शाहजहांपुर में मामूली विवाद में व्यवसायी की गोली मारकर हत्या

शाहजहांपुर : जिले में एक ढाबे पर मामूली कहासुनी के बाद एक व्यक्ति ने सीमेंट व्यवसायी की कथित रूप से गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को हत्या में प्रयुक्त तमंचे के साथ गिरफ्तार कर लिया है।


पुलिस अधीक्षक (नगर) संजय कुमार ने रविवार को बताया कि थाना कोतवाली अंतर्गत केरूगंज स्थित एक ढाबे पर शनिवार देर रात मनीष कुमार (35) अपने दोस्त के साथ गए और ढाबे के बाहर बैठकर खाना खा रहे थे। इसी बीच ढाबे के अंदर से दो व्यक्ति निकले जिनसे मनीष की मामूली कहासुनी हो गई।


उन्होंने बताया कि इसके बाद आरोपी रूबल यादव ने तमंचे से मनीष के गोली मार दी। इस घटना के बाद मनीष को मेडिकल कॉलेज ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।


उन्होंने बताया कि पुलिस ने रात में ही आरोपी रूबल यादव तथा मोहब्बत अली को गिरफ्तार कर लिया है और उनके पास से हत्या में प्रयुक्त तमंचा भी बरामद कर लिया है।





...

पेचकस गिरोह के बदमाशों पर कहर बनकर टूटी कमिश्नरेट पुलिस

ग्रेटर नोएडा :  ग्रेटर नोएडा में आतंक का पर्याय बन चुके पेचकस गिरोह पर गौतमबुद्ध नगर कमिश्नरेट पुलिस कहर बनकर टूटी है। बीटा दो कोतवाली क्षेत्र के चूहड़पुर अंडरपास के समीप हुई मुठभेड़ में गिरोह के चार बदमाशों के पैर में गोली लगी है। गंभीर स्थिति को देखते हुए घायल बदमाशों को जिला अस्पताल से हायर सेंटर सफदरजंग दिल्ली के लिए रेफर कर दिया गया है। बदमाशों के कब्जे से लूट के एक लाख रुपये, घटना में इस्तेमाल होने वाली स्विफ्ट कार, लूट के एटीएम कार्ड, मोबाइल, पेचकस, हथौड़ी समेत कई अन्य औजार बरामद किए गए है। बदमाशों को पकड़ने वाली टीम को पुलिस आयुक्त आलोक सिंह ने 50 हजार का इनाम दिया है। पिछले छह महीने से यह गिरोह पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ था।


 अपर पुलिस आयुक्त लव कुमार ने बताया कि पेचकस गिरोह को पकड़ने के लिए एडिशनल डीसीपी विशाल पांडेय व बीटा दो कोतवाली प्रभारी अनिल राजपूत की टीम ने रविवार सुबह साढ़े आठ बजे के करीब परीचौक के समीप घेराबंदी की। पुलिस को देखकर बदमाश फायरिग करते हुए भागे। पुलिस ने पीछा किया। चूहड़पुर अंडरपास के समीप जवाबी कार्रवाई में चार बदमाशों के पैर में गोली लगी। बदमाशों की पहचान आनंद वर्मा निवासी रेवाड़ी हरियाणा, शिव कुमार बुलंदशहर, बबलू वर्मा मायचा ग्रेटर नोएडा व दीपक के रूप में हुई है। पूछताछ में पता चला कि बदमाश सुबह आठ से 11 के बीच ग्रेटर नोएडा क्षेत्र में राहगीरों को लिफ्ट देकर कार में बैठाते थे। राहगीर से लूटपाट करते थे और एटीएम का पिन पूछकर रुपये निकलवाते थे। पिन नहीं बताने पर बदमाश पेचकस मारकर घायल कर देते थे।


एसीपी महेंद्र सिंह देव ने बताया कि बदमाश 2016 में भी ऐसी घटनाओं को अंजाम देने के मामले में दूसरे जनपद से जेल जा चुके है। पकड़े गए बदमाश दीपक व आनंद पर 17, शिवकुमार पर 12 व बबलू पर कुल आठ आपराधिक मुकदमे दर्ज है। कई ऐसे भी मामले है जिसमें पीड़ितों ने पुलिस से शिकायत नहीं की। पुलिस ऐसी पीड़ितों को तलाश रही है।


बदमाशों ने बीते सात अक्टूबर को रेयान गोलचक्कर के समीप से फैक्ट्री के जीएम मृगेंद्र कटियार का अपहरण कर उनसे लूटपाट की थी। एटीएम से रुपये निकलवाए थे। विरोध करने पर उन पर पेचकस से नौ वार किए थे। घटना के बाद पीड़ित इतना डर गए थे कि वह कुछ समय के लिए सदमे में चले गए थे। इंटरनेट मीडिया पर हुई सराहना


पेचकस गिरोह के लंबे समय से चुनौती बने होने की वजह से पुलिस को आलोचना झेलनी पड़ रही थी। रविवार सुबह बदमाशों के पकड़े जाने के लिए इंटरनेट मीडिया पर ग्रेटर नोएडा वेस्ट की कई अलग-अलग संस्थाओं व शहर के लोगों ने बीटा दो कोतवाली पुलिस की सराहना की है।



...

किसान आंदोलन : सिंघु बार्डर पर एक युवक की बेरहमी से हत्या, हाथ काटकर शव बैरिकेड से लटकाया

नई दिल्ली :  तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में लगातार 10 महीने से जारी किसानों के धरना प्रदर्शन के बीच दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बार्डर पर एक हैरान करने वाली घटना सामने आई है। यहां पर एक युवक की पहले तो बेरहमी से हत्या की गई फिर उसके हाथ काटकर लटका दिया गया। इस बाबत शुक्रवार सुबह से ही इस घटना के बाबत कई तस्वीरें वायरल हैं, जिसमें इसमें साफ देखा जा सकता है कि सिंघु बार्डर पर एक युवक के दोनों हाथों को बांधकर लटकाया गया है और इस युवक की मौत की जानकारी सामने आ रही है। 

बृहस्पतिवार रात को दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बार्डर पर कुछ लोगों ने एक अनजान व्यक्ति का दाहिना हाथ काट कर मार दिया। इसके बाद शव को किसानों के धरना स्थल के पास ले जाकर 'सूली' पर लटका दिया। युवक को मारने और हाथ काटकर सूली पर लटकाने का आरोप निहंगों पर लगा है। इनका कहना है कि इस युवक ने हमारे गुरु ग्रंथ साहिब का अंग भंग किया। हालांकि, जान गंवाने इस व्यक्ति की अभी शिनाख्त नहीं हुई है। 

निहंगों का यह भी कहना है कि इस शख्स को  30,000 रुपये देकर किसी ने ऐसा करने के लिए भेजा था। आरोप है कि बृहस्पतिवार रात में ही निहंगों ने इस कृत्य की वीडियो भी बनाई। फिर इसे शुक्रवार सुबह वायरल किया। बताया जा रहा है कि आरोपित निहंगों ने ऐसा जानबूझकर किया है।

कहा जा रहा है कि युवक की हत्या बृहस्पतिवार रात को ही की गई, उसके बाद शुक्रवार सुबह 5:30 बजे संयुक्त किसान मोर्चा की मुख्य स्टेज के पास करीब 100 किलोमीटर घसीट कर निहंगों के ठिकाने यानी फोर्ड एजेंसी के पास शव को लाया गया। इसके बाद सुबह 6:00 बजे शव को लटकाया गया है, ताकि लोग देख सकें। वहीं, प्रबंधक थाना रवि कुमार मौके पर पहुंच गए हैं। बताया जा रहा है कि इस पूरे मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

...

दीनी तालीम ले रहे बच्चे से मौलाना ने किया दुष्कर्म

बरेली (उत्तर प्रदेश) : जिले के कोट मोहल्ले में एक मौलाना से दीनी तालीम (धार्मिक विद्या) लेने वाले नौ साल के बच्चे से कथित दुष्कर्म का मामला सामने आया हैं। बरेली शहर के थाना बारादरी में घटना की रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस ने मौलाना को गिरफ्तार कर लिया है।


बारादरी थाना के निरीक्षक नीरज मलिक ने बताया कि नौ साल का पीड़ित बच्चा कोट मोहल्ले में 21 वर्षीय मौलाना मोहम्मद गुल हसन से दीनी तालीम लेने जाता था। वह सोमवार दोपहर में पढ़ाई के लिए मौलाना के घर गया तो उसने डरा धमका कर बच्चे से दुष्कर्म किया।


उन्होंने बताया कि परिजन का आरोप है कि मौलाना ने बच्चे को धमकी दी कि अगर उसने किसी को कुछ बताया तो उसे और उसके परिवार वालों को वह जान से मार देगा। बच्चा जब घर पहुंचा तो कपड़ों पर खून लगा देख मां-बाप ने उससे इसके बारे में पूछा तो बच्चे ने सारी घटना बता दी। घटना सुनकर मां बाप बच्चे को लेकर थाना आए।


मलिक ने बताया कि बच्चे का चिकित्सीय परीक्षण कराया गया जिसमें दुष्कर्म की पुष्टि हुई है। मंगलवार को आरोपी मौलाना मोहम्मद गुल हसन के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया।


उन्होंने बताया कि पुलिस ने आरोपी मौलाना को अदालत के सामने पेश किया जहां से उसे जेल भेज दिया गया।



...

महाराष्ट्र : संपत्ति विवाद के चलते एक शख्स ने पिता की हत्या की

ठाणे :  महाराष्ट्र के ठाणे जिले में 35 वर्षीय व्यक्ति ने संपत्ति विवाद के बाद अपने पिता की चाकू मारकर कथित तौर पर हत्या कर दी। पुलिस ने बुधवार को बताया कि यह घटना मंगलवार को मुरबाद तालुका के डोंगर नावले गांव में हुई और फरार आरोपी को पकड़ने की कोशिश जारी है। पुलिस ने बताया कि आरोपी 50 वर्षीय मृतक की पहली पत्नी का बेटा है और वह अपने पिता की दूसरी शादी से खुश नहीं था। पिछले पांच साल से संपत्ति के एक मामले को लेकर भी दोनों में झगड़ा चल रहा था। मुरबाद पुलिस थाने के वरिष्ठ निरीक्षक प्रसाद पंढारे ने बताया कि मंगलवार को रात करीब नौ बजे आरोपी, एक धारदार हथियार के साथ पिता के घर आया और दोनों में संपत्ति संबंधि मुद्दे को लेकर फिर से झगड़ा हुआ। उन्होंने बताया कि झगड़े के दौरान, आरोपी ने अपने पिता पर उस हथियार से कथित तौर पर कई बार वार किए और फिर भाग गया। उन्होंने बताया कि शख्स की मौके पर ही मौत हो गई। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। अधिकारी ने बताया कि भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या) के तहत आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और उसे पकड़ने के प्रयास जारी हैं।






...

महाराष्ट्र: दुष्कर्म के बाद गर्भवती हुई किशोरी, युवक गिरफ्तार

पालघर :  महाराष्ट्र के पालघर जिले में एक युवक ने 15 वर्षीय किशोरी के साथ कथित तौर पर कई बार दुष्कर्म किया, जिसके बाद वह गर्भवती हो गई। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी।


जवाहर पुलिस थाने के एक अधिकारी ने बताया कि इस मामले में 20 वर्षीय युवक को सोमवार रात गिरफ्तार कर लिया गया।


अधिकारी ने बताया कि आरोपी और किशोरी दोनों जवाहर तालुका के एक गांव के रहनेवाले हैं और पिछले एक साल से उनके बीच संबंध थे। लड़की गर्भवती हो गई और कुछ दिन पूर्व ही उसने समय से पहले एक बच्चे को जन्म दिया।


उन्होंने बताया कि शनिवार को लड़की के परिवार की शिकायत के बाद पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर उसे खिलाफ भारतीय दंड संहिता और यौन अपराध से बाल संरक्षण (पॉक्सो) अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया।




...

महाराष्ट्र: मुंबई आ रही पुष्पक एक्सप्रेस में युवती से सामूहिक दुष्कर्म, सभी आठ आरोपी गिरफ्तार

मुंबई :  महाराष्ट में इगतपुरी और कसारा रेलवे स्टेशनों के बीच लखनऊ-मुंबई पुष्पक एक्सप्रेस ट्रेन में 20 वर्षीय एक युवती के साथ किए गए दुष्कर्म के मामले में पुलिस ने सभी आठ आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी।


यह घटना शुक्रवार रात हुई। आरोपी मुंबई आ रही ट्रेन में इगतपुरी स्टेशन से चढ़े। यह कथित अपराध तब हुआ जब ट्रेन घाट खंड से गुजर रही थी। पुलिस ने तब इस मामले में चार लोगों को गिरफ्तार किया था। एक पुलिस अधिकारी के अनुसार, इस मामले में अब सभी आठ आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।


आरोपियों की पहचान प्रकाश उर्फ पाक्या दामू पारधी (20), अरशद शेख (19), अर्जुन उर्फ पाव्या सुभाष सिंह परदेशी (20), किशोर नंदू सोनवाने उर्फ कालिया (25), काशीनाथ रामचंद्र तेलम काश्या (23), आकाश शेनोर उर्फ आक्या (20), धनंजय भगत उर्फ गुड्डू (19) और राहुल आडोले उर्फ राहुल्या (22) के रूप में हुई है।


सरकारी रेलवे पुलिस (जीआरपी) के एक अधिकारी के अनुसार, ट्रेन में चढ़ने से पहले आरोपियों ने गांजा का सेवन किया था। उन्होंने बताया कि आरोपियों की ट्रेन में लूटपाट की योजना नहीं थी। लेकिन, ट्रेन में चढ़ने के बाद आरोपियों में से एक ने चाकू दिखा कर एक यात्री का सामान लूटने की कोशिश की। भयभीत यात्री ने उन्हें नकदी दे दी। आरोपियों का हौसला बढ़ गया और उन्होंने अन्य यात्रियों को भी चाकू दिखा कर धमकाने का प्रयास किया। उन्हें लगा था कि अंधेरे में उनकी पहचान नहीं हो पाएगी।


पुलिस उपायुक्त (जीआरपी) मनोज पाटिल ने बताया कि इस मामले से जुड़े सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपियों में से चार का आपराधिक रिकॉर्ड है जबकि बाकी के खिलाफ पहले से कोई मामला दर्ज नहीं है। मामले की जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि आरोपियों ने 16 यात्रियों से नकदी लूटी और नौ मोबाइल फोन छीन लिए।


अधिकारी ने बताया कि आरोपियों ने 20 वर्षीय महिला से दुष्कर्म किया। महिला की हाल में ही शादी हुई थी और वह अपने पति के साथ मुंबई रहने जा रही थी। महिला के पति ने जब पत्नी को बचाने की कोशिश की तो आरोपियों ने उस पर हमला किया। जीआरपी ने आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 395 (डकैती), 376 (डी)-सामूहिक दुष्कर्म के तहत मामला दर्ज किया है।



...

महाराष्ट्र: पत्नी ने झगड़े के बाद पति की गला दबाकर हत्या की

ठाणे (महाराष्ट्र) : महाराष्ट्र के ठाणे जिले में 35 वर्षीय एक महिला ने अपने पति की घरेलू विवाद के चलते कथित तौर पर गला दबाकर हत्या कर दी। निजामपुर थाने के एक अधिकारी ने बताया कि घटना रविवार रात भिवंडी शहर के कल्हेर इलाके में दम्पति के घर पर हुई। महिला को सोमवार तड़के गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि महिला का पति एक मजदूर था और उसे शराब पीने की लत थी। दोनों के बीच छोटी-छोटी बातों पर भी झगड़ा होता रहता था। रविवार को भी दोनों के बीच झगड़ा हुआ, जिसके बाद महिला ने कथित तौर पर अपने पति की रस्सी से गला दबाकर हत्या कर दी। अधिकारी ने बताया कि पड़ोसियों ने पुलिस को आधी-रात को घटना की जानकारी दी। पुलिस ने मौके पर पहुंच शव को कब्जे में लिया और उसे पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया। इसके बाद महिला को गिरफ्तार किया गया। उसके खिलाफ प्रासंगिक धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।




...

झाड़-फूंक के चक्कर में युवक की पीट-पीटकर हत्या

आजमगढ़ :  कंधरापुर थाना क्षेत्र के टंडवा गांव में शनिवार की रात झाड़-फूंक के चक्कर में अमरजीत नामक युवक को एक ओझा ने कमरे में पीट-पीटकर अधमरा कर दिया। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने उसे ओझा के बंधन से मुक्त कराकर एंबुलेंस की से जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने हालत गंभीर देख हायर सेंटर रेफर कर दिया। उसके बाद परिवार के लोग एक निजी अस्पताल ले गए जहां, उसकी मौत हो गई।


रौनापार थाना क्षेत्र के देवारा श्रीनगर गांव निवासी अमरजीत यादव तीन माह से कुछ परेशानियों से जूझ रहा था। किसी ने कंधरापुर थाना क्षेत्र के टंडवा गांव निवासी रामअवतार से उसकी मुलाकात कराई। उसने झाड़-फूंक से समस्या का समाधान करने की बात कही, तो अमरजीत के पिता रामकवल उसके चक्कर में फंस गए। सप्ताह में कम से कम तीन बार झाड़ फूंक कराने के लिए जाते थे। मृतक के पिता ने बताया कि ओझा तीन माह में झाड़-फूंक के नाम पर लगभग 50 हजार ले चुका है। यह भी बताया कि शाम को अपने पुत्र अमरजीत और नाती रवि के साथ रामअवतार के घर गए। उसने पूजा-पाठ किया और रात 11 बजे हमे भोजन करने के लिए बाहर भेज दिया। पुत्र और नाती को द्वितीय तल पर कमरे में सुलाने के लिए ले गया। नाती के सामने ही ओझा अपने साथियों के साथ अमरजीत को लाठी-डंडे से मारने-पीटने लगा। यह देख नाती ने हाथ जोड़कर विनती की कि इसे छोड़ दें लेकिन ओझा ने एक न सुनी। उसके बाद ओझा उसे घसीटते हुए छत से नीचे उतारा और पेड़ में बांधकर फिर मारने-पीटने लगा। इतने में किसी ग्रामीण ने डायल 112 को सूचना दी तो पुलिस ने घायल को जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डाक्टरों ने हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया। पिता ने ओझा के खिलाफ कंधरापुर थाने में मारपीट कर हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। ग्रामीणों की मदद से मामले की जानकारी हुई। मृतक के पिता की तहरीर पर ओझा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आरोपित को पकड़ने के लिए लगातार दबिश दी जा रही है। जल्द ही सफलता मिल जाएगी।



...

नशे में गाड़ी चलाने से मना करने पर मारपीट

गाजियाबाद : शराब पीकर गाड़ी चलाने से मना करने पर कैब चालक ने सवारी के साथ न केवल मारपीट की है, बल्कि सवारी को उतार कर गाड़ी में रखा सामान लेकर भाग गया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

राजनगर में रहने वाले अभिषेक ने बताया कि शुक्रवार को वह अपने दोस्त नमन बत्रा के साथ रुड़की जा रहे थे। यहां से उन्होंने कैब बुक की थी। घर से निकलने के बाद जैसे ही वह राजनगर एक्सटेंशन में पहुंचे, उन्हें अहसास हुआ कि कैब चालक ने शराब पी रखी है। उन्होंने उससे पूछा तो आरोपी भड़क गया और अजनारा इंटिग्रिटी सोसाइटी के सामने उन्हें गाड़ी से उतार दिया। वह गाड़ी से अपना सामान निकाल ही रहे थे कि आरोपी गाड़ी तेजी से भगा ले गया। पीड़ित ने इस संबंध कैब चालक प्रशांत और गाड़ी मालिक कमल गुप्ता के खिलाफ पुलिस में तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।



...

महिला के हत्यारों का सुराग नहीं

लोनी : महिला हत्याकांड को अंजाम देने वाले बदमाशों का पुलिस 24 घंटे बाद भी सुराग नहीं लगा सकी है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में महिला की मौत का कारण दम घुटना बताया गया है। परिजनों ने शव को सुपुर्दे ए खाक कर दिया है। गौरतलब है कि शनिवार दोपहर लोनी थाने की अशोक विहार कॉलोनी निवासी मुनिया पत्नी दिलशाद की घर में ही हत्या कर दी गई थी। परिजनों ने अज्ञात बदमाशों के विरुद्ध हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था। एडिशनल एसपी अतुल कुमार सोनकर ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक महिला की हत्या मुंह दबाकर की गई थी। हत्यारों की सुरागकसी का प्रयास किया जा रहा है, लेकिन अभी तक सफलता हाथ नहीं लगी है। जल्द ही मामले का खुलाया किया जाएगा।






...

दामाद ने ससुराल में पत्नी और ससुर से की मारपीट

बल्लभगढ :  बल्लभगढ़ की मुकेश कॉलोनी में एक युवक ने अपने दोस्त के साथ अपनी ससुराल में आकर अपने ससुर व पत्नी के साथ जमकर मारपीट के घायल कर दिया। हमलावर दामाद को ससुराल वालों ने दबोच कर पुलिस के हवाले कर दिया, जबकि उसका दोस्त भागने में सफल हो गया। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।मुकेश कॉलोनी निवासी नेपाल सिंह ने बताया कि उसकी लड़की का विवाह 15 वर्ष पहले (नाम-पूनम) नारायण सिंह के बेटे दलीप सिंह के साथ हुआ था। शादी के बाद से ही लड़की को तंग रखते थे। कई बार सुलहनामा भी हुआ, लेकिन वह लोग अपनी हरकतों से बाज नहीं आते। पीड़ित पिता ने बताया कि उनकी बेटी को एक सप्ताह पहले मारपीट कर घर से निकाल दिया था। इस कारण वह उनके पास यानी मायके में ही रहती है। रविवार सुबह करीब 10.45 पर वह घर से बाहर बैठा हुआ था तभी उसका दामाद व अन्य एक ग्रे रंग कलर की स्कूटी पर उसके घर पर आए। उसने उन्हें आते ही बैठने के लिए कहा तभी उन्होंने मारपीट करने की धमकी दी। इसके बाद उन्होंने उस पर हमला कर दिया। इसके बाद जब उन्हें घर में प्रवेश करने के लिए रोकना चाहा तो उन्होंने उसके सिर पर डंडा मारकर घायल कर दिया। इस बीच उसकी बेटी घर के अंदर वालों कमरे से बाहर आई। तभी उसके हाथ पर भी डंडे से मारा और बालो से घसीटकर बाहर लाने लगे तभी उसने औऱ उसकी बेटी ने बचना चाहा तब भी उनके ऊपर लाठी-डंडों से हमला कर दिया। चिल्लाने की आवाज सुनकर उसका भतीजा राजू व अन्य पड़ोसी वहां आ गए और मौके पर ही उसके दामाद को पकड़ लिया व अन्य दोषी स्कूटी लेकर वहां से भाग गए। तभी किसी ने 112 नम्बर पर फोन किया औऱ पुलिस को बुलाया तथा पकड़े गए युवक को पुलिस के हवाले कर दिया।



...

हाईवे पर लूट का विरोध कर युवक की गोली मारकर हत्या

पलवल : दिल्ली-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग एनएच 19 पर आल्हापुर फ्लाईओवर के समीप शनिवार रात को लूटपाट का विरोध करने पर बाइक सवार नकाबपोश बदमाशों ने वृंदावन के एक युवक की छाती में गोली मारकर हत्या कर दी। सूचना मिलने पर पुलिस ने मौके पर पहुंच लहुलुहान युवक को पलवल के सरकारी अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। हाईवे पर लूट की इस वारदात की सूचना मिलने पर पुलिस के आला अधिकारी भी रात में ही मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने रविवार को शव पोस्टमार्टम के बाद उनके परिजनों के हवाले कर दिया है।


राजपुर खुर्द छतरपुर न्यू दिल्ली निवासी गोविंद ने बताया कि वह उद्योग बिहार गुरुग्राम स्थित कॉन्टेंटरी एसपी इनफो कंपनी में नौकरी करता है। उसी कंपनी में हाउस गोदली पूरम वृंदावन जिला मथुरा (यूपी) निवासी नीतिन तिवारी पुत्र वेदप्रकाश तिवारी भी नौकरी करता था। आठ अक्तूबर को दोनों बाइक पर सवार होकर घूमने के लिए वृन्दावन गए थे। 9 अक्तूबर को वापस अपनी बुलेट बाइक पर वृन्दावन से गुरुग्राम के लिए आ रहे थे।


रात करीब साढ़े दस बजे एनएच-19 पर आल्हापुर फ्लाईओवर के पार पहुंचे तो अचानक बाइक बंद हो गई। बाइक को सडक़ किनारे खड़ा चेक करने लगे। उसी दौरान एक बाइक पर तीन नकाबपोश युवक आए और आते ही कहा कि जो कुछ भी तुम्हारे पास है उसे निकाल दो। पीडि़त ने कहा कि रुपये ले लो और हमारे बैग दे दो, जिसमें कपड़े और जरूरी कागजात हैं। उसी दौरान नकाबपोश युवक नीतिन से उसका बैग छीनने लगे। नीतिन ने बैग छीनने का विरोध किया तो उक्त युवकों ने उसकी छाती में गोली मार दी और दो बैग को लूटकर बल्लभगढ़ की तरफ फरार हो गए।


भवनकुंड चौकी इंचार्ज एसआई विनोद देशवाल ने बताया कि सूचना मिलते ही वे मौके पर पहुंच गए। लहुलुहान हालत में नीतिन को अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद शव को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया तथा इसकी सूचना मृतक के परिजनों को दी। हत्या व लूट की इस वारदात के बाद डीएसपी यशपाल खटाना समेत अन्य पुलिस अधिकारियों ने वारदात स्थल का जायजा लिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने हत्या की वारदात को लेकर साक्ष्य जुटाए। रविवार दोपहर पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के बाद उसके परिजनों के हवाले कर दिया है। मृतक के साथी गोविंद की शिकायत पर अज्ञात हत्यारोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। घटनास्थल की सीसीटीवी फुटैज खंगाली जा रही है। फिलहाल मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों के हवाले कर दिया गया है। भवनकुंड चौकी इंचार्ज एसआई विनोद देशवाल ने बताया कि वारदात सुलझाने के लिए पुलिस ने तीन टीमें बनाई हैं।






...

चार करोड़ के लेनदेन में कांस्टेबल ने दरोगा जीजा को गोली मारी

नई दिल्ली : कॉमनवेल्थ और एशियाड गेम्स में जूड़ो में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले हरियाणा पुलिस के दरोगा विरेंद्र सिंह की उसके साले ने दिल्ली में रविवार सुबह अपनी सर्विस रिवॉल्वर से गोली मार कर हत्या कर दी। आरोपी विक्रम दिल्ली पुलिस में बतौर कांस्टेबल तैनात है। दोनों के बीच करीब चार करोड़ रुपये के लेनदेन को लेकर विवाद की बात सामने आ रही है।


पुलिस उपायुक्त गौरव शर्मा ने बताया कि मृतक विरेन्द्र हरियाणा के रोहतक का रहने वाला था। वर्तमान में वह हरियाणा पुलिस में बतौर सब इंस्पेक्टर करनाल में तैनात था। विरेन्द्र परिवार के साथ करनाल में ही रहता था। जबकि, आरोपी विक्रम दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल है और ग्रेटर कैलाश थाने में तैनात है। विक्रम अपनी पत्नी और बेटे के साथ सफदरजंग एंक्लेव स्थित घर में रहता है। विक्रम दिल्ली पुलिस से पहले भारतीय सेना में था और वहां से नौकरी पूरी कर उसने दिल्ली पुलिस में नौकरी शुरू की है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि सफदरजंग एंक्लेव थाना पुलिस को रविवार सुबह सूचना मिली थी कि एक व्यक्ति की गोली लगने से मौत हो गई है। पुलिस मौके पर पहुंची तो वहां विरेन्द्र का शव मिला और विक्रम भी घर में ही मौजूद था। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा और विरेन्द्र के घरवालों को उसकी मौत की सूचना दी।


पुलिस ने विक्रम को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने बताया कि विरेन्द्र उसका जीजा है। दोनों के बीच पैसों के लेन-देन को लेकर कुछ विवाद चल रहा था। ऐसे में विरेन्द्र पिछले पांच दिनों से विक्रम के घर में ही रुका हुआ था। दोनों के बीच वारदात से पहले कहासुनी हुई थी और इसी दौरान गुस्साए विक्रम ने अपनी सर्विस रिवॉल्वर से अपने जीजा को गोली मार दी, जिससे उसकी मौत हो गई। विक्रम के बयान के बाद पुलिस ने मामले में हत्या का केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। वहीं, उसके पास मौजूद उसकी सर्विस रिवॉल्वर भी जब्त कर ली है।


पुलिस की जांच में सामने आया कि विरेन्द्र जूड़ो के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी थे। उन्होंने एशियाड और कॉमनवेल्थ खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया था। जूडो में शानदार प्रदर्शन करने के चलते उन्हें प्रतिष्ठित भीम अवॉर्ड भी दिया गया था। भीम अवॉर्ड मिलने के बाद हरियाणा सरकार ने उन्हें हरियाणा पुलिस में नौकरी दी थी। वर्तमान में वह सब इंस्पेक्टर थे।


पुलिस की जांच में सामने आया है कि विक्रम ने घर खरीदने के लिए अपने जीजा से ढाई करोड़ रुपये उधार लिए थे। इसके अलावा भी उस पर पहले का पैसा उधार था। सारा पैसा मिलाकर करीब चार करोड़ रुपये बैठ रहा था। विरेन्द्र लगातार विक्रम से पैसे मांग रहा था, जिसके चलते विक्रम और विरेन्द्र के बीच विवाद चल रहा है। पांच दिन पहले विक्रम ने अपने जीजा को फोन कर कहा था कि पैसे ज्यादा हैं, ऐसे में वह खुद पैसे लेने के लिए दिल्ली आ जाए। इसके बाद विरेन्द्र दिल्ली आ गया और पिछले पांच दिन से दिल्ली में विक्रम के घर में ही रह रहा था।


पुलिस की जांच में सामने आया है कि विक्रम ने पांच दिनों से अपनी सर्विस रिवॉल्वर मालखाने में जमा नहीं की थी। ऐसे में पुलिस आशंका जता रही है कि विक्रम ने साजिश के तहत ही अपने जीजा को दिल्ली बुलाया था। विरेन्द्र के दिल्ली आने के बाद से उसने अपनी रिवॉल्वर जमा नहीं की। जिसे उसने हत्या करने के लिए इस्तेमाल किया। विक्रम ने पुलिस को दिए बयान में बताया है कि विरेन्द्र ने उसे गाली दी थी, जिसके बाद विवाद शुरू हुआ था। इसी विवाद में उसने विरेन्द्र की हत्या की। जबकि, परिजनों की मानें तो विरेन्द्र को रविवार को ही वापस करनाल जाना था। ऐसे में माना जा रहा है कि विरेन्द्र ने पैसे के लिए दवाब बनाया होगा, जिस पर विक्रम ने उसकी हत्या कर दी। हत्या के दौरान उसकी पत्नी और बेटा घर में ही मौजूद थे।




...

फतेहपुर: युवकों पर खाकी का कहर, दरोगा सहित तीन पुलिस लाइन हाजिर

फतेहपुर : जिले में रविवार को पुलिस अधीक्षक ने एक दरोगा सहित तीन पुलिस कर्मियों को लाईन हाजिर की कार्रवाई की है। दो दिन पूर्व चेकिंग के दौरान मोटरसाइकिल सवार दो युवकों के साथ दरोगा व दो सिपाहियों ने जमकर बर्बरता की। जिसकी शिकायत पीड़ित ने पुलिस अधीक्षक से की थी।


मामला कल्यानपुर थाना के चौडगरा चौकी का है। जहां दो लोगों को अपने मौलिक अधिकार का प्रयोग करना चेकिंग कर रहे पुलिसकर्मियों को नागवार गुजरा और उन्होंने बाइक सवार को पकड़कर चौकी ले जाकर जमकर धुनाई कर दी।


पीड़ितों ने पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह से शिकायत करते हुए बताया कि हमारा दोष केवल इतना था कि मैं अपने मकान मालिक की अपाचे मोटरसाइकिल लेकर चौडगरा ब्रिज के नीचे सब्जी खरीदने गया था। चेकिंग देखकर वह मकान मालिक के घर गाड़ी बढ़ाकर पहुंच गए थे, जहां से पीछा कर रही पुलिस उन्हें वाहन सहित पकड़ लाई। फिर हम दोनों लोगों को बेल्ट से जमकर पुलिस ने पीटा। फिर छोड़ने के नाम पर तीन हजार रुपये ले लिया।


पीड़ित उमाशंकर पुत्र मोहनलाल शुक्ला निवासी महाखेड़ा थाना ललौली व प्रदीप सिंह पुत्र वीरेंद्र सिंह निवासी देवीपुर सिकंदरा जनपद कानपुर ने अपने मकान मालिक के सहयोग से अपनी व्यथा पुलिस अधीक्षक तक पहुंचाई।


पुलिस अधीक्षक राजेश सिंह ने बताया कि पीड़ितों की शिकायत पर घटना की जांच कराई गयी। घटना सत्य पायी गई। उसके बाद चौड़गरा चौकी इंचार्ज सूरज कुमार कनौजिया व उनके सहयोगी दो सिपाही अमन व अमित को लाइन हाजिर करते हुए दंडात्मक कार्रवाई की।



...

लखीमपुर हिंसा मामले में आशीष मिश्रा को जेल

लखीमपुर खीरी : उत्तर प्रदेश में लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में पिछले रविवार को हुयी हिंसा में आठ लोगों की मौत के मामले में पुलिस ने केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के पुत्र आशीष मिश्र उर्फ मोनू को जेल भेज दिया है। शनिवार को क्राइम ब्रांच के दफ्तर में एसआइटी के सामने पेश हुये आशीष को 12 घंटे की लंबी पूछताछ के बाद देर रात 1050 बजे गिरफ्तार किया गया। उसका मेडिकल कराने के बाद पुलिस ने रात को ही मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया और उनके आदेश पर सोमवार तक न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। एसआईटी का नेतृत्व कर रहे पुलिस उप महानिरीक्षक उपेन्द्र अग्रवाल ने देर रात पत्रकारों को बताया कि आशीष पुलिस से पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहा है और कई सवालों का जवाब नहीं दे रहा हैं। लिहाजा उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। विपक्षी दलों के आक्रामक रूख और उच्चतम न्यायालय की फटकार के बाद पुलिस ने केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री के आवास पर नोटिस चस्पा कर आशीष को शुक्रवार को पुलिस के सामने पेश होने का निर्देश दिया था हालांकि वह शुक्रवार को पुलिस लाइन नहीं आया जिसके बाद पुलिस ने एक और नोटिस शुक्रवार को चस्पा की। हालांकि इस नोटिस को ध्यान में रखते हुये वह शनिवार को वह सुबह 1038 बजे पेश हुआ। वह स्कूटी से पुलिस लाइन पहुंचा और मीडियाकर्मियों को चकमा देते हुये पिछले गेट से प्रवेश कर गया। एसआईटी की टीम ने सुबह 11 बजे उससे पूछताछ शुरू कर दी। लगभग 12 घंटे की लंबी पूछताछ के बाद डीआईजी ने रात करीब 11 बजे बाहर निकल कर पत्रकारों को आशीष की गिरफ्तारी की औपचारिक घोषणा की। पुलिस सूत्रों ने बताया कि आशीष साथ लाये साक्ष्यों में यह साफ नहीं कर सका कि वह घटना के समय कहां था। साथ लाये वीडियो में तिकुनिया में घटी हिंसक घटना के समय दंगल में होने की पुष्टि नहीं हो सकी है। आशीष की सफाई और साक्ष्यों से अधिकारी संतुष्ट नहीं हुये जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया। उसका मेडिकल कराया जा रहा है

सूत्रों ने बताया कि एसआईटी ने आरोपी के सामने 40 सवालो की सूची रखी थी। पूछताछ की वीडियो रिकार्डिंग भी की गयी। आरोपी दस लोगों का हलफनामा लेकर आया था जिन्होने स्वीकार किया था कि घटना के समय आरोपी दंगल में मौजूद था। इसके अलावा वह वीडियो की पेन ड्राइव साक्ष्य के तौर पर साथ लेकर आया था। पूछताछ के दौरान आशीष से एक लिखित बयान उसके वकील की उपस्थिति में लिया गया। आशीष के वकील अवधेश कुमार ने कहा कि उनका मुवक्किल नोटिस का सम्मान करता है और जांच में हर प्रकार से सहयोग देने को तैयार है। पूछताछ के दौरान डीआईजी और एसपी रैंक के अधिकारी मौजूद रहे।

इस बीच शुक्रवार रात लखनऊ पुलिस ने छापा मार कर आशीष के दोस्त अंकित दास के घर से एसयूवी बरामद की जो घटना के दिन वहां मौजूद थी। हालांकि अंकित पुलिस के हाथ नहीं लगा लेकिन पुलिस ने उसके चालक को हिरासत में ले लिया। अंकित दिवंगत बसपा सांसद अखिलेश दास का भतीजा है।

गौरतलब है कि केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी ने अपने पुत्र को बेगुनाह बताते हुये दावा किया था। आशीष के नेपाल भागने की खबरो पर विराम लगाते हुये उन्होने कहा था कि वह घर पर है और जांच में पूरा सहयोग देने को तैयार है। 




...

तीसरी कक्षा के लापता छात्र की पत्थर से सिर कुचलकर हत्या, तीन दोस्तों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही पुलिस

गाजियाबाद : गाजियाबाद के विजयनगर में 13 वर्षीय एक लापता बालक की सिर कुचलकर हत्या करने का मामला सामने आया है। आदर्श कॉलोनी बिहारीपुरा में रहने वाले लटूरी का 13 वर्षीय बेटा अनुज उर्फ सन्नी कक्षा तीन का छात्र था। शुक्रवार दोपहर वह घर से खेलने के लिए निकला था, लेकिन लौटकर नहीं आया। परिजनों ने हर जगह तलाश की, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल सका। 


इसी बीच शनिवार की शाम क्रॉसिंग रिपब्लिक की सेवियर सोसायटी के पीछे किशोर का शव पड़ा हुआ मिला। उसका सिर ईंट-पत्थरों से कुचला हुआ था। उसकी शिनाख्त अनुज उर्फ सन्नी के रूप में हुई। पुलिस उसके तीन साथियों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। आखरी बार अनुज को इन्हीं तीनों दोस्तों के साथ देखा गया था। बताया जा रहा है कि सलोचन का नशा करने के दौरान हुई कहासुनी में इन्हीं दोस्तों ने छात्र की हत्या की है।





...

कंधा टकराने के विवाद में युवक का सिर फोड़ा

ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा के सुथियाना गांव में शुक्रवार रात गली से निकलते समय कंधा टकराने को लेकर दो समुदाय के लोगों के बीच विवाद हो गया। आरोप है कि एक समुदाय के लोगों ने एक युवक को बुरी तरह पीटा और उसका सिर फोड़ दिया। पीड़ित पक्ष का आरोप है कि वह शिकायत लेकर कोतवाली पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें थाने में बैठा लिया। मारपीट की घटना सीसीटीवी में कैद हुई है। पुलिस का कहना है कि दोनों पक्षों की तरफ से शिकायत लेकर कार्रवाई की जा रही है।


सुथियाना निवासी एक युवक शुक्रवार शाम गली से निकल रहा था। धार्मिक स्थल के सामने एक दूसरे समुदाय के युवक का कंधा उससे टकरा गया। इसी बात को लेकर दूसरे समुदाय के लोगों ने युवक को लाठी डंडों से पीटकर उसका सिर फोड़ दिया। मारपीट की यह घटना गली में लगे सीसीटीवी में कैद हुई है। आरोप है कि पीड़ित परिजनों को लेकर ईकोटेक तीन कोतवाली में गया तो पुलिस ने उन्हें ही वहां बैठा लिया। पीड़ित पक्ष का आरोप है कि पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की। इस घटना को लेकर गांव में तनाव की स्थिति बनी हुई है। इस मामले में पुलिस का कहना है कि दोनों पक्षों की तरफ से शिकायत लेकर छानबीन की जा रही है।




...

गोरखपुर में कानपुर के प्रापर्टी डीलर की हत्या में आरोपित फरार पुलिसकर्मियों पर 25-25 हजार का इनाम

कानपुर :  गोरखपुर पुलिस की बर्बरता और मारपीट से जान गंवाने वाले कानपुर के प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता के हत्यारोपित पुलिस कर्मियों पर इनाम की घोषणा कर दी गई है। कानपुर कमिश्नरेट पुलिस की छह टीमों ने 24 घंटे के अंदर 72 स्थानों पर छापेमारी की लेकिन एक भी आरोपित की गिरफ्तारी नहीं हो सकी। पुलिस उपायुक्त दक्षिण रवीना त्यागी ने बताया कि वारदात के बाद से फरार सभी छह आरोपितों पर 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया है।

27 जगह इंस्पेक्टर की तलाश  

शहर के प्रापर्टी डीलर मनीष गुप्ता हत्याकांड में पुलिस अब तक खाली हाथ है। छह आरोपित पुलिस वालों को पकडऩे के लिए छह टीमों ने 24 घंटे में 72 स्थानों पर छापेमारी की लेकिन एक भी आरोपित पकड़ में नहीं आ सका। छापेमारी के तरीके से साफ है कि पुलिस के टाप टारगेट पर निलंबित इंस्पेक्टर जेएन सिंह ही है। पुलिस की छह टीमों ने 24 घंटों में 72 स्थानों पर दबिश दी, उनमें से 27 ठिकाने जेएन ङ्क्षसह की तलाश में खंगाले गए। सबसे कम छापेमारी सब इंस्पेक्टर अक्षय मिश्रा के ठिकानों पर हुई, क्योंकि वह अपने मूल पते से ज्यादा जुड़ा ही नहीं है। अन्य सभी आरोपितों के यहां लगभग बराबर स्थानों पर छापे मारे गए। पुलिस आयुक्त असीम अरुण ने बताया कि छह टीमें छापेमारी कर रहीं हैं।

पुलिस उपायुक्त दक्षिण रवीना त्यागी ने बताया कि गोरखपुर जिले के रामगढ़ ताल के निरीक्षक जगत नारायण सिंह निवासी मुसाफिरखाना जिला अमेठी, दारोगा अक्षय कुमार मिश्रा निवासी नरही जिला बलिया, दारोगा विजय यादव निवासी बक्सा जिला जौनपुर, दारोगा राहुल दुबे निवासी कोतवाली देहात क्षेत्र जिला मीरजापुर, मुख्य आरक्षी कमलेश सिंह यादव निवासी थाना परिसर जिला गाजीपुर, आरक्षी प्रशांत कुमार निवासी सैदपुर जिला गाजीपुर के खिलाफ साक्ष्य मिले हैं। सभी छह आरोपितों की तलाश की जा रही है, लेकिन वे अपने मूल पतों व अस्थायी पतों से गायब हैं। इसके बाद उन्होंने सभी फरार पुलिसकर्मियों पर 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया है। आरोपित पुलिसकर्मी इससे पहले निलंबित भी किए जा चुके हैं। 

पुलिस के मेन टारगेट

टारगेट नंबर 1 - जगत नारायण सिंह, तत्कालीन थाना प्रभारी : अमेठी के गांव नारा निवासी। 27 स्थानों पर छापेमारी में गांव के अलावा रिश्तेदारों के यहां भी पड़ताल। हालांकि, किसी भी रिश्तेदार से उसने संपर्क करने की कोशिश नहीं की।

टारगेट नंबर 2 - दारोगा अक्षय कुमार मिश्र : बलिया के नरही थानाक्षेत्र निवासी। पुलिस टीम को स्थायी पते पर भाई व खानदान के लोग मिले। उन्होंने बताया कि सुख-दुख में ही अक्षय का गांव आना होता है। घटना के बाद से कोई संपर्क नहीं है। स्वजन से पता चला कि वह गोरखपुर, बाराबंकी और लखनऊ में ज्यादा रहता था। पांच स्थानों पर छापेमारी हुई।

टारगेट नंबर 3 - दारोगा विजय कुमार यादव : जौनपुर के बक्सा निवासी। उसके स्थायी पते, अस्थायी पते और रिश्तेदारों के घरों में छापे। 10 जगह दबिश पड़ी।

टारगेट नंबर 4 -दारोगा राहुल दुबे : मीरजापुर के कोतवाली देहात थानाक्षेत्र निवासी। 11 संभावित ठिकानों पर दबिश दी गई। सोनभद्र में भी दो स्थानों पर छापेमारी।

टारगेट नंबर 5 - मुख्य आरक्षी कमलेश यादव : परिवार गाजीपुर के थाना परिसर में रहता है। यहां पर वह नहीं मिला। आसपास के जिलों में रहने वाले रिश्तेदारों के घर भी दबिश डाली गई। नौ स्थानों पर छापे पड़े।

टारगेट नंबर 6 - आरक्षी प्रशांत कुमार : गाजीपुर के सैदपुर का निवासी। स्वजन ने बताया कि घटना के बाद से कुछ अता-पता नहीं है। पुलिस ने 10 स्थानों पर तलाश में छापेमारी की।

...

लखीमपुर खीरी में उपद्रव के बाद हिंसा मामले में आरोपित केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा उर्फ मोनू की शनिवार को सुबह 10ः45 पर क्राइम ब्रांच के सामने पेश

लखनऊ :  लखीमपुर खीरी में बीते रविवार को उपद्रव के बाद हिंसा में चार किसानों सहित आठ लोगों की मृत्यु के मामले में आरोपित केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा उर्फ मोनू की शनिवार को सुबह 10ः45 पर क्राइम ब्रांच के सामने पेश हुए। हालांकि, आशीष मिश्रा को दिन में 11 बजे लखीमपुर खीरी पुलिस लाइन में क्राइम ब्रांच की टीम के सामने पेश होना था, लेकिन वह 15 मिनट पहले पहुंचे। आशीष स्कूटी से पुलिस लाइन पहुंचे। 

मंत्री अजय मिश्रा के घर पर लगाया गया एक और नोटिस

आशीष मिश्रा की पेशी के तैयारी के बीच में लखीमपुर खीरी पुलिस ने शनिवार को मंत्री के घर पर एक और नोटिस लगाया है। नोटिस में लिखा है कि कल समन के बावजूद आशीष मिश्रा पेश नहीं हुए थे, आज भी उनके क्राइम ब्रांच ने समक्ष पेश न होन की स्थिति में वारंट जारी किया जाएगा।

पुलिस लाइन में तगड़ी सुरक्षा व्यवस्था

पुलिस ने आशीष मिश्रा की पेशी को देखते हुए पुलिस लाइन को छावनी में तब्दील कर दिया है। जगह-जगह बैरिकेड्स लगाए गए हैं। चप्पे-चप्पे पर पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। आशीष की जांच दल के सामने पेशी को लेकर पुलिस लाइन में सुरक्षा के तगड़े इंतजाम हैं। आशीष के नेपाल भागने की भी चर्चा थी। आशीष के पिता और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी खुद सामने आए थे और कहा था वो कहीं नहीं गया है।आशीष साक्ष्यों के साथ जांच टीम के सामने पेश होगा। 

पूछताछ के लिए नहीं आया तो सख्त कार्रवाई

लखीमपुर खीरी हिंसा के मामले में दर्ज हुई हत्या की रिपोर्ट के मुख्य आरोपित केन्द्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्र मोनू के घर गुरुवार देर शाम पुलिस ने नोटिस चस्पा की थी जिसमें उनको शुक्रवार को पुलिस की अपराध शाखा के समक्ष तलब किया गया था लेकिन, मोनू नहीं आया। शुक्रवार को फिर एक नोटिस उनके घर में चस्पा की गई है, जिसमें शनिवार को 11 बजे पुलिस की अपराध शाखा के समक्ष तलब किया गया था। पुलिस के बड़े अधिकारियों से संकेत मिले थे कि अगर शनिवार को भी मोनू क्राइम ब्रांच की टीम के साथ पूछताछ के लिए नहीं पहुंचता तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की तैयारी थी।

जो भी दोषी होगा, उसको किसी भी कीमत पर राहत भी नहीं

कह दिया है कि वो जांच से संतुष्ट नहीं हैं। इस बारे में उत्तर प्रदेश के कानून एवं विधि मंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि उत्तर प्रदेश में अपराध व अपराधी को लेकर जीरो टॉलरेंस पॉलिसी है। मंत्री पाठक ने कहा कि लखीमपुर खीरी में हिंसा को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले ही कह दिया है कि सिर्फ आरोप पर किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होगी। इस मामले में जो भी दोषी होगा, उसको किसी भी कीमत पर राहत भी नहीं दी जाएगी। किसी भी मामले को सरकार रफा—दफा नहीं किया जा रहा है। सभी तथ्यों की जांच हो रही है और जो दोषी जांच में सामने आएगा उसके खिलाफ कार्रवाई जरूर होगी।



...

लखीमपुर हिंसा : न्यायालय ने उप्र सरकार से पूछा, क्या आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं?

नई दिल्ली : उच्चतम न्यायालय ने उत्तर प्रदेश सरकार से बृहस्पतिवार को यह बताने के लिए कहा कि तीन अक्टूबर की लखीमपुर खीरी हिंसा के सिलसिले में किन आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है और उन्हें गिरफ्तार किया गया है या नहीं। इस घटना में आठ लोगों की मौत हो गई थी।


प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण, न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ ने उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से पेश हुए वकील को इस बारे में स्थिति रिपोर्ट में जानकारी देने का निर्देश दिया।


वकील ने पीठ से कहा कि घटना की जांच के लिए एक न्यायिक आयोग का गठन किया गया है और राज्य मामले में एक स्थिति रिपोर्ट दाखिल करेगा।


शीर्ष अदालत ने मामले में अगली सुनवाई शुक्रवार को तय की है।


लखीमपुर खीरी में किसानों के प्रदर्शन के दौरान तीन अक्टूबर को हुई हिंसा में आठ लोग मारे गए थे।


इससे पहले, दोपहर में शीर्ष अदालत ने कहा था कि वह उन दोनों वकीलों का पक्ष जानना चाहती है जिन्होंने लखीमपुर खीरी घटना में सीबीआई को शामिल करते हुए उच्च स्तरीय जांच का अनुरोध किया था।






...

कंपनी के जीएम का अपहरण कर दो घंटे तक बंधक बनाया, फिर लूटपाट कर पेचकस से किया घायल

ग्रेटर नोएडा :  बीटा दो कोतवाली क्षेत्र में बदमाशों का तांडव लगातार जारी है। बृहस्पतिवार सुबह घर से ड्यूटी जाने के लिए निकले कंपनी के जीएम का कार सवार बदमाशों ने अपहरण कर लिया। शहर की सड़कों पर बंधक बनाकर उनको दो घंटे कार में घुमाया। बदमाशों ने एटीएम से बीस हजार रुपये निकलवाए। पर्स में मौजूद नकदी लूट ली। लूटपाट का विरोध करने पर बदमाशों ने जीएम को पेचकस मारकर घायल कर दिया। जीएम के शरीर में गंभीर चोट लगी है।


कुल नौ जगह बदमाशों ने पेचकस मारकर हमला किया। शिकायत के आधार पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। शहर के सेक्टर बीटा एक में मृगेंद्र कुमार कटारिया (67) अपने परिवार के साथ रहते है। वह दिल्ली स्थित एक कंपनी में जीएम है। मृगेंद्र रोजाना कार से आफिस जाते है। बृहस्पतिवार को जाम की स्थिति होने की वजह से वह मेट्रो से आफिस जाने के लिए घर से निकले।


वह आटो के इंतजार में रयान गोलचक्कर के समीप खड़े थे। तभी एक कार में सवार होकर चार बदमाश आए और जीएम का अपहरण कर लिया। उनके साथ लूटपाट की। विरोध करने पर पेचकस मारकर घायल कर दिया। पीड़ित ने बदमाशों से कहा कि वह उनके पिता की उम्र का है। यह सुनकर भी बदमाशों का कलेजा नहीं पसीजा। वह मारपीट करते रहे। दो घंटे तक बंधक बनाकर घुमाने के बाद बदमाश जीएम को सिल्वर सिटी सोसायटी के समीप छोड़ कर फरार हो गए। पीड़ित के मुताबिक बदमाशों के पास स्वाइप मशीन भी थी।


छह महीने से सक्रिय पेचकस गिरोह: पेचकस गिरोह पिछले छह महीने से शहर की सड़कों पर ताबड़तोड़ आपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहा है। बीटा दो कोतवाली पुलिस पिछले छह महीने से पेचकस गिरोह का पर्दाफाश करने का दावा कर रही है, लेकिन दावे खोखले साबित हुए है।


इन घटनाओं का नहीं हुआ पर्दाफाश


बीटा दो कोतवाली क्षेत्र में परीचौक से चालक से वेंटो कार लूटी।

बीटा दो कोतवाली क्षेत्र में आर्किटेक्ट युवती से डेढ़ लाख का लैपटाप लूटा।

बीटा दो कोतवाली क्षेत्र में परीचौक के समीप इंजीनियर को आटो से गिराकर लूटपाट।

दनकौर कोतवाली क्षेत्र में यमुना एक्सप्रेस वे पर क्रेटा कार लूटी।

नालेज पार्क कोतवाली क्षेत्र स्थित फार्म हाउस से दो लाइसेंसी हथियार लूटे।


वर्जन: तीन टीमों को घटना के पर्दाफाश में लगाया गया है। कुछ अहम सुराग हाथ लगे है। जल्द ही घटना का पर्दाफाश किया जाएगा। अभिषेक, डीसीपी ग्रेटर नोएडा






...

यूपी में स्कूली छात्रा की हत्या का आरोपी नाकाम आशिक गिरफ्तार

बुलंदशहर (उत्तर प्रदेश) : बुलंदशहर पुलिस ने एक 21 वर्षीय युवक को गिरफ्तार किया है, जिसने कथित तौर पर एक 16 वर्षीय लड़की की इसलिए हत्या कर दी थी क्योंकि लड़की ने उसके प्रस्ताव को ठुकरा दिया था।


पिछले हफ्ते एक व्यस्त राजमार्ग के पास लड़की की हत्या कर दी गई थी और इस घटना से लोगों में आक्रोश फैल गया था।


मुख्य आरोपी सुनील उस लड़की का पड़ोसी निकला और वह काफी समय से उसका पीछा कर रहा था।


बुलंदशहर के एसएसपी संतोष सिंह के मुताबिक सुनील ने हत्या से ठीक पहले लड़की को प्रपोज किया था और उसका फोन नंबर मांगा था। लेकिन लड़की ने उसे थप्पड़ मार दिया था।


इसके बाद आरोपी ने हत्या को अंजाम देने के लिए अपने दो दोस्तों, जिनमें से एक 15 साल का लड़का था उसे शामिल कर लिया। दलित लड़की की हत्या करने के बाद आरोपी गांव में यह बहाना बना रहा था कि कुछ हुआ ही नहीं है। उन्होंने लड़की के परिवार द्वारा किए गए विरोध प्रदर्शन में भी भाग लिया।


कुछ ग्रामीणों ने दावा किया था कि उन्होंने लाल शर्ट पहने एक व्यक्ति को मौके से भागते देखा था, जो पुलिस के पास एकमात्र सुराग था।


एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि वे 300 से अधिक फोन कॉल्स को निगरानी में रखने, अपराध स्थल के पास फोन के स्थानों का पता लगाने और 100 से अधिक लोगों से पूछताछ करने के बाद आरोपियों को पकड़ने में कामयाब रहे।


उन्होंने अपना अपराध कबूल करने वाले 15 वर्षीय लड़के से पूछताछ की और उसके दो अन्य दोस्तों के ठिकाने भी साझा किए जो हत्या में शामिल थे।


एसएसपी ने कहा, सुनील ने उस दिन लड़की को प्रपोज किया था और उसका फोन नंबर मांगा था। उसने इसके बजाय उसे थप्पड़ मारा। गुस्से में, सुनील ने उसे धक्का दिया और वह एक पत्थर पर गिर गई जो उसके सिर पर लगा जिससे उसकी मौत हो गई। फिर तीनों ने भी उसका गला घोंटने की कोशिश की और मौके से भाग गए क्योंकि उन्होंने पाया कि वह पहले ही मर चुकी थी।






...

अंतरजातीय दंपत्ति को प्रताड़ित करने के आरोप में यूपी के दो पुलिसकर्मी सस्पेंड

बिजनौर (यूपी) : परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी करने वाले एक अंतरजातीय जोड़े को कथित तौर पर परेशान करने के आरोप में यूपी पुलिस के दो कांस्टेबलों को निलंबित कर दिया गया है।


एक ही गांव के रहने वाले जोड़े ने जनवरी में शादी की थी।


उन्होंने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में सुरक्षा की मांग करते हुए एक याचिका दायर की थी और उन्होंने बिजनौर पुलिस को याचिकाकर्ताओं को सुरक्षा प्रदान करने और परिवार के सदस्यों को अनुचित हस्तक्षेप से रोकने का आदेश दिया था।


हालांकि, पुलिस ने इसके बजाय दंपति को परेशान किया।


इसके बाद दंपति ने यूपी के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य से संपर्क किया, जिन्होंने हस्तक्षेप किया और आवश्यक कार्रवाई के लिए अतिरिक्त मुख्य सचिव, गृह को पत्र लिखा।


बिजनौर के पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह ने कहा, मैंने जांच शुरू कर दी है और दोनों कांस्टेबल राजीव शर्मा और सोमवीर सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।






...

उप्र में व्यक्ति की गोली मारकर हत्या

सिद्धार्थनगर (उप्र) : उत्तर प्रदेश में सिद्धार्थनगर जिले के चिलिया थाना क्षेत्र में बृहस्पतिवार की सुबह नमाज पढ़ने गये एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी गयी। पुलिस ने यह जानकारी दी।


अपर पुलिस अधीक्षक सुरेश चंद रावत ने बताया कि 55 वर्षीय कमरुज्जमा नामक एक व्यक्ति प्रतिदिन की तरह सुबह मस्जिद में नमाज पढ़ने आए थे और किसी ने पीछे से आकर उन्हें गोली मार दी जिससे उनकी मौत हो गई।


उन्होंने बताया कि इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। इस संबंध में अब तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही हैं।





...

सत्ता के नशे में चूर हिंदू संगठन के नेताओं के साथ सैकड़ो लोगो की भीड़ ने चर्च पर किया हमला - तोड़फोड़ के साथ लोगो से की मारपीट - एक दर्जन हुए घायल - पुलिस बल तैनात



रूडकी की सिविल लाइन कोतवाली क्षेत्र के सोलानी पुरम में आज सैकड़ो लोगो की भीड़ ने एक चर्च पर हमला करते हुए जबरदस्त तोड़फोड़ कर दी है और चर्च के लोगों के मोबाइल फोंन चर्च का पैसा वे लोगों के पर्स एक छीन कर ले गए इतना ही नहीं चर्च में प्रार्थना कर रहे लोगो के साथ मारपीट भी की गई है जिसमे करीब एक दर्जन लोग घायल हो गए है जिनको उपचार के लिए सिविल अस्पताल भिजवा दिया गया है जिसमें से एक की हालत गंभीर सिविल अस्पताल से किया हायर सेंटर देहरादून रेफर चर्च के लोगो का आरोप है की तोड़फोड़ करने वाली भीड़ वन्दे मातरम् और जय श्रीराम के नारे लगा रही थी फिलहाल मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है 


बता दे की आज सुबह करीब दस बजे सैकड़ो लोगो की भीड़ ने अचानक ही सोलानी पुरम में एक चर्च पर हमला कर दिया इस हमले में भीड़ ने चर्च का ज्यादातर सामान तोड़ दिया है चर्च के लोगो का आरोप है की प्रार्थना कर रहे लोगो के साथ मारपीट भी की गई है जिसमे करीब एक दर्जन लोग घायल हो गए है जिन्हें उपचार के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है आरोप है की चर्च पर हमला करने वाले लोग हिंदूवादी नारे लगा रहे थे और मारपीट करते हुए उन्होंने महिलाओं और बुजुर्गो को भी नहीं बख्शा है चर्च पर हमला करने के बाद भीड़ मौके से फरार हो गई है फिलहाल मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है वही चर्च के लोगों को कहना है कि हम कोई धर्म परिवर्तन नहीं करवा रहे थे हम तो हर सप्ताह संडे चर्च मैं अपने परमेश्वर की दुआ आराधना कर रहे थे लेकिन हिंदू संगठनों को यह बहाना अच्छा मिला हुआ है कि धर्म परिवर्तन के नाम पर मारपीट करें कोई भी धर्म हिंसा नहीं सिखाता लेकिन इन जैसे लोगों ने हिंदू धर्म को भी बदनाम किया हुआ है वहीं दूसरी ओर रुड़की एसपी अजय डोभाल ने कहा मामले की जांच कर आरोपियों के ऊपर मुकदमा दायर किया जाएगा

* रुड़की से संदीप पोहिवाल  के साथ सपना चौहान की रिपोर्ट*

...

बाइक सवार बदमाशों ने महिला से पर्स लूटा

नोएडा : ई रिक्शा में जा रही एक महिला से बाइक सवार बदमाश पर्स छीन कर फरार हो गए। पर्स में लगभग 17000 रुपये और कागजात थे। पीड़िता ने सेक्टर 20 थाने में शिकायत की है। इसके अलावा फेज 3 थाना क्षेत्र में एक युवक से बदमाशों ने मोबाइल फोन छीन लिया।

सेक्टर 21 निवासी आरती शुक्रवार शाम ई रिक्शा से कहीं जा रही थीं। इस दौरान 21/25 चौराहे के पास पीछे से आए बाइक सवार दो बदमाशों ने उनके हाथ से पर्स छीन लिया। पीड़िता की शिकायत पर सेक्टर 20 थाना पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। इसके अलावा फेज 3 थाना क्षेत्र निवासी रामप्रवेश शुक्रवार देर शाम सेक्टर 65 के पास से गुजर रहे थे। इस दौरान रामप्रवेश अपने मोबाइल पर बात करते हुए चल रहे थे, तभी बाइक सवार दो बदमाशों ने उनके हाथ से मोबाइल छीन लिया और मौके से फरार हो गए। पीड़ित ने फेज 3 थाने में शिकायत की है। पुलिस जांच कर रही है।







...

महिला से पूर्व मंगेतर ने दुष्कर्म किया, प्राथमिकी दर्ज

मुजफ्फरनगर (उप्र) : मुजफ्फरनगर के भोपा इलाके में 26 वर्षीय महिला से उसके पूर्व मंगेतर ने कथित तौर पर बलात्कार किया और मोबाइल फोन पर इस करतूत की वीडियो भी बना ली। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी।


सर्किल अधिकारी (भोपा) डीएसपी गिरिजा शंकर त्रिपाठी ने बताया कि पुलिस ने महिला के पूर्व मंगेतर विकास और तीन अन्य के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 376, 506, 452 और 420 के तहत एक मामला दर्ज कर लिया है। चारों आरोपी फरार हैं।


पीड़िता द्वारा दर्ज करायी शिकायत के अनुसार, इस साल की 30 जनवरी को उसकी विकास के साथ शादी तय की गयी। शादी से पहले उसे मंसूरपुर ले जाया गया जहां विकास ने उसे नशीला पेय पदार्थ देकर उससे दुष्कर्म किया और इस घटना का वीडियो बना लिया। बाद में उसने शादी करने से इनकार कर दिया और शादी टूट गयी।


इसके बाद युवती के माता-पिता ने किसी दूसरे व्यक्ति से उसकी शादी कराने का फैसला किया। आरोपी विकास, उसके भाई गगन और ओमकार तथा एक रिश्तेदार ने महिला को बदनाम करने के लिए सोशल मीडिया के जरिए उसके पति को वीडियो भेज दी। वीडियो देखने के बाद महिला के पति ने उसे घर से निकाल दिया।






...

कानपुर में ट्रिपल मर्डर, घर के अंदर दंपती और उनके बेटे की गला काटकर हत्या

कानपुर :  कानपुर के व्यापारी की गोरखपुर में हत्या की जांच सीबीआइ से कराने की उत्तर प्रदेश सरकार की सिफारिश के 12 घंटे के अंदर ही कानपुर शहर में ट्रिपल मर्डर से सनसनी फैल गई। यहां पर परचून की दुकान चलाने वाले के साथ ही उसकी पत्नी तथा बेटे की गला काटकर हत्या कर दी गई। वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश घर के मेन गेट पर ताला लगा दिया और मृतक की बाइक लेकर भाग निकले। एक साथ तीन हत्‍याओं ने पुलिस के लिए बड़ी चुनौती पेश की है। 

कानपुर शहर के फजलगंज में शनिवार की सुबह दंपती और उनके 12 साल की बेटी की हत्या की घटना से सनसनी फैली गई। तिहरे हत्याकांड की जानकारी होते ही पुलिस और फोरेंसिक टीम ने पहुंचकर जांच शुरू की है। वहीं घर के बाहर लोगों की भीड़ लगी हुई और राजनीतिक पाटियों के नेता भी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं। दंपती घर पर ही बाहर बड़े भाई के नाम से परचून की दुकान चलाकर परिवार पाल रहा था। पुलिस ने परचून दुकानदार, उसकी पत्नी और बेटे का शव बरामद करके फॉरेंसिक जांच शुरू कराई है। पुलिस अफसर भी मौके पर पहुंच गए हैं। 

फजलगंज चौराहे से गोविंद नगर के रास्ते पर उपनिदेशक विद्युत सुरक्षा कार्यालय के पास मकान में प्रेम किशोर, पत्नी ललिता देवी और 12 वर्षीय बेटे नैतिक के साथ रह रहे थे। मकान के बाहर ही बड़े भाई राजकिशोर जनरल स्टोर के नाम से परचून की दुकान चलाकर परिवार का भरण पोषण करते थे। शनिवार की सुबह लगभग 8:30 बजे पड़ोसी राजेश ने प्रेमकिशोर के भाई  राजकिशोर को फोन किया तो उनकी बेटी निकिता ने बात की। राजेश ने उसे बताया कि राजकिशोर के घर के बाहर ताला लगा है और एक व्यक्ति उनकी बाइक ले जाते दिखा है। इसपर राजकिशोर परिवार के साथ घर पहुंचे तो मकान और दुकान पर ताले लगे मिले। मोबाइल फोन पर कॉल किया लेकिन किसी ने रिसीव नहीं किया। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई।



...

कारोबारी की हत्या के आरोपियों को बचाने के लिए बयानबाजी करने वाले अफसरों पर कार्रवाई हो: प्रियंका

नई दिल्ली : कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने शुक्रवार को कहा कि गोरखपुर में एक कारोबारी की हत्या के आरोपी पुलिसकर्मियों को बचाने के लिए बयानबाजी करने वाले बड़े अधिकारियों पर तत्काल कार्रवाई होनी चाहिए।


उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘उप्र के मुख्यमंत्री प्रदेश की किस तरह की छवि बना रहे हैं? एक निर्दोष कारोबारी की निर्मम हत्या के बाद जिलास्तर के अधिकारी एफआईआर न करने का दबाव बनाते रहे और प्रदेश स्तर के बड़े अधिकारी ने आरोपी पुलिसकर्मियों को बचाने वाली बयानबाजी की।’’


कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी ने कहा कि ऐसे अधिकारियों पर तुरंत कार्रवाई की जानी चाहिए।


गौरतलब है कि गत सोमवार को देर रात गोरखपुर जिले के रामगढ़ ताल इलाके में एक होटल में पूछताछ के दौरान कथित रूप से पुलिस द्वारा पीटे जाने से कानपुर के कारोबारी मनीष गुप्ता (36) की मृत्यु हो गई थी।


इस मामले में आरोपी छह पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है। सभी को निलंबित भी किया जा चुका है।



...

दहेज हत्या में पांच नामजद

रबूपुरा : मिर्जापुर गांव निवासी युवक परवीन कुमार की पत्नी प्रिया को एक सप्ताह जहरीला पदार्थ खाने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी। प्रिया के पिता ने बेटी के पति और ससुराल पक्ष पर दहेज हत्या का आरोप लगा पुलिस से शिकायत की थी। पुलिस ने पांच लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।




...

उप्र में एक व्यक्ति की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत


मुजफ्फरनगर (उप्र) : उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के काकरोली थाना क्षेत्र के चोरावाला गांव में 30 वर्षीय एक व्यक्ति की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी। पुलिस ने शुक्रवार को बताया कि उसके परिवार ने आरोप लगाया है कि सोनू को उसके ससुराल वालों ने कोई जहरीला पदार्थ खिला दिया था, जिससे उसकी मौत हो गई। सोनू अपनी पत्नी को लेने बृहस्पतिवार को अपने ससुराल गया था। थाना अधिकारी सुनील कुमार शर्मा ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है और मामले की जांच जारी है। सोनू के परिवार में पत्नी और चार बच्चे हैं। सोनू से झगड़े के बाद उसकी पत्नी अपने माता-पिता के घर पर रह रही थी।




...

गर्भपात के दौरान दलित युवती की मौत मामले में चिकित्सक सहित चार गिरफ्तार

महोबा (उप्र) : उत्तर प्रदेश में महोबा जिले के कबरई कोतवाली क्षेत्र के एक गांव की दलित युवती की गर्भपात के दौरान हुई मौत के मामले में महोबा जिले की पुलिस ने बृहस्पतिवार को एक चिकित्सक सहित चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने यह जानकारी दी।


पुलिस के अनुसार दलित युवती से छह माह पूर्व कथित रूप से बलात्कार हुआ था जिसके बाद वह गर्भवती हो गई थी। कबरई थाना के प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) दिनेश सिंह ने बताया कि थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली 20 वर्षीय दलित युवती की हमीरपुर जिले के मौदहा कस्बे के एक निजी अस्पताल में गर्भपात के दौरान मंगलवार शाम मौत हो गयी।


उन्होंने बताया कि इस सिलसिले में बुधवार को कबरई थाने में मुख्य आरोपी शैलेन्द्र सिंह के खिलाफ बलात्कार करने, उसके पिता रामनारायण, चाचा शिवनारायण पर जबरन गर्भपात कराने और निजी अस्पताल के चिकित्सक पर दलित युवती का गर्भपात करने का मामला दर्ज किया गया है। एसएचओ ने बताया कि बृहस्पतिवार की शाम आरोपी शैलेन्द्र, उसके पिता रामनारायण सिंह, चाचा शिवनारायण और निजी अस्पताल के चिकित्सक को गिरफ्तार कर लिया गया।


सिंह ने बताया कि छह माह पूर्व दलित युवती से उस समय बलात्कार हुआ था जब वह अकेले खेत में काम कर रही थी, लेकिन तब घटना की सूचना पुलिस को नहीं दी गयी थी। उन्होंने बताया कि 25 सितंबर को अचानक रक्तस्राव होने पर युवती के परिजनों को उससे बलात्कार होने और उसके गर्भवती होने की जानकारी हुई। इसके बाद आरोपी के पिता व चाचा उसे हमीरपुर जिले में मौदहा कस्बे के एक निजी अस्पताल ले गए, जहां गर्भपात के दौरान दलित युवती की मौत हो गयी।





...

अदालत ने आप कार्यकर्ता को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में पार्टी के विधायक को आरोप मुक्त किया

नई दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक शरद चौहान और पांच अन्य को पार्टी की एक कार्यकर्ता को 2016 में आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में बृहस्पतिवार को आरोप मुक्त कर दिया।


हालांकि, विशेष न्यायाधीश एम.के. नागपाल ने चौहान के एक सहयोगी रमेश भारद्वाज के खिलाफ आरोप तय करने का निर्देश दिया और कहा कि उन्हें (भारद्वाज को) जिम्मेदार ठहराने के लिए पर्याप्त मात्रा में प्रथम दृष्टया साक्ष्य हैं।


अदालत द्वारा भारद्वाज को दोषी करार दिये जाने पर अधिकतम 10 साल की कैद की सजा हो सकती है।


भारद्वाज मृतका द्वारा दर्ज कराये गये यौन उत्पीड़न के एक मामले में भी आरोपी है।


शिकायत के मुताबिक मुख्य आरोपी भारद्वाज, चौहान का करीबी सहयोगी था और इसलिए उक्त नेता ने यौन उत्पीड़न के मामले में हमेशा ही उसे बचाया और उसे शरण दी।


हालांकि, अदालत ने कहा, ‘‘अदालत का मानना है कि इस बारे में प्रथम दृष्टया कोई साक्ष्य नहीं है जो यह प्रदर्शित करता हो कि महिला को आत्महत्या के लिए उकसाने को लेकर भारद्वाज और अन्य सभी आरोपियों के बीच कोई आपराधिक साजिश रची गई थी।’’


आरोप मुक्त किये गये अन्य लोग मोहन लाल वर्मा, संजय, अमित भारद्वाज, रजनीकांत और मुख्तियार सिंह हैं।


अभियोजन के मुताबिक महिला ने उत्तर-पश्चिम दिल्ली के नरेला स्थित अपने घर में जहर खा लिया था और लोक नायक जयप्रकाश अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। 




...

अपराध में लिप्त पुलिसकर्मियों को बर्खास्त करने का मुख्यमंत्री ने दिया निर्देश

लखनऊ : गोरखपुर में कानपुर के व्यापारी मनीष गुप्ता की हुई हत्या मामले में तीन पुलिसकर्मियों के नामजद होने के बाद अपराधी छवि वाले सभी पुलिसकर्मियों के खिलाफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बेहद नाराज हैं। उन्होंने पूरे मामले को गंभीरता से लिया है और कहा कि हाल के दिनों में कतिपय पुलिस अधिकारियों-कार्मिकों के अवैध गतिविधियों में संलिप्त होने की शिकायतें मिली हैं। यह कतई स्वीकार्य नहीं है। ऐसे सभी अफसर व कार्मिक जो अति गंभीर अपराधों में लिप्त हैं उनकी बर्खास्तगी की जाए।


मुख्यमंत्री योगी ने गुरुवार को टीम-9 के साथ हुई बैठक ने ये निर्देश दिए। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि अपराध में संलिप्त पुलिस विभाग में ऐसे लोगों के लिए कोई स्थान नहीं होना चाहिए। प्रमाण के साथ ऐसे लोगों को चिन्हित कर सूची उपलब्ध कराएं। सभी के विरुद्ध नियमानुसार कार्यवाही होगी। अति गंभीर अपराधों में लिप्त पुलिस अधिकारियों-कार्मिकों की बर्खास्तगी की जाए।


उधर, कानून मंत्री ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। सरकार ने पूरे मामले को गंभीरता से लिया है। कहा कि कोई भी कानून को अपने हाथ में नहीं ले सकता है। भले ही वह कितना भी बड़ा अधिकारी हो। मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में ले जाया जाएगा। सरकार पीड़ित परिवार के साथ खड़ी है। परिवार की सभी मांगें मानी जाएंगी।


गौरतलब है कि गोरखपुर के एक होटल में 27 सितंबर की देर रात पुलिस की दबिश के दौरान कानपुर के प्रॉपर्टी डीलर मनीष गुप्ता की संदिग्ध मौत का सच सामने आ गया है। मनीष गुप्ता की पत्नी मीनाक्षी ने आरोप लगाया कि डीएम-एसएसपी ने उन्हें एफआईआर कराने से रोका। एफआईआर तभी दर्ज हुई, जब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हस्तक्षेप किया। पुलिस ने 29 सितंबर को तीन पुलिसवालों के खिलाफ नामजद और तीन अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली।






...

उप्र: जमानत पर रिहा बलात्कार का आरोपी दोबारा गिरफ्तार, पीड़िता को प्रताड़ित करने का आरोप

मुजफ्फरनगर (उप्र) : उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में जमानत पर रिहा बलात्कार के एक आरोपी को पीड़िता को प्रताड़ित करने की कोशिश करने के आरोप में फिर से गिरफ्तार कर लिया गया।


पुलिस ने बृहस्पतिवार को बताया कि हरपाल सिंह (50) एक किशोरी से बलात्कार के मामले में पिछले पांच साल से जेल में था। घटना के समय पीड़िता की उम्र 16 साल थी।


थाना प्रभारी राधे श्याम यादव ने बताया कि आरोपी कुछ दिन पहले ही जमानत पर जेल से रिहा हुआ था और वह तितावी थाना क्षेत्र स्थित पीड़िता के गांव गया तथा उसे प्रताड़ित करने की कोशिश की।


उन्होंने बताया कि पीड़िता की शिकायत के बाद उसे बुधवार को फिर से गिरफ्तार कर लिया गया।







...

पुलिस की कथित पिटाई से कारोबारी की मौत : सपा-बसपा ने की सीबीआई जांच की मांग

कानपुर/लखनऊ (उत्तर प्रदेश) : समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने गोरखपुर जिले में कथित रूप से पुलिस कर्मियों द्वारा बर्बरतापूर्ण पिटाई किए जाने से एक कारोबारी की मौत के मामले की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की मांग की है।


सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बृहस्पतिवार को कानपुर जाकर मृतक व्यवसायी के परिजन से मुलाकात की। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि इस घटना में तब तक न्याय मिलना मुश्किल है जब तक मामले की सीबीआई से या उच्च न्यायालय के किसी सेवारत न्यायाधीश की निगरानी में जांच ना हो।


उधर, बसपा मुखिया मायावती ने भी एक ट्वीट कर कहा कि घटना की गंभीरता और परिवार की व्यथा को देखते हुए मामले की सीबीआई जाँच जरूरी है।


सपा के एक प्रवक्ता ने बताया कि पिछले सोमवार को गोरखपुर के रामगढ़ ताल इलाके के एक होटल में देर रात पुलिस द्वारा बेरहमी से पिटाई किए जाने के कारण जान गंवाने वाले व्यापारी मनीष गुप्ता के परिजनों से कानपुर में मुलाकात करने के बाद संवाददाताओं से अखिलेश ने कहा कि लोगों को सुरक्षा देना पुलिस की जिम्मेदारी है लेकिन उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के कार्यकाल में पुलिस सुरक्षा देने के बजाय लोगों की जान ले रही है।


उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्व में झांसी में भी ऐसी ही घटना हुई थी जिसमें पुलिसकर्मियों ने पुष्पेंद्र यादव नामक व्यक्ति की हत्या कर दी थी।


अखिलेश ने कहा "गोरखपुर की घटना में तब तक न्याय मिलना मुश्किल है जब तक सीबीआई जांच या उच्च न्यायालय के किसी सेवारत न्यायाधीश की निगरानी में जांच ना हो।"


उन्होंने मृतक के परिवार को दो करोड़ रुपये की मदद और मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी देने की मांग करते हुए ऐलान किया कि समाजवादी पार्टी भी परिवार को 20 लाख रुपये की सहायता देगी।


बसपा अध्यक्ष मायावती ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा "गोरखपुर की पुलिस द्वारा तीन व्यापारियों के साथ होटल में बर्बरता व उसमें से एक की मौत के प्रथम दृष्टया दोषी पुलिसवालों को बचाने के लिए मामले को दबाने का प्रयास घोर अनुचित है। घटना की गंभीरता और परिवार की व्यथा को देखते हुए मामले की सीबीआई जाँच जरूरी है।"


उन्होंने कहा "आरोपी पुलिसवालों के विरूद्ध पहले हत्या का मुकदमा दर्ज नहीं करना, और फिर जन आक्रोश के कारण मुकदमा दर्ज होने के बावजूद उन्हें गिरफ्तार नहीं करना, सरकार की नीति व नीयत दोनों पर गंभीर प्रश्न खड़े करता है। सरकार पीड़िता को न्याय, उचित आर्थिक मदद व सरकारी नौकरी दे, बसपा की यही माँग है।"


अखिलेश ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में पुलिस का ऐसा व्यवहार किसी अन्य पार्टी के शासनकाल के दौरान देखने को नहीं मिला।


उन्होंने आरोप लगाया "पुलिस लगातार भाजपा की सरकार में लूट और हत्या में शामिल है। जब आप पुलिस और जिलाधिकारी से गलत काम कराएंगे तब यही अंजाम होगा। पुलिस और अधिकारियों पर इसीलिए कार्रवाई नहीं हो रही है क्योंकि सरकार ने इन्हीं से गलत काम कराए हैं।"


सपा अध्यक्ष ने कहा कि उनकी पार्टी पीड़ित परिवार के साथ है।


गौरतलब है कि गत सोमवार को देर रात गोरखपुर जिले के रामगढ़ ताल इलाके में एक होटल में पूछताछ के दौरान कथित रूप से पुलिस द्वारा मारे पीटे जाने से कानपुर के कारोबारी मनीष गुप्ता (36) की मृत्यु हो गई थी।


इस मामले में आरोपी छह पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। सभी को निलंबित भी किया जा चुका है।




...

दो सुरक्षाकर्मियों के बीच हुए विवाद में चली गोली, एक की मौत

भोपाल : मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के एम पी नगर थाना क्षेत्र स्थित निर्माण सदन में आज सुबह दो सुरक्षाकर्मियों के बीच हुए विवाद में चली गोली से एक सुरक्षाकर्मी की मौत हो गयी। पुलिस सूत्रों के अनुसार निर्माण सदन में सुबह ड्युटी के दौरान दो सुरक्षाकर्मियों के बीच विवाद हो गया। विवाद बढ़ने पर एक सुरक्षाकर्मी ने दूसरे पर बंदूक से फायर कर दिया, जिससे उसकी मौत हो गयी। घटना के बाद आरोपी सुरक्षाकर्मी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस की प्रारंभिक जांच में विवाद की असली वजहों का खुलासा नहीं हो सका है। पुलिस मामले में प्रकरण दर्ज कर जांच कर रही है।





...

यूपी में कैंची से काटी लड़के की जीभ

बुलंदशहर (उत्तर प्रदेश) :  बच्चों के बीच हुए झगड़े के दौरान 12 साल के एक लड़के की जीभ कैंची से काट दी गई। बच्चों की इस लड़ाई ने इतना तूल पकड़ा कि इसमें उनके परिवार वाले भी शमिल हो गए।


दूसरे लड़के को भी जमीन पर गिरा दिया गया, जिससे उसके सिर में चोट आ गई।


इस मामले में आईपीसी की धारा 324 (स्वेच्छा से खतरनाक हथियारों या साधनों से चोट पहुंचाना) के तहत तीन लोगों पर मामला दर्ज किया गया है।


रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना मंगलवार को उस वक्त हुई जब खुर्जा इलाके में बच्चों का एक समूह आपस में झगड़ने लगा। उनके परिवार में शामिल हो गए और बहस के कारण हाथापाई हो गई।


लड़के की जीभ कथित तौर पर विरोधी पक्ष द्वारा काट दी गई थी और एक अन्य बच्चे को धक्का देने के बाद सिर में चोट लग गई।


अपनी शिकायत में 12 वर्षीय लड़के के पिता ने आरोप लगाया कि उनके बेटे पर उसके पड़ोसियों ने उस समय हमला किया, जब वह बाहर खेल रहा था।


एक वीडियो क्लिप में, लड़का यह कहते हुए दिखाई दे रहा है कि उस पर उसके पड़ोसियों, कुलदीप और सचिन और उनके दोस्त विपिन ने हमला किया था।


खुर्जा थाना प्रभारी (एसएचओ) नीरज सिंह ने कहा कि एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि अन्य दो फरार हैं।


फिहलाल, लड़के का अस्पताल में इलाज चल रहा है, जबकि दूसरे को सिर में चोट लगने के कारण प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई है।





...

यूपी में महिला कांस्टेबल से रेप के आरोप में सरकारी डॉक्टर गिरफ्तार

लखनऊ : लखनऊ में एक महिला कांस्टेबल से कथित तौर पर रेप के आरोप में एक सरकारी डॉक्टर को गिरफ्तार किया गया है।


कृष्णा नगर इलाके में पीड़िता द्वारा कथित तौर पर डॉक्टर पर नशे में उसके साथ रेप करने का आरोप लगाने के बाद मंगलवार देर रात डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया गया।


पुलिस रिपोर्ट्स के मुताबिक घटना 7 सितंबर की है, लेकिन मामला 23 सितंबर को दर्ज किया गया था।


आरोपी की पहचान आशीष कुमार सिंघिया के रूप में हुई है।


आरोपी लखनऊ जेल में डॉक्टर है और वह बाल्दी खेड़ा मोहल्ले में क्लीनिक भी चलाता है।


महिला कांस्टेबल सात सितंबर को आशीष के क्लिनिक गई थी, जहां उसने कुछ नशीला पदार्थ देकर उसके साथ दुष्कर्म किया था।


महिला ने आरोप लगाया कि उसने कोई नशीला पदार्थ खिलाया और रेप किया।


घटना के बाद महिला ने शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।


मध्य क्षेत्र के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (एडीसीपी) राजेश श्रीवास्तव ने कहा कि आशीष को बलात्कार, जहर देकर चोट पहुंचाने और आपराधिक धमकी देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।





...

व्यवसायी की संदिग्ध हालात में मौत : छह पुलिसकर्मियों पर हत्या का मुकदमा

गोरखपुर (उत्तर प्रदेश) :  गोरखपुर जिले के रामगढ़ ताल इलाके में एक होटल के निरीक्षण के दौरान कथित रूप से पुलिस की पिटाई से एक रियल एस्टेट कारोबारी की हुई मौत मामले में निलंबित छह पुलिसकर्मियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है।


पुलिस सूत्रों ने बुधवार को बताया कि रामगढ़ ताल थाना क्षेत्र में सोमवार रात होटल में निरीक्षण के दौरान कानपुर निवासी रियल एस्टेट कारोबारी मनीष गुप्ता की कथित तौर पर पुलिस की पिटाई से हुई मौत के मामले में निलंबित किए जा चुके थानाध्यक्ष समेत छह पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है।


जिलाधिकारी विजय किरन आनंद ने बुधवार को बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वारदात में मृत व्यवसाई मनीष गुप्ता की पत्नी मीनाक्षी से मंगलवार रात फोन पर बात की। राज्य सरकार ने पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपये की मदद का आदेश दिया है।


उन्होंने बताया कि मीनाक्षी ने पुलिसकर्मियों पर मुकदमा दर्ज नहीं होने तक अपने पति का शव नहीं ले जाने की बात कही थी। हालांकि, इस मामले में वांछित कार्रवाई होने पर शव को 28/29 सितंबर की दरमियानी रात करीब एक बजे कानपुर ले जाया गया।


गौरतलब है कि सोमवार रात रामगढ़ ताल थाना क्षेत्र में एक होटल में कानपुर निवासी 36 वर्षीय गुप्ता अपने दो दोस्तों प्रदीप और हरी चौहान के साथ ठहरे थे। देर रात पुलिस होटल में निरीक्षण के लिए पहुंची थी। निरीक्षण के दौरान यह पाया गया कि तीन लोग गोरखपुर के सिकरीगंज स्थित महादेवा बाजार के निवासी चंदन सैनी के पहचान पत्र के आधार पर एक कमरे में ठहरे हैं। संदेह होने पर पूछताछ के दौरान पुलिस द्वारा कथित रूप से की गई पिटाई से घायल मनीष की संदिग्ध हालात में गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में मौत हो गई थी।


मनीष की पत्नी मीनाक्षी ने पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाते हुए कहा कि इसी वजह से उसके पति की मृत्यु हुई है। हालांकि, पुलिस ने इस आरोप से इनकार करते हुए कहा कि मनीष नशे की हालत में थे और पूछताछ के दौरान जमीन पर गिरने से उसके सिर में चोट आ गई थी जिससे उसकी मृत्यु हुई।


मीनाक्षी ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग की थी। मनीष के साथ कमरे में ठहरे उसके दोस्तों ने बताया कि वे लोग गोरखपुर के रहने वाले कारोबारी चंदन सैनी के बुलावे पर गोरखपुर आए थे।


वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) ने रामगढ़ ताल के थाना प्रभारी जेएन सिंह और फलमंडी थाना प्रभारी अक्षय मिश्रा समेत छह पुलिसकर्मियों को मंगलवार को ही निलंबित कर पुलिस अधीक्षक (नगर) को मामले की जांच सौंपी थी।




...

बच्ची से बलात्कार के दोषी को 25 साल कैद की सजा

बदायूं (उत्तर प्रदेश) : बदायूं जिले की एक अदालत ने पांच साल की बच्ची से दुष्कर्म के मामले में दोषी करार दिए गए व्यक्ति को 25 साल सश्रम कारावास और एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है।


अभियोजन पक्ष के वकील जितेंद्र कुमार सिंह ने बुधवार को बताया कि जिले के हजरतपुर थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाले व्यक्ति ने छह अक्टूबर 2020 को प्राथमिकी दर्ज कराई थी और आरोप लगाया था कि धर्मवीर वाल्मीकि नामक व्यक्ति ने उसकी पांच साल की बेटी से दुष्कर्म किया है।


वादी का कहना था कि उसकी बच्ची घर के बाहर खेल रही थी तभी वाल्मीकि ने उसे अपनी हवस का शिकार बनाया।


विशेष न्यायाधीश पॉक्सो अधिनियम सुबोध वार्ष्णेय ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद मंगलवार को आरोपी धर्मवीर को दोषी करार देते हुए 25 साल सश्रम कारावास और एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई।





...

ठाणे में कई बार बलात्कार के बाद किशोरी गर्भवती हुई, रिश्तेदार गिरफ्तार

ठाणे (महाराष्ट्र) : महाराष्ट्र के ठाणे जिले में 17 वर्षीय एक किशोरी से उसके एक रिश्तेदार ने कथित तौर पर कई बार बलात्कार किया, जिसके बाद वह गर्भवती हो गई।


पुलिस ने बुधवार को बताया कि 24 वर्षीय आरोपी को भिवंडी तालुका के एक गांव से मंगलवार को गिरफ्तार किया गया। पीड़िता, आरोपी की रिश्ते की बहन है। दोनों एक ही घर में रहते थे और आरोपी ने पीड़िता के साथ कई बार बलात्कार किया।


उन्होंने बताया कि किशोरी गर्भवती हो गई थी और रविवार को एक अस्पताल में उसने एक बच्चे को जन्म दिया। इसके बाद पीड़िता की मां ने आरोपी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई।


उन्होंने बताया कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 376 (बलात्कार) और यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (पॉक्सो) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है।



...

बलिया में दुष्कर्म के आरोप में तांत्रिक गिरफ्तार

बलिया (उप्र) : बलिया जिले की रेवती थाना पुलिस ने एक तांत्रिक को 17 वर्षीय लड़की को कथित रूप से अगवा करने और उसका बलात्कार करने के मामले में गिरफ्तार किया है। आरोपी को अदालत में पेश किया गया जहां से उसे जेल भेज दिया गया। पुलिस ने यह जानकारी दी।


पुलिस ने मंगलवार को बताया कि रेवती थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली 17 वर्षीय किशोरी का गत जून माह में तांत्रिक अभिजीत उपाध्याय उर्फ जोग बाबा ने अपहरण कर लिया था। वरिष्ठ उप निरीक्षक अजय यादव ने बताया कि पुलिस ने एक सूचना के आधार पर सोमवार को तांत्रिक जोग बाबा (23) को बलिया रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार कर लिया, उसके साथ किशोरी भी थी।


यादव ने बताया कि किशोरी का बयान है कि वह प्रेतात्मा से मुक्ति के लिए तांत्रिक से मिली थी और तांत्रिक उसे शादी का झांसा देकर अगवा कर दिल्ली व कोटा ले गया तथा उसके साथ तकरीबन तीन महीने तक दुष्कर्म किया। पुलिस ने किशोरी को मेडिकल जांच के लिए जिला अस्पताल भेजा है। उन्होंने बताया कि किशोरी के पिता ने तांत्रिक के विरुद्ध गत 30 जून को अपहरण का मामला दर्ज करवाया था। किशोरी के बयान के आधार पर पुलिस ने सोमवार को मामले में बलात्कार व पॉक्सो एक्ट की संबंधित धाराएं बढ़ा दी हैं।






...

रेलवें रोड़ पर वॉक कर रही महिला से बाईकसवार बदमाशों ने लूटी चेन,महिलाओं में दहशत

हापुड़  : पुलिस से बैखोफ बदमाशों ने एक बार फिर पुलिस को सलामी देते हुए रेलवें रोड़ पर वॉक कर रही बुजुर्ग महिला के गलें से सोनें की चेन लूटकर फरार हो गए। घटना से रात को वॉक करती महिलाओं में दहशत का माहौल हैं।
जानकारी के अनुसार हापुड़ के रेलवें रोड़ के प्रेमपुरा निवासी महिला सरिता एक महिला के साथ वॉक करती हुई फ्री गंज रोड़ पर जा रही थी,तभी बाईकसवार दो बदमाशों ने उनके गलें से सोनें की चेन लूट फरार हो गए। जिससे वहां घूम रही अन्य महिलाओं में भी दहशत बैठ गई।
घटना की सूचना मिलतें ही सीओ सिटी वैभव पांड़ें व कोतवाल सोमवीर सिंह मौकें पर पहुंचें और सीसीटीवी कैमरें चेक कर जल्द ही बदमाशों को पकड़नें का दावा किया हैं।
...

गाजियाबाद में नौकर ने ही दिया था दोहरे हत्याकांड को अंजाम, पुलिस ने किया गिरफ्तार

गाजियाबाद : गाजियाबाद के ट्रॉनिका सिटी में पिछले दिनों फर्नीचर कारोबारी नईमुल हसन और उनके बेटे की हत्या उनके ही नौकर ने की थी। नौकर को गिरफ्तार कर लिया गया है। उसने बताया कि उसने मालिक को लूटने के इरादे से उनकी और उनके मासूम बेटे की हत्या की थी।


ट्रॉनिका सिटी की कासिम विहार कॉलोनी में 16 सितंबर के दिन तड़के चाकू से गोदकर फर्नीचर कारोबारी नईमुल हसन (34) और उनके बेटे उवैस (8) की हत्या कर दी गई थी। हत्यारों ने बर्बरता दिखाते हुए पिता-पुत्र का गला रेतकर उनके चेहरे भी पंखे के मोटर से कुचल दिए थे। सुबह नईमुल का भतीजा जब किसी काम से उनके घर गया तो हत्याकांड का पता चला था।


गिरफ्तार नौकर ने पुलिस को शुरुआती पूछताछ में बताया कि उसे लगा था कि घर में पांच लाख रुपये रखे हैं। उसने वही रुपये लूटने के इरादे से मालिक और उनके बेटे की चाकू से गोदकर हत्या कर दी थी। हालांकि मौके पर उसे सिर्फ 15 हजार रुपये ही मिले थे।


मूलरूप से संभल के गांव थाना धनारी निवासी नईमुल करीब सात साल से कासिम विहार कॉलोनी में पत्नी साइमा और चार बच्चों के साथ रह रहे थे। नईमुल हसन पड़ोस में रहने वाले दो भाइयों ममनून और जंजरहसन के साथ रामपार्क कॉलोनी में फर्नीचर का काम करते थे। उनकी पत्नी छह दिन पहले तीन बच्चों को लेकर रिश्तेदारी में बिहार गई थीं जबकि नईमुल बेटे उवैस के साथ घर पर रुक गए थे।


मृतक के भाई ममनून ने बताया कि उनका बेटा अरबाज 16 सितंबर की सुबह जब हेलमेट लेने नईमुल के घर गया तो मुख्य दरवाजा खुला हुआ था। अंदर जाकर देखा तो उसने पिता-पुत्र के लहूलुहान शव पड़े थे। उसने परिजनों को इसकी जानकारी दी, जिसके बाद चीख-पुकार सुनकर पड़ोसी आ गए। घर के दरवाजे सही सलामत थे, इसलिए पुलिस को पहले से ही शक था कि हत्याकांड में कोई करीबी ही है, जिसके लिए अंदर से दरवाजे खोले गए थे। पुलिस ने इस मामले की जांच के लिए तीन टीमें गठित की थीं।







...

हेड कांस्टेबल रतन लाल की हत्या में आरोपी सलीम को जमानत

नई दिल्ली :  उच्च न्यायालय ने सोमवार को दिल्ली हिंसा के दौरान हुई हेड कांस्टेबल रतन लाल की हत्या के मामले में आरोपी सलीम खान को जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया है। हालांकि न्यायालय ने मामले के दूसरे आरोपी इब्राहिम को जमानत देने से इनकार करते हुए कहा कि पहली नजर में उसके खिलाफ साक्ष्य मौजूद है। जस्टिस एस. प्रसाद ने पिछले माह सभी पक्षों को सुनने के बाद आरोपियों की जमानत अर्जी पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।


आरोपियों सलीम और इब्राहिम को हेड कांस्टेबल रतन लाल की हत्या और हिंसा के दौरान एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी पर हमला करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। दिल्ली पुलिस ने अपने एक सिपाही के बयान पर यह मामला दर्ज किया था। सिपाही ने अपने बयान में कहा था कि 24 फरवरी 2020 को वह चांदबाग में अन्य पुलिसकर्मियों के साथ ड्यूटी पर था। दोपहर एक बजे के करीब प्रदर्शनकारी लाठी, डंडा, बेसबॉल बैट, लोहे की छड़ और पत्थर लेकर मुख्य वजीराबाद रोड पर जमा होने लगे। वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा रोके जाने के बाद भी प्रदर्शनकारी नहीं माने और वे हिंसक हो गए। चेतावनी देने के बाद हिंसक भीड़ को तितर-बितर करने के लिए थोड़ा बल प्रयोग और आंसू गैस के गोले दागे गए। लेकिन, हिंसक प्रदर्शनकारियों ने लोगों के साथ पुलिसकर्मियों को भी पीटना शुरू कर दिया। इससे उन्हें खुद अपनी दाहिनी कोहनी और हाथ में चोट लग गई। भीड़ ने पुलिस उपायुक्त शाहदरा, सहायक पुलिस आयुक्त गोकुलपुरी और हेड कांस्टेबल रतन लाल पर हमला किया। इससे वे सड़क पर गिर गए और गंभीर रूप से घायल हो गए। इसी हमले में रतन लाल की मौत हो गई।



...

17 साल की उम्र में मेरे साथ दुष्कर्म हुआ था : सोफी एलिस-बेक्सटर

लॉस एंजिल्स : मर्डर ऑन द डांसफ्लोर गायिका सोफी एलिस-बेक्सटर ने कहा है कि 17 साल की उम्र में एक 29 साल के व्यक्ति ने उनके साथ दुष्कर्म किया था।


फीमेलफस्र्ट डॉट को डॉट यूके की रिपोर्ट के अनुसार एलिस-बेक्सटर को एक मीटिंग के लिए कथित हमलावर के फ्लैट में आमंत्रित किया गया था। टेक मी होम और वाइल्ड फॉरएवर गीत-निमार्ता उस समय ए-लेवल के लिए इतिहास का अध्ययन कर रही थी। उस आदमी ने कहा था कि वह उसे अपनी पढ़ाई की किताबें दिखाएगा, लेकिन चीजें जल्द ही आगे बढ़ गईं।


42 वर्ष की हो चुकी गायक ने कहा कि जिम और मैंने किस करना शुरू कर दिया और इससे पहले कि मैं यह जान पाती हम उसके बिस्तर पर थे और उसने मेरे कपड़े उतार दिए थे। मैंने खुद को मना करते सुना और मैं यह सब नहीं चाहती थी, लेकिन उसने मेरी बात नहीं सुनी।


उसने मेरी बात नहीं मानी और उसने मेरे साथ सेक्स किया। मुझे बहुत शमिर्ंदगी महसूस हुई, साथ ही मुझे बेवकूफी महसूस हुई। मुझे याद है कि जिम किताबों की अलमारी को घूर रहा था और सोच रहा था कि मुझे अभी ऐसा होने देना चाहिए।


गायिका ने कहा कि वह मेरे साथ कभी भी हिंसक नहीं था, लेकिन अब उसे 25 साल बाद उसकी आवाज सुनने की जरूरत महसूस होती है।


उनहोंने कहा कि मेरा अनुभव हिंसक नहीं था। जो कुछ हुआ उसमें मेरी बात को सुना नहीं गया। वहां दो लोगों में से एक ने हां कहा, दूसरे ने नहीं कहा।


एलिस-बेक्सटर की अपने कथित रेपिस्ट का नाम उजागर करने में कोई दिलचस्पी नहीं रखती है।


अपनी आत्मकथा स्पिनिंग प्लेट्स के एक अंश में, उन्होंने कहा कि मैंने खुद से पूछा है कि इन अनुभवों के बारे में लिखना क्यों महत्वपूर्ण है। ऐसी चीज पर क्यों जाएं जो बहुत सुखद नहीं थी? इसे सार्वजनिक क्यों करें?


लेकिन मुझे लगता है कि अगर आप कुछ ऐसा अनुभव करते हैं जो आप जानते हैं कि गलत है, तो इसके बारे में बहादुर और ईमानदार होने से मदद मिलती है, और अगर किसी और को भी कुछ ऐसा ही हुआ है, तो इससे हम सभी को इसके बारे में बात करने में मदद मिल सकती है।


लेकिन यह सब कुछ नहीं है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि मैं इसके बारे में इतने लंबे समय तक चुप रही, और ऐसा लगने लगा कि इन सब में मेरी मिलीभगत रही है। जब मैं 17 साल की थी, तब मुझे नहीं सुना गया था, लेकिन मुझे लगता है कि अब मुझे सुना जाएगा।



...

मुजफ्फरनगर में सशस्त्र बदमाशों ने कारोबारी के घर में घुसकर नकदी, गहने लूटे

मुजफ्फरनगर (उप्र) : मुजफ्फरनगर के न्यू मंडी इलाके में पांच हथियारबंद लोगों का एक समूह एक व्यापारी के घर में घुस गया और लाखों रुपये की नकदी एवं जेवरात लूटकर फरार हो गया। पुलिस ने सोमवार को यह जानकारी दी।


उत्तर प्रदेश के मंत्री कपिल अग्रवाल गुड़ व्यापारी नंद किशोर के घर गए और उन्होंने दोषियों के जल्द पकड़े जाने का आश्वासन दिया।


पुलिस ने बताया कि यह घटना रविवार शाम को हुई और लुटेरों ने हथियार दिखाकर किशोर के परिवार के सदस्यों को डराया।


एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि सीसीटीवी कैमरे में पांच लोगों के चेहरे दिखाई दे रहे हैं और इस फुटेज का विश्लेषण किया जा रहा है तथा अपराधियों को पकड़ने के लिए तलाश अभियान शुरू कर दिया गया है।




...

सलाखों के पीछे से टिल्लू हमलावरों को आनलाइन निर्देश दे रहा था ,जानिए क्या था जितेंद्र गोगी को मारने के लिए जेल में रचा गया गैंगस्टरों का प्लान ए और बी

नई दिल्ली  :  गैंगस्टर जितेंद्र मान उर्फ गोगी की हत्या की सुनियोजित साजिश रची गई थी। यही नहीं इसके लिए गैंगस्टर सुनील मान उर्फ टिल्लू ने न सिर्फ पूरी योजना तैयार की थी, बल्कि प्लान ए और बी भी तैयार किया था, जिसमें हमलावरों के जज के सामने सरेंडर करने से लेकर फरार होने तक की स्कि्रप्ट लिखी गई थी। यही नहीं स्कि्रप्ट के मुताबिक सलाखों के पीछे से टिल्लू हमलावरों को आनलाइन निर्देश दे रहा था। सूत्र बताते हैं कि हमले के समय भी टिल्लू जयदीप और राहुल के साथ ही कोर्ट के बाहर खड़े अपने साथियों क संपर्क में था। उसके कहने पर ही कोर्ट के बाहर खड़े बदमाश कार लेकर फरार हुए थे।

सूत्रों के मुताबिक उमंग और विनय ने पूछताछ में जो जानकारी दी है, उससे दिल्ली पुलिस के अधिकारी भी हक्के-बक्के रह गए हैं। दरअसल, गोगी को ठिकाने लगाने की योजना टिल्लू व उसके खेमें में शामिल कुख्यात नीरज बवाना, सुनील राठी, भावरिया, राहुल काला व नवीन बाली आदि गैंगस्टरों ने की थी। गोगी को कोर्ट रूम में ही मारने के लिए इन लोगों ने दो स्तर पर प्लान बनाया था। इसके तहत ही गोगी बदमाशों को हर पल निर्देश दे रहा था। हमलावरों की जान बचाने के लिए भी टिल्लू ने दो तरह के प्लान बनाए थे, हालांकि उसमें वह सफल नहीं रहा। बदमाशों पर कोई शक न करे, इसके लिए कार पर अधिवक्ता का स्टिकर भी बदमाशों ने लगाया था।

ये था प्लान 'ए'

गोगी के प्लान 'ए' के मुताबिक जयदीप और राहुल जाटव उर्फ नितिन को कोर्ट में गोगी की हत्या करने के बाद बाहर आना था। वहीं, उमंग और विनय से कार लेकर कोर्ट के बाहर खड़े रहने के लिए कहा गया था। इन दोनों को हमलावरों को कार में लेकर भागना था। इस बीच काले कोट पेंट में ही उसके जो अन्य साथी कोर्ट परिसर  मौजूद थे। उन्हें हवाई फायरिंग कर सुरक्षाकर्मियों को गुमराह करना था, ताकि हमलावर आसानी से भाग सकें।

ये था प्लान 'बी'

टिल्लू व उसके साथियों ने जयदीप और राहुल की जान बचाने के लिए प्लान बी भी तैयार किया था। इसके मुताबिक इन दोनों से कहा गया था कि यदि गोगी की हत्या के बाद भागना संभव न हो सके तो तत्काल हथियार फेंककर जज के सामने सरेंडर कर दें। हालांकि, दोनों हमलावरों को इस योजना को अंजाम देने का मौका नहीं मिला और सुरक्षाकर्मी की गोली का शिकार हो गए। इसकी सूचना जैसे ही टिल्लू को मिली। उसने तत्काल साथियों को कोर्ट से भाग जाने का निर्देश दिया और सभी वहां खिसक गए।

गैंगस्टर के आगे फेल रहा पुलिस का खुफिया तंत्र

गोगी हत्याकांड से यह साफ हो गया है कि दिल्ली पुलिस की हाईटेक तकनीक को गैंगस्टर हर स्तर पर भेदने में कामयाब हो रहे हैं। यही नहीं पांच दिन तक टिल्लू और उसके साथी रोहिणी कोर्ट की रेकी करने के साथ ही वारदात को अंजाम देने की योजना पर काम करते रहे। इन्हें टिल्लू जेल से ही फोन पर दिशा-निर्देश देता रहा, लेकिन दिल्ली पुलिस के खुफिया नेटवर्क को इसकी भनक तक नहीं लगी। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि हाई सिक्योरिटी सेल में बंद टिल्लू को मोबाइल कहां से मिला। इससे जेलकर्मी भी संदेह के घेरे में आ रहे हैं। यह अलग बात है कि हमलावरों को तत्काल मौत के घाट उतारने को लेकर दिल्ली पुलिस अपनी पीठ ठोक रही है।

गेट नंबर चार के बाहर भी खड़ा था शूटर

टिल्लू जेल से घंटों लाइव आपरेशन चलाता रहा। उमंग व विनय से पूछताछ में पता चला कि राहुल व जयदीप जब कोर्ट के गेट नंबर चार पर पहुंचे तब पहले से वहां नेपाली मूल का टिल्लू का एक शूटर खड़ा था। तीनों साथ में कोर्ट परिसर में घुस गए। तीनों को छोड़कर उमंग और विनय कार लेकर कोर्ट की पार्किंग में चले गए। कुछ देर बाद नेपाली कोर्ट से लौटकर कार के पास आ गया। उसके कपड़े वकील की तरह नहीं दिख रहे थे, इसलिए उसे वापस भेज दिया गया था।



...