अमेठी से चुनाव लड़ेंगे रॉबर्ट वाड्रा? कांग्रेस कार्यालय के बाहर लगे पोस्टर

अमेठी लोकसभा सीट पर कांग्रेस ने अब तक अपने प्रत्याशी का खुलासा नहीं किया है। एक ओर जहां राहुल गांधी के चुनाव लड़ने की अटकलें लगाई जा रही थी। वहीं अब अमेठी कांग्रेस कार्यालय के बाहर रॉबर्ट वाड्रा के पोस्टर्स ने एक नई सियासी हवा को रुख दे दिया है।

अमेठी के गौरींगज में कांग्रेस के ऑफिस के बाहर रॉबर्ट वाड्रा के नाम के पोस्टर्स लगे हैं, जिसमें लिखा है- 'अमेठी की जनता करे पुकार, रॉबर्ट वाड्रा अब की बार।' यह पोस्टर्स किसने लगवाए व किसने छपवाए इसके बारे में कोई जानकारी नहीं। पोस्टर में निवेदक का नाम के रूप में लिखा है- 'अमेठी की जनता'।

रॉबर्ट वाड्रा ने जताई थी चुनाव लड़ने की इच्छा

बता कुछ दिन पहले कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के पति रॉबर्ट वाड्रा ने अमेठी से लोकसभा चुनाव लड़ने की इच्छा जताई थी।

अमेठी से चुनाव लड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि पूरे देश के कई हिस्सों से लोग मुझे चुनाव लड़वाना चाहते हैं। मैं भी राजनीति में आने का इच्छुक हूं। सही समय आने पर इसका निर्णय लेंगे।

उन्होंने भाजपा पर भेदभाव की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि देश में धर्मनिरपेक्ष सरकार कायम होनी चाहिए और आइएनडीआइ गठबंधन पूरी मजबूती से इस ओर काम कर रहा है।

अब अमेठी कांग्रेस ऑफिस के बाहर राबर्ड वाड्रा के नाम के लगे पोस्टर्स ने सियासी अटकलों को हवा दे दी है।



...

देशभर में पहले चरण की वोटिंग जारी

लोकसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान आज यानी 19 अप्रैल शुरू हो गया है। इस चरण में वोटिंग 21 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की 102 लोकसभा सीटों पर हो रही है।

इसमें राजस्थान की 12, उत्तर प्रदेश में 8, मध्य प्रदेश में 6, बिहार में 4, पश्चिम बंगाल में 3, असम और महाराष्ट्र में 5, मणिपुर में 2 और त्रिपुरा, जम्मू कश्मीर तथा छत्तीसगढ़ में एक-एक सीट पर मतदान हो रहा है।

इसके अलावा तमिलनाडु (39), मेघालय की (2), उत्तराखंड (5), अरुणाचल प्रदेश (2), अंडमान निकोबार द्वीप समूह (1), मिजोरम (1), नगालैंड (1), पुडुचेरी (1), सिक्किम (1) और लक्षद्वीप (1) की सभी लोकसभा सीट पर भी मतदान हो रहा है।

सुबह 7 बजे से शुरू हुआ वोटिंग का दौर उत्साह से जारी है।


...

अखिलेश यादव कन्नौज से लड़ सकते हैं चुनाव! आज हो सकता है नाम का ऐलान

उत्तर प्रदेश की कन्नौज लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव खुद चुनावी मैदान में उतर सकते हैं. यह दावा सूत्रों ने किया है. सपा मुखिया गुरुवार को कन्नौज दौरे पर थे. इस दौरान उन्होंने सपा पार्टी कार्यालय में कार्यकर्ताओं, सेक्टर/बूथ प्रभारियों से मुलाकात की. जिसके बाद इस तरह के कयास तेज हो गए हैं. 

समाजवादी पार्टी की ओर से अब तक कन्नौज लोकसभा सीट पर प्रत्याशी के नाम को लेकर अब तक सस्पेंस बरकरार है. ऐसे में सपा अध्यक्ष के कन्नौज दौरे के बाद अखिलेश यादव के नाम को लेकर अटकलें और तेज हो गई है. सूत्रों की माने तो लगभग अखिलेश यादव का कन्नौज से चुनाव लड़ना तय माना जा रहा है. आज पार्टी की ओर से उनके नाम का एलान भी किया जा सकता है. 

कन्नौज से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कोई खुलकर कन्नौज से चुनाव लड़ने की बात नहीं की लेकिन कई बार इशारों में वो यहां से चुनाव लड़ने की बात कह चुके हैं. पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए भी उन्होंने कन्नौज का अपना घर बताया था और कहा था कि इस क्षेत्र से उनके परिवार को दो दशकों से भी ज्यादा का रिश्ता रहा है वो कन्नौज को नहीं छोड़ सकते हैं. लेकिन सपा की कई लिस्ट आने के बाद भी जब कन्नौज से प्रत्याशी घोषित नहीं किया गया तो कई कयास भी लगने शुरू हो गए. 

कन्नौज लोकसभा सीट समाजवादी पार्टी का गढ़ मानी जाती है. इस सीट से समाजवादी पार्टी 1998 से 2014 तक सभी चुनाव में जीत हासिल करती आई है. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और डिंपल यादव भी यहां सांसद रहे हैं. हालांकि 2019 के चुनाव में बीजेपी के सुब्रत पाठक में डिंपल यादव को क़रीब 13 हजार वोटों के अंतर से हरा दिया था. 

बीजेपी ने इस सीट से सांसद सुब्रत पाठक को ही मैदान में उतारा है वहीं बसपा के ओर अकील अहमद को टिकट दिया गया है. अकील ने लंबे समय तक सपा के लिए काम किया है. खबरों के मुताबिक अखिलेश यादव 23 अप्रैल को अपना नामांकन पत्र भी दाखिल कर सकते हैं. इसके लिए पार्टी की ओर से तैयारियां की जा रही हैं.








...

VVPAT वेरिफिकेशन मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवा

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) के वोटों और वोटर वेरिफिएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (VVPAT) पर्चियों की 100% क्रॉस-चेकिंग की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में 16 अप्रैल को सुनवाई हुई। इसमें एडवोकेट प्रशांत भूषण ने दलील दी कि VVPAT की स्लिप बैलट बॉक्स में डाली जाएं। जर्मनी में ऐसा ही होता है। इस पर जस्टिस दीपांकर दत्ता ने कहा कि वहां के एग्जाम्पल हमारे यहां नहीं चलते।

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस दीपांकर दत्ता की बेंच ने मामले की सुनवाई की। याचिकाकर्ताओं की तरफ से एडवोकेट प्रशांत भूषण, गोपाल शंकरनारायण और संजय हेगड़े ने पैरवी की। प्रशांत भूषण एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) की तरफ से पेश हुए। मामले में करीब दो घंटे सुनवाई हुई। अब 18 अप्रैल को सुनवाई होगी।

VVPAT पर्चियों की 100% वेरिफिकेशन को लेकर एक्टिविस्ट अरुण कुमार अग्रवाल ने अगस्त 2023 में याचिका लगाई गई थी। याचिका में कहा गया कि वोटर्स को VVPAT की पर्ची फिजिकली वेरिफाई करने का मौका दिया जाना चाहिए। वोटर्स को खुद बैलट बॉक्स में पर्ची डालने की सुविधा मिलनी चाहिए। इससे चुनाव में गड़बड़ी की आशंका खत्म हो जाएगी।

कोर्ट ने आयोग से पूछा- EVM से छेड़छाड़ पर कड़ी सजा है?

कोर्ट ने चुनाव आयोग से EVM के बनने से लेकर भंडारण और डेटा से छेड़छाड़ की आशंका तक हर चीज के बारे में बताने को कहा है। बेंच ने पूछा कि क्या वोटिंग के बाद गिनती में किसी गड़बड़ी के आरोपों को खत्म करने के लिए ईवीएम की तकनीकी जांच की जा सकती है? इस पर आयोग ने कहा कि हमारा पक्ष सुने बिना ऐसे कोई संकेत कोर्ट न दे। कोर्ट ने पूछा, क्या EVM में हेरफेर करने पर कड़ी सजा का कानून है? लोगों में डर होना चाहिए। आयोग ने बताया कि इसे लेकर कार्यालय संबंधी कानून हैं।

अभी 5 EVM के वोटों का ही VVPAT पर्चियों से मिलान

इस मामले में पिछली सुनवाई 1 अप्रैल को हुई थी, तब जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस संदीप मेहता की बेंच ने चुनाव आयोग और केंद्र सरकार को नोटिस जारी करके जवाब मांगा था।

फिलहाल किसी भी निर्वाचन क्षेत्र में 5 EVM के वोटों का ही VVPAT पर्चियों से मिलान होता है। याचिका में कहा गया कि चुनाव आयोग ने लगभग 24 लाख VVPAT खरीदने के लिए 5 हजार करोड़ रुपए खर्च किए हैं, लेकिन केवल 20,000 VVPAT की पर्चियों का ही वोटों से वेरिफिकेशन किया जा रहा है।

क्या होती है VVPAT मशीन?

यह एक वोट वेरिफिकेशन सिस्टम है, जिससे पता चलता है कि कि वोट सही तरीके से गया है या नहीं। यह EVM से कनेक्टेड होता है। जब वोटर EVM में किसी पार्टी का बटन दबाता है, तो VVPAT में उस पार्टी के नाम और सिंबल की एक पर्ची प्रिंट होती है।

यह पर्ची मशीन के ट्रांसपेरेंट विंडो पर 7 सेकेंड तक दिखती है। इसे देखकर वोटर कंफर्म कर पाता है कि EVM में उसका वोट सही गया या नहीं। 7 सेकेंड के बाद यह पर्ची VVPAT मशीन के अंदर चली जाती है।

पर्चियों का इस्तेमाल EVM के नतीजों को क्रॉस-चेक करने के लिए किया जा सकता है। हालांकि, ऐसा बहुत कम ही होता है। वोटों से छेड़छाड़ या काउंटिंग में धांधली के आरोप पर चुनाव आयोग दोनों के मिलान का निर्देश दे सकता है।

भारत में VVPAT मशीन का इस्तेमाल पहली बार 2014 के आम चुनावों में किया गया था। इसे इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (ECIL) और भारत इलेक्ट्रॉनिक लिमिटेड (BEL) ने बनाया है।

पहले भी सुप्रीम कोर्ट में कई बार उठा है मुद्दा

2019 के लोकसभा चुनावों से पहले, 21 विपक्षी दलों ने EVM के वोटों से कम से कम 50 फीसदी VVPAT पर्चियों के मिलान की मांग की थी। उस समय चुनाव आयोग हर निर्वाचन क्षेत्र में सिर्फ एक EVM के वोटों का VVPAT पर्चियों से मिलान करता था। हालांकि, चुनाव आयोग ने तर्क दिया कि ऐसा करने पर नतीजों में पांच से छह दिन की देरी होगी।

सुप्रीम कोर्ट ने 8 अप्रैल, 2019 को मिलान के लिए EVM की संख्या 1 से बढ़ाकर 5 कर दी थी। इसके बाद मई 2019 कुछ टेक्नोक्रेट्स ने सभी EVM के VVPAT से वेरिफाई करने की मांग की याचिका लगाई थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था।

इसके अलावा एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स ने भी जुलाई 2023 में वोटों के मिलान की याचिका लगाई थी। इसे खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा था- कभी-कभी हम चुनाव निष्पक्षता पर ज्यादा ही संदेह करने लगते है।



...

पूर्वांचल में रण तैयार, जानें किस सीट पर कौन है उम्मीदवार

उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों पर सात चरणों में मतदान होना है, पहले चरण में पश्चिमी यूपी  की सीटों पर वोटिंग होगी, जबकि आखिरी छठे और सातवें चरण में पूर्वांचल में वोटिंग होनी है. पूर्वांचल के तीन मंडलों आजमगढ़, मिर्जापुर औ वाराणसी की 12 सीटों में से एनडीए ने 11 और इंडिया गठबंधन की ओर से 8 प्रत्याशियों के नाम घोषित कर दिए गए हैं. जिसके बाद पूर्वांचल का सियासी तापमान बढ़ना शुरू हो गया है. 

पूर्वांचल में कई बड़ी सीटों पर दिग्गजों की टक्कर देखने को मिलेगी, ऐसे में यहां के चुनाव पर हर किसी की नजर टिकी हुई है. शुरुआत देश की सबसे वीवीआईपी पीएम मोदी की वाराणसी लोकसभा सीट  करते हैं. बीजेपी ने अपनी पहली ही सूची में यहां से पीएम मोदी के नाम का एलान कर चुकी है, जबकि गठबंधन में ये सीट कांग्रेस के खाते में आई है. अजय राय यहां सपा-कांग्रेस गठबंधन प्रत्याशी हैं. 

गाजीपुर में भी लड़ाई हुई दिलचस्प

दूसरी वीवीआईपी सीट गाजीपुर है. इस सीट से सपा ने मुख्तार अंसारी और सांसद अफजाल अंसारी को मैदान में उतारा है. इस सीट पर मुस्लिम अच्छी खासी तादाद में हैं ऐसे में यहां सपा मज़बूत स्थिति में हैं लेकिन बीजेपी ने आरएसएस से जुड़े पारसनाथ राय को टिकट दिया है. इस सीट पर पिछले बार बसपा ने जीत हासिल की थी, लेकिन अब अफजाल सपा के टिकट से चुनाव लड़ रहे हैं. 

आजमगढ़ लोकसभा सीट पर बीजेपी सांसद दिनेश लाल यादव निरहुआ और अखिलेश यादव के चचेरे भाई धर्मेंद्र यादव के बीच टक्कर देखने को मिलेगी. बसपा ने इस सीट पर अपने पत्ते नहीं खोले हैं. जबकि भदोही सीट से टीएमसी नेता ललितेश पति त्रिपाठी गठबंधन के प्रत्याशी के तौर चुनाव लड़ रहे हैं उनका मुक़ाबला बीजेपी के डॉ विनोद बिंद से हैं. 

अपना दल के उम्मीदवार

यूपी की मिर्जापुर सीट एनडीए में अपना दल (एस) के खाते में हैं. यहां से केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल का मुक़ाबला सपा के राजेंद्र एस बिंद से हैं, बसपा ने मनीष त्रिपाठी पर दांव लगाया है. लालगंज सीट से बीजेपी ने नीलम सोनकरस सपा ने दारोगा प्रसाद सरोज और बसपा ने डॉ इंदु चौधरी को टिकट दिया है. 

घोसी लोकसभा सीट पर एनडीए से सुभासपा नेता अरविंद राजभर, सपा से राजीव राय और बसपा से बालकृष्ण के बीच त्रिकोणीय मुक़ाबला है, जबकि चंदौली सीट से बीजेपी के महेंद्रनाथ पांडेय, सपा से वीरेंद्र सिंह औ बसपा से सत्येंद्र कुमार मौर्य चुनावी मैदान में हैं. 

यूपी की बलिया सीट पर बीजेपी ने पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर को टिकट दिया है. वहीं जौनपुर में बीजेपी ने कृपाशंकर सिंह और मछली शहर से बीपी सरोज को टिकट दिया है. इन तीनों सीटों पर विपक्ष की ओर से अब तक प्रत्याशियों के नाम का एलान नहीं किया गया है. 


...

बीमा भारती ने पूर्णिया सीट से चुनाव लड़ने का किया ऐलान

 बीमा भारती पूर्णिया लोकसभा सीट से आरजेडी के टिकट से चुनाव लड़ेंगी. पूर्णिया में संवाददाता सम्मेलन कर बीमा भारती ने बुधवार को कहा कि आरजेडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने उन्हें सिंबल भी दे दिया है और तीन अप्रैल को पूर्णिया सीट से नामांकन करेंगी. उन्होंने कहा कि महागठबंधन में कोई विवाद नहीं है. पूर्णिया में सभी महागठबंधन के दलों का समर्थन उन्हें प्राप्त है. वहीं, पप्पू यादव के सवाल पर उन्होंने कहा कि पप्पू यादव (Pappu Yadav) भी उनके साथ हैं और यह सीट हम भारी मतों से जीतेंगे.


...

BJP ने जारी किया विधानसभा उपचुनाव के लिए उम्मीदवारों की लिस्ट

भारतीय जनता पार्टी ने आज (26 मार्च) गुजरात, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक और बंगाल में आगामी उपचुनावों के लिए उम्मीदवारों की सूची जारी की है। गुजरात के पांच विधानसभा सीटों पर चुनाव होने वाले हैं। हिमाचल प्रदेश के छह सीटों पर चुनाव होंगे। इसके अलावा, कर्नाटक में एक और बंगाल में दो सीटों पर चुनाव होंगे।

भगवानगोला सीट से सरकार लड़ेंगे चुनाव

राज्य की दो विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होना है। इन दोनों ही सीटों के लिए भाजपा ने मंगलवार को अपने प्रत्याशी के नामों की घोषणा कर दी। महानगर के बारानगर से कोलकाता नगर निगम के पार्टी पार्षद सजल घोष और मुर्शिदाबाद के भगवानगोला सीट से सरकार को मैदान में उतारा है।

बारानगर के तृणमूल विधायक तापस राय ने इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो गए हैं और वे कोलकाता उत्तर लोकसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी के रूप में मैदान में हैं। वही भगवानगोला सीट तृणमूल विधायक इदरीश अली के निधन की वजह से रिक्त हुआ था।

वहीं, भाजपा ने सिक्किम में आगामी विधानसभा चुनावों के लिए नौ उम्मीदवारों की घोषणा की है। 

बीजेपी ने ग्यालशिंग-बरन्याक निर्वाचन क्षेत्र से भीम कुमार शर्मा, नामची-सिंघीथान से अरुणा मंगेर और मेली से योगेन राय को मैदान में उतारा है। फुरबा रिनजिंग शेरपा, पेम्पो शेरिंग लेप्चा, चेवांग दादुल भूटिया और निरेन भंडारी सहित अन्य भी मैदान में हैं।


...

डीएमके ने जारी कर दी लोकसभा की लिस्ट

तमिलनाडु में द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम (DMK) ने 19 अप्रैल को होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए 21 उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है. पार्टी ने घोषणापत्र भी जारी किया है. तमिलनाडु की सभी 39 सीटों पर पहले चरण में मतदान होना है. यहां डीएमके विपक्षी गठबंधन का हिस्सा है और कई दलों के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है, डीएमके के साथ कांग्रेस सहित अन्य क्षेत्रीय दल भी हैं. 

तमिलनाडु में डीएमके 21 और कांग्रेस 9 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ रही है. आईयूएमएल, एमडीएमके और केएमडीके के खाते में एक-एक सीट गई है. सीपीएम, वीसीके, सीपीआई को दो-दो सीटें मिली हैं. 

किस सीट से किसे मिला मौका?

लोकसभा सीट    उम्मीदवार

चेन्नई उत्तर    डॉ. कलानिधि वीरसैमी

चेन्नई दक्षिण    अमिलाची थंगापंडियन

चेन्नई सेंट्रल    दयानिधि मारन

श्रीपेरुमबुदुर    डॉ. बालू

कांचीपुरम    जी. सेल्वम

अराकोणम    एस. जगत्रस्तका

वेल्लोर    खातिर आनंद

धर्मपुरी    ए. मणी

तिरुवन्नामलाई    अन्नादुरई

अरणि    धरानिवेंदन

कल्लाकुरिची    मलयारासन

सलेम    सेल्वागणपति

इरोड    प्रकाश

नीलगिरी    ए. राजा

कोयंबटूर    गणपति राजकुमार

पोलाची    इस्वरासैमी

पेरम्बलुर    अरुण नेहरू

तंजावुर    मुरासोली

तेनी    थंगा तमिलसेल्वन

तूथुकुडी    कनिमोझी

तेनकासी    डॉ. रानी श्रीकुमार

 इन सीटों पर चुनाव लड़ेगी कांग्रेस

तमिलनाडु में कांग्रेस 9 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। कृष्णागिरी, तिरुवल्लूर, कुड्डालोर, करूर, शिवगंगा, मायलादुथुराई, तिरुनेलवेली, विरुधुनगर और कन्याकुमारी लोकसभा सीटों पर कांग्रेस अपने प्रत्याशी उतारेगी.


...

चुनाव आयोग ने यूपी, बिहार और गुजरात समेत 6 राज्यों के गृह सचिवों को हटाया

चुनाव आयोग ने सोमवार को गुजरात, यूपी, बिहार, झारखंड, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड के गृह सचिवों को हटा दिया है।इनके अलावा आयोग ने पश्चिम बंगाल पुलिस प्रमुख को हटाने का आदेश भी जारी किया है। बृहन्मुंबई नगर आयुक्त इकबाल सिंह चहल के अलावा अतिरिक्त आयुक्तों, उपायुक्तों को हटाने का आदेश भी जारी किया है।

राजीव कुमार की अध्यक्षता में चुनाव आयुक्त ज्ञानेश कुमार और सुखबीर सिंह संधू की ने सोमवार दोपहर में बैठक के बाद यह फैसला किया।

हटाने की वजह

7 राज्यों में जिन अधिकारियों को हटाया गया है, उनके पास संबंधित राज्यों में मुख्यमंत्री के कार्यालय में दोहरे प्रभार थे, जो चुनावी प्रक्रिया के दौरान जरूरी निष्पक्षता, खासकर कानून व्यवस्था सुरक्षा बलों की तैनाती को लेकर भी समझौता कर सकते थे।

महाराष्ट्र ने कुछ नगर आयुक्त और कुछ अतिरिक्त/उप नगर आयुक्त के संबंध में चुनाव आयोग के निर्देश नहीं माने थे। जिन्हें 16 मार्च को लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के वक्त बताया गया था।


...

भारत निर्वाचन आयोग ने लोकसभा चुनाव की तारीखों का किया एलान, यूपी में होंगे 7 चरणों में चुनाव

देश के साथ ही उत्तर प्रदेश में भी आम चुनाव के एलान के साथ ही तैयारी तेज हो गई है. भारत निर्वाचन आयोग ने नई दिल्ली के विज्ञान भवन में शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस कर तारीखों का एलान कर दिया है. इस बार उत्तर प्रदेश में पांच चरणों में चुनाव होंगे. हम आपको बता रहे हैं कि आपकी लोकसभा सीट पर कब वोटिंग होगी. 

7 चरणों में लोकसभा चुनाव होंगे. पहले चरण की शुरूआत 23 मार्च से होगी. पहले चरण के लिए 19 अप्रैल को वोटिंग होगी. 19 अप्रैल से 7 चरणों में लोकसभा चुनाव होंगे और वोटों की गिनती 4 जून होगी. पहले चरण के लिए 19 अप्रैल, दूसरे चरण के लिए 26 अप्रैल, तीसरे चरण के लिए 7 मई, चौथे चरण के लिए 13 मई, पांचवें चरण के लिए 20 मई, छठवें चरण के लिए 25 मई और अंतिम चरण के लिए एक जून को वोटिंग होगी.

इन सीटों पर पहले चरण में होगी वोटिंग

पहले चरण में राज्य में 8 सीट, दूसरे चरण में 8 सीट, तीसरे चरण में 10 सीट, चौथे चरण में 13 सीट, पांचवें चरण 14 सीट, छठे चरण 14 सीट और सातवें चरण 13 सीटों पर चुनाव होगा. प्रदेश के शाहजहांपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, नगीना, मुरादाबाद, रामपुर और पीलीभीत में पहले चरण के दौरान 20 मार्च से 27 मार्च तक नामांकन होगा और 19 अप्रैल को वोटिंग होगी.

इन सीटों पर दूसरे और तीसरे चरण में वोटिंग

दूसरे चरण में यूपी के अमरोहा, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, गौतम बुद्ध नगर, बुलंदशहर, अलीगढ़ और मेरठ में चुनाव होगा. जहां 28 मार्च से लेकर चार अप्रैल तक नामांकन होगा और इसके बाद 26 अप्रैल को वोटिंग होगी. वहीं तीसरे चरण के दौरान यूपी के संभल, हाथरस, आगरा, फतेहपुर खीरी, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, बदायूं, ओनल और बरेली में चुनाव होगा. यहां 12 अप्रैल से 19 अप्रैल तक नामांकन होगा और इसके बाद सात मई को वोटिंग होगी.


...