पोलार्ड, मार्को जानसेन, युद्धवीर सिंह, एडम मिल्ने, धवल कुलकर्णी, जसप्रीत बुमराह, मोहसिन खान, नाथन कूल्टर-नाइल, पीयूष चावला, राहुल चाहर, ट्रेंट बोल्ट।


दिल्ली कैपिटल्स: ऋषभ पंत (कप्तान), अजिंक्य रहाणे, पृथ्वी सॉव, रिपल पटेल, शिखर धवन, शिमरोन हेटमयार, श्रेयस अय्यर, स्टीव स्मिथ, अमित मिश्रा, एनरिक नॉर्जे, आवेश खान, बेन द्वारशुइस, इशांत शर्मा, कैगिसो रबाडा, कुलवंत खेजरोलिया, लुकमान मेरीवाला, प्रवीण दुबे, टॉम कुरेन, उमेश यादव, अक्षर पटेल, ललित यादव, मार्कस स्टोइनिस, रविचंद्रन अश्विन, सैम बिलिंग्स और विष्णु विनोद।


मैच का समय : दोपहर 3.30 से। 




...

तोक्यो के पास प्रचंड तूफान से कुछ उड़ान और ट्रेन सेवाएं बाधित

तोक्यो : शक्तिशाली तूफान के कारण शुक्रवार को जापान और उसके कुछ पूर्वी द्वीपों में भारी बारिश और तेज बारिश के साथ कुछ घरेलू उड़ानें और ट्रेन सेवाएं रोकनी पड़ी। तोक्यो क्षेत्र में दोपहर के समय भारी बारिश हो रही है और हवा चल रही है, लेकिन किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।


जापान मौसम विज्ञान एजेंसी ने कहा कि प्रचंड तूफान ‘मिंडुले’ तोक्यो के दक्षिणी तट के पास स्थित इजु द्वीप पर था और 35 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उत्तरपूर्व की तरफ बढ़ रहा है और इसमें हवाओं की गति बढ़ती हुई 162 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से चल रही हैं।


चिबा और तोक्यो के पूर्व के अन्य प्रान्तों में कुछ स्थानीय ट्रेन सेवाओं को शुक्रवार को अस्थायी रूप से रोक दिया गया था। तोक्यो के हानेडा हवाई अड्डे और बाहरी द्वीपों को जोड़ने वाली कई उड़ानों और नौकाओं को रद्द कर दिया गया है।


मुख्य कैबिनेट सचिव कात्सुनोबु काटो ने संवाददाताओं से कहा कि अभी तक किसी के हताहत होने या घायल होने की खबर नहीं है। उन्होंने इज़ू द्वीपवासियों से घर के अंदर रहने और आंधी आने तक कांच की खिड़कियों के पास जाने से बचने का आग्रह किया।


शनिवार सुबह तक इज़ू द्वीप पर 200 मिलीमीटर (8 इंच) और तोक्यो क्षेत्र में 150 मिलीमीटर (6 इंच) तक बारिश का अनुमान है। मौसम विभाग ने प्रभावित क्षेत्रों के निवासियों को संभावित बाढ़ और भूस्खलन के प्रति आगाह किया है।





...

उज्बेकिस्तान की दो महिलायें भारत-नेपाल सीमा पर गिरफ्तार

महाराजगंज (उप्र) : उत्तर प्रदेश के महाराजगंज में उज्बेकिस्तान की दो महिलाओं को बिना वैध वीजा और पासपोर्ट के भारत-नेपाल सीमा क्षेत्र से देश में घुसने की कोशिश के आरोप में गिरफ्तार किया गया। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी।


अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि उज्बेकिस्तान की रहने वाली रूहशोना सुवोनावक और इमिनोवा मबलूदा हौन बृहस्पतिवार शाम सोनौली इलाके में घूम रही थीं, तभी उन्हें पुलिस ने नियमित जांच के लिए रोका।


सोनौली कोतवाली के इंस्पेक्टर शशांक शेखर राय ने बताया कि दोनों काठमांडू (नेपाल) से भारत आयी थीं। दोनों को सोनौली (बगवानपुर) इलाके में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया क्योंकि उनके पास वीजा और पासपोर्ट नहीं थे।


सोनौली भारत-नेपाल सीमा पर स्थित है। राय ने बताया कि इस संबंध में मामला दर्ज किया गया है और खुफिया एजेंसियों को मामले की सूचना दे दी गई है।




...

जापान में आपातकाल खत्म, कार्यालय में लौटे लोग

तोक्यो : जापान छह महीनों से अधिक समय बाद पहली बार कोरोना वायरस संबंधी आपात स्थिति से पूरी तरह बाहर आ गया है। संक्रमण के मामले कम होने के कारण देश ने अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के लिए कोविड-19 संबंधी नियमों में धीरे-धीरे ढील देना शुरू कर दिया है।


तोक्यो के व्यस्त शिंगावा ट्रेन स्टेशन पर मास्क पहने हुए यात्री अपने-अपने काम पर जाते हुए दिखे। इनमें से कुछ लोग महीनों बाद कार्यालयों में जा रहे थे।


तोक्यो समेत आधे से अधिक देश में लगा आपातकाल बृहस्पतिवार को समाप्त हो गया। पिछले कुछ हफ्तों में संक्रमण के नए मामलों में कमी आने के बाद यह फैसला लिया गया है। महामारी के मामलों में कमी आने के कारण जापान की स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली पर दबाव कम हुआ है।


निवर्तमान प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा ने लोगों का उनके धैर्य और सहयोग के लिए आभार जताया और वायरस रोधी मूल उपायों का पालन करने को कहा। उन्होंने कहा, ‘‘एक बार फिर मैं आपका सहयोग मांगता हूं ताकि हम सुरक्षित महसूस करते हुए अपनी दिनचर्या में लौट सकें।’’


आपातकाल की स्थिति हटाए जाना कुछ लोगों के लिए एक नयी शुरुआत है। अकीफुमी सुगीहारा ने कहा कि वह करीब एक साल बाद शिंगावा ट्रेन स्टेशन लौटे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं पिछले एक साल से ज्यादा वक्त से घर से काम कर रहा था और मैं तोक्यों में अपने कार्यालय में आया हूं क्योंकि आज आपातकाल हटा लिया गया। यह एक शुरुआत लग रही है।’’


जापान में तकरीबन 59 प्रतिशत से अधिक लोगों ने कोविड-19 रोधी टीके की दोनों खुराक ले ली है। देश में अब तक कोरोना वायरस के 16.9 लाख मामले आए हैं और 17,641 लोगों की मौत हुई है।



...

भारत और चीन के बीच सीमा समझौता होने तक सीमा पर घटनाएं होती रहेंगी: थल सेना प्रमुख नरवणे

नई दिल्ली :  थल सेना प्रमुख जनरल एम. एम. नरवणे ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारत और चीन के बीच सीमा पर घटनाएं तब तक होती रहेंगी, जब तक कि दोनों देशों के बीच सीमा समझौता नहीं हो जाता।


उन्होंने पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्री में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि अफगानिस्तान में हालिया घटनाक्रम पर भारतीय थल सेना ने "निश्चित रूप से ध्यान केंद्रित” किया है और वह खतरे का आकलन करने के साथ ही रणनीति की तैयारी में जुटी हुई है।


चीन पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा, “हमारे पास सीमा का एक लंबित मुद्दा है। हम फिर से किसी भी दुस्साहस का सामना करने के लिए तैयार हैं, जैसा कि हमने अतीत में प्रदर्शित किया है।”


उन्होंने उद्योग संगठन की वार्षिक सत्र बैठक के दौरान कहा, “इस तरह की घटनाएं तब तक होती रहेंगी, जब तक कि एक दीर्घकालिक समाधान नहीं हो जाता, और वह है सीमा समझौता। और यह हमारे प्रयासों के केंद्र में होना चाहिए, ताकि हमारी उत्तरी (चीन) सीमा पर स्थायी शांति हो।”


अफगानिस्तान का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय थल सेना या सशस्त्र बल खतरे की आशंकाओं का समय-समय पर आकलन करते रहते हैं।


उन्होंने कहा कि उन आकलनों के आधार पर, भारतीय थल सेना भविष्य के खतरों से निपटने के लिए आवश्यक रणनीतियां और सिद्धांत तैयार करती है।


नरवणे ने कहा, “यह निरंतर प्रक्रिया है जो कभी नहीं रुकती है।”


गौरतलब है कि 15 अगस्त को काबुल पर तालिबान ने कब्जा कर लिया था। अफगानिस्तान पर तालिबाान के कब्जे के बारे में अपनी चिंता व्यक्त करते हुए, भारत ने 20 सितंबर को कहा था कि युद्ध प्रभावित देश के भू-भाग का इस्तेमाल आतंकवादी कृत्यों को आश्रय, प्रशिक्षण देने, साजिश रचने या धन मुहैया कराने के लिए नहीं किया जाना चाहिए।


जनरल नरवणे ने कहा कि जहां तक आतंकवादी खतरे की बात है, भारतीय थल सेना सभी चुनौतियों से निपटने के लिए तैयार है।


उन्होंने कहा, “हमारे पास जम्मू कश्मीर में एक बहुत ही गतिशील आतंकवाद रोधी और चरमपंथ रोधी ढांचा है। यह एक गतिशील ढांचा है और यह खतरे की धारणा और हमारे पश्चिमी पड़ोसी (पाकिस्तान) द्वारा अधिक से अधिक आतंकवादियों को तैयार करने के प्रयासों के बढ़ते स्तरों पर आधारित है।


सेना प्रमुख ने कहा कि उतार-चढ़ाव के आधार पर, हम अपने संचालन के स्तर का भी पुन: आकलन करते रहते हैं।


भारत और चीन के बीच मौजूदा सीमा गतिरोध पिछले साल मई में पैंगोंग झील क्षेत्र में हिंसक झड़प के बाद शुरू हुआ था। दोनों पक्षों ने धीरे-धीरे हजारों सैनिकों के साथ-साथ भारी हथियारों की तैनाती बढ़ा दी थी।


पिछले साल 15 जून को गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद यह गतिरोध बढ़ गया था। 







...

आईपीएल 2021 : मैक्सवेल की विस्फोटक पारी के दम पर आरसीबी ने राजस्थान को 7 विकेट से हराया

दुबई :  ऑलराउंडर ग्लेन मैक्सवेल (नाबाद 50) की शानदार पारी के दम पर रॉयल चेलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) ने यहां दुबई इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में खेले गए आईपीएल 2021 के 43वें मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स को सात विकेट से हराया।


आरसीबी के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। राजस्थान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में नौ विकेट पर 149 रन बनाए। लक्ष्य का पीछा करने उतरी आरसीबी की टीम ने मैक्सवेल के 30 गेंदों पर छह चौकों और एक छक्के की मदद से नाबाद 50 रन की पारी के दम पर 17.1 ओवर में तीन विकेट पर 153 रन बनाकर मैच जीता।


राजस्थान की ओर से मुस्ताफिजुर रहमान ने दो विकेट लिए। इस जीत के साथ ही आरसीबी 11 मैचों में सात मुकाबले जीत 14 अंक हासिल कर अंक तालिका में तीसरे स्थान पर है।


कोहली ने लक्ष्य का पीछा करते हुए देवदत्त पडीकल के साथ मिलकर टीम को बेहतर शुरुआत दिलाई और दोनों बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 48 रन जोड़े। लेकिन मुस्ताफिजुर ने पडीकल को बोल्ड कर राजस्थान को पहली सफलता दिलाई। पडीकल ने 17 गेंदों पर चार चौकों की मदद से 22 रन बनाए।


पडीकल के आउट होने के कुछ समय बाद ही कोहली तेजी से रन चुराने के चक्कर में रन आउट हो गए। कोहली ने 20 गेंदों पर चार चौकों की मदद से 25 रन बनाए। फिर मैक्सवेल और श्रीकर भरत ने आरसीबी की पारी को आगे बढ़ाया और दोनों बल्लेबाजों ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए तीसरे विकेट के लिए 69 रन जोड़े।


हालांकि, भरत अर्धशतक पूरा नहीं कर सके और बाउंड्री के चक्कर में कैच थमा बैठे। भरत ने 35 गेंदों पर तीन चौकों और एक छक्के की मदद से 44 रन बनाए।


इसके बाद मैक्सवेल ने विस्फोटक पारी खेल टीम को जीत दिलाई। आरसीबी की पारी में एबी डीविलियर्स एक गेंद पर एक चौके की मदद से चार रन बनाकर नाबाद रहे।


इससे पहले, सलामी बल्लेबाज एविन लुइस और यशस्वी जायसवाल ने राजस्थान को शानदार शुरुआत दिलाई और दोनों ने पहले विकेट के लिए 77 रनों की साझेदारी की। हालांकि, डेनियल क्रिस्टियन ने जायसवाल को आउट कर इस साझेदारी को तोड़ा। जायसवाल ने 22 गेंदों में तीन चौकों और दो छक्को की मदद से 31 रन बनाए।


इसके बाद बल्लेबाजी करने आए कप्तान संजू सैमसन ने लुइस का साथ दिया और दोनों के बीच 23 रनों की साझेदारी हुई। लेकिन आरसीबी के लिए डेब्यू कर रहे जॉर्ज गार्टन ने लुइस को आउट कर इस बढ़ते साझेदारी का अंत किया। लुइस ने 37 गेंदों में पांच चौकों और तीन छक्कों के सहारे 58 रन बनाए।


इसके बाद राजस्थान के विकेट लगातार गिरते रहे और महिपाल लोमरोर (3), सैमसन (19), राहुल तेवतिया (2) और रियान पराग (9) रन बनाकर आउट हुए।


इसके बाद क्रिस मॉरिस ने राजस्थान की पारी को संभालने की कोशिश की पर वह भी 11 गेंदों में दो चौकों की मदद से 14 रन बनाकर आउट हो गए। मॉरिस के आउट होने के तुरंत बाद चेतन साकरिया भी दो रन बनाकर आउट हुए, जबकि कार्तिक त्यागी एक रन बनाकर नाबाद रहे।


आरसीबी की ओर से हर्षल पटेल ने तीन तथा युजवेंद्र चहल और शहबाज अहमद ने दो-दो विकेट लिए, जबकि गार्टन और क्रिस्टियन को एक-एक विकेट मिला।






...

चीनी राष्ट्रपति ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि

बीजिंग : चीन के नेता शी चिनफिंग ने कम्युनिस्ट पार्टी का शासन स्थापित करने के संघर्ष में शहीद हुए लोगों को बृहस्पतिवार को श्रद्धांजलि दी। शी और पार्टी की शक्तिशाली पोलितब्यूरो स्थायी समिति के छह अन्य सदस्यों ने थियानमेन चौक में ‘पीपुल्स हीरोज’ स्मारक पर सेना के बैंड की धुनों के बीच श्रद्धांजलि दी। इस समिति में सरकार तथा सेना के अनुभवी नेता शामिल हैं। राष्ट्रपति शी ने इस दौरान कोई टिप्पणी नहीं की। हालांकि प्रधानमंत्री ली केकियांग बृहस्पतिवार शाम को एक कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। शहीद दिवस कार्यक्रम दिखाता है कि पीपुल्स रिपब्लिक की 1949 में स्थापना करने वाले माओ जेदोंग के बाद अपने आप को चीन का सबसे शक्तिशाली नेता स्थापित करने के बाद शी कम्युनिस्ट परंपराओं को कितना महत्व देते हैं। इस साल शहीद दिवस समारोह 1921 में पार्टी की स्थापना के शताब्दी जश्न समारोह के साथ मनाया जा रहा है। शहीद दिवस समारोह के लिए थियानमेन चौक और आसपास की सड़कों को बंद कर दिया गया। चीन के राष्ट्रगान और एक मिनट के मौन के साथ समारोह की शुरुआत हुई। चीन के राष्ट्रीय दिवस की पूर्व संध्या पर शहीद दिवस मनाया जाता है। चीन में राष्ट्रीय दिवस 10 दिन के अवकाश के साथ शुरू होता है।






...

पाकिस्तान में भी हैं घूमने लायक खूबसूरत जगहें

मुल्क पाकिस्तान का नाम जेहन में आते ही हम सभी एक ऐसे भूभाग के बारे में सोचने लगते हैं जहां कुछ भी शांत-शांत सा नहीं है। चंद लोगों के कारण दहशत और खौफ की धरती बन चुके पाकिस्तान में भी ऐसी काफी सारी खूबसूरत जगहें हैं जहां पर जाकर आपको जन्नत जैसे खूबसूरत नजारे दिख सकते हैं। हम अपनी खबर में पाकिस्तान की जिन जगहों का जिक्र करने जा रहे हैं वो वाकई में बेहत खूबसूरत हैं। जरूर देखें और जानें पाकिस्तान की इन खूबसूरत जगहों के बारे में। 


सुक्कुर

सुक्कुर पाकिस्तान के सिन्ध प्रान्त का तीसरा सबसे बड़ा नगर है। यह सिन्धु नदी के पश्चिमी किनारे पर है। इसके चारों ओर ऐतेहासिक संरचनाए और फेमस संतो के कब्रें बनी हुई है। साथ ही यहां पर अधिक मात्रा में आपको आकर्षित करनें वाली मस्जिद बनी हुई है।


थार मरुस्थल

भारत के उत्तरपश्चिम में तथा पाकिस्तान के दक्षिणपूर्व में है। यह मरुस्थल बहुत ही लम्बा और चैड़ा है। यहां के जीव, पेड़-पौधे दूसरें देशों से बिल्कुल अलग है। यह घूमनें की बहुत खूबसूरत जगह है।


मोहन जोदड़ो

इसका सिंध भाषा में मतलब होता है मुर्दो का टीला। इस दुनिया का सबसे पुराना नियोजित और उत्कृष्ट शहर माना जाता है। यह पाकिस्तान का सबसे बडा शहर कराडी से 580 किमी दूर है। इस घाटी का इतिहास 5000 हजार साल पुराना है।


मुल्तान

मुल्तान पाकिस्तान के पंजाब सूबे में एक शहर है। यह पाकिस्तान का छठा सबसे बड़ा शहर है। यह शहर पाकिस्तान का सबसे महत्वपूर्म शहर है जिसे संतों का शहर कहा जाता है। यह शहर सूफी और का है जो इस्लाम धर्म का प्रचार करते है।


लाहौर

पाकिस्तान के प्रांत पंजाब की राजधानी है और कराची के बाद यह दूसरा सबसे बडा आबादी वाला शहर है। इसे पाकिस्तान का दिल नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इस शहर का पाकिस्तानी इतिहास, संस्कृति एवं शिक्षा में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। यहां पर हर साल पर भारी मात्रा में पर्यटक आते है।


ग्वादर

पाकिस्तान के बाद क्वेटा के बाद बलूचिस्तान प्रांत का दूसरा सबसे बडा शहर है। यह एक समुद्र तट है जो तेजी के साथ विकसित हो रहा है। इस शहर में अधिक मात्रा में पर्वत भी है। आने वाले समय में इस शहर बंदरगाह के साथ व्यापार का केन्द्र होगा।


भुरबन

पाकिस्तान के मुरी की झिका गली से 20 मिनट की दूरी में भुरबन है। पर्यटको को आकर्षित करनें की सबसे बडी वजह है यहा की प्राकृतिक सुंदरता और 10 किमा में फैला हुआ गोल्प कोर्स। यहां पर आपको ठहरनें के लिए होटल भी मिल जाएगें।


शोगरन

समुद्र तल से 2400 मीटर की ऊंचाई में है शोगरन। यह जगह हनीमून और अपनी वीकेंड बीतानें के लिए सबसे अच्छी जगह है। यह कघन घाटी का सबसे ऊंचा पर्वत है। साथ ही मल्का-ए-पर्वत की छाया सैफ-उल-मलूक झील पर एक जादुई प्रभाव पैदा करता है। इस झील का पानी ताजा और सफेद है।


 




...

राजस्थान रॉयल्स ने टॉस जीत कर बल्लेबाजी का फैसला किया

दुबई :  राजस्थान रॉयल्स के कप्तान संजू सैमसन ने इंडियन प्रीमियर लीग मैच में सोमवार को यहां सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया।


राजस्थान ने अंतिम एकदश में तीन जबकि हैदराबाद ने चार बदलाव किये है।


राजस्थान की टीम में एविन लुईस और क्रिस मॉरिस की वापसी हुई है जबकि जयदेव उनादकट को भी मौका दिया गया है।


हैदराबाद ने जेसन रॉय, प्रियम गर्ग, अभिषेक शर्मा और सिद्धार्थ कौल को टीम में शामिल किया है। 




...

भारत ने 150 से अधिक प्राचीन वस्तुएं लौटाने के लिए अमेरिका का आभार जताया

नई दिल्ली : भारत सरकार ने 150 से अधिक प्राचीन कलाकृतियां लौटने में ‘उत्कृष्ट समर्थन’ के लिए न्यूयॉर्क जिला अटॉर्नी कार्यालय को धन्यवाद दिया है और बेशकीमती प्राचीन कलाकृतियों की वापसी के माध्यम से भारत-अमेरिका के लोगों के बीच संबंधों और सांस्कृतिक समझ को बढ़ाने के लिए इसकी भूमिका की सराहना की है।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान अमेरिका ने भारत को 157 कलाकृतियां और प्राचीन वस्तुएं सौंपी, जिन्हें मोदी भारत वापस लाए। मोदी और राष्ट्रपति जो बाइडन, दोनों ने चोरी, अवैध व्यापार और सांस्कृतिक वस्तुओं की तस्करी से निपटने के प्रयासों को मजबूत करने की प्रतिबद्धता व्यक्त की।


एक आधिकारिक बयान में शनिवार को कहा गया कि लगभग आधी कलाकृतियां (71) सांस्कृतिक हैं, जबकि अन्य आधी में हिंदू धर्म (60), बौद्ध धर्म (16) और जैन धर्म (9) से संबंधित लघु मूर्तियां हैं।


भारत को प्राचीन कलाकृतियां एवं वस्तुएं सौंपे जाने के लिए मोदी ने अमेरिका की सराहना की।


भारत के महावाणिज्य दूतावास की ओर से रविवार को ट्वीट किया गया, ‘‘भारत सरकार की ओर से न्यूयॉर्क के जिला अटॉर्नी कार्यालय और उनके दल को धन्यवाद देते हैं जिन्होंने भारत को प्राचीन वस्तुएं लौटने में शानदार समर्थन दिया।’’


इन 157 प्राचीन वस्तुओं में 12वीं सदी की नटराज की कांस्य मूर्ती भी शामिल है।






...

अमेरिकी डॉलर की कमी से श्रीलंका के खाद्य आयातक बुरी तरह प्रभावित

कोलोंबो : श्रीलंका में अमेरिकी डॉलर की भारी किल्लत के बीच आयातकों को अपने आयात बिलों का भुगतान करने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है और इसके कारण आवश्यक खाद्य पदार्थों के 1,000 से अधिक कंटेनर कोलंबो बंदरगाह पर फंस गए हैं।


हाल के हफ़्तों में श्रीलंका की स्थानीय मुद्रा में भारी गिरावट दर्ज की गई है और कोविड-19 महामारी के कारण वैश्विक बाजार की उच्च कीमतों से अधिकांश आवश्यक वस्तुओं की कीमतें आसमान छू गई हैं। सरकार ने जमाखोरी के लिए व्यापारियों को जिम्मेदार ठहराया है।


श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे ने 31 अगस्त को देश की मुद्रा के मूल्य में भारी गिरावट के कारण खाद्य कीमतों में वृद्धि के बाद बढ़ती मुद्रास्फीति को रोकने के लिए आर्थिक आपातकाल की घोषणा की थी।


वही खाद्य आयातकों ने कहा कि उन्होंने समाधान खोजने के लिए इस सप्ताह की शुरुआत में प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के साथ बातचीत की थी।


खाद्य आयातकों ने चेतावनी दी कि इस स्थिति के कारण खाद्य पदार्थों और रसोई गैस की भारी कमी होगी। साथ ही आयातकों ने कहा है कि स्थानीय बैंकों में अपर्याप्त अमेरिकी डॉलर के कारण, वे कोलंबो बंदरगाह पर अपने माल को निकालने में असमर्थ हैं।


उपभोक्ता मामलों के मंत्री बंडुला गुणवर्धने ने कहा कि दूध, भोजन, गैस, गेहूं का आटा और सीमेंट की खुदरा कीमतों में बढ़ोतरी से जीवन यापन की लागत बढ़ने की आशंका है।






...

चार दिवसीय अमेरिका यात्रा के बाद स्वदेश लौटे प्रधानमंत्री

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी चार दिवसीय अमेरिका यात्रा के बाद रविवार को स्वदेश लौट आए। राजधानी दिल्ली के पालम हवाई अड्डे के बाहर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष जे पी नड्डा सहित पार्टी के अन्य नेताओं ने उनका स्वागत किया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ताओं ने ढोल-नगाड़े बजाकर और नृत्य कर प्रधानमंत्री का अभिनंदन किया। प्रधानमंत्री ने अपने स्वागत के लिए वहां पहुंचे सभी लोगों को धन्यवाद दिया। उन्होंने हाथ हिलाकर लोगों का अभिवादन भी किया और कुछ दूर पैदल चलकर उनसे हाथ भी मिलाया। नड्डा ने इस अवसर पर आयोजित अभिनंदन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि अपनी अमेरिका यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री ने सारी दुनिया में भारत का डंका बजाया और देश को गौरवान्वित किया। उन्होंने कहा, ‘‘आज सारी दुनिया प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत को एक नई दृष्टि से देख रही है। मोदी के नेतृत्व में भारत बदल चुका है। प्रधानमंत्री की अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ जिस आत्मीयता और बेबाकी से बात हुई है, वह भी भारत की अलग तस्वीर प्रस्तुत करती है।’’ भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने विकासवाद के साथ आतंकवाद, विस्तारवाद और जलवायु परिवर्तन पर बेबाकी से बात की और साथ ही साझा तरीके से विभिन्न वैश्विक समस्याओं का कैसे समाधान किया जा सकता है, उसकी भी चर्चा की। उन्होंने कहा, ‘‘आपने (मोदी) भारत का सम्मान बढ़ाया है।’’


तीन दिवसीय यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के 76वें सत्र को संबोधित किया और उससे पहले प्रत्यक्ष क्वाड शिखर सम्मेलन में भाग लिया। इसके अलावा, मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन, अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस के साथ ही अपने आस्ट्रेलियाई एवं जापानी समकक्षों के साथ द्विपक्षीय और बहुपक्षीय कार्यक्रमों में हिस्सा लिया।


स्वदेश रवाना होने से ठीक पहले प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा कि उन्होंने अमेरिका में पिछले कुछ दिनों में द्विपक्षीय एवं बहुपक्षीय कार्यक्रमों में हिस्सा लिया जो काफी फलदायी रहे। उन्होंने ट्वीट किया, ''पिछले कुछ दिनों में विभिन्न सीईओ से बातचीत की और संयुक्त राष्ट्र संबोधन समेत द्विपक्षीय एवं बहुपक्षीय कार्यक्रमों में हिस्सा लिया, जो काफी फलदायी रहा। मुझे पूरा भरोसा है कि आने वाले वर्षों में भारत-अमेरिका संबंध और मजबूत होंगे। हमारे लोगों के बीच समृद्ध संबंध हमारी मजबूत धरोहर में शुमार हैं।'' प्रधानमंत्री मोदी ने पांच कंपनियों के शीर्ष अमेरिकी सीईओ से भी मुलाकात की और उन्हें देश में निवेश के लिए आमंत्रित किया।





...

तीरंदाजी विश्व चैंपियनशिप में फिर स्वर्ण पदक से चूका भारत, दो रजत पदक जीते

यांकटन (अमेरिका) : भारत की महिला और मिश्रित युगल कंपाउंड तीरंदाजी टीम को कोलंबिया के खिलाफ एकतरफा मुकाबलों में शिकस्त के साथ यहां विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक से संतोष करना पड़ा। भारत विश्व चैंपियनशिप में अपने पहले स्वर्ण पदक के लिए चुनौती पेश कर रहा था। भारत अब तक स्वर्ण पदक नहीं जीत पाया है लेकिन उसने सबसे अधिक 10 बार पोडियम पर जगह बनाई है। इस दौरान भारत ने आठ बार फाइनल में चुनौती पेश की और उसे हर बार रजत पदक से संतोष करना पड़ा। रैंकिंग दौर में चौथे स्थान पर रही अभिषेक वर्मा और ज्योति सुरेखा वेनाम की भारत की स्टार मिश्रित युगल जोड़ी ने एक अंक की बढ़त के साथ शुरुआत की लेकिन इसके बाद कोलंबिया का दबदबा देखने को मिला। भारतीय जोड़ी को अंतत: 150-154 से शिकस्त झेलनी पड़ी। ज्योति, मुस्कान किरार और प्रिया गुर्जर की सातवीं वरीय महिला टीम को सारा लोपेज, एलेजांद्रा उसक्वियानो और नोरा वाल्डेज की तिकड़ी के खिलाफ 224-229 से हार का सामना करना पड़ा। रैंकिंग दौर में शीर्ष पर रही कोलंबियाई टीम ने 15 बार 10 अंक पर निशाना साधा और इस दौरान उनके पांच निशाने बिलकुल बीच में लगे। पहले दौर के बाद दोनों टीमें 58-58 से बराबर थी। भारतीय महिला टीम ने इसके बाद बढ़त बनाने का मौका गंवाया और विरोधी टीम एक अंक से आगे हो गई। कोलंबियाई टीम ने इसके बाद भारतीय टीम को कोई मौका नहीं दिया और आखिरी 12 में से आठ तीर 10 अंक पर मारकर तीसरी बार महिला खिताब जीता। यह 2017 के बाद टीम का पहला खिताब है। मिश्रित युगल में भारत के लिए दूसरा दौर खराब रहा जहां उन्होंने दो बार नौ और एक बार अंठ अंक के साथ एक अंक की बढ़त गंवाई और अंतत: चार अंक के अंतर से मुकाबला हार गई। रैंकिंग दौर में दूसरे स्थान पर रही डेनियल मुनोज और सारा ने पहले दौर के बाद वापसी की और तीसरे दौर में 40 में से 40 अंक जुटाकर पहली बार मिश्रित युगल का स्वर्ण पदक जीता। कुल मिलाकर कोलंबियाई जोड़ी ने 16 में से 10 तीर पर 10 अंक जुटाए जबकि भारतीय खिलाड़ी आठ बार ही 10 अंक जुटा पाए। कोलंबिया ने कंपाउंड तीरंदाजी में अपना दबदबा बरकरार रखा और विश्व चैंपियनशिप में अपने स्वर्ण पदकों की संख्या को चार तक पहुंचाया। भारत व्यक्तिगत कंपाउंड वर्ग में भी तीन पदक की दौड़ में बना हुआ है। वर्मा और ज्योति को शनिवार को अपने अपने क्वार्टर फाइनल मुकाबले खेलने हैं। रिकर्व वर्ग में अंकिता भकत एकमात्र तीरंदाज बची हैं। वह रविवार को अंतिम आठ मुकाबले में उतरेंगी।







...

भारत ने UNGA में राइट टू रिप्लाई अधिकार का इस्तेमाल करते हुए में पाकिस्तान को करारा जवाब दिया

 नई दिल्ली  : भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) में कश्मीर पर झूठ फैलाने को लेकर पाकिस्तान के प्राधानमंत्री इमरान खान को करारा जवाब दिया है। इमरान के भाषण पर राइट टू रिप्लाई का इस्तेमाल करते हुए भारत ने कहा कि पाक प्रधानमंत्री हमारे आंतरिक मामलों को लाकर वैश्विक मंच का दुरुपयोग कर रहे हैं। भारत ने फटकार लगाते हुए कहा कि पाकिस्तान आग लगाने वाला देश है जबकि खुद को आग बुझाने वालों के रूप में पेश करने का दिखावा करता है।

UNGA में भारत की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे ने कहा, 'यह पहली बार नहीं है जब पाकिस्तान के नेता ने मेरे देश के खिलाफ झूठे और दुर्भावनापूर्ण प्रचार के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रदान किए गए मंच का दुरुपयोग किया है और अपने देश की दयनीय स्थिति से दुनिया का ध्यान हटाने के लिए व्यर्थ प्रयास कर रहा है।' उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में आतंकवादी खुले आम घूमते हैं, जबकि आम लोगों, विशेष रूप से अल्पसंख्यक समुदायों के लोगों पर बर्बरता की जाती है।

उन्होंने कहा, 'सदस्य देश इस बात से अवगत हैं कि पाकिस्तान का आतंकवादियों को पनाह देने, सहायता करने और सक्रिय रूप से समर्थन देने की नीति का इतिहास रहा है। यह एक ऐसा देश है जिसे विश्व स्तर पर राज्य की नीति के रूप में आतंकवादियों का समर्थन, प्रशिक्षण, वित्तपोषण और हथियार देने के रूप में मान्यता दी गई है। इसके साथ ही पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा प्रतिबंधित आतंकवादियों की सबसे बड़ी संख्या की मेजबानी करने का अपमानजनक रिकॉर्ड भी रखता है।

...

ब्रिटिश सांसदों ने कश्मीर पर एक प्रस्ताव पेश किया, भारत ने निंदा की

लंदन : ब्रिटेन में सांसदों ने हाउस ऑफ कॉमन्स में चर्चा के लिए ‘‘कश्मीर में मानवाधिकारों’’ पर एक प्रस्ताव रखा है जिस पर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए कहा कि देश के अभिन्न हिस्से से संबंधित विषय पर किसी भी मंच पर किए गए दावे को पुष्ट तथ्यों के साथ प्रमाणित करने की आवश्यकता है।


ब्रिटेन में कश्मीर पर ‘ऑल पार्टी पार्लियामेंट्री ग्रुप’ (एपीपीजी) के सांसदों ने यह प्रस्ताव रखा है। विदेश, राष्ट्रमंडल और विकास कार्यालय (एफसीडीओ) में एशिया की मंत्री अमांडा मिलिंग ने बृहस्पतिवार को चर्चा में द्विपक्षीय मुद्दे के तौर पर कश्मीर पर ब्रिटेन सरकार के रुख में कोई परिवर्तन न आने की बात दोहरायी।


मिलिंग ने कहा, ‘‘सरकार कश्मीर में स्थिति को बहुत गंभीरता से लेती है लेकिन भारत और पाकिस्तान को ही कश्मीरी लोगों की इच्छा का सम्मान करते हुए स्थायी राजनीतिक समाधान तलाशना होगा। ब्रिटेन का जिम्मा इसका कोई समाधान देना या मध्यस्थ के तौर पर काम करने का नहीं है।’’


भारत सरकार ने इस चर्चा में भाग ले रहे सांसदों खासतौर से पाकिस्तानी मूल की सांसद नाज शाह द्वारा इस्तेमाल की गई भाषा पर निराशा जतायी है।


लंदन में भारतीय उच्चायोग के एक अधिकारी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधे जाने की निंदा की और कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बताया।


उन्होंने 2002 गुजरात दंगों पर शाह की टिप्पणियों का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘भारतीय उच्चायोग इस पर दुख जताता है कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के निर्वाचित नेता के खिलाफ आरोप लगाने के लिए आज एक साथी लोकतांत्रिक देश की संस्था का दुरुपयोग किया गया। जैसा कि पहले भी कहा गया है तो भारतीय उच्चायोग यह दोहराता है कि भारत के अभिन्न हिस्से से संबंधित विषय पर किसी भी मंच पर कोई भी दावा करते हुए उसे पुष्ट तथ्यों के साथ प्रमाणित करने की आवश्यकता है।’’


इस चर्चा में पक्ष और विपक्ष के 20 से अधिक सांसदों ने भाग लिया। लेबर पार्टी के सांसद बैरी गार्डिनर ने कहा कि पाकिस्तान क्षेत्र में आतंकवादी शिविरों को पनाह देता है। उन्होंने कहा, ‘‘इतने वर्षों में पाकिस्तान ने तालिबानी नेताओं को पनाह दी तथा उनकी खुफिया एजेंसी आईएसआई ने उन्हें तथा अन्य आतंकवादी संगठनों को अन्य तरीकों से सहयोग दिया।’’




...

नए हिंद-प्रशांत सुरक्षा गठबंधन को लेकर अब भी नाराज है फ्रांस

न्यूयॉर्क : अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन और फ्रांस के उनके समकक्ष एमैनुअल मैक्रों के बीच इस हफ्ते फोन पर बातचीत से संभावना है कि नए हिंद-प्रशांत गठबंधन से फ्रांस को बाहर रखे जाने और पनडुब्बी समझौता रद्द होने पर उसकी नाराजगी थोड़ी कम हुई हो। हालांकि, ऐसा प्रतीत होता है कि नए गठबंधन को लेकर फ्रांस का गुस्सा अब भी जस का तस बना हुआ है।


संयुक्त राष्ट्र महासभा के इतर अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन से बृहस्पतिवार को मुलाकात के बाद फ्रांस के विदेश मंत्री ज्यां इव लि द्रीयां ने इस स्थिति को ‘‘संकट’’ करार दिया जिससे उबरने में वक्त लगेगा।


दरअसल, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन ने नए हिंद-प्रशांत सुरक्षा गठबंधन से फ्रांस को अलग रखा है। अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन ने नए त्रिपक्षीय सुरक्षा गठबंधन ‘ऑकस’ की घोषणा की है। फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया के बीच डीजल पनडुब्बियों के निर्माण के लिए करीब 100 अरब डॉलर का सौदा हुआ था। नई ऑकस पहल की शर्तों के तहत ऑस्ट्रेलिया के लिए डीजल पनडुब्बियों के निर्माण का यह सौदा समाप्त हो जाएगा, जिससे फ्रांस नाखुश है।


लि द्रीयां के अनुसार उन्होंने और ब्लिंकन ने ‘‘विश्वास बहाल करने के उद्देश्य से दोनों देशों के बीच गहन विचार-विमर्श की प्रक्रिया में सामने आने वाली शर्तों और विषयों’’ पर चर्चा की। फ्रांस के विदेश मंत्रालय के एक बयान के मुताबिक, लि द्रीयां ने कहा, ‘‘दोनों राष्ट्रपतियों के बीच फोन पर बातचीत के साथ इस दिशा में पहला कदम बढ़ाया गया है लेकिन दोनों देशों के बीच इस संकट को खत्म होने में वक्त लगेगा और इसके लिए काम करना होगा।’’


फोन पर हुई बातचीत में मैक्रों ने बाइडन को यह भी बताया कि उन्होंने फ्रांस के राजदूत को अमेरिका भेजने का फैसला किया है। फ्रांस ने एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए अमेरिका से अपने राजदूत को वापस बुला लिया था।


एक संवाददाता सम्मेलन में ब्लिंकन ने कहा कि वह ‘‘आगे बढ़ने के लिए गहन विचार-विमर्श की प्रक्रिया’’ पर लि द्रीयां के साथ मिलकर काम करेंगे लेकिन उन्होंने वह सवाल टाल दिया कि क्या अमेरिका इस स्थिति को ‘‘संकट’’ मानता है और क्या वह फ्रांस से माफी मांगेंगे।


अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा, ‘‘हम मानते हैं कि इसमें वक्त और कठिन मेहनत लगेगी तथा इसे न केवल शब्दों बल्कि कार्यों से कर दिखाना होगा और मैं इस अहम प्रयास में लि द्रीयां के साथ मिलकर काम करने के लिए प्रतिबद्ध हूं। व्यक्तिगत रूप से मैं बस यह कहूंगा कि वह और मैं लंबे समय से अच्छे मित्र रहे हैं, वह ऐसे शख्स हैं जिनका मैं बहुत सम्मान करता हूं।’’


ब्लिंकन की टिप्पणियों से यह संकेत मिलता है कि दोनों पक्षों को सफलतापूर्वक गहन विचार-विमर्श करने के लिए कड़ी मेहनत करने की आवश्यकता है।




...

तालिबानों पर जब अफ़ग़ानी नागरिकों को भरोसा नहीं तो दुनिया भरोसा कैसे करे?


इस्लामी शरीया क़ानून वैसे तो सऊदी अरब सहित दुनिया के और भी अनेक देशों में लागू है। ऐसे लगभग सभी देशों से भारत व दुनिया के अन्य देशों के बेहतर रिश्ते यहाँ तक कि उनसे व्यवसायिक रिश्ते भी हैं। उन देशों के धर्म व शरीया क़ानूनों की स्वीकार्यता के चलते दुनिया ऐसे किसी देश पर न तो कोई आपत्ति जताती है न ही उनके आपसी संबंधों पर कोई फ़र्क़ पड़ता है। परन्तु तालिबान,उनकी तर्ज़-ए-सियासत,उनके द्वारा इस्लामी शरीया क़ानूनों का हिमायती बनने का ढोंग,और शरीया के ही नाम पर दर्शाई जा रही क्रूरता,इस्लाम के नाम पर दुनिया के मुस्लिम देशों से समर्थन जुटाए जाने के लिये अपनाया जाने वाला दोहरापन,अफ़ग़ानिस्तान में ही महिलाओं सहित एक बड़े शांतिप्रिय व प्रगतिशील वर्ग द्वारा किया जा रहा उनका विरोध और यहाँ तक कि स्वयं कट्टरपंथी तालिबानी सर्वोच्च नेताओं के मध्य सत्ता की खींच तान को लेकर काबुल के राष्ट्रपति भवन में कथित तौर पर हुई मार-पीट तथा उनसे सहमति न रखने वालों,महिलाओं व पत्रकारों पर ढहाये जाने वाले ज़ुल्म इस बात के पुख़्ता सुबूत हैं कि उपद्रवी,अतिवादी,पूर्वाग्रही तथा कट्टरपंथी सोच रखने वाले यह लोग कम से कम अफ़ग़ानिस्तान पर शासन करने योग्य तो हरगिज़ नहीं हैं।


तालिबानों द्वारा विगत 15 अगस्त को दहशत फैलाकर व हथियारों के बल पर काबुल के सत्ता केंद्र पर क़ब्ज़ा जमाया गया और उनकी दहशत के चलते ही किसी बड़ी अनहोनी को टालने की ग़रज़ से राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी को आनन फ़ानन में देश छोड़कर भागना भी पड़ा। राष्ट्रपति ग़नी के अनुसार यदि वे देश छोड़कर न भागते तो ख़ूनी हिंसा हो सकती थी इसी को टालने के लिये वे काबुल छोड़ कर भाग निकले। ज़ाहिर है जिस संभावित ख़ूनी हिंसा का वे ज़िक्र कर रहे थे उसकी पूरी संभावना तालिबानी लड़ाकों की तरफ़ से ही थी। कोई भी सभ्य समाज इसे न तो सत्ता परिवर्तन मान सकता है न ही इसे जनभागीदारी की सरकार कहा जा सकता है। ख़ासकर तब जबकि दुनिया के 'मोस्ट वांटेड' आतंकी सत्ता पर क़ाबिज़ हों। हालांकि तालिबानियों द्वारा इसे आज़ादी के तौर पर पेश किया जा रहा है। जबकि इसमें आज़ादी जैसा कोई मसअला था ही नहीं। फ़रवरी 2020 में अफ़ग़ानिस्तान में हुए चुनावों में राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी लगभग 51 प्रतिशत मत प्राप्त कर अफ़ग़ानी जनता द्वारा दूसरी बार राष्ट्रपति चुने गए थे। यानी वहां अफ़ग़ानी जनता द्वारा निर्वाचित सरकार ही कार्यरत थी और उसी की देखरेख में अफ़ग़ानिस्तान में अनेक विकास परियोजनायें चल रही थीं। रहा सवाल अमेरिकी फ़ौजों की अफ़ग़ानिस्तान से वापसी का तो इसमें भी तालिबानों की सशस्त्र मुहिम की कोई भूमिका नहीं थी। क्योंकि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने सत्ता में आते ही स्वयं 31 अगस्त 2021 तक सभी अमेरिकी सैनिकों के अफ़ग़ानिस्तान छोड़ देने की समय सीमा निर्धारित कर दी थी। लिहाज़ा तालिबानों द्वारा 'आज़ादी ' हासिल करने जैसा प्रोपेगंडा करना दुनिया की आँखों में धूल झोंकने जैसा ही है। तालिबानी नेता यह भी भली भांति जानते हैं कि यदि वे चुनाव के रास्ते से अफ़ग़ानिस्तान की सत्ता हासिल करना चाहें तो यह उनके लिए टेढ़ी खीर साबित होगी। क्योंकि वहां की शांतिप्रिय आम जनता ख़ासकर उदारवादी वर्ग व महिलायें तालिबानियों के वहशीपन तथा धर्म के नाम पर अपनाई जाने वाली अधर्मिता,उनके क्रूर बर्ताव तथा संकीर्ण मानसिकता से बख़ूबी वाक़िफ़ है। 


अफ़ग़ानिस्तान से आने वाली तस्वीरों में जिस तरह मंहगे से मंहगे व अति आधुनिक हथियारों से लैस तालिबानी लड़ाके राष्ट्रपति भवन से लेकर वहां की सड़कों तक जिस अंदाज़ में घूमते दिखाई देते हैं उसे देखकर तो यह समझना ही मुश्किल है कि कौन तालिबानी लड़ाका है तो कौन सुरक्षा कर्मी। ज़ाहिर है इसतरह की तस्वीर किसी अराजक व असभ्य देश की ही हो सकती है। एक मशहूर कहावत है 'लुच्चे सबसे ऊँचे ',इसी कहावत के तहत आज हाथों में हथियार धारण कर तथा शरीया क़ानून लागू करने का भय फैलाकर तालिबानों ने दुनिया को यह दिखने का प्रयास किया है कि वे ही देश की आवाज़ हैं और पूरा देश उनके साथ है। परन्तु दरअसल अफ़ग़ानिस्तान में दिखाई देने वाला तालिबानी वर्चस्व महज़ एक धोखा और छलावा के सिवा और कुछ भी नहीं। सही मायने में अफ़ग़ानिस्तान में दिखाई दे रहे घटनाक्रम का न तो इस्लाम से कोई वास्ता है न ही इसमें दुनिया के मुसलमानों के हितों जैसी कोई बात है। यह शुद्ध रूप से सत्ता व साम्राजयवाद का खेल है जो चंद कट्टरपंथियों द्वारा अफ़ग़ानिस्तान के जाहिल व बेरोज़गार लोगों को 'धर्म की अफ़ीम' खिलाकर धर्म और शरीया के नाम पर खेला जा रहा है। इस्लाम की उत्पत्ति के समय से ही ऐसी शक्तियां सक्रिय हो चुकी थीं जो धर्म और सत्ता का घालमेल कर आम लोगों को धोखे में रखकर मुफ़्त में स्वयं सत्ता का भरपूर आनंद लेती रही हैं। इसी सोच के तमाम आक्रांता भी थे जिनके मुंह पर तो इस्लाम और मुसलमान होता था मगर उनके कृत्य ग़ैर इस्लामी तो क्या बल्कि ग़ैर इंसानी हुआ करते थे। जिस तरह दुनिया में उन अनेक लुटेरे आक्रांताओं ने इस्लाम का नाम बदनाम किया है ठीक उसी तरह यह तालिबानी भी अपनी क्रूरता का परिचय देकर पूरी दुनिया में इस्लाम और मुसलमानों को बदनाम व रुस्वा कर रहे हैं। दुनिया के मुसलमानों से कथित तालिबानी प्रेम इनकी चीन नीति से भी स्पष्ट है जिसके अंतर्गत चीन के वीगर मुसलमानों के साथ बड़े पैमाने पर होने वाली ज़्यादतियों के बावजूद इन्होंने उस मसअले पर ख़ामोश रहने का निर्णय लिया है। पाकिस्तान द्वारा तालिबानों को कथित तौर पर दिया जाने वाला नैतिक व सामरिक समर्थन भी 'हम तो डूबे हैं सनम तुमको भी ले डूबेंगे ' नीति पर आधारित लगता है। पाकिस्तान से लेकर अफ़ग़ानिस्तान तक बच्चे बच्चे को यह पता चल चुका है कि तालिबानों की वापसी में पाकिस्तान की अहम भूमिका है। जबकि इससे पहले अफ़ग़ानिस्तान के विकास में तथा उसे पुनः खड़ा करने में भारत जो भूमिका अदा कर रहा था उसे पाकिस्तान पचा नहीं पा रहा था। कुल मिलाकर अफ़ग़ानिस्तान की मौजूदा ऐसी राजनैतिक स्थिति में जबकि सत्ता क्रूर व अपराधी मानसिकता के लोगों के हाथों में हो और स्वयं अफ़ग़ानी नागरिकों को ही तालिबानों पर भरोसा न हो तो दुनिया आख़िर इनपर कैसे भरोसा करे ?


-तनवीर जाफ़री-





...

मोदी ने संसदीय चुनावों में जीत के लिए कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को बधाई दी

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कनाडाई समकक्ष जस्टिन ट्रूडो को मिली चुनावी सफलता पर उन्हें बुधवार को बधाई दी और कहा कि वह भारत-कनाडा संबंधों को और मजबूत करने के लिए उनके साथ मिलकर काम जारी रखने के इच्छुक हैं।


कनाडा के संसदीय चुनावों में ट्रूडो की लिबरल पार्टी को जीत मिली है लेकिन बहुमत हासिल करने की उनकी मंशा पूरी नहीं हो पायी है। बहरहाल, ट्रूडो अल्पमत वाली एक स्थिर सरकार का नेतृत्व करेंगे जिसे निकट भविष्य में गिरा पाना विपक्ष के लिए आसान नहीं होगा।


मोदी ने एक ट्वीट में कहा, ''चुनावों में जीत के लिए प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को बधाई। मैं भारत-कनाडा संबंधों को और मजबूत करने के साथ ही वैश्विक और बहुपक्षीय मुद्दों पर सहयोग के लिए साथ मिलकर काम जारी रखने का इच्छुक हूं।''


ट्रूडो के नेतृत्व वाली लिबरल पार्टी ने किसी भी पार्टी की तुलना में सबसे अधिक सीटें हासिल की हैं। लिबरल पार्टी 2019 में जीती गयी सीटों से एक अधिक यानी 158 सीटों पर जीत के कगार पर है। वह हाउस ऑफ कॉमंस में बहुमत के लिए आवश्यक 170 सीटों से अभी 12 सीट दूर है। कंजरवेटिव पार्टी ने 119 सीटें जीती हैं। पिछले संसदीय चुनाव में भी वह इतनी ही सीटें जीत सकी थी। ऐसा प्रतीत नहीं होता कि ट्रूडो (49) पर्याप्त सीटें जीत पाएंगे लेकिन वह एक स्थिर अल्पमत की सरकार बनाने की स्थिति में हैं।






...

अमेरिका यात्रा पर रवाना हुए प्रधानमंत्री मोदी

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को चार दिवसीय यात्रा पर अमेरिका रवाना हो गए। इस यात्रा में वह कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन सहित विश्व के अन्य नेताओं के साथ वार्ता करेंगे और संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) को संबोधित करेंगे।


प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका के लिए विमान पर सवार होते हुए। वहां वह कई कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन सहित विश्व के अन्य नेताओं के साथ वार्ता करेंगे और संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) को संबोधित भी करेंगे।’’


पीएमओ ने इस ट्वीट के साथ विमान पर सवार होते प्रधानमंत्री की एक तस्वीर भी साझा की। अमेरिका के लिए रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री ने कहा कि उनका अमेरिका दौरा उसके साथ व्यापक वैश्विक सामरिक साझेदारी को मजबूती देने, जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ संबंधों को प्रगाढ़ बनाने और महत्वपूर्ण वैश्विक मुद्दों पर आपसी सहयोग को आगे बढ़ाने का एक मौका होगा।


इस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री मोदी राष्ट्रपति बाइडन के साथ भारत-अमेरिका व्यापक वैश्विक सामरिक साझेदारी की समीक्षा करेंगे, उप राष्ट्रपति कमला हैरिस के साथ दोनों देशों के बीच विभिन्न मुद्दों, खासकर विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सहयोग की संभावनाएं तलाशेंगे, क्वाड समूह के नेताओं के शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन और जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सूगा के साथ द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा करेंगे।


प्रधानमंत्री अपनी यात्रा का समापन न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) में कोविड-19 महामारी से दुनिया के सामने पैदा हुई चुनौतियों सहित आतंकवाद को समाप्त करने की आवश्यकता, जलवायु परिवर्तन और अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर अपने संबोधन से करेंगे।



...

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने चीन, अमेरिका को नए शीत युद्ध को लेकर किया सचेत

संयुक्त राष्ट्र : संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुतारेस ने नए शीत युद्ध की आशंकाओं के प्रति सचेत करते हुए चीन और अमेरिका से आग्रह किया कि इन दोनों बड़े एवं प्रभावशाली देशों के बीच की समस्याओं का प्रभाव दुनिया के अन्य देशों पर भी पड़ने से पहले ही वे अपने संबंधों को ठीक करलें।


संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने विश्व के नेताओं की वार्षिक संयुक्त राष्ट्र सभा से पहले इस सप्ताहांत ‘द एसोसिएटेड प्रेस’ (एपी) के साथ एक साक्षात्कार में कहा कि मानवाधिकारों, अर्थव्यवस्था, ऑनलाइन सुरक्षा और दक्षिण चीन सागर में संप्रभुता को लेकर राजनीतिक दरारों के बावजूद दो बड़ी आर्थिक शक्तियों को जलवायु परिवर्तन से निपटने के मामले पर सहयोग करना चाहिए और व्यापार एवं प्रौद्योगिकी पर बातचीत बढ़ानी चाहिए।


गुतारेस ने शनिवार को कहा, ‘‘दुर्भाग्य की बात यह है कि हम आज केवल संघर्ष देख रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमें दो शक्तियों के बीच कार्यात्मक संबंध फिर से स्थापित करने की जरूरत है।’’


उन्होंने कहा, ‘‘टीकाकरण की समस्या, जलवायु परिवर्तन की समस्या और कई अन्य वैश्विक चुनौतियों से निपटना आवश्यक है, लेकिन इनसे अंतरराष्ट्रीय समुदाय और विशेषकर महाशक्तियों के बीच रचनात्मक संबंधों के बिना निपटा नहीं जा सकता।’’


गुतारेस ने दो साल पहले वैश्विक नेताओं को दुनिया के अमेरिका और चीन के बीच दो हिस्सों में बंटने को लेकर सचेत किया था। उन्होंने कहा था कि दोनों देशों के इंटरनेट, मुद्रा, व्यापार और वित्तीय व्यवस्था संबंधी प्रतिस्पर्धी नियम हैं और ‘‘दोनों की भूराजनीति एवं सैन्य रणनीतियां ऐसी हैं, जिससे एक को नुकसान पहुंचाकर दूसरा देश लाभ प्राप्त कर रहा है’’।


उन्होंने एपी के साथ इस साक्षात्कार में भी यह बात दोहराई और कहा कि दोनों प्रतिद्वंद्वी भू-राजनीतिक और सैन्य रणनीतियां ‘‘खतरे’’ पैदा करेंगी और दुनिया को विभाजित करेंगी, इसलिए बिगड़ रहे इन संबंधों को सुधारा जाना चाहिए और ऐसा शीघ्र होना चाहिए।


गुतारेस ने कहा, ‘‘हमें शीत युद्ध से हर कीमत पर बचना चाहिए। यदि यह युद्ध हुआ, तो यह पिछले शीत युद्ध से अलग होगा तथा यह शायद अधिक खतरनाक होगा और इसका प्रबंधन अधिक कठिन होगा।’’


सोवियत संघ एवं उसके पूर्वी ब्लॉक सहयोगियों और अमेरिका एवं उसके पश्चिमी सहयोगियों के बीच तथाकथित शीत युद्ध द्वितीय विश्व युद्ध के तुरंत बाद शुरू हुआ था और यह 1991 में सोवियत संघ के बिखराव के साथ समाप्त हुआ था।


यह प्रतिद्वंद्वी विचारधाराओं वाली एवं परमाणु हथियार रखने वाली दो महाशक्तियों का टकराव था। इस युद्ध में एक तरफ साम्यवाद और सत्तावाद तथा दूसरी तरफ पूंजीवाद और लोकतंत्र था।


संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा कि एक नया शीत युद्ध अधिक खतरनाक हो सकता है। उन्होंने कहा कि सोवियत संघ और अमेरिका के बीच विद्वेष ने स्पष्ट नियम बनाए थे और दोनों पक्ष परमाणु विनाश के जोखिम के प्रति सचेत थे। इसके अलावा पर्दे के पीछे के मध्यस्थ एवं मंच अस्तित्व में आए, जिन्होंने सुनिश्चित किया कि ‘‘चीजें नियंत्रण से बाहर नहीं हों।’’


उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया को परमाणु ऊर्जा से चलने वाली पनडुब्बियां देने के लिए अमेरिका-ब्रिटेन का समझौता ‘‘एक अत्यधिक जटिल पहेली का सिर्फ एक छोटा सा भाग है।’’


महासचिव ने साक्षात्कार में तीन प्रमुख मुद्दों का भी जिक्र किया जिन पर विश्व के नेता इस सप्ताह चर्चा करेंगे। ये मुद्दे हैं: बढ़ता जलवायु संकट, वैश्विक महामारी और नए तालिबान शासन के तहत अफगानिस्तान का अनिश्चित भविष्य।


गुतारेस ने संयुक्त राष्ट्र में अफगानिस्तान की भूमिका के बारे में बात करते हुए कहा कि यह एक भ्रम है कि संयुक्त राष्ट्र की संलिप्तता से ‘‘अफगानिस्तान में अचानक एक समावेशी सरकार बन जाएगी, इस बात की गारंटी मिलेगी कि सभी मानवाधिकारों की रक्षा की जाएगी और कोई भी आतंकवादी वहां नहीं बचेगा तथा मादक पदार्थों की तस्करी रुक जाएगी’’।


उन्होंने कहा कि अमेरिका और अन्य कई देशों ने अफगानिस्तान में हजारों जवान तैनात किए और हजारों अरबों डॉलर खर्च किए, लेकिन वे समस्या का समाधान नहीं कर पाए और कुछ लोगों का तो यह भी कहना है कि इससे स्थिति और खराब हो गई।


गुतारेस ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के पास ‘‘सीमित क्षमता’’ है, लेकिन यह अफगानों को मानवीय सहायता प्रदान करने के प्रमुख प्रयासों में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। संयुक्त राष्ट्र तालिबान का ध्यान मानवाधिकारों का सम्मान करने वाली समावेशी सरकार के महत्व की ओर भी खींच रहा है।


गुतारेस ने ग्लोबल वार्मिंग से निपटने और सभी का टीकाकरण सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम करने में देशों के विफल रहने पर भी अफसोस जताया।





...

विश्व में कोरोना से 22.81 करोड़ से अधिक लोग संक्रमित

वाशिंगटन/रियो डि जेनेरो/नई दिल्ली : विश्वभर में कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के संक्रमितों की संख्या बढ़कर 22.81 करोड़ हो गई है और अब तक इसके कारण 46.85 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केंद्र (सीएसएसई) की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार दुनिया के 192 देशों एवं क्षेत्रों में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 22 करोड़ 81 लाख 19 हजार 119 हो गयी है जबकि 46 लाख 85 हजार 253 लोग इस महमारी से जान गंवा चुके हैं। विश्व में महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण बरकार है। यहां संक्रमितों की संख्या 4.20 करोड़ से अधिक हो गयी है और 6.73 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो गयी है। दुनिया में कोरोना संक्रमितों के मामले में भारत दूसरे और मृतकों के मामले में तीसरे स्थान पर है। देश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना के 30,773 नये मामलों की पुष्टि की गयी, जिससे संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर तीन करोड़ 34 लाख 48 हजार 163 हो गया है। इस दौरान 38,945 मरीजों के स्वस्थ होने के बाद कोरोनामुक्त होने वालों की तादाद बढ़कर तीन करोड़ 26 लाख 71 हजार 167 हो गयी है। सक्रिय मामले घटकर तीन लाख 32 हजार 158 रह गये हैं। इसी अवधि में 309 मरीजों की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 4,44,838 हो गया है। देश में सक्रिय मामलों की दर अब 0.99 प्रतिशत रह गयी है, रिकवरी दर 97.68 प्रतिशत है, जबकि मृत्यु दर 1.33 फीसदी पर बरकरार है। ब्राजील संक्रमितों के मामले में अब तीसरे स्थान पर है, जहां कोरोना संक्रमण के मामले फिर से बढ़ रहे हैं और अभी तक इससे 2.12 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं जबकि 5.90 लाख से अधिक मरीजों की मौत हो चुकी है। ब्राजील कोरोना से हुई मौतों के मामले में विश्व में दूसरे स्थान पर है। संक्रमण के मामले में ब्रिटेन रूस और फ्रांस से आगे निकल चुका है। यहां कोरोना से प्रभावित लोगों की संख्या 74.35 लाख से अधिक हो गयी है और 135,478 मरीजों की मौत हो चुकी है। रूस में कोरोना वायरस से अब तक 71.50 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं जबकि 1.93 लाख से अधिक मरीजों की मौत हो चुकी है। फ्रांस में कोरोना संक्रमितों की संख्या 70.37 लाख से अधिक हो गई है और इसके संक्रमण से 116,662 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।






...

अफगानिस्तान में सिलसिलेवार धमाकों में 2 की मौत, 21 घायल

काबुल : अफगानिस्तान में चार अलग-अलग विस्फोटों में कम से कम दो लोगों की मौत हो गई और 21 अन्य घायल हो गए। इसकी पुष्टि कई सूत्रों ने की।


समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, पूर्वी नंगरहार प्रांत की राजधानी जलालाबाद शहर में शनिवार को पुलिस जिला (पीडी) 6 और पीडी 4 में सड़कों पर यात्रा कर रहे तालिबान के वाहनों को निशाना बनाकर किए गए तीन विस्फोटों में दो लोगों की मौत हो गई और 19 अन्य घायल हो गए।


सूत्रों ने स्थानीय संवाददाताओं से कहा, घायलों को सुबह विस्फोटों के बाद जलालाबाद शहर के क्षेत्रीय प्रांतीय अस्पताल में भर्ती कराया गया।


उन्होंने कहा कि ज्यादातर पीड़ित तालिबान के सदस्य थे।


नंगरहार में तालिबान अधिकारियों ने अभी तक रिपोर्ट पर कोई टिप्पणी नहीं की है, जबकि अनौपचारिक सूत्रों ने कहा कि विस्फोट इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) के कारण हुए।


अभी तक किसी भी समूह ने इन धमाकों की जिम्मेदारी नहीं ली है।


स्थानीय टीवी चैनल टोलो न्यूज ने बताया, इससे पहले शनिवार को काबुल के पीडी 13 में एक अस्पष्ट लक्ष्य के साथ एक विस्फोट में दो नागरिक घायल हो गए थे।



...

चीन में नौका पलटने से आठ लोगों की मौत, सात अन्य लापता

बीजिंग :  दक्षिणपश्चिम चीन के गुइझोउ प्रांत की नदी में एक यात्री नौका के पलटने के बाद कम से कम आठ लोगों की मौत हो गयी और सात अन्य लापता हैं। सरकारी समाचार एजेंसी ‘शिन्हुआ’ ने रविवार को खबर दी कि यह दुर्घटना शनिवार को लियुपनशुई शहर की जांग्के नदी में स्थानीय समयानुसार शाम चार बजकर 50 मिनट पर हुई। इस नौका में 40 यात्रियों के बैठने की क्षमता थी। प्राधिकारी यह पता लगा रहे हैं कि नौका में कितने लोग सवार थे। अभी तक आठ शव बरामद किए गए हैं। रविवार सुबह आठ बजकर 10 मिनट तक नदी से 39 लोगों को बचाया गया। खबर में बताया गया है कि बचाव अभियान चल रहा है और हादसे की वजह का पता लगाया जा रहा है।



...

ऑस्ट्रेलिया में लॉकडाउन के खिलाफ प्रदर्शन, पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर मिर्च स्प्रे छिड़का

मेलबर्न : ऑस्ट्रेलिया के दूसरे सबसे बड़े शहर मेलबर्न में लोगों ने कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन लगाने के विरोध में शनिवार को रैली निकाली और पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने के लिए मिर्च का छिड़काव किया।


करीब 1,000 प्रदर्शनकारी उपनगर रिचमंड में एकत्रित हुए। प्राधिकारियों से बचने के लिए प्रदर्शनकारियॉों ने आखिरी क्षण में प्रदर्शन स्थल बदल दिया।


मामूली झड़पों की भी खबरें आयी। कई प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया। ज्यादातर प्रदर्शनकारियों ने मास्क न लगाकर नियमों का उल्लंघन किया।


सड़कों पर जांच चौकियों पर करीब 2,000 पुलिस अधिकारियों को तैनात किया गया और अवरोधक लगाए गए।


मेलबर्न में छठी बार पांच अगस्त से लॉकडाउन शुरू हुआ। मेलबर्न विक्टोरिया राज्य की राजधानी है जहां शनिवार को कोरोना वायरस के 535 नए मामले आए और 24 घंटे में एक व्यक्ति की मौत हुई। 





...

मैं इस सीजन को मैच दर मैच खेलना चाहता हूं: नात्र्जे

दुबई : दिल्ली कैपिटल्स के तेज गेंदबाज एनरिक नात्र्जे ने शुक्रवार को कहा कि वह 19 सितंबर से यूएई में शुरू हो रहे आईपीएल 2021 के दूसरे हाफ में मैच दर मैच खेलना चाहेंगे। नात्र्जे ने आईपीएल 2020 में दिल्ली के लिए 16 मैचों में 22 विकेट लिए और टीम को टूनार्मेंट के फाइनल में पहुंचने में मदद की।


नात्र्जे ने फ्रैंचाइजी द्वारा जारी एक रीलीज में कहा, यह वह जगह थी जहां आईपीएल में मेरे लिए चीजें होने लगी थी। लेकिन मैं इसे इस सीजन को मैच दर मैच खेलना चाहता हूं। आईपीएल के बाद भी बहुत कुछ आ रहा है। हमें कोशिश करनी होगी और याद रखना होगा कि हमने यहां क्या किया। उम्मीद है कि हम यूएई में जो पिछली बार हमने किया उसे दोहरा सकें।


27 वर्षीय नात्र्जे का मानना है कि आईपीएल 2021 का दूसरा चरण भारत में होने वाले टूर्नामेंट के पहले भाग से बिल्कुल अलग होगा।


नात्र्जे ने कहा, एक जगह पर जो काम किया वह दूसरी जगह काम नहीं करेगा इसलिए हमें इसे खेल के हिसाब से लेना होगा। यूएई में आने वाले खेल उन खेलों से पूरी तरह से अलग होने जा रहे हैं जो हमने पहले सीजन में किए थे। टूनार्मेंट के दूसरे चरण में अलग रणनीति। हमें अभी से तैयार रहना होगा।


नॉर्टजे को लगता है कि यूएई में टी20 विश्व कप से पहले आईपीएल 2021 का दूसरा भाग खेलना निश्चित रूप से मेगा इवेंट में भाग लेने वाले सभी टी20 खिलाड़ियों के लिए एक बड़ा फायदा है। नात्र्जे ने कहा, टी 20 विश्व कप से पहले आईपीएल खेलना निश्चित रूप से एक बड़ा फायदा है। हमारे पास परिस्थितियों के अनुकूल होने और यूएई में यहां विकेटों का पहला अनुभव प्राप्त करने का मौका है। मुझे लगता है कि प्रत्येक टीम जितना संभव हो सके हर चीज का आकलन करना चाहती है, लेकिन सबसे पहले हमें आईपीएल के लिए परिस्थितियों का आकलन करना होगा क्योंकि यह निश्चित रूप से अपने आप में एक बड़ा टूर्नामेंट है।


टेबल टॉपर्स दिल्ली कैपिटल्स आईपीएल 2021 के अपने दूसरे चरण की शुरूआत 22 सितंबर को दुबई में सबसे निचले स्थान पर काबिज सनराइजर्स हैदराबाद से करेगी।







...