पंजाब, यूपी चुनाव से पहले वापस हो सकता है कृषि कानून : अखिलेश

लखनऊ : समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने आशंका व्यक्त की है कि मोदी सरकार आगामी पंजाब और उत्तर प्रदेश चुनावों के मद्देनजर कृषि कानूनों को वापस ले सकती है और बाद में चुनाव खत्म होने के बाद उन्हें नए सिरे से लागू कर सकती है।


भाजपा पर केवल कॉरपोरेटों की सेवा करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार उन उद्योगपतियों की सेवा के लिए प्रतिबद्ध है, जिन्होंने कृषि कानूनों के कारण पहले से ही साइलो और अन्य बुनियादी ढांचे की स्थापना की है।


अखिलेश ने एक अनौपचारिक बातचीत में संवाददाताओं से कहा, हो सकता है, मैं आज कह रहा हूं आपसे की पंजाब के चुनाव को देखते हुए, उत्तर प्रदेश के चुनाव को देखते हुए, हो सकता है किसानों के कानून रद्द कर दिए जाएंगे और फिर चुनाव के बाद नया कानून फिर आ जाएगा।


उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार चुनाव के बाद कृषि कानूनों को नए सिरे से लागू करेगी क्योंकि यह उन कॉरपोरेट्स की मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है, जिन्होंने कृषि कानून लागू होने के बाद आवश्यक बुनियादी ढांचे की स्थापना पर पहले ही पैसा खर्च कर दिया है।


अखिलेश ने आगे कहा कि सरकार जल्द ही कुशीनगर में हाल ही में उद्घाटन किए गए हवाई अड्डे को बेच सकती है और कहा कि वह मुख्य रूप से रोजगार में आरक्षण जैसे लाभों से वंचित करने के लिए सब कुछ बेच रही है जो एक निजी संस्था द्वारा परियोजना के अधिग्रहण के बाद लागू नहीं होगा।


उन्होंने कहा कि कुशीनगर हवाईअड्डा परियोजना की परिकल्पना उनकी सरकार ने की थी और इसके निर्माण के लिए बजट में 260 करोड़ रुपये आवंटित किए गए थे।






...

यूपी में बारिश से फसल बर्बाद, सदमे से किसान की मौत

रामपुर (उत्तर प्रदेश) : बेमौसम बरसात ने कई लोगों के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी है। यूपी के रामपुर में 60 वर्षीय रईस खान अपने खेतों को देखने गए थे। खेत में अपनी 10 बीघा जमीन में पूरी तरह से पानी में डूबी धान की फसल को देखकर वो हैरान रह गए।


इस नुकसान को देखकर खान बेहोश हो गये और खेत में ही उनकी मौत हो गई।


उनके परिवार को बाद में उनका शव खेत में मिला।


खान के चचेरे भाई ने कहा कि वह हृदय रोगी थे और धान के सीजन में गंभीर तनाव से जूझ रहे थे। लगातार हो रही बारिश से क्षेत्र के कई किसानों की धान की फसल प्रभावित हुई है।


अधिकारियों ने कहा कि किसानों को होने वाले कुल नुकसान का अभी भी आकलन किया जा रहा है।


दूसरी ओर, शाहबाद के स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) संजय तोमर ने कहा, परिवार ने हमें उनकी मौत के बारे में सूचित नहीं किया है। अगर वे हमसे संपर्क करते हैं, तो हम उनकी सहायता के लिए उचित कदम उठाएंगे। हमें स्थानीय ग्रामीणों से घटना के बारे में पता चला है।


इस बीच, शाहबाद तहसीलदार, दिनेश कुमार ने कहा, हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि क्या उन्होंने कोई ऋण ले रखा था। यदि उनका परिवार पोस्टमार्टम और अन्य औपचारिकताओं का पालन करता है, तब उन्हें संबंधित सरकारी योजना के तहत कुछ वित्तीय सहायता मिल सकती है।





...

सैयद मुश्ताक अली टी20 में महाराष्ट्र की अगुवाई करेंगे रुतुराज

पुणे : भारतीय बल्लेबाजी की नयी सनसनी रुतुराज गायकवाड़ चार नवंबर से शुरू होने वाली सैयद मुश्ताक अली ट्राफी टी20 प्रतियोगिता में महाराष्ट् का नेतृत्व करेंगे।


महाराष्ट्र को एलीट ग्रुप ए में रखा गया है और वह लीग चरण के अपने मैच लखनऊ में खेलेगा। उसका पहला मुकाबला तमिलनाडु से होगा।


इंडियन प्रीमियर लीग में सर्वाधिक रन बनाने वाले गायकवाड़ के साथ नौशाद शेख को उप कप्तान बनाया गया है। कोलकाता नाइट राइडर्स के राहुल त्रिपाठी आईपीएल फाइनल में लगी चोट से अभी नहीं उबरे हैं और उन्हें टीम में नहीं लिया गया है।


सीनियर बल्लेबाज केदार जाधव को भी टीम में शामिल किया गया है।


महाराष्ट्र की टीम इस प्रकार है : रुतुराज गायकवाड़ (कप्तान), नौशाद शेख (उपकप्तान), केदार जाधव, यश नाहर, अजीम काजी, रंजीत निकम, सत्यजीत बछव, तरनजीत सिंह ढिल्लों, मुकेश चौधरी, आशा पालकर, मनोज इंगले, प्रदीप दाधे, शमशुजामा काजी, स्वप्निल फुलपागर, दिव्यांग हिंगानेकर, सुनील यादव, धनराजसिंह परदेशी, स्वप्निल गुगले, पवन शाह और जगदीश जोप।







...

पुलिस दल पर गोलीबारी करने के दोषी को तीन साल की कैद

मुजफ्फरनगर (उप्र) : उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले की एक अदालत ने 2018 में पुलिस के दल पर गोलीबारी करने के मामले में दोषी पाए गए एक व्यक्ति को तीन साल कैद की सजा सुनाई है।


अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश अशोक कुमार ने सोमवार को दोषी हसन अहमद पर तीन हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया।


सरकारी वकील कुलदीप कुमार के अनुसार, अहमद को बुढ़ाना थाना क्षेत्र में पुलिस दल ने तलाशी के लिए रोका था, तभी उसने पुलिस पर गोलियां चला दी थी।





...

अमित शाह 29 अक्टूबर से लखनऊ के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे

लखनऊ : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 29 अक्टूबर से लखनऊ के दो दिवसीय दौरे पर होंगे, इस दौरान वह भाजपा के मेगा सदस्यता अभियान को हरी झंडी दिखाएंगे और चुनावी तैयारियों पर चर्चा करेंगे।


भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शुक्रवार को सदस्यता अभियान शुरू करेगी, जिसका उद्देश्य 1.5 करोड़ से ज्यादा नए सदस्यों को जोड़ना है। राज्य में पार्टी के पहले से ही लगभग 2.3 करोड़ सदस्य हैं। इनमें वे लाखों लोग शामिल हैं जिन्होंने पार्टी द्वारा साझा किए गए एक समर्पित नंबर पर मिस्ड कॉल देकर पार्टी के लिए अपनी पसंद की पुष्टि की है।


सदस्यता अभियान का महत्व इसलिए है क्योंकि भाजपा ने 2017 के विधानसभा चुनावों में जीती गई 312 सीटों के साथ 39.67 प्रतिशत वोट हासिल करने के लिए अपनी सीटों में सुधार करने का लक्ष्य रखा है।


शाह का दौरा इस तथ्य के मद्देनजर भी महत्वपूर्ण है कि पार्टी आगामी विधानसभा चुनावों में सत्ता विरोधी लहर को कम करने के लिए मौजूदा विधायकों के टिकट बदलने पर विचार कर रही है।


पार्टी उन नेताओं को भी टिकट देने के लिए प्रतिबद्ध है जो अन्य दलों से शामिल हुए हैं।


हालांकि, पार्टी के नेताओं के एक वर्ग को लगता है कि बड़े पैमाने पर टिकट बदलने से असंतुष्टि और नाकारात्मक प्रतिक्रिया हो सकती है।


पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, बड़े पैमाने पर परिवर्तन कभी रिस्क प्रूफ नहीं हो सकते हैं, लेकिन इसे करने में ज्यादा सावधानी बरतनी होगी। इस बार फायदा यह है कि पार्टी संगठन पहले से कहीं अधिक मजबूत है और ऐसी स्थितियों में यह शॉक ऑब्जर्वर के रूप में काम कर सकता है।


पार्टी सूत्रों ने कहा कि वरिष्ठ नेता मौजूदा विधायकों के प्रदर्शन के बारे में फीडबैक पर विस्तार से काम कर रहे हैं और फीडबैक की क्रॉस चेकिंग भी कर रहे हैं।



...

प्रियंका का ट्वीट, नौकरी के लिए खून से खत लिखने को मजबूर युवा

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में नजदीकी विधानसभा चुनाव देखते हुए कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा सक्रिय हो गयी हैं। यही कारण है कि उत्तर प्रदेश की हर छोटी- बड़ी समस्या का स्वयं संज्ञान लेती हैं। इस बीच देखा जा रहा है कि वह प्रदेश की भाजपा सरकार को लगातार घेरने का प्रयास कर रही हैं। वह चाहे बयान जारी कर उत्तर प्रदेश में किसी कार्यक्रम में जाकर या फिर ट्वीट के माध्यम से। इधर लगातार वह उत्तर प्रदेश से जुड़े विषयों पर ट्वीट कर रही हैं।


सोमवार को प्रियंका ने ट्वीट कर उत्तर प्रदेश की जनता से वायदा किया कि अगर कांग्रेस की सरकार उत्तर प्रदेश में बनती है तो किसी भी बीमारी में 10 लाख तक का खर्च सरकार वहन करेगी। मंगलवार को युवाओं के मुद्दे पर प्रियंका ने ट्वीटर पर लिखा कि बड़े ही शर्म की बात है कि भाजपा सरकार उन्हें इस कदर प्रताड़ित करती है कि नौकरी मांगने के लिए वे खून से खत लिखने को मजबूर हैं।


प्रियंका गांधी ने अभ्यर्थियों द्वारा मुख्यमंत्री को खून से लिखे पत्र को अपने ट्वीटर एकाउंट पर शेयर किया है। अभ्यर्थियों ने करीब एक लाख, 37 हजार, 500 रिक्त पदों को भरने की मांग करते हुए मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। 





...

भाजपा के सम्मेलन में योगी ने विपक्ष से पूछे सवाल

लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में मंगलवार को भाजपा की तरफ से आयोजित सामाजिक प्रतिनिधि सम्मेलन में सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री रहे स्वर्गीय कल्याण सिंह को याद किया। उन्होंने कहा कि कल्याण सिंह का जन्म और पालन पोषण लोधी समाज में हुआ लेकिन वह धर्म और राष्ट्र के लिए जिये।


योगी ने कहा कि बाबू जी के जीवन को देखकर यह कहा जा सकता है कि लोधी समाज धर्म और समाज के लिए लड़ने-जीने वाला है। इसी प्रकार अवंती बाई का नाम भी लिया जाता है। कल्याण सिंह ने अपने परिवार के लिए कुछ नहीं किया। वह धर्म और राष्ट्र के लिए जिये। बुलंदशहर के मेडिकल कॉलेज का नाम कल्याण सिंह के नाम पर किया गया है। बहुत शीघ्र ही उनकी भव्य प्रतिमा स्थापित की जाएगी।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जब कोई आपराधिक मानसिकता के साथ काम करता है तो वह सामाजिक ताने बाने को छिन्न भिन्न करता है। 2017 के पहले की सरकारों में उत्तर प्रदेश ने देखा है। समाज का प्रत्येक व्यक्ति तबाह होता था। 2017 में बिगड़ी हुई व्यवस्था मिली थी। लोग पूछते थे कि कैसे होगा ? हम कहते थे स्वर्गीय बाबू जी ने यहां सरकार चलाकर नजीर पेश की है। उन्हीं के बताए रास्ते में हम भी कार्य करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी के मार्गदर्शन में हमारी सरकार ने उसे पूरा किया।


मुख्यमंत्री ने कहा कि जो कार्य अब हो रहा है, वह पहले की सरकारों में भी हो सकता था। कोरोना काल के दौरान केवल हमारी सरकार और उसके अलावा भाजपा और आरएसएस जैसे संगठन ही काम कर रहे थे। विपक्षी दल कहां सो गये थे। यह सभी लोग आइसोलेशन में चले गये थे। उत्तर प्रदेश की जनता 2022 के विधानसभा चुनाव में भी आइसोलेशन में भेज देगी। इसकी व्यवस्था होनी चाहिए। सपा और बसपा को इसी प्रदेश ने सरकार चलाने, सेवा करने का अवसर दिया था। कोरोना काल में यह हाथ खड़ा कर लिये थे। दूसरे दिल्ली वाले हैं। उन्होंने कोरोना काल में यूपी वालों को भगा दिया था। आज जब चुनाव आ रहा है तो यूपी वाले याद आ रहे हैं। यह फ्री देंगे, वह फ्री देंगे, की बात कर रहे हैं। पहले भगवान राम को स्वीकारने को तैयार नहीं थे। उनके अस्तित्व पर ही सवाल खड़ा कर रहे थे। आज वह भगवान राम का दर्शन करने के लिए अयोध्या जा रहे हैं। अच्छी बात है। भगवान राम की शरण में आना ही होगा। विपक्षी दलों का कोई भी नेता नहीं बचा होगा, जिसने स्वर्गीय बाबू जी (कल्याण सिंह) को कोसा नहीं है।


मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि पहले की सरकारों में सरकारी नौकरी को गिरवी समझा जाता था। हमारी सरकार में पारदर्शी व्यवस्था के तहत नौकरी मिल रही है। साढ़े चार लाख से अधिक युवाओं को नौकरी दी गयी है। पहले की सोच व्यक्तिगत थी, अपने परिवार तक थी। आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पूरे देश को अपना परिवार मानकर योजनाएं लाते हैं। पहले इफ्तार की पार्टी देने के लिए सरकारी दफ्तरों में होड़ लग जाती थी। होली, दिवाली, दशहरा जैसे पर्व आने पर कर्फ्यू लग जाता था। पहले के लोग हमें त्योहार नहीं मनाने देना चाहते थे। आज हम खुशी पूर्वक पर्व मना रहे हैं।


योगी ने कहा कि सपा का विज्ञापन निकला था। मै आ रहा हूं। इसके बाद उक्त जिले में अपहरण हो गया। सपा के आने का मतलब यही है कि अपहरण, भ्रष्टाचार, गुण्डागर्दी का बढ़ जाना। 2012 में सपा की सरकार आने के साथ ही आतंकियों पर दर्ज मुकदमे वापस लेने का काम किया गया। इसके उपरांत एक के बाद एक घटनाओं को उन लोगों ने अंजाम देना शुरू किया। 2013 में पश्चिम उत्तर प्रदेश दंगों की आग में जल रहा था। लोग पलायन करने को मजबूर थे। उनकी मंशा को हमें समझना होगा।


सभागार में बैठ लोगों की तरफ मुखातिब होकर योगी ने कहा कि आप लोगों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। मैंने इससे पहले इस सभागार को भरा हुआ नहीं देखा है। इस उत्साह को विधानसभा चुनाव तक बनाए रखना है। प्रदेश के लिए इन लोगों ने कुछ किया होता तो प्रदेश का युवा पलायन करने को मजबूर नहीं होता। इस मौके पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह, केन्द्रीय मंत्री बीएल वर्मा, योगी सरकार के मंत्री संदीप सिंह, लाखन सिंह राजपूत, सांसद राजवीर सिंह रज्जू भैया समेत लोधी समाज से जुड़े अन्य विधायक और नेता मौजूद रहे।






...

सुलतानपुर में युवक की पेड़ से लटकती मिली लाश

सुलतानपुर : जयसिंहपुर थाना क्षेत्र के सदरपुर गांव में मंगलवार को एक युवक की लाश घर से कुछ दूरी पर पेड़ से लटकती हुई मिली।


विकासखंड जयसिंहपुर कार्यालय के पीछे घर के बाहर मंगलवार को फरजान (22) की लाश एक पेड़ से लटकती हुई मिली है। सुबह जब लोगों ने देखा तो इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे मे लेकर जांच शुरू कर दी।


पुलिस के अनुसार यह हत्या है या आत्महत्या, इसकी गुत्थी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही सुलझ पाएगी। फिलहाल युवक की मौत से परिवार मे कोहराम मच गया है। 





...

मुजफ्फरनगर में बिना लाइसेंस वाली दवा की दुकान सील की गयी

मुजफ्फरनगर : उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले के एक गांव में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बिना लाइसेंस वाली दवा की एक दुकान को सील कर दिया है। एक अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी।


उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने सोमवार को शाहपुर पुलिस थाना क्षेत्र के तवली गांव स्थित दुकान से 50 हजार रुपये की दवा जब्त की।


औषधि निरीक्षक लव कुश प्रसाद ने कहा कि दुकान के मालिक वसीम को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसके खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।




...

चिकित्सा सुविधाओं के अभाव में भावी पीढ़ियों को अब नहीं तोड़ना पड़ेगा दम : योगी

सिद्धार्थनगर : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा ‘एक जनपद एक मेडिकल कालेज’ योजना के तहत सिद्धार्थनगर सहित नौ जिलों में नये मेडिकल कॉलेजों की शुरुआत को राज्य में चिकित्सा सेवाओं को उत्कृष्ट बनाने की क्रांति का आगाज बताते हुए कहा कि इस पहल के बाद राज्य में चिकित्सा सेवाओं के अभाव में भावी पीढ़ियों को दम नहीं तोड़ना पड़ेगा।

श्री योगी ने सोमवार को इस अवसर पर आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। जब दुनिया कोरोना से त्रस्त है और विश्व की बड़ी ताकतें असहाय दिख रही हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी नेतृत्व क्षमता का परिचय देकर दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को स्वदेशी वैक्सीन देकर सौ करोड़ लोगों को कोरोना से सुरक्षा प्रदान करने का कीर्तिमान स्थापित किया है। यह देश के लिये गर्व की बात है।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री मोदी ने सिद्धार्थनगर में रिमोट कंट्रोल द्वारा उत्तर प्रदेश के नौ जिलों में एक एक मेडिकल कालेज का उद्घाटन किया। इस अवसर पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया सहित अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार स्वास्थ्य सुरक्षा को प्रभावी ढंग से लागू करने की दूरगामी नीति बनाई गयी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नौ मेडिकल कॉलेजों की स्थापना इसी प्रयास का एक हिस्सा है। योगी ने कहा कि यह पहल उन लोगों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी जिन्हें बीते सात दशकों में स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में दम तोड़ना पड़ा था। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि अब लोगों को भरोसा होगा कि भावी पीढ़ियों को कभी स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में दम नहीं तोड़ना पड़ेगा। उन्होंने कहा, “मैं प्रधानमंत्री का इस पहल के लिये हृदय से स्वागत करता हूं।”

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में आजादी के समय तीन या चार मेडिकल कालेज थे। राज्य में 2016 तक महज 12 सरकारी मेडिकल कॉलेज बन पाये थे। मगर अब प्रधानमंत्री के सौजन्य से राज्य में 30 मेडिकल खुल रहे हैं। नौ मेडिकल कालेज इसी योजना का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि ‘एक जनपद एक मेडिकल कालेज’ का संकल्प इस योजना को आगे बढ़ायेगी।

...

उत्तर प्रदेश चुनाव: कांग्रेस ने 10 लाख रुपये तक का सरकारी इलाज मुफ्त कराने का वादा किया

लखनऊ :  कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अपने सात वादे सार्वजनिक करने के कुछ दिन बाद सोमवार को ऐलान किया कि राज्य में पार्टी की सरकार बनने पर लोगों का किसी भी बीमारी का 10 लाख रुपए तक का इलाज मुफ्त कराया जाएगा।


प्रियंका ने एक ट्वीट में कहा, "सस्ते व अच्छे इलाज के लिए घोषणापत्र समिति की सहमति से उप्र कांग्रेस ने निर्णय लिया है कि सरकार बनने पर, कोई भी हो बीमारी, मुफ्त होगा 10 लाख रूपये तक का इलाज सरकारी।"


उन्होंने कोविड-19 महामारी के दौरान और इस वक्त राज्य में जगह-जगह से आ रहीं बुखार फैलने की खबरों को लेकर सरकारी व्यवस्थाओं पर निशाना साधते हुए इसी ट्वीट में कहा "कोरोना काल में और अभी प्रदेश में फैले बुखार में सरकारी उपेक्षा के चलते उप्र की स्वास्थ्य व्यवस्था की जर्जर हालत सबने देखी।"


इससे पहले, कांग्रेस के सत्ता में आने पर छात्राओं को स्मार्टफोन और इलेक्ट्रिक स्कूटी देने का वादा किया गया था। पिछली 23 अक्टूबर को प्रियंका ने बाराबंकी जिले से प्रतिज्ञा यात्राओं को हरी झंडी दिखाई थी।


इस मौके पर पार्टी ने 20 लाख लोगों को नौकरी देने, बिजली का बिल आधा करने और कोविड-19 महामारी के दौरान वित्तीय संकट से गुजर रहे परिवारों को 25-25 हजार रुपए की सहायता देने का ऐलान किया था।


पार्टी प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में 40 प्रतिशत टिकट महिलाओं को देने की भी घोषणा कर चुकी है।








...

कोविड-19 से मृत लोगों के परिजन को आर्थिक सहायता देने का फैसला देर से लिया गया : मायावती

लखनऊ : बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने कोविड-19 से मारे गए लोगों के परिजन को आर्थिक सहायता देने के उत्तर प्रदेश सरकार के फैसले को बहुत देर से लिया गया निर्णय करार दिया।


मायावती ने सोमवार को ट्वीट किया, ''उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कोरोना वायरस के संक्रमण से मृत लोगों के परिवार को आर्थिक सहायता देने का फैसला बहुत देरी से लिया गया है, जो काफी पहले ही करना चाहिए था, लेकिन लोगों को अब यह मदद जल्द से जल्द मिल जानी चाहिए। बसपा की यह मांग है।''


गौरतलब है कि पिछले हफ्ते भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली राज्य सरकार ने कोविड-19 से मारे गए लोगों के परिजन को 50-50 हजार रुपए की सहायता राशि देने का ऐलान किया था। प्रदेश में कोविड-19 से अब तक 22,899 लोगों की मौत हो चुकी है।




...

केदारनाथ धाम ने ओढ़ी बर्फ की चादर

देहरादून : उत्तराखंड स्थित भगवान शिव के 11वें ज्योतिर्लिंग बाबा केदारनाथ धाम में सोमवार भोर से हो रही बर्फबारी ने स्वच्छ, धवल चादर सरीखा रूप ले लिया है। बर्फबारी से हवाई सेवा पर प्रभावित हुई है। राहत बल यहां लगातार बर्फ हटाने का काम कर रहे हैं। देवस्थानम बोर्ड के प्रवक्ता डा0 हरीश गौड़ ने आज यहां बताया कि रविवार शाम श्री केदारनाथ धाम में बारिश के बाद बर्फबारी शुरू हुई। इससे धाम हेतु हेलीकाप्टर सेवा प्रभावित हुई। उन्होंने बताया कि हेलीपैड एवं रास्ते से बर्फ हटाई जा रही है। बेहद सर्द मौसम के बादवजूद चार धाम यात्रा जारी है। श्री गौड़ ने बताया कि ऋषिकेश चारधाम बस टर्मिनल एवं हरिद्वार बस अड्डे से तीर्थयात्री चारधाम को लगातार प्रस्थान कर रहे हैं। ऋषिकेश में विभिन्न विभागों यथा- देवस्थानम बोर्ड एवं यात्रा प्रशासन संगठन सहित पुलिस, चिकित्सा- स्वास्थ्य, परिवहन, पर्यटन, नगर निगम, संयुक्त रोटेशन के हेल्प डेस्क यात्रियों की सहायता मार्गदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि श्री बदरीनाथ धाम, गंगोत्री और यमुनोत्री के लिये सड़क मार्ग सुचारू है। 






...

कांग्रेस ने असम के मुख्यमंत्री पर चुनाव आचार संहिता उल्लंघन का आरोप लगाया

गुवाहाटी : कांग्रेस ने रविवार को चुनाव आयोग के पास एक शिकायत दर्ज कराई, जिसमें दावा किया गया कि असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने 30 अक्टूबर को पांच विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले नई कल्याणकारी योजनाओं की घोषणा कर आचार संहिता का खुले तौर पर उल्लंघन किया है।


चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने रविवार को कहा कि वे आरोपों की जांच कर रहे हैं।


कांग्रेस के राज्य के मुख्य प्रवक्ता बोबीता शर्मा ने कहा कि राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी नितिन खाड़े को एक ज्ञापन सौंपा गया था और पार्टी के पास कई वीडियो सबूत हैं जो सरमा की नई घोषणाओं को दिखाते हैं।


कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भूपेन कुमार बोरा ने सीईओ को लिखे पत्र में कहा कि सरमा ने मरियानी के 40 चाय बागानों के लिए कई नई घोषणाएं की हैं, प्रत्येक बगीचे के लिए 1 करोड़ रुपये के पैकेज के साथ, इस प्रकार 40 करोड़ रुपये जुटाने का वादा किया है।


उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने प्रत्येक चाय बागान को जल जीवन मिशन में शामिल करने, बागानों में 10 नए हाई स्कूल, महिला चाय श्रमिकों के स्वयं सहायता समूहों को वित्तीय सहायता और चाय बागानों के आकस्मिक मजदूरों को मनरेगा योजना में शामिल करने का भी वादा किया।


शिकायत में कहा गया है कि सरमा ने थावरा विधानसभा सीट पर एक मेडिकल कॉलेज स्थापित करने और आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करते हुए निर्वाचन क्षेत्र में नदियों पर दो पुल बनाने की भी घोषणा की।


बोरा ने अपने पत्र में कहा, मुख्यमंत्री ने यह भी घोषणा की कि यदि कोई मौजूदा विपक्षी विधायक भाजपा में शामिल होता है तो वह अपने निर्वाचन क्षेत्र में 2,000 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाएं देंगे। यह भारत के संविधान के सिद्धांतों का एक चौंकाने वाला उल्लंघन है। हर विधायक, चाहे वह सत्ता में हो या विपक्ष में, अपना विकास कोष पाने का हकदार है।


गोसाईगांव, तामुलपुर, मरियानी, थौरा और भवानीपुर में 30 अक्टूबर को उपचुनाव होगा। ये सीटें इसलिए खाली हुईं, क्योंकि युनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के दो मौजूदा विधायकों का कोविड से निधन हो गया था, जबकि कांग्रेस के दो और ऑल इंडिया युनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के एक विधायक विधानसभा की सदस्यता छोड़ने के बाद सत्तारूढ़ भाजपा में शामिल हो गए थे।






...

तेजप्रताप ने लालू प्रसाद को उनके सरकारी आवास पर आने के लिए किया मजबूर

पटना : राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के आने के बाद उनके बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने रविवार रात पटना में सियासी ड्रामा शुरू किया।


वह अपने सरकारी आवास पर डेढ़ घंटे तक धरने पर बैठे रहे और लालू प्रसाद को कम से कम दो मिनट के लिए अपने आवास पर आने और आशीर्वाद देने के लिए मजबूर किया।


लालू प्रसाद अपनी पत्नी राबड़ी देवी के साथ आखिरकार उनकी मांग को पूरा करने के लिए तेज प्रताप यादव के आवास पर गए।


लालू प्रसाद के घर पहुंचने के बाद तेज प्रताप ने उनके पैर धोए और अपने पिता का आशीर्वाद लिया।


राबड़ी देवी के 10 सर्कुलर रोड आवास के गेट पर सारा ड्रामा शुरू हुआ।


लालू प्रसाद का काफिला 10 सर्कुलर रोड स्थित आवास में गया।


तेजप्रताप यादव जब आवास में प्रवास करने की कोशिश कर रहे थे तो उन्हें नहीं जाने दिया गया। वह तुरंत मीडियाकर्मियों के पास गए और आरोप लगाया कि जगदानंद सिंह, सुनील सिंह, संजय यादव जैसे नेताओं ने उन्हें आवास में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी। उन्होंने कहा कि उनके पास आरएसएस की विचारधारा है और पहले भी वो लालू प्रसाद को बंदी बनाने के लिए जिम्मेदार रहे हैं।


वह सीधे अपने सरकारी आवास पर गए और लालू प्रसाद और राबड़ी देवी के आने तक धरने पर बैठे रहे।


लालू प्रसाद वहां करीब 10 मिनट रुके और राबड़ी देवी के घर लौट गए।


तेज प्रताप ने कहा, मैंने लालू प्रसाद के उनके आवास पर आने के बाद आधी लड़ाई जीत ली है। यह उन लोगों के लिए एक जोरदार थप्पड़ है जिन्होंने दिल्ली में लालू प्रसाद को बंदी बनाया था। मैं राजद से तब तक दूर रहूंगा जब तक जगदानंद सिंह जैसे नेता पार्टी से बाहर नहीं निकलेंगे। 








...

कर्नाटक में पहली से पांचवीं कक्षा के छात्रों के लिए स्कूल फिर से खुले

बेंगलुरु :  कर्नाटक में कोविड-19 से संबंधित एहतियात और दिशा निर्देशों का सख्ती से पालन करते हुए सोमवार से पहली से पांचवीं कक्षा के छात्रों के लिए स्कूल फिर से खुल गए।


आधिकारिक सूत्रों ने बताया, हालांकि शहर में तथा राज्य के विभिन्न स्थानों पर कई निजी स्कूलों ने दीपावली के बाद छात्रों के लिए स्कूल फिर से खोलने का फैसला किया है। कई स्कूलों ने छात्रों का स्वागत करने के लिए परिसरों और कक्षाओं को सजाकर विशेष इंतजाम किए।


चौथी कक्षा के एक छात्र ने खुशी जाहिर करते हुए कहा, ''मुझे स्कूल वापस आकर खुशी हो रही है। मैं अपने दोस्तों को याद करता था क्योंकि मैं घर से बमुश्किल बाहर निकलता था और स्कूल भी नहीं जा पाता था। तब से मैं शिक्षकों को मोबाइल या लैपटॉप पर पढ़ाते हुए देखता था लेकिन अब मैं उन्हें आमने-सामने देख सकता हूं।''


एक शिक्षक ने कहा कि स्कूलों ने सरकार द्वारा जारी मानक संचालन प्रक्रिया का पालन करते हुए सभी आवश्यक बंदोबस्त किए हैं और उन्हें फिर से छात्रों को स्कूल में देखकर खुशी हुई।


कोरोना वायरस के मामले घटने पर कर्नाटक सरकार ने कोविड-19 तकनीकी सलाहकार समिति से विचार विमर्श कर 18 अक्टूबर को पहली से पांचवीं कक्षा के छात्रों के लिए 25 अक्टूबर से फिर से स्कूलों को खोलने का फैसला किया था।


स्कूल आने के लिए अभिभावकों से सहमति पत्र लाना आवश्यक है। सरकार ने प्रवेश द्वार पर कोविड-19 के लक्षणों की जांच, कक्षाओं में 50 प्रतिशत छात्रों की उपस्थिति, सैनिटाइजर की व्यवस्था, कम से कम एक मीटर की दूरी, खासतौर से स्कूल में प्रवेश करने और बाहर जाने पर कोई भीड़भाड़ नहीं तथा कक्षाओं में रोगाणुनाशकों का छिड़काव करने जैसे कई नियम बनाए हैं।


सरकार ने कहा था कि कोविड-19 रोधी टीके की दोनों खुराक ले चुके शिक्षकों और कर्मियों को ही कक्षाओं में आने की अनुमति दी जाएगी। प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा मंत्री बी सी नागेश ने हाल में कहा था कि पहले हफ्ते एक दिन में केवल आधे दिन ही कक्षाएं होंगी और उन्होंने अभिभावकों से बिना किसी डर के बच्चों को स्कूल भेजने की अपील की थी।


सरकार ने छठी से आठवीं कक्षाओं के छात्रों के लिए छह सितंबर और नौवीं और 12वीं कक्षाओं के छात्रों के लिए 23 अगस्त से स्कूल फिर से खोल दिए थे।

...

पर्यटन का सुनहरा त्रिकोण है उड़ीसा में

उड़ीसा में पर्यटन की दृष्टि से सबसे महत्वपूर्ण स्थल हैं भुवनेश्वर, पुरी और कोणार्क। इन्हीं जगहों के लिए यहां सबसे अधिक पर्यटक आते हैं और ये तीनों जगहें एक-दूसरे से बमुश्किल 65 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। इसे उड़ीसा में पर्यटन का सुनहला त्रिकोण कहा जा सकता है। यहां स्थित पवित्र मंदिरों और सागर की हलचलों की एक झलक पाने के लिए ही दूर-दूर से लोग आते हैं। उड़ीसा की राजधानी होने से भुवनेश्वर देश के सभी प्रमुख शहरों से हवाई, सड़क व रेल तीनों मार्गो से जुड़ा है और हर मार्ग पर नियमित सेवाएं भी हैं। ठहरने के लिए यहां अच्छे होटल तो हैं ही, चाहें तो आप उड़ीसा पर्यटन विकास निगम के पंथ निवास में भी ठहर सकते हैं। यहां आप भव्य मंदिर, पहाड़ काटकर बनाई गई गुफाएं, प्राणि उद्यान व प्लांट रिसोर्स सेंटर देख सकते हैं। उड़ीसा के अतीत को करीब से देखना चाहें तो पुरी या कोणार्क भी जा सकते हैं।


भुवनेश्वर: साक्षी इतिहास का


उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर इतिहास की कई निर्णायक घटनाओं की साक्षी रही है। 261 ई.पू. में कलिंग युद्ध व ईस्वी सदी के शुरू में चेदि शासक खारावेला के आने तक कई ऐतिहासिक घटनाओं का साक्षी रहा है यह। ऐतिहासिक स्मारक तो यहां बेशुमार हैं ही, मंदिर भी खूब हैं और इसीलिए इसे मंदिरों का शहर भी कहा जाता है। कुछ खास मंदिर ऐसे हैं जहां प्रायः यहां आने वाले सभी पर्यटक और श्रद्धालु जाते ही हैं।


लिंगराज मंदिर: यह यहां के सबसे महत्वपूर्ण मदिरों में एक है। 180 फुट ऊंचे शिखर वाला यह मंदिर पूरब में पुरातत्व व वास्तुशिल्प के सर्वोत्तम उदाहरणों में एक है। 520 फुट लंबाई व 465 फुट चैड़ाई वाले विस्तृत क्षेत्रफल में स्थित कई छोटे-छोटे मंदिरों के बीच इसकी गरिमामयी उपस्थिति अलग तरह का बोध देती है। 11वीं सदी में बने इन मंदिरों का निर्माण ययाति केसरी और उनके उत्तराधिकारियों ने करवाया था।


मुक्तेश्वर मंदिर: 34 फुट ऊंचाई वाले इस मंदिर की गिनती भारत के सर्वाधिक सुंदर मंदिरों में की जाती है। 10वीं-11वीं सदी में बने इस मंदिर का तोरण बहुत सुंदर है। इसमें आकर्षण के बड़े कारण आठ व दस भुजाओं वाले नटराज हैं।


राजारानी मंदिर: 11वीं सदी में बना राजारानी मंदिर कलात्मक वैभव के लिए प्रसिद्ध है। इसमें किसी देवता की प्रतिष्ठा नहीं है, पर स्थापत्य की दुर्लभ खासियतें देखी जा सकती हैं। यह इसलिए भी अनूठा है कि यहां नटराज के स्त्री स्वरूप को दर्शाया गया है। यहां कई और दर्शनीय मंदिर भी हैं। इनमें छठवीं से 15वीं सदी के बीच बने शिशिरेश्वर, शत्रुघ्नेश्वर, वैताल, परशुरामेश्वर, स्वर्णजलेश्वर, ब्रह्मेश्वर, अनंत वासुदेव, केदारेश्वर, भास्करेश्वर व मेघेश्वर प्रमुख हैं।


खंडगिरि व उदयगिरि: खंडगिरि व उदयगिरि के जुड़वां पहाड़ों को काटकर बनाई गई गुफाएं भी यहां की आकर्षक चीजों में हैं। दूसरी सदी ई.पू. में बनी ये गुफाएं जैन मठ रही हैं। इनमें दुमंजिली रानी गुंफा खास तौर से दर्शनीय है। इसमें बहुत सुंदर आकृतियां उकेरी गई हैं। हाथीगुंफा में मौजूद शिलालेख चेदि शासक खारावेला के शासनकाल पर प्रकाश डालती है।


नंदन कानन: करीब 50 हेक्टेयर क्षेत्रफल में फैला यह प्राणि उद्यान वन्य पशुओं और पक्षियों के लिए उपयुक्त अभयारण्य के रूप में बनाया गया है। शहर से सिर्फ आठ किलोमीटर दूर स्थित नंदन कानन में कई तरह के वन्य पशु, पक्षियां व सरीसृप हैं। यहां एक वानस्पतिक उद्यान और झील भी है। दुर्लभ सफेद बाघ यहां देखे जा सकते हैं। यहां झील में बोटिंग करने या रोपवे कार में बैठकर पशुओं को विचरते देखने का लुत्फ लेने के लिए प्रतिदिन हजारों लोग आते हैं।


रीजनल प्लांट रिसोर्स सेंटर: पौध संरक्षण के इस केंद्र में गुलाब की कई प्रजातियां हैं। भारत में गुलाब की अधिकतम किस्मों के संरक्षण का यह सबसे बड़ा केंद्र है। एशिया में कैक्टस का सबसे बड़ा संग्रह भी यहीं है। पौधों व पर्यावरण में रुचि रखने वालों के लिए यह अनिवार्य जगह है।


धौलीः भुवनेश्वर से पुरी के मार्ग पर मात्र दस किलोमीटर दूर धौली भारतीय इतिहास की धारा को ही बदल देने वाले कलिंग युद्ध का साक्षी रहा है। यह युद्ध यहां 261 ई.पू. में हुआ था। इसके बाद ही सम्राट अशोक ने बौद्ध धर्म की दीक्षा ली थी। बौद्ध धर्म को विदेशों में ले जाने का श्रेय उन्हें ही जाता है। इस पहाड़ी पर जापान के सहयोग से एक शांति स्तूप भी बनाया गया है।


पुरी: बंगाल की खाड़ी के पूर्वी तट पर बसे इस शहर के हिस्से में दुनिया के सबसे सुंदर समुद्रतटों में से एक है। लाखों लोग हर साल यहां समुद्रतट का आनंद लेने ही आते हैं। भुवनेश्वर से मात्र 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित पुरी हिंदुओं के चार पवित्रतम तीर्थो में से एक है। भगवान जगन्नाथ का मंदिर यहीं है। बारहवीं सदी में निर्मित 192 फुट ऊंचे शिखर वाला यह मंदिर उडिया वास्तु शिल्प के सर्वोत्तम नमूनों में एक है। जुलाई के महीने में इस मंदिर से शुरू होने वाले रथयात्रा उत्सव में हर साल लाखों श्रद्धालु भाग लेते हैं। लाखों लोग मिलकर पारंपरिक रूप से सुसज्जित तीन रथों को खींचते हैं। इनमें एक रथ पर भगवान जगन्नाथ स्वयं सवार होते हैं, दूसरे पर उनके बड़े भाई बलभद्र और तीसरे पर बहन सुभद्रा बैठी होती हैं। रथों को जगन्नाथ मंदिर से खींच कर तीन किलोमीटर दूर गुडीचा मंदिर ले जाते हैं, जिसे उनकी मौसी का घर माना जाता है। दस दिन बाद उनकी वापसी यात्रा होती है।


जगन्नाथ मंदिर के अलावा यहां आकर्षण का बड़ा कारण समुद्रतट भी है। समुद्री रेत की कला में रुचि रखने वालों की भारी भीड़ यहां प्रायः देखी जाती है। समुद्र की लहर को देखने का भी अलग आनंद है। खरीदारी के शौकीनों के लिए भी यहां बहुत कुछ है। रघुराजपुर व पिपिली गांवों के लोकशिल्पकारों की बनाई कलाकृतियां और एप्लीक आर्ट के नमूने प्रायः सभी पर्यटक यादगार के तौर पर अपने साथ ले जाते हैं।


कोणार्क: सुप्रसिद्ध कला इतिहासकार चार्ल्स फैब्री की टिप्पणी है, अगर यूरोप के लोगों ने पहले कोणार्क के बारे में जाना होता और आगरा के ताजमहल के बारे में वे बाद में जानते तो निश्चित रूप से उनके मन में पहला स्थान कोणार्क का ही होता और ताजमहल का स्थान दूसरा होता। तेरहवीं सदी में बनाए गए इस मंदिर को पत्थरों पर उकेरी गई कविता कहना गलत नहीं होगा। कोणार्क भारतीय स्थापत्य की सर्वश्रेष्ठ उपलब्धियों में एक है। इसके मुख्य मंदिर का निर्माण भगवान सूर्य के रथ के रूप में किया गया है, जिसमें 12 पहिए हैं। दस फुट ऊंचे इस रथ को सात घोड़े खींचते हैं। वस्तुतः यह ऋग्वेद की एक ऋचा का मूर्त रूप है। इसके पुराने मुख्य मंदिर का एक भाग मुखशाला अभी भी अपने पुराने रूप में मौजूद है। विश्व सांस्कृतिक धरोहर के रूप में मान्य इस मंदिर का निर्माण 13वीं सदी में नरसिंह देव ने करवाया था। बाद में लंबे अरसे तक यह उपेक्षा का शिकार रहा। 


ब्रिटिश शासन के दौरान यहां घूमने आई एक गवर्नर की पत्नी ने गवर्नर से इसके संरक्षण का अनुरोध किया। इसके बाद मंदिर के संरक्षण का कार्य शुरू हुआ। वैज्ञानिक रूप से इसके संरक्षण का कार्य सन 1901 में शुरू हुआ। कोणार्क का सूर्यमंदिर इस अर्थ में भी अनूठा है कि शिलाओं पर कल्पना को मूर्त रूप देने का उत्कर्ष यहीं देखा जा सकता है। इससे अलग एक निर्माण है नटमंदिर। इस वर्गाकार भवन की छत पिरामिड जैसी है, जिस पर तमाम अनूठी कलाकृतियां बनी हैं। 865 फुट लंबे और 540 फुट चैड़े क्षेत्रफल में बने इस भवन के साथ कुछ छोटे-छोटे और भी भवन हैं। इसके तीन तरफ गेट हैं और यह कुल मिलाकर ओडिसी नृत्य का विहंगम दृश्य प्रस्तुत करता है। इसकी दीवारों पर ओडिसी नृत्य की मुद्राओं का गरिमापूर्ण अंकन किया गया है। नर्तकों के साथ संगीतज्ञ भी वाद्ययंत्रों के साथ दर्शाए गए हैं।


मंदिर से जुड़ा एक संग्रहालय भी है, जिसमें तमाम मंदिरों के अवशेषों को अच्छी तरह संभाल कर रखा गया है। चंद्रभागा बीच के नाम से मशहूर कोणार्क का समुद्रतट भी बहुत सुंदर है। शाम के समय यहां से मंदिर को देखना एक अलग ही अनुभव होता है। पर्यटन विभाग की ओर से हर साल 1 से 5 दिसंबर तक कोणार्क उत्सव का आयोजन किया जाता है। सूर्य मंदिर के पृष्ठभाग में होने वाले शास्त्रीय नृत्य देख कर ऐसा लगता है जैसे मंदिर की दीवारों पर उकेरी गई छवियां मुक्ताकाशी मंच पर नृत्य करने लगी हों। मंदिर से मात्र दो किलोमीटर की दूरी पर मौजूद चंद्रभागा समुद्रतट देश के सुंदरतम समुद्रतटों में से एक है। समुद्र के किनारे-किनारे बनी सड़क पर यहां से पुरी तक जाना भी अपने-आपमें एक अनूठा अनुभव हो सकता है।



...

आगरा के एसएसपी और अयोध्या के डीएम का हुआ तबादला

लखनऊ : योगी आदित्यनाथ सरकार ने शनिवार देर रात राज्य में भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के 10 अधिकारियों का तबादला कर दिया।


जिन लोगों को स्थानांतरित किया गया है, उनमें प्रमुख हैं अयोध्या के जिला मजिस्ट्रेट अनुज कुमार झा, जिन्हें प्रतीक्षा में रखा गया है, जबकि उनकी जगह आईएएस नीतीश कुमार को लिया गया है।


अनुज झा का निष्कासन होना आश्चर्य की बात है क्योंकि उन्हें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पसंदीदा अधिकारी माना जाता था।


एक और महत्वपूर्ण तबादला एसएसपी आगरा मुनिराज जी का है, जिनका शनिवार रात लखनऊ में राज्य चुनाव प्रकोष्ठ में तबादला कर दिया गया।


मुनिराज जी का स्थानांतरण दलित सफाई कर्मचारी अरुण वाल्मीकि की कथित हिरासत में मौत के तीन दिन बाद हुआ है, जिस पर पुलिस स्ट्रांग रूम से 25 लाख रुपये चोरी करने का आरोप था और कथित तौर पर पुलिस पूछताछ के बाद उसकी मौत हो गई थी।


मंगलवार की रात वाल्मीकि की मौत के बाद, पुलिस चौकी प्रभारी और अपराध शाखा के एक निरीक्षक सहित पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया और आईपीसी की धारा 302 (हत्या) के तहत अज्ञात पुलिस के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई।


मुनिराज की जगह आजमगढ़ के पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह को नियुक्त किया गया है।


इस बीच राज्य सरकार ने कई अन्य आईएएस और आईपीएस अधिकारियों का तबादला कर दिया है।


सत्येंद्र कुमार का तबादला महोबा से महाराजगंज किया गया है और अब तक विशेष सचिव की नियुक्ति के लिए संजय कुमार सिंह को फरु र्खाबाद का नया जिलाधिकारी बनाया गया है। फरुर्खाबाद के जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह को भी इसी पद पर बरेली स्थानांतरित किया गया है।


जिलाधिकारी महराजगंज उज्जवल कुमार को भी प्रतीक्षा सूची में रखा गया है। रवींद्र कुमार को बुलंदशहर से हटाकर झांसी का नया जिला मजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया है।


चंद्र प्रकाश सिंह को कासगंज से बुलंदशहर नया जिलाधिकारी बनाया गया है।


हर्षिता माथुर को बुलंदशहर विकास प्राधिकरण से कासगंज भेजा गया है जबकि मनोज कुमार, विशेष सचिव पर्यटन को महोबा का नया जिलाधिकारी बनाया गया है।


नेहा प्रकाश को जिलाधिकारी, श्रावस्ती बनाया गया है और टी के शिबू को श्रावस्ती से हटाकर सोनभद्र नया जिलाधिकारी बनाया गया है।

...

आशीष मिश्रा को डेंगू, अस्पताल में भर्ती

लखीमपुर खीरी (यूपी) :  केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे और लखीमपुर खीरी हिंसा मामले के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा कथित तौर पर डेंगू से पीड़ित हैं और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


सूत्रों के मुताबिक आशीष की तबीयत बिगड़ गई और उन्हें जेल से अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।


शुक्रवार को पुलिस रिमांड पर लिए गए आशीष ने बुखार की शिकायत की थी और शनिवार को उनकी ब्लड रिपोर्ट में डेंगू से पीड़ित होने की पुष्टि हुई थी।


शनिवार रात 10 बजे हालत बिगड़ने पर उन्हें जेल अस्पताल में भर्ती कराया गया था।


आशीष मिश्रा को लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में किसानों का विरोध करने पर कथित तौर पर अपनी कार चलाने के बाद भड़की हिंसा के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था।


लखीमपुर खीरी में एक एसयूवी ने चार किसानों को कुचल दिया था, जब केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे एक समूह ने यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की यात्रा के खिलाफ 3 अक्टूबर को प्रदर्शन किया था।


इस बीच, मामले के सिलसिले में शनिवार को तीन और लोगों को गिरफ्तार किया गया, जिससे गिरफ्तार लोगों की कुल संख्या 13 हो गई।

...

यूपी: किसानो पर मंत्री का बयान हुआ वायरल

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मंत्री आए दिन विवादों में घिरे रहते हैं। राज्य के मंत्री उपेंद्र तिवारी ने दावा किया था कि 95 प्रतिशत लोग ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी से अप्रभावित हैं, अब मंत्री मनोहर लाल उर्फ मुन्नू कोरी हैं जो लोगों को यह कहते हुए कैमरे में कैद हो गए हैं कि वोट देना हो तो दो, वर्ना ना दो।


यह घटना उस समय हुई जब मंत्री शनिवार को एक उर्वरक वितरण केंद्र पहुंचे और इंतजार कर रहे किसानों के साथ उनका झगड़ा हो गया। किसानों ने मंत्री से पूछा कि उन्हें खाद से वंचित क्यों किया जा रहा है।


मंत्री की फटकार का एक वीडियो क्लिप अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।


ललितपुर जिले में शुक्रवार की शाम लगातार दो दिन खाद के लिए कतार में लगने से एक किसान की मौत हो गयी थी।






...

गोरखपुर सीट के लिए बीजेपी ने योगी आदित्यनाथ को पन्ना प्रमुख नियुक्त किया

गोरखपुर : उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने गोरखपुर विधानसभा सीट के लिए गोरखनाथ क्षेत्र में बूथ संख्या 246 के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पन्ना प्रमुख नियुक्त किया है।


पन्ना प्रमुख एक पार्टी कार्यकर्ता/नेता हैं, जिन्हें एक निर्वाचन क्षेत्र में मतदाता सूची का एक पृष्ठ दिया जाता है और उनसे पृष्ठ में नामित सभी मतदाताओं से संपर्क करने की उम्मीद की जाती है।


पार्टी ने गोरखपुर शहर की शहरी और ग्रामीण (आंशिक) विधानसभा सीटों के 13,800 बूथों पर 13,100 पन्ना प्रमुखों की नियुक्ति की है।


गोरखपुर सदर विधानसभा सीट के बूथ संख्या 350 के लिए पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री और सांसद शिव प्रताप शुक्ला और विधायक डॉ राधा मोहन दास अग्रवाल को भी पन्ना प्रमुख नियुक्त किया गया है।


नगर भाजपा अध्यक्ष राजेश गुप्ता ने कहा, पार्टी पदाधिकारियों और सरकार में बैठे लोगों को भी पन्ना प्रमुख बनाया गया है। इस प्रणाली का प्रयोग पहली बार गुजरात विधानसभा चुनाव में किया गया था और परिणाम अच्छे रहे थे। उसके बाद, पन्ना प्रमुख प्रणाली का उपयोग किया गया है। कई अन्य राज्यों में और वहां भी पार्टी को सफलता मिली।


पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा कि पन्ना प्रमुख के रूप में योगी आदित्यनाथ की नियुक्ति ने संकेत दिया कि भाजपा में हर कोई अनिवार्य रूप से एक पार्टी कार्यकर्ता है और वरिष्ठ पद पर रहने का मतलब यह नहीं है कि वह अन्य कार्यकर्ताओं से ऊपर था।



...

शाहजहांपुर में मामूली विवाद में व्यवसायी की गोली मारकर हत्या

शाहजहांपुर : जिले में एक ढाबे पर मामूली कहासुनी के बाद एक व्यक्ति ने सीमेंट व्यवसायी की कथित रूप से गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को हत्या में प्रयुक्त तमंचे के साथ गिरफ्तार कर लिया है।


पुलिस अधीक्षक (नगर) संजय कुमार ने रविवार को बताया कि थाना कोतवाली अंतर्गत केरूगंज स्थित एक ढाबे पर शनिवार देर रात मनीष कुमार (35) अपने दोस्त के साथ गए और ढाबे के बाहर बैठकर खाना खा रहे थे। इसी बीच ढाबे के अंदर से दो व्यक्ति निकले जिनसे मनीष की मामूली कहासुनी हो गई।


उन्होंने बताया कि इसके बाद आरोपी रूबल यादव ने तमंचे से मनीष के गोली मार दी। इस घटना के बाद मनीष को मेडिकल कॉलेज ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।


उन्होंने बताया कि पुलिस ने रात में ही आरोपी रूबल यादव तथा मोहब्बत अली को गिरफ्तार कर लिया है और उनके पास से हत्या में प्रयुक्त तमंचा भी बरामद कर लिया है।





...

बेटे की माँगनी के लिए समान खरीदकर घर लौट रहे दंपति को बस ने कुचला, मौत के बाद लोगों ने किया हंगामा

फिरोजाबाद :  जिले में उस वक्त एक दर्दनाक हादसा हुआ, जब एक ऑटो से पति-पत्नी उतर रहे थे, इसी बीच उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की बस ने उन्हें ठोकर मार दी. इस हादसे में दोनों की मौके पर ही मौत हो गई. एक्सीडेंट के बाद लोगों ने हाइवे को जाम कर दिया. काफी देर तक चले हंगामे के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने लोगों को समझा-बुझाकर शांत किया. पुलिस ने गाड़ी को कब्जे में ले लिया है.


बताया जा रहा है कि दंपति अपने बेटे की मंगेतर की गोद भराई के लिए कुछ सामान खरीद कर ला रहे थे. इसी दौरान ये हादसा हो गया. ये घटना रामगढ़ थाना क्षेत्र के नगला बरी के पास हाइवे की है. इसी थाना क्षेत्र के हसमत नगर निवासी 55 साल के वकील पुत्र जमील खान अपनी पत्नी नसरीन बेगम के साथ बाजार से लौट रहे थे.


बताया जा रहा है कि वकील के बेटा राजा की कुछ दिन बाद गोदभराई है. उसी के लिए ये दंपति सामान खरीद कर ला रहे थे. जैसे ही दंपत्ति ऑटो से उतरे इसी दौरान हाथरस डिपो की एक अनियंत्रित रोडवेज बस ने उन्हें ठोकर मार दी. हादसे में दंपति को बस ने बुरी तरह से कुचल दिया. घटना से गुस्साए स्थानीय लोगों ने हंगामा कर दिया. मौके पर मौजूद लोगों ने दंपति को मेडिकल कॉलेज भेजा. जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. हाइवे पर हुए हादसे और जाम की जानकारी मिलते ही पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और जाम लगाने वाले लोगों को समझा-बुझाकर मामला शांत किया.


इस संबंध में एसपी सिटी मुकेश चंद्र मिश्रा का कहना है कि जिस बस में हादसा हुआ है उसे कब्जे में ले लिया गया है. इसके साथ आगे की कार्रवाई की जा रही है.





...

देवरिया में केशव प्रसाद मौर्य ने कहा 60 फीसदी वोट हमारा : केशव मौर्या

देवरिया : उत्तर प्रदेश में देवरिया के पथरदेवा में आज प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने सपा,बसपा और कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि 60 फीसदी वोट हमारा है तथा 2022 में एक बार भाजपा की प्रचंड बहुमत की सरकार बनेगी।


श्री मौर्य ने सपा,बसपा और कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि इनके राज में भ्रष्टाचार और अपराध बढ़ते रहे हैं।जबकि भाजपा के शासन काल में भ्रष्टाचार और अपराधों पर लगाम लगाकर सुशासन का राज कायम किया गया है। सरकार किसानों की दशा सुधारने के लिये काम कर रही है।उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन में किसान नहीं बल्कि सपा बसपा कांग्रेस के लोग हैं। उन्होंने कहा कि अगर देश में मोदी सरकार नहीं होती,तो प्रदेश में हम ऐसा विकास नहीं कर पाते।


श्री मौर्य ने कहा कि 2014 से जनता ने भाजपा की विजय यात्रा निकाल रही है। हमारी सरकार विकास को नया आयाम देने के लिए कटिबद्ध है तथा इसके साथ ही लोगों के जीवन स्तर को सुधारने का लक्ष्य है।उन्होंने जनता का आह्वान करते हुए कहा कि चुनाव आ गया है, विपक्षी गुमराह करने का प्रयास करेंगे।लेकिन प्रदेश की जनता गुमराह होने वाली नहीं है और वो एक बार फिर 2022 में भाजपा की सरकार बनायेगी।


उन्होंने दावा करते हुए कहा कि कम से कम 25 साल तक सपा-बसपा की सरकार वापस नहीं आने वाली। इस दौरान उन्होंने ने अफसरों को हिदायत देते हुए कहा कि अधिकारी एक बात ध्यान से सुन ले भाजपा के कार्यकर्ता जनहित की बातों को सुनने में कोई कोताही नहीं होनी चाहिए।नहीं तो ऐसे अधिकारियों को देखना हमें आता है। 






...

विमान सेवा की दिशा में तेजी से कदम बढ़ा रहा यूपी

कुशीनगर :  उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का लोकार्पण 20 अक्तूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। वाराणसी हवाई अड्डे के अधिकारियों की देखरेख में कुशीनगर एयरपोर्ट का उद्घाटन होगा। इसके लिए अधिकारियों की टीम शनिवार को वाराणसी से कुशीनगर के लिए रवाना हो गई।कुशीनगर एयरपोर्ट के शुभारंभ के बाद यूपी में यह तीसरा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट होगा। प्रदेश में अभी लखनऊ और वाराणसी में ही अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट है। नया एयरपोर्ट होने और प्रधानमंत्री मोदी के आगमन के दौरान सुरक्षा समेत अन्य बारीकियों को समझने वाले वाराणसी एयरपोर्ट के छह अधिकारियों को वाराणसी से कुशीनगर भेजा गया है। इस टीम में एटीसी (एयर ट्रैफिक कंट्रोल), संचार और तकनीकी अधिकारी शामिल हैं। 


एटीसी के सहायक महाप्रबंधक शक्ति शरण त्रिपाठी, विद्युत के वरिष्ठ प्रबंध उमेश चंद्र, संचार प्रबंधक रंजीत वर्मा , तकनीकी के प्रभारी सतीश शर्मा, एटीसी के सहायक प्रबंधक अनुपम चौधरी और एटीसी के कनिष्क कार्यपालक वैभव सिंह कुशीनगर एयरपोर्ट भेजा गया है। उद्घाटन कार्य पूरा हो जाने के साथ ही महत्वपूर्ण जानकारियों को कुशीनगर एयरपोर्ट पर तैनात अधिकारियों से शेयर करने के बाद वे वाराणसी वापस लौट आएंगे। 


वाराणसी एयरपोर्ट निदेशक अर्यमा सन्याल ने बताया कि कुशीनगर एयरपोर्ट बनकर तैयार है। एयरपोर्ट के सुचारू रूप से संचालन के लिए हम हर संभव मदद करेंगे। बताया कि वाराणसी से कुशीनगर एयरपोर्ट के रनवे के लिए फॉलो मी कार भी भेजा गया है।

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के अधिकारियों ने बताया कि नवनिर्मित कुशीनगर एयरपोर्ट के रनवे की लंबाई 3200 मीटर है। यह यूपी के अन्य हवाई अड्डों से अधिक है। वाराणसी एयरपोर्ट के रनवे की लंबाई 2746 मीटर और लखनऊ में रनवे की लंबाई 2744 मीटर है। कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर एक साथ चार बड़े विमान खड़े हो सकेंगे। वहीं अगर वाराणसी एयरपोर्ट की बात की जाए तो एक साथ छोटे-बड़े मिलाकर 11 विमान खड़े हो सकते हैं।


विमान सेवा की दिशा में तेजी से कदम बढ़ा रहे उत्तर प्रदेश में अभी आठ एयरपोर्ट प्रयोग में लाए जा रहे हैं। लखनऊ और वाराणसी के एयरपोर्ट अंतरराष्ट्रीय हैं। अयोध्या में श्रीराम अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट और नोएडा के जेवर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर भी काम चल रहा है। इन हवाईअड्डों के अलावा उड़ान योजना के तहत आजमगढ़ के मंदुरी और सोनभद्र के म्योरपुर सहित अन्य स्थानों पर भी हवाई पट्टी निर्माण का कार्य तेजी से चल रहा है।

पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों के मुताबिक, कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के शुभारंभ के बाद पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। वाराणसी आने वाले बौद्ध पर्यटक सारनाथ में दर्शन के बाद कुशीनगर भी जाना चाहते हैं। लेकिन विमान सेवा ना होने के कारण कुशीनगर जाने में पर्यटकों को समस्याएं होती थी।अब एयरपोर्ट शुरू जाने से श्रीलंका और अन्य देशों से बौद्ध तीर्थ स्थलों पर दर्शन के लिए आने वाले पर्यटक वाराणसी के साथ ही कुशीनगर भी जाएंगे। संभावना यह भी जताई जा रही है कि आने वाले समय में कुशीनगर से वाराणसी और कुशीनगर से लखनऊ के बीच भी सीधी विमान सेवाएं शुरू होंगी। 






...

बारिश ने फुलाई किसानों की सांसें, धान फसल को हुआ नुकसान

ग्रेटर नोएडा : धान की फसल करने वाले किसानों को इस बार अच्छे उत्पादन की उम्मीद थी, लेकिन रविवार को बारिश ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। तेज हवा के साथ हुई बारिश से धान की फसल खेतों में गिर गई है। अगेती फसल की खेती करने वाले किसानों को खासा नुकसान हुआ है। दरअसल 15 अक्टूबर से धान की कटाई का काम शुरू हो जाता है। हालांकि अगेती फसलों में किसान अक्टूबर के पहले सप्ताह में ही कटाई शुरू कर देते हैं। जिले में धान की फसल बड़े स्तर पर की जाती है। इन दिनों किसान धान की कटाई के कार्य में जुटे थे। किसानों को उम्मीद थी कि इस बार धान का अच्छा उत्पादन होगा, लेकिन बारिश उनके लिए आफत बनकर बरसी। शहर में जगह-जगह जलभराव से ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण व जिला प्रशासन के इंतजामों की एक बार फिर पोल खोलकर रख दी। शहर में ग्रामीण अंचलों से लेकर सेक्टर व सोसायटी के समीप शहरवासियों को जलभराव का सामना करना पड़ा। सुबह से ही काले बादल छाए रहे। सुबह से ही तेज हवा के साथ बारिश शुरू हो गई। देर शाम को ही काले बादल छाए रहे। करीब एक बजे काले बादल ऐसे छाए कि दिन में ही अंधेरा छा गया। कृषि विभाग 70 से 80 एमएम बारिश होने का दावा कर रहा है। 


तेज हवा के साथ बारिश में कई स्थानों पर पेड़ व बिजली, स्ट्रीट लाइट के खंभे गिर गए। मुख्य सड़कों पर पेड़ गिरने के बाद वाहन चालकों को आवागमन में भी परेशानियों का सामना करना पड़ा। वहीं बिजली आपूर्ति भी प्रभावित हुई। 130 मीटर, सूरजपुर, के साथ -साथ ग्रेटर नोएडा वेस्ट में कई स्थानों पर पेड़ गिरने की सूचना है। तेज हवा ने शहर में कई स्थानों पर पेड़ों को धराशायी कर दिया। ग्रेटर नोएडा वेस्ट के साथ-साथ जेवर, बिलासपुर व दनकौर व दादरी के गांवों में करीब छह से सात घंटे बिजली आपूर्ति बाधित रही।


जेवर क्षेत्र में किसानों को धान की फसल को खासा नुकसान हुआ है। गांव चौरोली निवासी किसान प्रदीप कुमार ने बताया कि खेतों में धान की कटाई चल रही है। कई बीघे फसल कट चुकी है। धान के काले पड़ने की संभावना है। किसान वीर नारायण ने बताया कि खेतों में कई कई फीट पानी भर गया है। धान फसल को भारी नुकसान की आशंका है। नगर पंचायत क्षेत्र में भी सफाई व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी है। नालियां जाम होने से जगह-जगह रास्तों में पानी भर गया है। बारिश बंद हो जाने के बाद भी शहर की सड़कें कई घंटों बाद तक जलमग्न रही। 





...

पेचकस गिरोह के बदमाशों पर कहर बनकर टूटी कमिश्नरेट पुलिस

ग्रेटर नोएडा :  ग्रेटर नोएडा में आतंक का पर्याय बन चुके पेचकस गिरोह पर गौतमबुद्ध नगर कमिश्नरेट पुलिस कहर बनकर टूटी है। बीटा दो कोतवाली क्षेत्र के चूहड़पुर अंडरपास के समीप हुई मुठभेड़ में गिरोह के चार बदमाशों के पैर में गोली लगी है। गंभीर स्थिति को देखते हुए घायल बदमाशों को जिला अस्पताल से हायर सेंटर सफदरजंग दिल्ली के लिए रेफर कर दिया गया है। बदमाशों के कब्जे से लूट के एक लाख रुपये, घटना में इस्तेमाल होने वाली स्विफ्ट कार, लूट के एटीएम कार्ड, मोबाइल, पेचकस, हथौड़ी समेत कई अन्य औजार बरामद किए गए है। बदमाशों को पकड़ने वाली टीम को पुलिस आयुक्त आलोक सिंह ने 50 हजार का इनाम दिया है। पिछले छह महीने से यह गिरोह पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ था।


 अपर पुलिस आयुक्त लव कुमार ने बताया कि पेचकस गिरोह को पकड़ने के लिए एडिशनल डीसीपी विशाल पांडेय व बीटा दो कोतवाली प्रभारी अनिल राजपूत की टीम ने रविवार सुबह साढ़े आठ बजे के करीब परीचौक के समीप घेराबंदी की। पुलिस को देखकर बदमाश फायरिग करते हुए भागे। पुलिस ने पीछा किया। चूहड़पुर अंडरपास के समीप जवाबी कार्रवाई में चार बदमाशों के पैर में गोली लगी। बदमाशों की पहचान आनंद वर्मा निवासी रेवाड़ी हरियाणा, शिव कुमार बुलंदशहर, बबलू वर्मा मायचा ग्रेटर नोएडा व दीपक के रूप में हुई है। पूछताछ में पता चला कि बदमाश सुबह आठ से 11 के बीच ग्रेटर नोएडा क्षेत्र में राहगीरों को लिफ्ट देकर कार में बैठाते थे। राहगीर से लूटपाट करते थे और एटीएम का पिन पूछकर रुपये निकलवाते थे। पिन नहीं बताने पर बदमाश पेचकस मारकर घायल कर देते थे।


एसीपी महेंद्र सिंह देव ने बताया कि बदमाश 2016 में भी ऐसी घटनाओं को अंजाम देने के मामले में दूसरे जनपद से जेल जा चुके है। पकड़े गए बदमाश दीपक व आनंद पर 17, शिवकुमार पर 12 व बबलू पर कुल आठ आपराधिक मुकदमे दर्ज है। कई ऐसे भी मामले है जिसमें पीड़ितों ने पुलिस से शिकायत नहीं की। पुलिस ऐसी पीड़ितों को तलाश रही है।


बदमाशों ने बीते सात अक्टूबर को रेयान गोलचक्कर के समीप से फैक्ट्री के जीएम मृगेंद्र कटियार का अपहरण कर उनसे लूटपाट की थी। एटीएम से रुपये निकलवाए थे। विरोध करने पर उन पर पेचकस से नौ वार किए थे। घटना के बाद पीड़ित इतना डर गए थे कि वह कुछ समय के लिए सदमे में चले गए थे। इंटरनेट मीडिया पर हुई सराहना


पेचकस गिरोह के लंबे समय से चुनौती बने होने की वजह से पुलिस को आलोचना झेलनी पड़ रही थी। रविवार सुबह बदमाशों के पकड़े जाने के लिए इंटरनेट मीडिया पर ग्रेटर नोएडा वेस्ट की कई अलग-अलग संस्थाओं व शहर के लोगों ने बीटा दो कोतवाली पुलिस की सराहना की है।



...

केरल में भारी बारिश : प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री विजयन से बातचीत की

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केरल में भारी बारिश और भूस्खलन के मद्देनजर स्थिति को लेकर रविवार को राज्य के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन से बातचीत की।


इस बीच, मध्य केरल के दो जिलों के पहाड़ी इलाकों में भारी बारिश के कारण आयी भीषण बाढ़ और भूस्खलन से मरने वालों की संख्या बढ़कर 18 हो गयी है।


प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, "केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन से बातचीत की और केरल में भारी बारिश तथा भूस्खलन के मद्देनजर स्थिति पर विचार-विमर्श किया। अधिकारी घायलों और प्रभावितों की सहायता के लिए काम कर रहे हैं।"


मोदी ने कहा, ‘‘मैं सभी के सुरक्षित रहने और उनकी भलाई के लिए प्रार्थना करता हूं।" उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, "यह दुखद है कि केरल में भारी बारिश और भूस्खलन के कारण कुछ लोगों की मृत्यु हो गयी। मेरी संवदेनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं।’’


केरल के राजस्व मंत्री के राजन ने कहा कि बचावकर्मियों ने शनिवार को इडुक्की और कोट्टयम जिलों में विभिन्न स्थानों पर हुए भूस्खलन के मलबे से 15 शव बरामद किए हैं।


रविवार को तीन और शव मिलने से मृतकों की संख्या बढ़कर 18 हो गयी है।



...

एम्स छात्र संघ ने रामलीला मंचन पर सोशल मीडिया पर हंगामा होने पर माफी मांगी

नयी दिल्ली : अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) छात्र संघ ने संस्थान में कुछ छात्रों द्वारा किये गये रामलीला मंचन की एक वीडियो क्लिप की सोशल मीडिया पर व्यापक स्तर पर निंदा होने के बाद रविवार को माफी मांगी। इन छात्रों पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप है।


एमबीबीएस प्रथम वर्ष के छात्रों द्वारा एम्स परिसर में छात्रावास के पास दशहरा के मौके पर रामलीला मंचन किया गया था और इन पर रामायण के कुछ पात्रों का मजाक उड़ाने का आरोप लगाया गया है।


इसे लेकर कई लोगों ने नाराजगी जाहिर की। कई लोगों ने आरोप लगाया कि यह धार्मिक भावनाओं का अपमान है और इस मामले में कार्रवाई की मांग की।


एम्स छात्र संघ ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘एम्स के कुछ छात्रों द्वारा की गई रामलीला मंचन की एक वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। छात्रों की ओर से, हम इस मंचन के लिए क्षमा चाहते हैं, जिसका उद्देश्य किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं था। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि भविष्य में ऐसी कोई गतिविधि न हो।’’


एक अधिकारी ने कहा कि इस मामले को संज्ञान में लेते हुए एम्स प्रशासन ने छात्रों के साथ चर्चा की। उन्होंने कहा, ‘‘इस मुद्दे की संवेदनशीलता को समझते हुए छात्रों ने एक ट्वीट जारी कर माफी मांगी है। उन्होंने आश्वासन दिया है कि इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति नहीं होगी।’’


अधिकारी ने कहा कि मंचन किसी आधिकारिक गतिविधि या कार्यक्रम का हिस्सा नहीं था और छात्रों ने इसे आयोजित किया था।






...

दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के 32 नए मामले सामने आए

नयी दिल्ली : दिल्ली में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 32 नए मामले सामने आए और किसी कोविड रोगी की मौत नहीं हुई। संक्रमण की दर 0.07 प्रतिशत रही। स्वास्थ्य विभाग द्वारा साझा किए गए आंकड़ों में यह जानकारी दी गई।


आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार दिल्ली में इस साल कोविड-19 से दो लोगों की मौत हुई है। इनमें एक रोगी की मौत दो अक्टूबर को जबकि दूसरे की मौत 10 दिसंबर को हुई।


आंकड़ों के अनुसार, बीते महीने कोविड के चलते केवल पांच लोगों की मौत हुई थी। सात,16 और 17 सितंबर को एक-एक तथा 28 सितंबर को दो रोगियों की जान चली गई थी।


कोविड-19 से दिल्ली में अब तक 25,089 लोगों की मौत हो चुकी है। संक्रमण के अब तक कुल 14,39,390 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, 14.13 लाख से अधिक लोग ठीक हो चुके हैं। 




...

भंवरी देवी हत्याकांड के आरोपी और अशोक गहलोत के धुर विरोधी पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा का निधन

जोधपुर :  कांग्रेस के कद्दावर नेता और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के धुर विरोधी रहे महिपाल मदेरणा का रविवार सुबह जोधपुर में निधन हो गया। वे 69 साल के थे और कुछ समय से कैंसर से पीड़ित थे। जोधपुर जिले की भंवरी देवी के अपहरण और हत्या के मामले में उनको मंत्री पद से हटा दिया गया था। मदेरणा के शव को सुबह 10:00 बजे उनके पैतृक गांव चाडी ले जाया जाएगा। जहां उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

राजस्थान की राजनीति में कांग्रेस के मजबूत नेता रहे और किसानों के मसीहा के नाम से पहचाने जाने वाले महिपाल मदेरणा का रविवार तड़के निधन हो गया। वह 69 साल के थे, और पिछले कुछ समय से कैंसर से पीड़ित है। मदेरणा का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव चाडी में किया जाएगा। महिपाल मदेरणा गहलोत सरकार में जल संसाधन मंत्री भी रहे थे लेकिन भंवरी देवी अपहरण और हत्या मामले में उनका नाम आने के बाद उन्हें मंत्री पद से हटा दिया गया था जिसके बाद सीबीआई मैं मामले में उन्हें मुख्य आरोपी बताकर गिरफ्तार किया था तब से लेकर लंबे अरसे तक वे जेल में रहे जहां उनके स्वास्थ्य में लगातार गिरावट दर्ज की गई।

मालूम हो कि पिछले 10 साल से अधिक समय तक जेल में रहने के बाद हाल ही में सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के तहत उन्हें जमानत मिली थी जिसके बाद वह अपनी पत्नी लीला मदेरणा के जोधपुर जिला प्रमुख पद पर काबिज होने के बाद पहली बार सार्वजनिक समारोह में शामिल होने अपने पैतृक गांव चाडी और ओसियां विधानसभा क्षेत्र में पहुंचे थे जहां किसान नेता को अपने बीच पाकर ग्रामीणों ने उनका बहुत जोरदार स्वागत किया था। महिपाल मदेरणा की पुत्री दिव्या मदेरणा वर्तमान में ओसिया से विधायक भी हैं।


...

दिल्ली में इन जगहों का लुत्फ उठाने के लिए पैसे खर्च नहीं करने पड़ेंगे

दिल्ली देश की राजधानी है और पर्यटक इसे देश का दिल मानते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि दिल्ली में खाने...पीने से लेकर घूमने तक के लिए कई बेहतरीन जगहें मौजूद हैं। इतना ही नहीं, यहां पर हर तरह के व्यक्ति के लिए घूमने और देखने के लिए कुछ ना कुछ है। आमतौर पर जब आप कहीं घूमने जाते हैं तो आपको पैसे खर्च करने पड़ते हैं। लेकिन अगर आप दिल्ली में हैं तो आपको इसकी भी चिंता करने की जरूरत नहीं है। जी हां, दिल्ली की ऐसी कई बेहतरीन जगहें हैं, जो पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र हैं, लेकिन यहां पर घूमने के लिए आपको पैसे खर्च करने की कोई जरूरत नहीं है। तो चलिए जानते हैं ऐसी ही कुछ बेहतरीन जगहों के बारे में...


घूमें जामा मस्जिद

जामा मस्जिद, जिसे मस्जिद ई जहान नुमा के नाम से भी जाना जाता है, भारत की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है। यह मुगल सम्राट शाहजहाँ द्वारा बनाया गया था और इसका उद्घाटन इमाम सैयद अब्दुल गफूर शाह बुखारी ने किया था। यहाँ तीन विशाल मुख्य द्वार हैं जो सभी चालीस मीटर ऊँचे हैं और निर्माण में सफेद संगमरमर और लाल बलुआ पत्थर की पट्टियों के साथ मस्जिद के काम को खूबसूरती से दिखाया गया है। मस्जिद के यहाँ एक विशाल प्रांगण भी है। यह आंगन इतना विशाल है कि यहां लगभग 25,000 उपासक बैठ सकते हैं और यह 408 वर्ग फीट की जगह घेरता है। इस मस्जिद के आंगन में घूमना एक अद्भुत एहसास होता है।


हजरत निजामुद्दीन दरगाह में कव्वाली संगीत

हज़रत निज़ामुद्दीन दरगाह में कव्वाली संगीत दिल्ली में मुफ्त में दिल्ली में करने के लिए चीजों का अनुभव करना चाहिए। यहां कव्वाली का प्रदर्शन पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर सकता है। यह शो हर दिन होता है। कुछ अद्भुत सूफी गीत जैसे भर दो झोली मेरी, कुन फाया कुन, छप तिलक सब छेनी, अज रंग है और कई अन्य यहां प्ले किए जाते हैं और इस तरह यहां एक सम्मोहित करने वाला वातावरण बनता है। निज़ामुद्दीन औलिया के वंशज, जिन्हें निज़ामी ब्रदर्स के नाम से भी जाना जाता है, इस स्थान पर वास्तविकता के साथ...साथ प्रामाणिकता की भावना भी लाते हैं। नियाज़मी ब्रदर्स का परिवार सात सौ से अधिक वर्षों से इस स्थान पर गा रहा है।


लोधी गार्डन

दिल्ली का लोधी गार्डन, दिल्ली के सबसे प्रसिद्ध आकर्षणों में से एक है। यह स्थान सभी फोटोग्राफी प्रेमियों, वास्तुकला प्रेमियों और उन सभी लोगों के लिए घूमने के लिए एक शानदार जगह है जो कुछ नया अनुभव करना चाहते हैं। यह स्थान सप्ताह के सभी दिनों में पर्यटकों के लिए खुला रहता है और दरवाजे सुबह 6 से शाम 7 बजे तक खोले जाते हैं। ताजा वातावरण और इस जगह में अद्भुत वास्तुकला के कारण लोधी उद्यान इस जगह पर आने वाले पर्यटकों के बीच प्रसिद्ध है। यह भी एक तथ्य है कि सैय्यद और लोधी वंश के शासक यहां दफन थे। यह जगह यहां पुराने वाटर टैंक की वजह से भी बेहद खूबसूरत है। लोधी गार्डन में भी बहुत सारी चीजें हैं जो यहां पर्यटकों को आकर्षित करती हैं। खान मार्केट लोधी मार्केट के बहुत करीब स्थित है और यहाँ से बहुत सारी चीज़ें खरीदी जा सकती हैं। 





...

रेलवे स्टेशन में सामान रखने के दौरान विस्फोट, सीआरपीएफ के चार जवान घायल

रायपुर :  छत्तीसगढ़ के रायपुर रेलवे स्टेशन में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की विशेष रेलगाड़ी में विस्फोट हो गया। इस घटना में चार जवान घायल हो गए हैं, घायलों में से एक की हालत गंभीर है।


रायपुर जिले के पुलिस अधिकारियों ने शनिवार को यहां बताया कि रायपुर रेलवे स्टेशन में सुबह झारसुगुड़ा से जम्मू तवी जा रही विशेष रेलगाड़ी में सामान रखने के दौरान विस्फोट हो गया। इस घटना में चार जवान घायल हो गए हैं।


पुलिस अधिकारियों ने बताया कि सुबह साढ़े छह बजे झारसुगुड़ा से जम्मू तवी जा रही सीआरपीएफ की विशेष रेलगाड़ी प्लेटफार्म नंबर दो पर खड़ी थी। इसमें सीआरपीएफ की तीन कंपनियों को भेजा जा रहा था। जब रेलगाड़ी में सामान रखा जा रहा था तब बोगी नंबर नौ के करीब एक कंटेनर में (जिसमें विस्फोटक रखा गया था) विस्फोट हो गया।


उन्होंने बताया कि इस घटना में हवलदार चौहान विकास लक्ष्मण समेत चार जवान घायल हो गए। जानकारी मिलने पर पुलिस दल घटनास्थल पहुंचा । घायल जवान लक्ष्मण को शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, वहीं मामूली रूप से घायल तीन अन्य जवानों को प्राथमिक उपचार दिया गया। रेलगाड़ी रायपुर रेलवे स्टेशन से रवाना हो चुकी है।


पुलिस अधिकारियों ने बताया कि इस घटना में स्टेशन में मौजूद अन्य किसी व्यक्ति को नुकसान नहीं पहुंचा है।



...

महाराष्ट्र : आग लगने से फर्नीचर के 40 गोदाम जलकर खाक

ठाणे : महाराष्ट्र में ठाणे जिले के भिवंडी में एक थोक बाजार में भयंकर आग लगने से लकड़ी के फर्नीचर के करीब 40 गोदाम जलकर खाक हो गए।


नगर निकाय के एक अधिकारी ने शनिवार को बताया कि काशेली टोल प्लाजा के समीप स्थित महालक्ष्मी फर्नीचर बाजार में शुक्रवार रात करीब 11 बजे आग लगी। घटना में कोई हताहत नहीं हुआ।


ठाणे महानगरपालिका के क्षेत्रीय आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ (आरडीएमसी) के प्रमुख संतोष कदम ने कहा, ''एक फर्नीचर गोदाम में आग लगी जो तेजी से आसपास के गोदामों तक फैल गयी। इसमें करीब 40 गोदाम पूरी तरह जलकर खाक हो गए।''


उन्होंने बताया कि सूचना मिलने पर ठाणे और भिवंडी के दमकल कर्मी, आरडीएमसी का एक दल और अग्निशमन गाड़ियां घटनास्थल पर पहुंची।


कदम ने बताया, ''आग पर आज सुबह चार बजकर 45 मिनट तक काबू पा लिया गया।'' आग लगने की वजह का पता नहीं चला है।





...

सेवानिवृत्त पुलिस कर्मी ने आत्महत्या की

बलिया : उत्तर प्रदेश में बलिया जिले के सीताकुंड गांव में एक सेवानिवृत्त पुलिस कर्मी ने पंखे से फंदा लगाकर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली।


पुलिस ने बताया कि हल्दी थाना क्षेत्र के सीताकुंड गांव में शुक्रवार को छत्तीसगढ़ पुलिस से सेवानिवृत्त कृपाशंकर गुप्ता (63) ने घर के एक कमरे में पंखे से फंदा लगाकर कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। घटना की जानकारी परिवार के सदस्यों को तब हुई, जब उनकी छोटी बहू ने खाना खाने के लिए उन्हें आवाज लगाई। दरवाजा नहीं खुला तो परिवार के सदस्यों ने खिड़की से देखा कि वह फांसी से लटके हुए हैं।


घटना की सूचना मिलने पर पहुंची हल्दी थाने की पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। कृपाशंकर गुप्ता तीन साल पहले छत्तीसगढ़ पुलिस से सेवानिवृत्त हुए थे। दो साल पहले इनकी पत्नी का निधन हो गया था तब से वह तनाव में रहने लगे थे। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।







...

मूर्ति विसर्जन के दौरान बदायूं में चार लोग और फिरोजाबाद में तीन बालक नदी में डूबे

बदायूँ/फिरोजाबाद (उप्र) : उत्तर प्रदेश में मूर्ति विसर्जन के दौरान अलग-अलग घटनाओं में बदायूं में चार लोग और फिरोजाबाद जिले में तीन बालक नदी में डूब गए। इन लोगों की तलाश के लिए बचाव अभियान चलाया जा रहा है।


बदायूं के कोतवाली उझानी क्षेत्र स्थित कछला गंगा घाट पर शुक्रवार को मूर्ति विसर्जन के लिए आए छह लोग गंगा भागीरथी नदी में डूब गए। इनमें से दो को तो बचा लिया गया लेकिन चार लोगों का पता नहीं चल सका है। लापता लोगों को ढूंढने के लिए पुलिस द्वारा बचाव अभियान चलाया जा रहा है।


बदायूं के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ओपी सिंह ने शनिवार को बताया कि शुक्रवार शाम मूर्ति विसर्जन हेतु आए लोगों में से छह लोग गंगा की तेज धारा में बह गए जिनमे से दो लोगों को बचा लिया गया किंतु चार लोगों का पता नहीं चल सका। उन्होंने बताया कि आज सुबह पुनः अभियान चलाया गया है।


फिरोजाबाद से मिली खबर के अनुसार शुक्रवार शाम दुर्गा की मूर्ति के विसर्जन के लिए गए तीन बालक यमुना नदी में डूब गए। शुक्रवार देर शाम तक उनकी खोजबीन के बाद शनिवार सुबह गोताखोरों व मोटर बोट के जरिए उनकी पुनः तलाश शुरू हुई। इसमें 12 वर्षीय गोपाल राठौर का शव बरामद हो गया, दो की तलाश जारी है।


उप जिलाधिकारी सदर राजेश कुमार वर्मा ने बताया थाना लाइनपार क्षेत्र रामनगर निवासी 12 वर्षीय गोपाल राठौर, 11 वर्षीय नीरज बघेल एवं 16 वर्षीय विशाल मूर्ति विसर्जन को गए लोगों के साथ यमुना घाट पर गए थे। मूर्ति विसर्जन के बाद तीनों किशोर नदी में नहाने उतर गए और बह गए। गोपाल राठौर का शव बरामद हो गया है जिसे पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।





...

शाहजहांपुर में बिना अनुमति आसाराम की पूजा कर रहे उसके समर्थको के खिलाफ मामला दर्ज

शाहजहांपुर (उप्र) : दुष्कर्म के आरोप में जेल में बंद आसाराम की पूजा कर रहे उसके अनुयायियों के विरुद्ध भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक नेता की शिकायत पर पुलिस ने कार्यक्रम को बंद कराकर पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।


पुलिस अधीक्षक नगर संजय कुमार ने शनिवार को बताया कि अनुयायी दशहरा के उपलक्ष्य में थाना कांट स्थित कस्बे में शुक्रवार शाम टेंट लगाकर आसाराम की पूजा अर्चना कर उनकी आरती उतार रहे थे, इसी बीच सूचना पाकर वहां पहुंचे भाजपा नेता संतोष दीक्षित ने कार्यक्रम को बंद करने को कहा।


उन्होंने बताया कि इसके बाद भी जब अनुयायी नहीं माने तो उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस ने पहुंचकर कार्यक्रम बंद करवाया तथा मुख्य आयोजनकर्ता राजकुमार, राकेश, सुनील, चंदन दास तथा दक्ष मुनि के अलावा कुछ अज्ञात अनुयायियों के विरुद्ध मामला दर्ज किया।


कुमार ने बताया कि जिले में त्योहारों के मद्देनजर धारा 144 लागू है ऐसे में किसी भी आयोजन को करने से पूर्व प्रशासन से अनुमति लेना आवश्यक है और आसाराम के अनुयायी बिना अनुमति के आयोजन कर रहे थे।


शाहजहांपुर की एक लड़की से 15 अगस्त 2013 को जोधपुर स्थित आश्रम में आसाराम ने दुष्कर्म किया था, यह लड़की आसाराम के आश्रम में पढ़ती थी। घटना के बाद आसाराम को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।




...

कर्जदाता से परेशान होकर एक शख्स ने किया आत्महत्या का प्रयास

मुजफ्फरनगर : उत्तर प्रदेश के शामली जिले में एक कर्जदाता द्वारा परेशान किए जाने के बाद एक शख्स ने कथित तौर पर जहर खाकर आत्महत्या की कोशिश की।


पुलिस ने शनिवार को बताया कि 'सब्जी मंडी' में कमीशन एजेंट संजय बजाज ने अशोक नामक व्यक्ति से ब्याज पर रुपये लिए थे और दोनों का ब्याज की दर को लेकर विवाद हो गया था। बजाज ने शुक्रवार को आत्महत्या का प्रयास किया, उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया।


इस बीच, स्थानीय लोगों ने कर्जदाता के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए सहारनपुर राजमार्ग अवरुद्ध कर दिया।


अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ओपी सिंह अन्य अधिकारियों के साथ वहां पहुंचे और उन्होंने प्रदर्शनकारियों को शांत कराया तथा यातायात बहाल कराया।






...

मप्र के उपचुनाव में बाबा की एंट्री

भोपाल : मध्यप्रदेश में धीरे-धीरे उपचुनाव का रंग गहराने लगा है। एक तरफ जहां नेताओं के दौरे बढ़़ रहे हैं, सभाएं हो रही हैं और एक दूसरे पर हमले किए जाने का दौर जारी हैं तो अब चुनाव प्रचार में बाबाओं की भी एंट्री शुरू हो गई है।


राज्य की सियासत में वर्ष 2018 में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान नामदेव दास त्यागी उर्फ कंप्यूटर बाबा ने कांग्रेस का झंडा थामा था और उन्होंने कमलनाथ और कांग्रेस के समर्थन में खूब प्रचार भी किया था। कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद कंप्यूटर बाबा को कैबिनेट मंत्री का दर्जा मिल गया था, मगर सत्ता में हुए बदलाव के बाद उनके बुरे दिन शुरू हो गए। जहां उनके इंदौर स्थित आलीशान आश्रम को जमींदोज कर दिया गया था, वही बाबा को जेल की हवा भी दिखाना पड़ी थी। यह बात अलग है कि बाबा का इससे पहले भाजपा के शासन में भी जलवा रहा है।


राज्य में हुए 28 विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव में भी कंप्यूटर बाबा ने कांग्रेस के उम्मीदवारों के समर्थन में प्रचार किया था। अब एक बार फिर राज्य में तीन विधानसभा क्षेत्रों पृथ्वीपुर, जोबट व रैगांव के अलावा खंडवा संसदीय क्षेत्र में उप चुनाव हो रहे हैं, तो कंप्यूटर बाबा की प्रचार में एंट्री हो गई है।


खंडवा संसदीय क्षेत्र में चुनाव प्रचार करने पहुंचे कंप्यूटर बाबा का कहना है कि नवरात्रि जैसा त्यौहार होने के बावजूद वे अपने अनुष्ठानों को छोड़कर उप-चुनाव में प्रचार करने के लिए निकले हैं। ऐसा इसलिए कहीं यह झूठे और पापी लोग आम लोगों को बरगला न दें, जरुरी इस बात की है कि कमलनाथ जैसे नेता को आगे आएं इसीलिए हम प्रचार के लिए निकले।


वहीं दूसरी ओर भाजपा के प्रवक्ता उमेश शर्मा ने बाबा के प्रचार करने पर तंज करता है। भाजपा के मुताबिक यह वही बाबा हैं जिन्होंने कांग्रेस को जिताने के लिए मिर्ची यज्ञ कराया था मगर उसकी मिर्ची कांग्रेस को ही लगी थी। दिग्विजय सिंह जैसे नेता की फजीहत हो गई और उनको लोकसभा चुनाव में प्रज्ञा ठाकुर से हार मिली थी।

...

महाराष्ट्र में पूर्व कांग्रेस विधायक कांती कोली का निधन

ठाणे : महाराष्ट्र के ठाणे से कांग्रेस के पूर्व विधायक कांती कोली का लंबी बीमारी के बाद यहां उनके आवास पर निधन हो गया। उनके परिवार के सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।


उन्होंने बताया कि कोली ने बृहस्पतिवार रात को अंतिम श्वांस ली। वह 75 वर्ष के थे।


कोली पूर्व में ठाणे नगर परिषद में पार्षद निर्वाचित हुए थे। इस पद पर एक कार्यकाल के बाद वह 1980 और 1990 के बीच दो बार ठाणे विधानसभा सीट से विधायक रहे। वह अखिल भारतीय कोली समाज, नई दिल्ली की महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष भी रहे।


सूत्रों ने बताया कि उनके परिवार में पत्नी, दो बेटे और अन्य सदस्य हैं।







...

असम में हाथी के हमले में महिला की मौत

नागांव (असम) : असम के होजई जिले में हाथी के हमले में 45 वर्षीय महिला की मौत हो गयी। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। एक अधिकारी ने बताया कि जंगली हाथी ने बृहस्पतिवार को काकी पुलिस थाना इलाके के डेरापत्थर गांव में महिला पर उस समय हमला कर दिया जब वह घर का काम कर रही थी। महिला की मौके पर ही मौत हो गयी। उन्होंने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए नागांव सिविल अस्पताल भेजा गया है।




...

कृषि उत्पादकता में वृद्धि, खाद्यानों के उत्पादन में उत्तर प्रदेश बन रहा नम्बर वन

उत्तर प्रदेश का कृषि के क्षेत्र में देश में महत्वपूर्ण स्थान है। प्रदेश सरकार की कृषि एवं कृषक हितैषी नीतियों एवं योजनाओं का यह सुपरिणाम है कि गन्ना, चीनी एवं एथेनॉल के उत्पादन में उत्तर प्रदेश देश में लगातार चौथी बार प्रथम स्थान पर है। खाद्यान्न, गेहूं, आलू, हरी मटर, आम, आंवला तथा दुग्ध उत्पादन में भी उत्तर प्रदेश का देश में प्रथम स्थान है। कृषि एक सतत चलने वाली प्रक्रिया है। सही समय पर बुआई, निराई, खाद देना, सिंचाई आदि इसके महत्वपूर्ण आगत हैं। इनमें भी सिंचाई का महत्व सर्वाेपरि है।


हमारे देश में कृषि को मानसून का जुआ कहा जाता है। जिस वर्ष मानसून की वर्षा अच्छी होती है, उस वर्ष खेती भी अच्छी होती है। जबकि मानसून के कमजोर होने से कृषि एवं कृषक दोनों दबाव में आ जाते हैं क्योंकि वर्षा के साथ फसलों की सिंचाई के लिए भरपूर पानी उपलब्ध नहीं हो पाता। उत्तर प्रदेश की वर्तमान सरकार द्वारा कृषि एवं कृषकों की सिंचाई की इसी समस्या के समाधान हेतु विगत साढ़े चार वर्षों में कई कार्य किये गए हैं, जिसके परिणामस्वरूप जहां एक ओर प्रदेश के सिंचित क्षेत्रफल में वृद्धि हुई है वहीं दूसरी ओर खाद्यानों की उत्पादकता, पैदावार में बढ़ोत्तरी के माध्यम से कृषकों की आय में भी वृद्धि हो रही है।


उत्तर प्रदेश की वर्तमान सरकार द्वारा सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग की वर्षों से लम्बित परियोजनाएं पूर्ण करायी गयी हैं। इनमें 46 वर्षों से लंबित बाण सागर परियोजना को पूर्ण कराकर 15 जुलाई 2018 को माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा इसका उद्घाटन किया गया। इस परियोजना से मिर्जापुर एवं प्रयागराज जनपदों की 150132 हेक्टेअर कृषि भूमि सिंचित हो रही है तथा इससे 01 लाख 70 हजार से भी ज्यादा किसान लाभान्वित हो रहे हैं। बाण सागर परियोजना के पूर्ण होने से कृषि के अन्तर्गत सिंचित भूमि में वृद्धि होने से इन जनपदों में अब फसल क्षेत्र में वृद्धि, फसल उत्पादकता में बढ़ोतरी होने से कृषकों को आय वृद्धि में मदद मिल रही है। इसी के साथ पूर्ववर्ती सरकारों के कार्यकाल से ही लम्बित पहाड़ी बांध, बण्डई बांध, जमरार बांध, मौदहा बांध, पहुॅज बांध, लहचुरा बांध, गुण्टा बांध, रसिन बांध परियोजनाएं एवं जाखलौन पम्प नहर प्रणाली तथा सोलर पावर प्लांट की पुनर्स्थापना की लगभग 13 परियोजनाएं वर्तमान सरकार के साढ़े चार वर्ष के कार्यकाल में पूर्ण की गयी हैं। हर खेत को पानी, के लक्ष्य को पूरा करने हेतु पूर्ण की गई इन परियोजनाओं से प्रदेश में 3.77 लाख हेक्टेअर सिंचन क्षमता में वृद्धि हुई है एवं संबंधित क्षेत्रों में कृषि के साथ-साथ समग्र विकास को भी गति मिल रही है।


प्रदेश का बुन्देलखण्ड क्षेत्र सिंचाई एवं कृषि में बाकी प्रदेश से अपेक्षाकृत पिछड़ा रहा है। परन्तु प्रदेश की वर्तमान सरकार ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में बुन्देलखण्ड के विकास का खाका खींचा है एवं उसे रफ्तार देने के लिए विभिन्न परियोजनाएं चलाई जा रही हैं। बुंदेलखण्ड में कृषि एवं कृषकों की समृद्धि सुनिश्चित करने हेतु प्रदेश सरकार द्वारा बुंदेलखण्ड क्षेत्र में 19428 खेत तालाबों का निर्माण कराया गया है। यह खेत तालाब वर्षा जल संचयन के माध्यम से बुंदेलखण्ड के भूजल स्तर में भी सुधार आया है। साथ ही यह कृषकों की सिंचाई की समस्या को भी दूर करने में सहायक हो रहे हैं। बुंदेलखण्ड क्षेत्र के अंतर्गत ही प्रदेश की वर्तमान सरकार द्वारा सिंचाई, विद्युत आदि की 12 बड़ी परियोजनाएं पूर्ण करायी गयी है। इन परियोजनाओं से बुंदेलखण्ड क्षेत्र में 73345 हेक्टेयर सिंचन क्षमता का सृजन हुआ है तथा इसमें 5.92 मेगावाट सौर विद्युत भी उत्पादित हो रही है। इससे 65062 किसान लाभान्वित हुए हैं। सिंचाई क्षमता में वृद्धि तथा सौर ऊर्जा के उत्पादन से बुंदेलखण्ड भी शेष उत्तर प्रदेश के विकास से कदमताल मिलाकर समूचे प्रदेश की समृद्धि में अपना योगदान दे रहा है। बुंदेलखण्ड क्षेत्र में ही जल संसाधनों के विकास व उचित एवं पर्यावरण अनुकूल दोहन की क्षमता वृद्धि हेतु इजराइल के साथ ’इण्डो-इजराइल वाटर प्रोजेक्ट’ का एमओयू हस्ताक्षरित किया गया है।


प्रदेश सरकार द्वारा वर्ष 2021-22 में प्रदेश की सिंचाई क्षमता में वृद्धि से सम्बन्धित 12 परियोजनाओं को पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है। इनमें सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना के अन्तर्गत अब तक 12.61 लाख हेक्टेयर सिंचन क्षमता सृजित हुई है। सरयू नहर परियोजना पूर्वी उत्तर प्रदेश के 09 जनपदों- बहराइच, श्रावस्ती, गोण्डा, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संतकबीरनगर, गोरखपुर व महराजगंज में सिंचाई सुविधाओं के सृजन हेतु 1982 में स्वीकृत हुई थी। वर्ष 2012 में इसे राष्ट्रीय परियोजना घोषित किया गया था। इसके पूर्ण होने पर 14.04 लाख हेक्टेयर सिंचन क्षमता सृजित होगी तथा 29.74 लाख किसान इससे लाभान्वित होंगे। प्रदेश में बनी नहरों की क्षमता का पूरा उपयोग हो सके, इसके लिए समय-समय पर नहरों की सफाई, सिल्ट निकासी जरूरी है। प्रदेश की वर्तमान सरकार के कार्यकाल में 01 लाख 49 हजार 802 किमी नहरों की सिल्ट सफाई का कार्य कराया जा चुका है। वर्ष 2020-21 में ही 46000 किलोमीटर सिल्ट सफाई का कार्य कराया गया है। इसके अतिरिक्त ग्रामीण क्षेत्रों में जलभराव की समस्या के निराकरण हेतु वित्तीय वर्ष 2020-21 में 15100 किलोमीटर की लम्बाई में ड्रेनों की सफाई कराकर संबंधित क्षेत्रों को जलभराव से मुक्त कराया गया है।


प्रदेश के कई हिस्सों में प्रतिवर्ष आने वाली बाढ़ से फसलों व कृषि को बहुत नुकसान उठाना पड़ता है। इसके लिए प्रदेश सरकार द्वारा लगभग 523 तटबन्धों को सुरक्षित करके बाढ़ से बचाव हेतु ड्रेजिंग कार्य पूर्ण कराए गए है। विगत साढ़े चार वर्षों में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बाढ़ से बचाव, सुरक्षा हेतु 688 परियोजनाएं पूर्ण की गयी हैं। वर्ष 2021-22 में 230 परियोजनाओं को पूरा करने का लक्ष्य है जिसके सापेक्ष 139 बाढ़ सुरक्षा की परियोजनाएं पूर्ण चुकी हैं। इन परियोजनाओं से बाढ़ से प्रतिवर्ष होने वाली व्यापक जन-धन की हानि तथा खेती व पशुओं को होने वाला नुकसान कम हुआ है। इनके अतिरिक्त बाढ़ नियंत्रण व सुरक्षा की 184 नवीन परियोजनाओं के सापेक्ष 734.48 करोड़ रुपये की धनराशि स्वीकृत की जा चुकी है व इनका निर्माण प्रारम्भ हो चुका है। प्रदेश सरकार द्वारा लगभग 25050 पुल-पुलियों का जीर्णाेद्धार, पुनर्निर्माण व नवनिर्माण का अभियान भी चलाया जा रहा है। जिस पर 300 करोड़ रुपये की लागत आने की संभावना है। यह कार्य भी अपने अंतिम चरण में है। प्रदेश के 16 जनपदों में उत्तर प्रदेश वाटर रिस्ट्रक्चरिंग परियोजना फेज-2 के अन्तर्गत सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने हेतु भी सरकार कार्य कर रही है। इस परियोजना के पूर्ण होने पर प्रदेश के 16 जनपदों में 1.62 लाख हेक्टेयर सिंचन क्षमता सृजित होगी तथा इससे 7.10 लाख से अधिक किसान लाभान्वित होंगे। इस परियोजना से लाभान्वित होने वाले जनपदों में बाराबंकी, रायबरेली, अमेठी, ललितपुर, एटा, फिरोजाबाद, कासगंज, मैनपुरी, फर्रूखाबाद, इटावा, कन्नौज, औरैया, कानपुर नगर, कानपुर देहात, फतेहपुर एवं कौशाम्बी है।


प्रदेश में नाबार्ड द्वारा वित्तपोषित नवीन राजकीय नलकूप निर्माण परियोजना के अन्तर्गत 633.7882 करोड़ रुपये से 1960 नवीन राजकीय नलकूपों का निर्माण कराया गया है। जिससे 98000 हेक्टेयर सिंचन क्षमता का सृजन हुआ है तथा 96089 किसान लाभान्वित हो रहे हैं। वर्तमान सरकार के कार्यकाल में अबतक निःशुल्क बोरिंग/उथले नलकूप योजना के तहत कुल 424627 कार्य पूर्ण कराए जा चुके हैं। लगभग 4032 गहरे नलकूप तथा 13299 मध्यम गहरे नलकूपों का निर्माण पूरा कराया गया है। इसी प्रकार 729 सामूहिक नलकूप, 1261 ब्लास्ट कूप तथा 682 तालाबों व 977 चेकडैम के निर्माण द्वारा 955326 हेक्टेयर अतिरिक्त भूमि में सिंचन क्षमता का सृजन किया जा चुका है। प्रदेश में पीएम कुसुम योजना के अन्तर्गत 20177 सोलर पम्पों की स्थापना की गयी है। इससे कृषकों के विद्युत बिलों को कम करने में सहायता मिली है तथा विद्युत की मांग में भी कमी आयी है। प्रदेश में ’’पर ड्राप, मोर क्राप’’ (प्रतिबूंद अधिक फसल) की संभावनाओं की वृद्धि हेतु माइक्रो इरिगेशन के अन्तर्गत स्प्रिंक्लर सिंचाई को भी प्रोत्साहन दिया जा रहा है। जो जलसंचयन व गुणवत्तापूर्ण उत्पादन को प्रेरित कर रही है।


जब हर खेत को पानी मिलेगा तब हमारी कृषि व हमारे अन्नदाता दोनों की समृद्धि सुनिश्चित है। प्रदेश सरकार द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशन में प्रदेश की कृषि के उन्नयन व कृषकों की खुशहाली सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश की सिंचाई क्षमता में वृद्धि के उपर्युक्त उल्लिखित कार्य प्रदेश को कृषि के क्षेत्र में निरन्तर ऊंचाई पर ले जा रहे हैं।


-अम्बरीष कुमार सक्सेना-

(लेखक हिन्दुस्थान समाचार से जुड़े हैं)





...

तीन साल पहले नहीं था अक्षर ज्ञान, आज हुई मैट्रिक पास

जमशेदपुर : नाम संगीता महतो, उम्र 19 साल। मरीन ड्राइव कदमा के बागे बस्ती में है इस युवती का घर। घर की बड़ी बेटी की जिम्मेदारी का निर्वाहन करने के कारण वह खुद नहीं पढ़ पा रही थी। उसके भाई-बहन सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं। तीन साल पहले तक उसे अक्षर ज्ञान तक नहीं था। इसी बीच इस बालिका की मुलाकात टाटा वर्कर्स यूनियन कदमा उच्च विद्यालय की विज्ञान की शिक्षिका शिप्रा मिश्रा से हुई। इस बालिका ने उनसे घर में काम करने की बात कही, उसे पैसे की आवश्यकता थी। 

संगीता के जुनून को मिला शिप्रा का साथ

शिक्षिका ने बताया कि वे उससे घर का काम नहीं करा सकती। बार-बार अनुरोध पर कहा कि उनके दो छोटे बच्चे हैं बस उसकी देखभाल करनी है। इसमें वह राजी हो गई। आवश्यकतानुसार शिक्षिका ने उन्हें आर्थिक सहयोग किया। शिक्षिका के घर में अखबार आने पर वह रोजाना अखबार की फोटो देखा करती थी मगर वह पढ़ नहीं पाती थी। शिक्षिका ने इस युवती के मनोभाव को पकड़ा तथा पूछा कि आगे पढ़ना चाहती हो तो उसने हां कह दिया। उसके बाद से शिक्षिका शिप्रा ने उसे तैयार किया। पठन-पाठन की सामग्री उपलब्ध कराई तथा खुद भी पढ़ाया।

एपीजीए अब्दुल कलाम हाई स्कूल से वर्ष 2019 में कक्षा नवम में प्राइवेट से रजिस्ट्रेशन कराया। कोविड के कारण इस छात्रा को फायदा भी हुआ। हाल ही में जारी मैट्रिक पूरक परीक्षा में परिणाम में वह 84 प्रतिशत अंक के साथ उत्तीर्ण हुई। इस छात्रा के उत्तीर्ण होने से इस शिक्षिका के आंख से खुशी के आंसू निकल पड़े। शिक्षिका शिप्रा ने बताया छात्रा को मैट्रिक पास कराने के महत्वपूर्ण कार्य में एक और शिक्षिका इशिता का भी योगदान सराहनीय रहा।

मैट्रिक की परीक्षा में 84 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाली संगीता महतो का कहना है वह इंटर की पढ़ाई पूरी करने के बाद नर्सिंग का कोर्स करना चाहती है। नर्सिंग कोर्स करने के पीछे मरीजों की सेवा करना उनका लक्ष्य है। छात्रा ने कहा कि उसने कोरोना को नजदीक से देखा है। कैसे लोग भागते है उन्हें इसका आभास है। ऐसे में सेवा करने वाली नर्से मरीजों की सेवा तत्पर रही। 

इस कारण वह नर्सिंग का कोर्स करना चाहती है। इस सफलता के बारे में छात्रा ने कहा कि वह रात को 11 बजे से डेढ़ बजे तक पढ़ती थी। जहां समझ में नहीं आता शिप्रा दीदी सहयोग करती थी। छात्रा ने शिप्रा दीदी का आभार जताते हुए कहा कि उन्हीं की प्रेरणा व प्रोत्साहन से मुझ पर मैट्रिक पास का मुहर लगा।


...

किसान आंदोलन : सिंघु बार्डर पर एक युवक की बेरहमी से हत्या, हाथ काटकर शव बैरिकेड से लटकाया

नई दिल्ली :  तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में लगातार 10 महीने से जारी किसानों के धरना प्रदर्शन के बीच दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बार्डर पर एक हैरान करने वाली घटना सामने आई है। यहां पर एक युवक की पहले तो बेरहमी से हत्या की गई फिर उसके हाथ काटकर लटका दिया गया। इस बाबत शुक्रवार सुबह से ही इस घटना के बाबत कई तस्वीरें वायरल हैं, जिसमें इसमें साफ देखा जा सकता है कि सिंघु बार्डर पर एक युवक के दोनों हाथों को बांधकर लटकाया गया है और इस युवक की मौत की जानकारी सामने आ रही है। 

बृहस्पतिवार रात को दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बार्डर पर कुछ लोगों ने एक अनजान व्यक्ति का दाहिना हाथ काट कर मार दिया। इसके बाद शव को किसानों के धरना स्थल के पास ले जाकर 'सूली' पर लटका दिया। युवक को मारने और हाथ काटकर सूली पर लटकाने का आरोप निहंगों पर लगा है। इनका कहना है कि इस युवक ने हमारे गुरु ग्रंथ साहिब का अंग भंग किया। हालांकि, जान गंवाने इस व्यक्ति की अभी शिनाख्त नहीं हुई है। 

निहंगों का यह भी कहना है कि इस शख्स को  30,000 रुपये देकर किसी ने ऐसा करने के लिए भेजा था। आरोप है कि बृहस्पतिवार रात में ही निहंगों ने इस कृत्य की वीडियो भी बनाई। फिर इसे शुक्रवार सुबह वायरल किया। बताया जा रहा है कि आरोपित निहंगों ने ऐसा जानबूझकर किया है।

कहा जा रहा है कि युवक की हत्या बृहस्पतिवार रात को ही की गई, उसके बाद शुक्रवार सुबह 5:30 बजे संयुक्त किसान मोर्चा की मुख्य स्टेज के पास करीब 100 किलोमीटर घसीट कर निहंगों के ठिकाने यानी फोर्ड एजेंसी के पास शव को लाया गया। इसके बाद सुबह 6:00 बजे शव को लटकाया गया है, ताकि लोग देख सकें। वहीं, प्रबंधक थाना रवि कुमार मौके पर पहुंच गए हैं। बताया जा रहा है कि इस पूरे मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

...

महामारी का कम हुआ प्रकोप, डेंगू ने पसारे पैर

अहमदाबाद :  कोरोना महामारी के मामले कम हो रहे हैं लेकिन देश के कई राज्यों में डेंगू, चिकुनगुनिया, मलेरिया जैसे मामले बढ़ रहे हैं। गुजरात व उत्तर प्रदेश में तो ये मामले काफी तेजी से आ रहे हैं। हालांकि दोनों ही राज्यों में  प्रशासन सक्रिय है और रोकथाम के तमाम उपाय अपनाए जा रहे हैं।  

गुजरात के सिविल हास्पिटल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट  ने गुरुवार को डेंगू, चिकुनगुनिया, मलेरिया, हेपेटाइटिस मामलों को लेकर चिंता जताई। उन्होंने कहा, 'अब तक डेंगू के 96 मामले, हेपेटाइटिस के 99 और चिकनगुनिया के 63 मामलों की पहचान हो चुकी है। उचित रोकथाम के जरिए मौसमी बीमारियों से बचा जा सकता है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश में भी डेंगू के मामले सामने आ रहे हैं।

राजधानी लखनऊ में बुधवार को डेंगू के 25 नए मामले सामने आए। इसमें 12 महिलाएं, 10 पुरुष और तीन टीनएजर थे। वर्तमान में गाजियाबाद में 79 सक्रिय मामले हैं जिनका इलाज जारी है। यह जानकारी गाजियाबाद के चीफ मेडिकल आफिसर बहुतोश शंखधर ने दी। एएनआइ से उन्होंने बताया कि एक दिन में डेंगू के 15-20 मरीज सामने आ रहे हैं। लेकिन बुधवार को यह आंकड़ा 30 हो गया था। उन्होंने यह भी कहा कि 18 अक्टूबर से टेस्टिंग कैंपेन की शुरुआत हो रही है जिसके तहत वालंटियर घर-घर जाकर सैंपल लेंगे।


...

आंदोलन की तैयारी में जुटे किसान

 नोएडा : जिले के तीनों प्राधिकरण को खिलाफ 18 अक्तूबर को होने वाले आंदोलन को लेकर किसान तैयारी में जुटे हैं। इस आंदोलन में अधिक से अधिक संख्या में लोगों की भीड़ जुटाने के लिए गांव-गांव जाकर जन जागरण अभियान चलाया जा रहा है। भाकियू के किसानों ने गुरुवार को ग्रेनो के कई गांवों में जाकर नुक्कड़ सभाएं कीं।


भाकियू के प्रदेश महासचिव पवन खटाना ने सफीपुर गांव में नुक्कड़ सभा कर किसानों को संबोधित किया। प्रदेश महासचिव पवन खटाना ने कहा जिले का किसान काफी समस्या से जूझ रहा है। प्रदेश महासचिव ने कहा कि 18 अक्तूबर को किसान अपने हक की लड़ाई के लिए ज्यादा से ज्यादा संख्या में इकट्ठा हो। किसान 18 अक्टूबर को जीरो पॉइंट पर इकट्ठा होकर नोएडा के लिए कूच करेंगे। किसानों का आंदोलन तीनों प्राधिकरण के खिलाफ होगा। इस मौके पर सुनील प्रधान, राजे प्रधान, प्रमोद सफीपुर, अजीत चेची, अजीपाल नंबरदार, सुंदर खटाना, चंद्रपाल आदि किसान मौजूद रहे।






...

दिल्ली की पहली स्मार्ट ऐप "माई पार्किंग" का लोकार्पण किया

नई दिल्ली : केंद्रीय मंत्री श्री अनुराग ठाकुर एवं दक्षिणी दिल्ली के महापौर श्री मुकेश सुर्यान ने आज दिल्ली की पहली स्मार्ट पार्किंग ऐप का लोकार्पण किया जिस पर दक्षिणी निगम की पार्किंग की वास्तविक समय की स्थिति ज्ञात हो सकेगी। इस अवसर पर अध्यक्ष स्थाई समिति कर्नल (रि.) बी के ओबेरॉय,आयुक्त श्री ज्ञानेश भारती उपस्थित रहे। इस पार्किंग ऐप का निर्माण दक्षिणी निगम ने ब्रॉडकास्ट इंजीनियरिंग कंसल्टेंट्स इंडिया लिमिटेड के साथ मिलकर किया है।


दक्षिणी निगम एवं ब्रॉडकास्ट इंजीनियरिंग कंसल्टेंट्स इंडिया लिमिटेड ने आज केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और युवा एवं खेल मंत्री श्री अनुराग ठाकुर एवं दक्षिणी निगम के महापौर श्री मुकेश सुर्यान की उपस्थिति में समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए। समझौता पत्र के अनुसार बी.इ.सी.आई.एल दक्षिणी निगम के अधिकारक्षेत्र में आने वाली पार्किंग स्थलों के लिए ऐप आधारित स्मार्ट पार्किंग व्यवस्था का कार्यान्वयन करेगी।इस अवसर पर अतिरिक्त आयुक्त श्री ए. ए. ताजिर, अध्यक्षा आर. पी. कमेटी श्रीमती राधिका अब्रोल, उपायुक्त आर. पी. सेल श्री पी. एस. झा तथा बी.ई.सी.आई.एल एवं दक्षिणी निगम के वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित रहे।


इस अवसर पर केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण तथा युवा एवं खेल मंत्री श्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि पार्किंग ऐप की सहायता से नागरिक घर बैठे ही पार्किंग स्थल पर पार्किंग की उपलब्धता देख सकेंगे एवं पार्किंग स्थल पर अपना स्थान सुगमता से आरक्षित करा सकेंगे जिसके फलस्वरूप दिल्ली के नागरिकों को पूर्णत: नया अनुभव मिलेगा।इस स्मार्ट पार्किंग ऐप की सहायता से पूर्णत: कैशलस एवं पेपरलेस लेनदेन किया जायेगा जिसके कारण कई किलो कागज़ की बचत होगी (क्योंकि वर्तमान में कागज़ पर छपी हुई पार्किंग की पर्ची दी जाती हैं) जिसके चलते पेड़ों को भी काटने से बचाया जा सकेगा एवं पर्यावरण प्रदूषण में भी कमी आयेगी।


महापौर दक्षिणी निगम श्री मुकेश सुर्यान ने कहा कि नागरिकों की तरफ से भी कई बार मांग की गई थी कि पार्किंग स्थलों से संबंधित जानकारी जैसे उसकी क्षमता, पार्किंग स्थल की उपलब्धता इत्यादि सरलता से मिल सके। तथा नागरिक पार्किंग स्थलों पर कैशलेस लेनदेन की व्यवस्था की भी मांग करते रहे हैं। वर्तमान समय उन्नत तकनीक एवं सूचना व्यवस्था का समय है तथा नागरिकों को दक्षिणी निगम के अधिकार क्षेत्र में आने वाले पार्किंग स्थलों के बारे में सटीक जानकारी देने हेतु यह आवश्यक हो जाता है की हम उन्हें ऐप आधारित पार्किंग व्यवस्था की सुविधा दें।


आयुक्त श्री ज्ञानेश भारती ने कहा कि वर्तमान में दक्षिणी निगम अपने सभी 4 क्षेत्रों में 145 स्थल पार्किंग का परिचालन कर रहा है इसके अलावा 6 बहुस्तरीय एवं 2 ऑटोमेटेड पार्किंग स्थल भी हैं। इस ऐप की सहायता से दक्षिणी निगम के पार्किंग स्थलों की कुल क्षमता ज्ञात हो सकेगी तथा पार्किंग कितनी भरी हुई है तथा पार्किंग में कितनी जगह खाली है इसकी भी जानकारी उपलब्ध होगी।इस ऐप के निर्माण एवं रखरखाव का पूरा अधिभार बी.ई.सी.आई.एल वहन करेगी इसके साथ ही सर्वर एवं उसके हार्डवेयर व सॉफ्टवेयर संबंधित पूंजीगत व्यय भी बी.ई.सी.आई.एल वहन करेगी।


इस ऐप को वाहन ऐप,फास्ट-टैग, ई-चालान एवं अन्य सरकारी उपक्रमों के साथ एकीकृत किया जाएगा।नागरिकों की सहायता के लिए बी.ई.सी.आई.एल एक ग्राहक सेवा केंद्र स्थापित करेगा जोकि ऐप के प्रयोग से संबंधित नागरिकों के सवाल एवं परेशानियों के निराकरण में सहायता करेगा। बी.ई.सी.आई.एल ऐप इस्तेमाल करने वाले नागरिकों एवं ऑनलाइन लेनदेन की सुविधा देने वाले वेब टेक प्लेटफार्म से पार्किंग शुल्क का कुछ प्रतिशत हिस्सा सुविधा शुल्क के रूप में लेगा। ऐप एंड्रॉयड एवं आई.ओ.एस प्लेटफार्म पर निशुल्क उपलब्ध होगी।




...

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री इमरान हुसैन ने कोविड के दौरान निःस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा करने वाले डॉक्टरों को किया सम्मानित

नई दिल्ली : दिल्ली के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री इमरान हुसैन ने आज दिल्ली सचिवालय में आयोजित सम्मान समारोह में प्रतिष्ठित डॉक्टरों को कोविड-19 महामारी के दौरान उनके निःस्वार्थ और समर्पित सेवा भावना के साथ कोरोना मरीजों का इलाज करने के लिए सम्मानित किया। इस दौरान उन्होंने डॉक्टरों को शॉल और कोविड वारियर प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। इस अवसर पर खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री के सचिव डॉ. श्रवण बगरिया, अभिषेक जैन, सदस्य सलाहकार समिति, दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग, मनीष जैन, सामाजिक कार्यकर्ता समेत खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति कार्यालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी व अन्य गणमान्य लोग मौजूद थे।


खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री इमरान हुसैन ने डॉक्टरों की तरफ से कोरोना काल के दौरान किये गए उत्कृष्ट कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान विशेष रूप से हमारे डॉक्टरों और पैरामेडिक्स स्टाफ समेत फ्रंटलाइन वर्कर्स ने अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों की सेवा कर उनकी जान बचाई। उन्होंने कहा कि निःस्वार्थ सेवा कर लोगों की जान बचाने के लिए हम डॉक्टरों का सम्मान करते हैं। मैं आपके समर्पण और कड़ी मेहनत के लिए आप सभी का आभार व्यक्त करता हूँ।"


इस सम्मान समारोह में डॉ. डी. के. चौहान, डॉ. आर. के. सचदेवा, डॉ. वी. के. उपाध्याय, डॉ. अंकित जैन, डॉ. राजेश शर्मा, डॉ. भुवनदीप गुप्ता, डॉ. हिमांशु शर्मा को चिकित्सा के क्षेत्र के उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए कोविड योद्धा के रूप सम्मानित किया।


इस अवसर पर मंत्री इमरान हुसैन ने कहा कि आज इन साहसी डॉक्टरों का सम्मान करते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है। इन डॉक्टरों ने कोरोना महामारी में मार्च 2020 से अब तक चिकित्सा के क्षेत्र में सराहनीय कार्य किया है। मैं डॉक्टरों और अन्य पैरामेडिकल स्टाफ द्वारा की गई उत्कृष्ट सेवाओं की सराहना करता हूं। डॉक्टर्स द्वारा कोरोना काल में की गई निःस्वार्थ सेवा ने दिल्ली का मान पूरे देश में बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार की स्वास्थ्य सेवा कोविड-19 महामारी से लड़ने में किसी प्राइवेट हेल्थ सिस्टम से कम नहीं है।


कार्यक्रम के समापन पर खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री इमरान हुसैन ने पुनः सम्मान समारोह के दौरान उपस्थित सभी डॉक्टरों का कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में उनके बहुमूल्य योगदान के लिए आभार व्यक्त किया।




...

डैगू वुखार और वायरल का कहर अव गावो मे मौत का सिलसिला जारी

फिरोजाबाद : फिरोजाबाद जिले में डेंगू बुखार और वायरल शहरी क्षेत्रों में जरूर कम हुआ है किंतु ग्रामीण क्षेत्रों में बराबर बढ़ता जा रहा है समय पर मरीजों को उचित उपचार ना मिलने के कारण मरीजों की मोत भी हो रही है। फिरोजाबाद जिले में डेंगू बुखार वायरल का प्रकोप करीब 2 महीने से चल रहा है किंतु शासन प्रशासन के काफी प्रयास के बावजूद अभी तक बीमारी पर कंट्रोल नहीं हो पाया है शहरी क्षेत्र में मरीजो की संख्या जरूर कम हुई है मगर ग्रामीण क्षेत्रों में अभी बुखार वायरल के मरीज बराबर निकल रहे हैं किंतु ग्रामीण क्षेत्रों के स्वास्थ्य केंद्र पर इलाज की उचित व्यवस्था नहीं होने के कारण मरीज परेशान है शासन के कड़े निर्देश की बावजूद अनेक स्वास्थ्य केंद्र पर डॉक्टर उपलब्ध नहीं मरीजों को प्राइवेट डॉक्टरों पर इलाज के लिए जाना पड़ रहा है मेडिकल कॉलेज मे गुरुवार को कुल मरीजों की संख्या 130 थी जबकि नए मरीज 30 भर्ती किए गए मंगलवार की रात को एक मरीज कुंदन पुत्र सतीश कुमार की इंजेक्शन लगने के बाद पेट फूलने से मौत हो गई मरीज के परिजनों द्वारा काफी हंगामा काटा गया जिनको पुलिस के द्वारा मेडिकल कॉलेज परिसर से बाहर कर दिया गया जबकि परिजन डॉक्टरों पर उपचार में लापरवाही का आरोप लगा रहे मेडिकल कॉलेज में ऐसे अनेक मामले सामने आए किंतु की कोई सुनवाई नहीं हुई शिकोहाबाद के सरकारी अस्पताल में मरीजों की संख्या 162 है गुरुवार को नए 77 मरीज भर्ती किए गए संक्रामक बीमारी का प्रकोप शिकोहाबाद और सिरसागंज क्षेत्र में अधिक होने की वजह से शिकोहाबाद अस्पताल में मरीजों की संख्या बढ़ रही है किंतु डॉक्टरों की कमी के कारण परेशानी का सामना करना पड़ रहा है जिले में पिछले सप्ताह मरीजों की मौत पर कुछ नियंत्रण हुआ था सोमवार, मंगलवार और बुधवार में क़रीब 15 मरीज़ों क़ी मौत के कारण चिंता बढ़ गई है ग्रामीण क्षेत्रों में सही तरीके से साफ सफाई नहीं होने की शिकायतें भी मिल रही है ।





...

मातृशक्ति की आराधना हमारे देश की संस्कृति : योगी आदित्यनाथ

गोरखपुर : उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में शारदीय नवरात्र की नवमी तिथि पर मुख्यमंत्री और गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर के नवनिर्मित अन्न क्षेत्र (भवन) में पूरे विधि-विधान के साथ परंपरागत कन्या पूजन किया। उन्होंने मां भगवती के नौ स्वरूपों की प्रतीक नौ कन्याओं और एक बटुक भैरव की पहले पूजा-अर्चना की, उसके बाद अपने हाथों से भोजन कराकर दक्षिणा के साथ उनकी विदाई की। इस दौरान मंदिर में पहुंची अन्य कन्याओं को भी उसी श्रद्धाभाव से भोजन कराया गया और विदाई की गई। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि मातृशक्ति की आराधना हमारे देश की संस्कृति है। इसीलिए नवरात्र के नवें दिन कन्या पूजन का विधान है।


कन्या पूजन का समय दोपहर 12 बजे निर्धारित था, सो निर्धारित समय से पहले ही मंदिर की ओर से आमंत्रित कन्याएं पूजन स्थल पर पहुंच गईं। मुख्यमंत्री के पहुंचने के साथ पूजन प्रक्रिया शुरू हुई। सबसे पहले उन्होंने बारी-बारी से थार में नौ कन्याओं और एक बटुक भैरव को खड़ा कर उनका पांव पखारा। उसके बाद टीका लगाकर चुनरी ओढ़ाई और आरती उतारी। पूजा के बाद कन्या भोज का कार्यक्रम शुरू हुआ। मुख्यमंत्री एक-एक सभी कन्याओं के पास गए और उनकी थाली में अपने हाथों से भोजन परोसा और बाकायदा पूछ-पूछ कर खिलाया। इस दौरान वह बच्चों को दुलराते भी रहे। भोजन के बाद मुख्यमंत्री ने सभी कन्याओं की अपने हाथ से दक्षिणा देकर सम्मान के साथ विदा किया। 





...