गैर मान्यता प्राप्त विद्यालय चलाने वाले प्रबंधक के विरूद्ध मुकदमा दर्ज

बस्ती :  जिले के रुधौली थाना क्षेत्र में बिना मान्यता के स्कूल चलाने वाले प्रबंधक के विरुद्ध खण्ड शिक्षा अधिकारी द्वारा मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि खंड शिक्षा अधिकारी रुधौली राम कुमार सिंह द्वारा तहरीर देकर कहा गया है कि दिलीप चौधरी पीसी एजुकेशन एकेडमी के नाम से बिना मान्यता के विद्यालय चलाया जा रहा है और क्षेत्र के लोगों को धोखा देकर उनसे धन वसूला जा रहा है, पुलिस ने तहरीर के आधार पर विद्यालय प्रबंधक दिलीप चौधरी के विरुद्ध धारा 420, 406 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है।





...

दीनी तालीम ले रहे बच्चे से मौलाना ने किया दुष्कर्म

बरेली (उत्तर प्रदेश) : जिले के कोट मोहल्ले में एक मौलाना से दीनी तालीम (धार्मिक विद्या) लेने वाले नौ साल के बच्चे से कथित दुष्कर्म का मामला सामने आया हैं। बरेली शहर के थाना बारादरी में घटना की रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस ने मौलाना को गिरफ्तार कर लिया है।


बारादरी थाना के निरीक्षक नीरज मलिक ने बताया कि नौ साल का पीड़ित बच्चा कोट मोहल्ले में 21 वर्षीय मौलाना मोहम्मद गुल हसन से दीनी तालीम लेने जाता था। वह सोमवार दोपहर में पढ़ाई के लिए मौलाना के घर गया तो उसने डरा धमका कर बच्चे से दुष्कर्म किया।


उन्होंने बताया कि परिजन का आरोप है कि मौलाना ने बच्चे को धमकी दी कि अगर उसने किसी को कुछ बताया तो उसे और उसके परिवार वालों को वह जान से मार देगा। बच्चा जब घर पहुंचा तो कपड़ों पर खून लगा देख मां-बाप ने उससे इसके बारे में पूछा तो बच्चे ने सारी घटना बता दी। घटना सुनकर मां बाप बच्चे को लेकर थाना आए।


मलिक ने बताया कि बच्चे का चिकित्सीय परीक्षण कराया गया जिसमें दुष्कर्म की पुष्टि हुई है। मंगलवार को आरोपी मौलाना मोहम्मद गुल हसन के खिलाफ मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया।


उन्होंने बताया कि पुलिस ने आरोपी मौलाना को अदालत के सामने पेश किया जहां से उसे जेल भेज दिया गया।



...

फोन पर महिला से अभद्र बातचीत करने के आरोप में तीन पुलिसकर्मी निलंबित

बैतूल (मप्र) : मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में फोन पर एक महिला से अभद्र तरीके से बातचीत करने के मामले में एक उप निरीक्षक सहित तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है।

पुलिस की अनुमंडल अधिकारी नम्रता सोंधिया ने मंगलवार को बताया कि महिला के पति ने बैतूल की जिला पुलिस अधीक्षक (एसपी) सिमाला प्रसाद में शिकायत की कि तीन पुलिसकर्मियों ने फोन पर उसकी पत्नी के साथ लंबी, आपत्तिजनक और अभद्र बातचीत की। अधिकारी ने बताया कि इसके कारण शिकायतकर्ता और उसकी पत्नी के बीच विवाद होने लगा। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा शिकायत की जांच और तथ्यों के सत्यापन के बाद एसपी ने मंगलवार को जिले के आमला पुलिस थाने में पदस्थ उप निरीक्षक अमित पंवार, प्रधान आरक्षक बलराम सरयाम और आरक्षक आदित्य बेले को निलंबित कर दिया। अधिकारी ने बताया कि निलंबन के बाद तीनों पुलिसकर्मियों को बैतूल के पुलिस रक्षित केंद्र से संबद्ध किया गया है।





...

छात्रा को हास्टल से निकाले जाने के विरोध में प्रदर्शन

ऋषिकेश : अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, ऋषिकेश में बीएससी एलाइड हेल्थ साइंसेज पाठ्यक्रम में अध्ययनरत एक छात्रा ने एम्स प्रशासन पर बेवजह हास्टल से बाहर किए जाने का आरोप लगाया है। पाठ्यक्रम से जुड़े छात्रों ने छात्रा के समर्थन में एम्स प्रशासन के खिलाफ मंगलवार को प्रदर्शन किया। एम्स ने छात्रा के आरोपों को गैर वाजिब बताया है।


इस मामले में बीएससी एलाइड हेल्थ साइंसेज पाठ्यक्रम की द्वितीय वर्ष की छात्रा नम्रता यादव ने 11 अक्टूबर को निदेशक एम्स को शिकायती पत्र दिया था। उन्होंने बताया कि छह अक्टूबर 2021 को उन्हें एम्स के नर्सिंग हास्टल में कमरा आवंटित किया गया था। तब उन्हें यह नहीं बताया गया कि उन्हें यह रूम अस्थाई व्यवस्था के तहत दिया जा रहा है।


आरोप है कि आठ अक्टूबर को हास्टल वार्डन ने उनसे रात 9.00 बजे कमरा खाली करा दिया। छात्र ने हास्टल प्रशासन पर मानसिक उत्पीड़न करने का भी आरोप लगाया। इस मामले में पाठ्यक्रम से जुड़े छात्रों ने एम्स के गेट नंबर-2 पर विरोध प्रदर्शन किया। छात्रों का कहना था कि वह विभिन्न प्रदेशों से यहां पढ़ने के लिए आए हैं लेकिन उन्हें हास्टल में नहीं रखा जा रहा है। उन्होंने छात्रा को रात 9.00 बजे हास्टल से निकाले जाने पर भी आक्रोश जताया। विरोध करने वालों में नम्रता यादव, अग्ना, अकरा, यश शर्मा, विकास बिश्नोई, संजय, रूपम राज, राजेंद्र चौधरी आदि शामिल थे।


उधर, इस मामले में एम्स के जनसंपर्क अधिकारी डॉ. हरीश थपलियाल ने बताया कि एम्स ऋषिकेश में सिर्फ एमबीबीएस और बीएससी नर्सिंग पाठ्यक्रम के छात्र- छात्राओं को ही हॉस्टल की सुविधा प्राप्त है। यहां अभी अन्य पाठ्यक्रमों के छात्रों के लिए हास्टल नहीं बने हैं। उन्होंने बताया कि अन्य पाठ्यक्रमों के छात्रों को अपनी व्यवस्था पर एम्स से बाहर रहना होता है, जिस का स्पष्ट उल्लेख पाठ्यक्रम से संबंधित प्रोस्पेक्टस में किया गया है।


उन्होंने बताया कि एम्स प्रशासन को जब ज्ञात हुआ कि एलाइड हेल्थ साइंसेज की छात्रा को नर्सिंग हास्टल में कमरा आवंटित किया गया है, तो उसे शीघ्र कमरा खाली करने का नोटिस दिया गया था। इस बीच सात अक्टूबर को प्रधानमंत्री का कार्यक्रम होने के कारण छात्रा को आठ अक्टूबर तक हास्टल खाली करने को कहा गया था। उन्होंने बताया कि उक्त छात्रा को किस तरह नर्सिंग हास्टल में कमरा आवंटित हुआ, इसकी जांच की जा रही है।





...

डीएम दफ्तर के सामने ई-रिक्शा सवार महिला से पर्स छीना

नोएडा : बाइक सवार बदमाशों ने रविवार शाम को डीएम दफ्तर के सामने ई-रिक्शा सवार महिला से पर्स छीन लिया। वारदात के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए। इस संबंध में पीड़िता ने सेक्टर-20 थाने में शिकायत दी है।


पुलिस को दी शिकायत में महिला ने बताया कि वह शाम किसी काम से बाजार गई थी। वह करीब सात बजे ई-रिक्शा में सवार होकर घर आ रही थी। जब वह डीएम दफ्तर के सामने पहुंची तो पीछे से एक बाइक पर सवार होकर दो बदमाश आए। बदमाशों ने महिला से पर्स छीन लिया।


महिला ने आरोपियों को पकड़ने के लिए शोर मचाया लेकिन वे फरार हो गए। इसके बाद पुलिस को वारदात की सूचना दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर छानबीन की। महिला ने बताया कि वारदात के समय उनके पर्स में मोबाइल, एक हजार रुपये सहित जरूरी दस्तावेज थे। पुलिस ने शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।





...

कारोबार के नाम पर आठ लाख रुपये हड़पे

गाजियाबाद : रसूलपुर सिकरोड़ा गांव में रहने वाले एक युवक से उसके जीजा ने उधार में लिए आठ लाख रुपये हड़प लिए। तगादा करने पर आरोपी उसे जान से मारने की धमकी दे रहा है। इस संबंध में पीड़ित ने मसूरी कोतवाली में तहरीर दी है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।


पुलिस को दी शिकायत में फैजान ने बताया कि उसने अपने जीजा तनवीर उर्फ तलमीस को कारोबार के लिए साढ़े तीन लाख रुपये दिए थे। यह रकम उसने परवेज चौधरी और तलह चौधरी के सामने दिए थे। इस बीच उसने परिजनों के सहयोग से मसूरी में ही मोबाइल की दुकान खोल ली। अब चूंकि उसे अपने खुद के कारोबार को बढ़ाना था। इसलिए उसने अपने जीजा को उधार की रकम देने को कहा। लेकिन एक बार फिर उसके जीजा ने झांसा दिया कि और कहा कि अपनी पहचान की बदौलत मार्केट से सस्ती दरों पर अच्छे मोबाइल फोन दिला देगा। फिर इसके नाम पर आरोपी जीजा ने साढ़े चार लाख रुपये और ले लिए। कई बार तगादा करने के बाद भी जब उसके जीजा ने फोन नहीं दिलाया तो ठगी का अहसास हुआ। इसके बाद उसने अपने रुपये वापस मांगने शुरू किए। 


लेकिन अब उसका जीजा धमकी पर उतर आया। पीड़ित ने बताया कि तगादा करने पर उसके जीजा ने ना केवल जान से मारने की धमकी दी, बल्कि तीन तलाक बोल कर उनकी बहन को भी छोड़ने की धमकी दी है। मसूरी कोतवाल योगेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि तहरीर के आधार पर आरोपी जीजा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।



...

नशे में गाड़ी चलाने से मना करने पर मारपीट

गाजियाबाद : शराब पीकर गाड़ी चलाने से मना करने पर कैब चालक ने सवारी के साथ न केवल मारपीट की है, बल्कि सवारी को उतार कर गाड़ी में रखा सामान लेकर भाग गया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

राजनगर में रहने वाले अभिषेक ने बताया कि शुक्रवार को वह अपने दोस्त नमन बत्रा के साथ रुड़की जा रहे थे। यहां से उन्होंने कैब बुक की थी। घर से निकलने के बाद जैसे ही वह राजनगर एक्सटेंशन में पहुंचे, उन्हें अहसास हुआ कि कैब चालक ने शराब पी रखी है। उन्होंने उससे पूछा तो आरोपी भड़क गया और अजनारा इंटिग्रिटी सोसाइटी के सामने उन्हें गाड़ी से उतार दिया। वह गाड़ी से अपना सामान निकाल ही रहे थे कि आरोपी गाड़ी तेजी से भगा ले गया। पीड़ित ने इस संबंध कैब चालक प्रशांत और गाड़ी मालिक कमल गुप्ता के खिलाफ पुलिस में तहरीर दी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।



...

दामाद ने ससुराल में पत्नी और ससुर से की मारपीट

बल्लभगढ :  बल्लभगढ़ की मुकेश कॉलोनी में एक युवक ने अपने दोस्त के साथ अपनी ससुराल में आकर अपने ससुर व पत्नी के साथ जमकर मारपीट के घायल कर दिया। हमलावर दामाद को ससुराल वालों ने दबोच कर पुलिस के हवाले कर दिया, जबकि उसका दोस्त भागने में सफल हो गया। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।मुकेश कॉलोनी निवासी नेपाल सिंह ने बताया कि उसकी लड़की का विवाह 15 वर्ष पहले (नाम-पूनम) नारायण सिंह के बेटे दलीप सिंह के साथ हुआ था। शादी के बाद से ही लड़की को तंग रखते थे। कई बार सुलहनामा भी हुआ, लेकिन वह लोग अपनी हरकतों से बाज नहीं आते। पीड़ित पिता ने बताया कि उनकी बेटी को एक सप्ताह पहले मारपीट कर घर से निकाल दिया था। इस कारण वह उनके पास यानी मायके में ही रहती है। रविवार सुबह करीब 10.45 पर वह घर से बाहर बैठा हुआ था तभी उसका दामाद व अन्य एक ग्रे रंग कलर की स्कूटी पर उसके घर पर आए। उसने उन्हें आते ही बैठने के लिए कहा तभी उन्होंने मारपीट करने की धमकी दी। इसके बाद उन्होंने उस पर हमला कर दिया। इसके बाद जब उन्हें घर में प्रवेश करने के लिए रोकना चाहा तो उन्होंने उसके सिर पर डंडा मारकर घायल कर दिया। इस बीच उसकी बेटी घर के अंदर वालों कमरे से बाहर आई। तभी उसके हाथ पर भी डंडे से मारा और बालो से घसीटकर बाहर लाने लगे तभी उसने औऱ उसकी बेटी ने बचना चाहा तब भी उनके ऊपर लाठी-डंडों से हमला कर दिया। चिल्लाने की आवाज सुनकर उसका भतीजा राजू व अन्य पड़ोसी वहां आ गए और मौके पर ही उसके दामाद को पकड़ लिया व अन्य दोषी स्कूटी लेकर वहां से भाग गए। तभी किसी ने 112 नम्बर पर फोन किया औऱ पुलिस को बुलाया तथा पकड़े गए युवक को पुलिस के हवाले कर दिया।



...

मऊ में धर्मांतरण करा रहे पादरी सहित कई लोग गिरफ्तार

मऊ :  नगर के कोतवाली थाना क्षेत्र के पिछले कई वर्षों से सहादतपुरा स्थित रोडवेज दुर्गा मंदिर के पीछे एक मकान में चल रहे धर्मांतरण के खेल को आखिरकार पुलिस ने उजागर कर दिया। शिकायत मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने पादरी व महिलाओं सहित करीब 12 लोगों सहित 42 महिलाओं को गिरफ्तार कर कोतवाली ले गई, जहां हिंदू जागरण मंच के द्वारा धर्मांतरण करा रहे आरोपियों के खिलाफ तहरीर दिया गया, तहरीर मिलते ही पुलिस जांच में जुट गई।


गौरतलब है कि सारहु चौकी क्षेत्र अंतर्गत सहादतपुरा रोडवेज स्थित पांच वर्षों से एक मकान में धर्म परिवर्तन का कार्य जोरों शोरों से चल रहा था, जिसकी शिकायत स्थानीय लोगों ने हिंदू जागरण मंच के लोगों को दिया, धर्म परिवर्तन की शिकायत मिलते ही हिंदू जागरण मंच के पदाधिकारी हरकत में आ गए और तत्काल मौके पहुंच गये, जहां भारी संख्या में महिलाओं को दूसरे धर्म के प्रति प्रेरित किया जा था। उसके बाद हिन्दू जागरण मंच के पदाधिकारियों ने भारी संख्या में महिलाओं व पुरुषों को धर्म परिवर्तन करवा रहे पादरी को पकड़ लिया, इसके बाद उन्होंने कोतवाली पुलिस को सूचना दिया।


धर्म परिवर्तन की सूचना मिलते ही पुलिस भी हरकत में आ गई और भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंचकर धर्म परिवर्तन करा रहे मकान मालिक व पादरी सहित लगभग एक दर्जन से अधिक लोगों सहित 42 महिलाओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, जिसमें महिलाएं व पुरूष भी शामिल है।


गिरफ्तार होने वालों में पादरी अब्राहम शकील अहमद व उसकी पत्नी प्रतिभा, अजित कुमार, जितेंद्र, सेंट ग्रेसी, रोशनी, दुर्गावती, हरिकेश, मिंटू,सुनील कुमार, अभिषेक भारद्वाज एवं मकान मालिक विजेंद्र प्रसाद सहित 42 महिलाएं शामिल हैं।


इस मामले में क्षेत्राधिकारी धनन्जय मिश्रा ने बताया कि सूचना मिली थी रोडवेज के पास विजेंद्र प्रसाद के मकान में ईसाईयों द्वारा महिलाओं व पुरुषों को बुलाकर धर्म परिवर्तन किया जा रहा है, जिसकी सूचना पर पादरी समेत महिलाओं को गिरफ्तार किया गया है। जांच में दोषी पाये जाते है तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जायेगी।





...

फर्जी कॉल सेंटर चलाने, अमेरिकी नागरिकों को ठगने के आरोप में चार लोग गिरफ्तार

नई दिल्ली : दक्षिणपूर्वी दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में फर्जी कॉल सेंटर चलाने और खुद को अमेजन के तकनीकी सहयोग दल के अधिकारी बताकर कई अमेरिकी नागरिकों को ठगने के आरोप में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है।


पुलिस ने शनिवार को बताया कि जल्दी पैसा कमाने के लिए मोहम्मद मुकर्रम हुसैन (29), अर्जुन सिंह सैनी (32), गगन भाटिया (30) और शादाब अहमद (25) ने एक फर्जी अंतरराष्ट्रीय कॉल सेंटर शुरू किया और खुद को अमेजन का अधिकारी बताकर कई अमेरिकी नागरिकों से ठगी की।


पुलिस ने बताया कि अपने साथियों की मदद से इन लोगों ने ‘वॉयस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल’ (वीओआईपी) का इस्तेमाल करके फोन किए। अन्य लोगों को पकड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं।


पुलिस ने बताया कि इनके पास से दस मोबाइल फोन, एक वाईफाई राउटर, चार लैपटॉप और दो डेस्कटॉप कम्प्यूटर बरामद किए गए हैं। छह अक्टूबर और सात अक्टूबर की मध्यरात्रि को पुलिस को शाहीन बाग में फर्जी कॉल सेंटर के बारे में सूचना मिली थी।


पुलिस उपायुक्त (दक्षिणपूर्व) ईशा पांडेय ने बताया, ‘‘सुबह करीब साढ़े चार बजे टीम ने ठिकाने पर छापा मारा जहां उन्होंने चार लोगों को विदेशियों के साथ टेलीफोन पर बात करते हुए पाया। उनकी स्क्रीन पर अंतरराष्ट्रीय नंबर दिख रहे थे। पुलिस दल को देखने पर उन्होंने भागने की कोशिश की, लेकिन उन्हें पकड़ लिया गया।’’


उन्होंने बताया कि मामला दर्ज कर चारों को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि जांच में पता चला कि आरोपियों ने तकनीकी साधनों के जरिए ऐसी व्यवस्था की थी कि इंटरनेट पर कोई भी सर्च किए जाने पर उनकी फर्जी वेबसाइट का टोल फ्री नंबर सबसे ऊपर दिखायी देता था। सर्च करते हुए पीड़ित मुख्यत: अमेरिकी नागरिक अपनी शिकायत दर्ज कराने या तकनीकी सहयोग पाने के लिए उनसे संपर्क करते थे।


उन्होंने बताया कि सेवाओं की पेशकश करने के लिए वे अमेजन गिफ्ट कार्ड के जरिए पीड़ितों से पैसे लेते और इसके बाद एक ट्रेडिंग मंच के जरिए इन पैसों को हासिल करते थे।





...

रूस में अमेरिकी राजनयिकों पर चोरी का संदेह : विदेश मंत्रालय

मास्को : रूसी विदेश मंत्रालय ने घोषणा की है कि मास्को में अमेरिकी दूतावास के तीन कर्मचारियों पर एक रूसी नागरिक का निजी सामान चुराने का संदेह है।


शुक्रवार को टीएएसएस न्यूज एजेंसी को दिए एक बयान में, मंत्रालय ने कहा कि रूस ने दूतावास को एक आधिकारिक राजनयिक नोट भेजा है जिसमें संदिग्ध कर्मचारियों के खिलाफ आपराधिक आरोप लगाने के लिए उनकी राजनयिक छूट वापस लेने के लिए कहा गया है।


अमेरिकी दूतावास को एक रूसी नागरिक से व्यक्तिगत सामान की चोरी के संदिग्धों के रूप में पदनाम पर अमेरिकी राजनयिक मिशन के तीन कर्मचारियों से राजनयिक छूट प्राप्त करने के अनुरोध के साथ एक नोट भेजा गया था।


मंत्रालय ने कहा, क्या दूतावास को प्रतिरक्षा वापस लेने से इनकार करना चाहिए, उन लोगों को तुरंत रूसी क्षेत्र छोड़ना चाहिए।


संदिग्धों की पहचान सहित अन्य कोई जानकारी सामने नहीं आई है।





...

कंपनी के जीएम का अपहरण कर दो घंटे तक बंधक बनाया, फिर लूटपाट कर पेचकस से किया घायल

ग्रेटर नोएडा :  बीटा दो कोतवाली क्षेत्र में बदमाशों का तांडव लगातार जारी है। बृहस्पतिवार सुबह घर से ड्यूटी जाने के लिए निकले कंपनी के जीएम का कार सवार बदमाशों ने अपहरण कर लिया। शहर की सड़कों पर बंधक बनाकर उनको दो घंटे कार में घुमाया। बदमाशों ने एटीएम से बीस हजार रुपये निकलवाए। पर्स में मौजूद नकदी लूट ली। लूटपाट का विरोध करने पर बदमाशों ने जीएम को पेचकस मारकर घायल कर दिया। जीएम के शरीर में गंभीर चोट लगी है।


कुल नौ जगह बदमाशों ने पेचकस मारकर हमला किया। शिकायत के आधार पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। शहर के सेक्टर बीटा एक में मृगेंद्र कुमार कटारिया (67) अपने परिवार के साथ रहते है। वह दिल्ली स्थित एक कंपनी में जीएम है। मृगेंद्र रोजाना कार से आफिस जाते है। बृहस्पतिवार को जाम की स्थिति होने की वजह से वह मेट्रो से आफिस जाने के लिए घर से निकले।


वह आटो के इंतजार में रयान गोलचक्कर के समीप खड़े थे। तभी एक कार में सवार होकर चार बदमाश आए और जीएम का अपहरण कर लिया। उनके साथ लूटपाट की। विरोध करने पर पेचकस मारकर घायल कर दिया। पीड़ित ने बदमाशों से कहा कि वह उनके पिता की उम्र का है। यह सुनकर भी बदमाशों का कलेजा नहीं पसीजा। वह मारपीट करते रहे। दो घंटे तक बंधक बनाकर घुमाने के बाद बदमाश जीएम को सिल्वर सिटी सोसायटी के समीप छोड़ कर फरार हो गए। पीड़ित के मुताबिक बदमाशों के पास स्वाइप मशीन भी थी।


छह महीने से सक्रिय पेचकस गिरोह: पेचकस गिरोह पिछले छह महीने से शहर की सड़कों पर ताबड़तोड़ आपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहा है। बीटा दो कोतवाली पुलिस पिछले छह महीने से पेचकस गिरोह का पर्दाफाश करने का दावा कर रही है, लेकिन दावे खोखले साबित हुए है।


इन घटनाओं का नहीं हुआ पर्दाफाश


बीटा दो कोतवाली क्षेत्र में परीचौक से चालक से वेंटो कार लूटी।

बीटा दो कोतवाली क्षेत्र में आर्किटेक्ट युवती से डेढ़ लाख का लैपटाप लूटा।

बीटा दो कोतवाली क्षेत्र में परीचौक के समीप इंजीनियर को आटो से गिराकर लूटपाट।

दनकौर कोतवाली क्षेत्र में यमुना एक्सप्रेस वे पर क्रेटा कार लूटी।

नालेज पार्क कोतवाली क्षेत्र स्थित फार्म हाउस से दो लाइसेंसी हथियार लूटे।


वर्जन: तीन टीमों को घटना के पर्दाफाश में लगाया गया है। कुछ अहम सुराग हाथ लगे है। जल्द ही घटना का पर्दाफाश किया जाएगा। अभिषेक, डीसीपी ग्रेटर नोएडा






...

पैसे लेकर डेंगू व बुखार की दवा पिला रहे दो दबोचे

नोएडा :  पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग की अनुमति के बिना डेंगू व वायरल बुखार की दवाई पिलाने के बहाने ठगी करने वाले दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपी 70 रुपये लेकर बच्चों को डेंगू व वायरल की दवा पिला रहे थे। पुलिस ने आरोपियों ने दवाईयां भी बरामद की है।


फेस तीन थाना प्रभारी ने बताया कि गुरुवार को छिजारसी गांव की 25 फुटा कॉलोनी में दो युवक पहुंचे। आरोपी कॉलोनी में बच्चों को डेंगू व वायरल बुखार की दवा पिलाने लगे। इसके एवज में प्रत्येक बच्चों के परिजनों से 70 रुपये ले रहे थे। दवा पिलाने के साथ आरोपी फर्जी प्रमाण पत्र भी दे रहे थे। आरोपियों पर शक होने पर कॉलोनी के मोहम्मद जुबैर ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दोनों को गिरफ्तार कर लिया।


पुलिस पूछताछ में आरोपियों की पहचान हरुन कुमार निवासी वंदन विहार खोड़ा कालोनी गाजियाबाद और लक्की निवासी शाहदरा दिल्ली के रूप में हुई है। आरोपी स्वास्थ्य विभाग की अनुमति के बगैर बच्चों का दवा पिला रहे थे। जांच में पता चला है कि आरोपी पहले कुछ अस्पतालों में काम कर चुके हैं। साथ ही कुछ सामाजिक संस्थानों के साथ आरोपियों ने काम किया है। पुलिस ने आरोपियों से चार ड्राप की प्लास्टिक शीशी, एसबीएल होम्योपैथीक ड्राप की शीशी और आठ फर्जी प्रमाण पत्र बरामद किए गए हैं। आरोपियों के खिलाफ इंडियन मेडिकल काउंसिल एक्ट के तहत केस दर्ज कर जेल भेज दिया गया।






...

छात्राओं व शिक्षिकाओं को तंग करने व फर्जी फोटो ऑनलाइन अपलोड करने के मामले में छात्र गिरफ्तार

नयी दिल्ली : दिल्ली के एक प्रतिष्ठित स्कूल की छात्राओं और शिक्षिकाओं का पीछा करने और उनकी फर्जी तस्वीरें सोशल मीडिया पर डालने के आरोप में बिहार से भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) के छात्र को गिरफ्तार किया गया है।


पटना निवासी महावीर (19) आईआईटी-खगड़कपुर से बीटेक कर रहा है। पुलिस के मुताबिक, उसने उत्तरी दिल्ली के एक प्रतिष्ठित स्कूल की 50 से अधिक छात्राओं और शिक्षिकाओं को परेशान किया है।


उन्होंने बताया कि महावीर फर्जी कॉलर आईडी का इस्तेमाल करता था और पीड़िताओं से ‘विर्जुअल नंबर’ से व्हाट्सऐप पर संपर्क करता था। अपनी पहचान छुपाने के लिए वह आवाज़ बदलने वाली ऐप का भी इस्तेमाल करता था।


पुलिस ने बताया कि वह पीड़िताओं के नाम से इंस्टाग्राम पर फर्जी प्रोफाइल बनाता था और उनपर छात्राओं की छेड़छाड़ की गई तस्वीरों को अपलोड करता था।


‘साइबर स्टॉकिंग’ (इंटरनेट पर पीछा करने) को लेकर बुधवार को स्कूल प्रशासन से शिकायत मिलने के बाद मामला सामने आया।


शिकायत के मुताबिक, आरोपी ने सोशल मीडिया पर नाबालिग लड़कियों का पीछा किया और उन्हें वाट्सएप पर मैसेज भेजे। उसने विभिन्न अंतरराष्ट्रीय नंबरों से शिक्षिकाओं को फोन किया और उन्हें परेशान किया।


शिकायत में कहा गया है कि आईआईटी का छात्र उन व्हाट्सऐप ग्रुप में शामिल हो गया जो ऑनलाइन कक्षाओं के लिए बनाए गए हैं।


उसमें कहा गया है कि कई छात्राओं की तस्वीरों से छेड़छाड़ कर उन्हें सोशल मीडिया पर डाला गया है। उत्तरी दिल्ली के पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) सागर सिंह कालसी ने बताया कि सिविल लाइंस थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 354-डी (पीछा करने) के तहत मामला दर्ज किया गया था और जिले की साइबर प्रकोष्ठ इकाई की मदद ली गई और बाद में मामले में पोक्सो अधिनियम और आईटी अधिनियम की संबंधित धाराएं प्राथमिकी में शामिल की गईं।


पुलिस ने जांच के तहत स्कूली छात्राओं, उनके अभिभावकों और शिक्षिकों से पूछताछ की। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि उन्होंने 33 ‘व्हाट्सऐप विर्चुअल नंबरों’, पांच इंस्टाग्राम प्रोफाइल और फर्जी कॉलर आईडी का इस्तेमाल करके की गई कई कॉल की पहचान कर ली।


डीसीपी ने बताया कि इसके बाद आरोपी की पहचान महावीर के तौर पर हुई और उसके बिहार के पटना में होने का पता चला जहां से उसे गिरफ्तार कर लिया गया। 






...

बीमा पॉलिसी के नाम पर 85 लाख की ठगी

गाजियाबाद : बीमा पालिसी के नवीनीकरण के नाम पर जालसाजों ने एक सेवानिवृत्त प्रोफेसर के साथ 85 लाख रुपये की ठगी की है। जालसाजों ने पीड़ित प्रोफेर से एक महीने के अंदर 30 बार में यह रकम अपने खाते में जमा कराई है। ठगी का एहसास होने पर पीड़ित ने साइबर सेल में शिकायत दी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।


कौशांबी थाना क्षेत्र के रहने वाले पीड़ित ने बताया कि वह दिल्ली विश्वविद्यालय से सेवानिवृत्त हैं। उनके बेटे ने एक निजी बैंक से पॉलिसी करवाई थी। 2016 में हुई यह पॉलिसी कोरोना काल में लैप्स हो गई थी। इसके बाद आरोपियों ने इस पॉलिसी के नवीनीकरण के लिए लुभावने ऑफर दिए और कहा कि घर बैठे यह पॉलिसी फिर से चालू हो जाएगी। जालसाजों की बात में आकर उन्होंने उनके खाते में पैसे डाल दिए। एक महीने के अंदर 30 बार में 85 लाख रुपये का भुगतान करने के बाद उन्हें ठगी का एहसास हुआ तो उन्होंने पुलिस में शिकायत दी। साइबर सेल की टीम मामले की जांच कर रही है।





...

बैंक में व्यक्ति से धोखाधड़ी कर दो लाख रुपये चोरी

पलवल : कैंप थाना क्षेत्र स्थित बैंक में रुपये जमा कराने गए व्यक्ति के साथ धोखाधड़ी कर दो लाख रुपये चोरी का मामला सामने आया है। पुलिस ने पीडि़त की शिकायत पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

पुलिस जांच अधिकारी जीतराम के अनुसार अगवानपुर गांव निवासी रमेश ने शिकायत दर्ज कराई है कि गत 30 सितंबर को वह पंजाब नेशनल बैंक में 2 लाख रुपये जमा कराने के लिए आया था। बैंक में एक व्यक्ति मिला, जिसने अपने आप को बैंक का कर्मचारी बताते हुए केवाईसी फॉर्म भरने के लिए कहा। पीडि़त जब केवाईसी फॉर्म भरने लगा तो उसी दौरान वह व्यक्ति बड़ी सफाई के साथ उसके दो लाख रुपये चोरी कर चला गया। पुलिस ने पीडि़त की शिकायत के आधार पर अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।






...

उज्बेकिस्तान की दो महिलायें भारत-नेपाल सीमा पर गिरफ्तार

महाराजगंज (उप्र) : उत्तर प्रदेश के महाराजगंज में उज्बेकिस्तान की दो महिलाओं को बिना वैध वीजा और पासपोर्ट के भारत-नेपाल सीमा क्षेत्र से देश में घुसने की कोशिश के आरोप में गिरफ्तार किया गया। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी।


अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि उज्बेकिस्तान की रहने वाली रूहशोना सुवोनावक और इमिनोवा मबलूदा हौन बृहस्पतिवार शाम सोनौली इलाके में घूम रही थीं, तभी उन्हें पुलिस ने नियमित जांच के लिए रोका।


सोनौली कोतवाली के इंस्पेक्टर शशांक शेखर राय ने बताया कि दोनों काठमांडू (नेपाल) से भारत आयी थीं। दोनों को सोनौली (बगवानपुर) इलाके में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया क्योंकि उनके पास वीजा और पासपोर्ट नहीं थे।


सोनौली भारत-नेपाल सीमा पर स्थित है। राय ने बताया कि इस संबंध में मामला दर्ज किया गया है और खुफिया एजेंसियों को मामले की सूचना दे दी गई है।




...

रियो ओलंपिक: 10 से अधिक मुक्केबाजी मुकाबलों में ‘पैसे’ के लिए हेराफेरी, जांच में हुआ खुलासा

 नई दिल्ली :  स्वतंत्र जांच में खुलासा हुआ है कि 2016 रियो ओलंपिक की मुक्केबाजी प्रतियोगिता के 10 से अधिक मुकाबलों में ‘पैसे’ या अन्य ‘फायदों’ के लिए हेरफेर की गई थी। इस खुलासे के बाद अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ (एआईबीए) ने आगामी पुरुष विश्व चैंपियनशिप में रैफरी और जज के लिए ‘कड़ी’ चयन प्रक्रिया का वादा किया है।


एआईबीए को मैकलारेन ग्लोबल स्पोर्ट्स सॉल्युशंस (एमजीएसएस) की मुक्केबाजी की स्वतंत्र जांच की पहले चरण की रिपोर्ट मिल गई है जो पीटीआई के पास भी है। इसमें खुलासा किया गया है कि रियो में अधिकारियों द्वारा मुकाबलों में हेरफेर की प्रणाली मौजूद थी। कुल मिलाकर दो फाइनल सहित 14 मुकाबले जांच के दायरे में हैं।


रिपोर्ट में खेलों में अधिकारियों की संदेहास्पद नियुक्तियों के संदर्भ में किया गया, ‘‘यह सेंटा क्लॉज के भ्रष्ट और शिष्ट के मिथक का पूरी तरह उलट है। भ्रष्ट लोगों को रियो में नियुक्ति दी गई क्योंकि वे इच्छुक थे या दबाव में हेराफेरी के किसी आग्रह का समर्थन करने को तैयार थे जबकि शिष्ट लोगों को बाहर कर दिया गया। ’’


जांच में खुलासा हुआ है कि रियो के नतीजों को हेराफेरी का षड्यंत्र लंदन ओलंपिक 2012 से पहले भी रचा गया और 2016 टूर्नामेंट के क्वालीफाइंग टूर्नामेंटों के दौरान इसका ट्रायल किया गया।


इसमें कहा गया, ‘‘पैसे और एआईबीए से फायदे के लिए मुकाबलों में हेरफेर की गई या राष्ट्रीय महासंघों और उनकी ओलंपिक समितियों का आभार जताने के लिए और कुछ मौकों पर प्रतियोगिता के मेजबान की उसके वित्तीय समर्थन और राजनीतिक समर्थन के लिए। ’’


इसमें कहा गया, ‘‘आज तक की जांच में निष्कर्ष निकलता है कि इस तरह की हेराफेरी में कई मौकों पर छह अंक की मोटी धनराशि जुड़ी होती थी। हेराफेरी की प्रणाली भ्रष्ट रैफरी और जज तथा ड्रॉ आयोग से जुड़ी थी।’’


एआईबीए ने विस्तृत कार्रवाई और रैफरी तथा जजों की नियुक्ति के लिए कड़ी प्रक्रिया का वादा किया है।


अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति से दोबारा मान्यता हासिल करने का प्रयास कर रहे एआईबीए ने कहा, ‘‘एआईबीए रियो 2016 मुक्केबाजी टूर्नामेंट की जांच के नतीजों से चिंतित है और पुष्टि करता है कि विस्तृत सुधारवादी कदम उठाए जाएंगे जिससे कि मौजूदा एआईबीए प्रतियोगिताओं की अखंडता बनी रहे।’’


अब 24 अक्टूबर से सर्बिया के बेलग्राद में शुरू हो रही विश्व चैंपियनशिप के लिए नियुक्त होने वाले रफैरी, जज और तकनीकी अधिकारियों को कड़ी चयन प्रक्रिया से गुजरना होगा जिसमें रिचर्ड मैकलारेन की अगुआई वाला एमजीएसए उनकी पृष्ठभूमि और अन्य जांच भी करेगा।


एआईबीए की रिपोर्ट में कहा गया है कि एआईबीए के तत्कालीन प्रमुख चिंग कुओ वू रियो में हुए प्रकरण के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार थे।


जांच में कहा गया है दो मुकाबले ऐसे थे जिन्होंने पूरी प्रणाली को सार्वजनिक तौर पर धाराशायी कर दिया।


पहला मुकाबला विश्व एवं यूरोपीय चैंपियन माइकल कोनलान तथा रूस के व्लादिमीर निकितिन के बीच बैंटमवेट क्वार्टर फाइनल था। इसमें कोनलान को रिंग में दबदबा बनाने के बावजूद हार झेलनी पड़ी। कोनलान ने रैफरी और जज से कैमरा के सामने दुर्व्यवहार किया और बाद में पेशेवर मुक्केबाज बन गए।


दूसरा स्वर्ण पदक का हैवीवेट मुकाबला था जो रूस के येवगेनी तिसचेंको और कजाखस्तान के वेसिली लेविट के बीच खेला। लेविट को भी दबदबा बनाने के बावजूद हार का सामना करना पड़ा था।





...

ड्रग्स केस: एनसीबी को बड़ी सफलता, सुशांत सिंह राजपूत के फरार दोस्त कुणाल जानी गिरफ्तार

मुंबई : दिवंगत ऐक्टर सुशांत सिंह राजपूत से जुड़े ड्रग्स मामले में अब एनसीबी (नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो) ने अब होटल व्यवसायी कुणाल जानी को गिरफ्तार किया है। कुणाल जानी, सुशांत सिंह राजपूत के करीबी दोस्त हैं और लंबे समय से फरार थे। लेकिन एनसीबी ने कुणाल जानी को मुंबई के खार एरिया से गिरफ्तार कर लिया है।


एएनआई ने एक ट्वीट में इसकी पुष्टि की है। कुणाल जानी चूंकि सुशांत के करीबी दोस्त रहे हैं, ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि कुछ नए खुलासों के साथ-साथ हो सकता है सुशांत के बारे में भी कुछ नई जानकारी मिले। बताया जा रहा है कि कुणाल जानी, सुशांत की मौत के बाद से ही फरार चल रहे थे।


बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत की 14 जून 2020 की मौत हो गई थी। वह अपने फ्लैट में मृत पाए गए थे, जिसके बाद 3 जांच एजेंसियों ने केस की कमान अपने हाथों में ली। सीबीआई, ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) और एनसीबी ने मिलकर सुशांत केस की जांच की। जांच के दौरान ड्रग्स एंगल सामने आया तो अफरा-तफरी मच गई।


ड्रग्स मामले में एनसीबी ने सुशांत की कथित गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती से पूछताछ की और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। हालांकि कुछ दिन बाद ही उन्हें जेल से बेल पर रिहा कर दिया गया था।


सुशांत से जुड़े ड्रग्स मामले में एनसीबी ने कई बॉलिवुड हस्तियों से पूछताछ की, जिनमें दीपिका पादुकोण से लेकर सारा अली खान और रकुल प्रीत सिंह का भी नाम शामिल है। इस मामले में सुशांत सिंह राजपूत की खास दोस्त रिया चक्रवर्ती को मुख्य आरोपी बनाया गया। सुशांत की मौत के बाद उनके पिता ने रिया चक्रवर्ती पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाते हुए पटना में एफआईआर भी दर्ज करवाई थी।


वहीं कुछ महीने पहले एनसीबी ने इस मामले में सिद्धार्थ पिठानी को गिरफ्तार किया था। सुशांत की मौत के बाद उनकी जिंदगी से जुड़े कई लोगों का नाम मीडिया में आया था, जिसमें से एक नाम पिठानी का भी था। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सुशांत की बॉडी को पहली बार सिद्धार्थ ने ही घर के अंदर पंखे से लटके हुए देखा था, जिसके बाद उन्होंने पुलिस और हॉस्पिटल को फोन किया। गिरफ्तारी के बाद से ही सिद्धार्थ पिठानी जेल में हैं। कुछ हफ्ते पहले ही उन्होंने कोर्ट में अपनी जमानत की अर्जी दी थी, जिसे रिजेक्ट कर दिया गया।






...

उप्र: जमानत पर रिहा बलात्कार का आरोपी दोबारा गिरफ्तार, पीड़िता को प्रताड़ित करने का आरोप

मुजफ्फरनगर (उप्र) : उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में जमानत पर रिहा बलात्कार के एक आरोपी को पीड़िता को प्रताड़ित करने की कोशिश करने के आरोप में फिर से गिरफ्तार कर लिया गया।


पुलिस ने बृहस्पतिवार को बताया कि हरपाल सिंह (50) एक किशोरी से बलात्कार के मामले में पिछले पांच साल से जेल में था। घटना के समय पीड़िता की उम्र 16 साल थी।


थाना प्रभारी राधे श्याम यादव ने बताया कि आरोपी कुछ दिन पहले ही जमानत पर जेल से रिहा हुआ था और वह तितावी थाना क्षेत्र स्थित पीड़िता के गांव गया तथा उसे प्रताड़ित करने की कोशिश की।


उन्होंने बताया कि पीड़िता की शिकायत के बाद उसे बुधवार को फिर से गिरफ्तार कर लिया गया।







...

तीसरी बार तलाक ले रही हैं बांग्ला ऐक्ट्रेस श्राबंती चटर्जी, पति रोशन सिंह पर लगाए नामर्दी के आरोप?

मुंबई : मशहूर बांग्ला ऐक्ट्रेस श्राबंती चटर्जी केवल अपनी फिल्मों ही नहीं बल्कि पर्सनल लाइफ के लिए भी चर्चा में रहती हैं। अब खबर आ रही है कि श्राबंती चटर्जी अपनी तीसरी शादी भी खत्म करने जा रही हैं। उन्होंने अपने पति रोशन सिंह से तलाक की अर्जी कोर्ट में लगाई है। इसके बाद श्राबंती एक बार फिर सुर्खियों में आ गई हैं। आइए, जानते हैं कौन हैं श्राबंती और क्या है पूरा मामला।


श्राबंती चटर्जी बांग्ला फिल्मों की मशहूर ऐक्ट्रेस हैं। 34 साल की श्राबंती ने साल 1997 में बंगाली फिल्म 'मायार बंधोन' से डेब्यू किया था। इसके बाद उन्होंने एक से बढ़कर एक सुपरहिट फिल्मों में काम किया है। श्राबंती की पिछली बार फिल्म 'लॉकडाउन' में नजर आई थीं। 


श्राबंती चटर्जी अभी तक 3 बार शादी कर चुकी हैं। उनकी पहली शादी बांग्ला फिल्ममेकर राजीव कुमार बिस्वास से साल 2003 में हुई थी। साल 2016 में श्राबंती और राजीव का तलाक हो गया। इसके बाद श्राबंती ने मॉडल कृष्ण व्रज से 2016 में शादी की मगर यह शादी केवल 1 साल ही चली और 2017 में दोनों का तलाक हो गया। इसके बाद 19 अप्रैल 2019 में श्राबंती ने रोशन सिंह से शादी कर ली। 


खबर है कि श्राबंती ने 16 सितंबर को कोर्ट में रोशन सिंह से तलाक की अर्जी दी है। इस तरह श्राबंती तीसरी बार तलाक लेने जा रही हैं। रोशन सिंह ने बताया है कि अभी तक उन्हें तलाक का नोटिस नहीं मिला है। 


रोशन सिंह ने एक बांग्ला पोर्टल से बात करते हुए दावा किया है कि वह श्राबंती के कई दोस्तों के संपर्क में हैं। रोशन ने कहा कि उन्हें पता चला है कि श्राबंती लोगों के बीच में उनकी बुराई करती हैं और कहती हैं कि रोशन बहुत मोटे हैं इसलिए सेक्स नहीं कर सकते हैं। रोशन ने कहा कि जिन लोगों से उन्हें इन बातों का पता चला है वह बेहद भरोसेमंद हैं। 


रोशन सिंह ने दावा किया है कि श्राबंती लोगों के बीच कह रही हैं कि रोशन ने उनसे 1 करोड़ रुपये लिए हैं। रोशन ने यह भी कहा है कि श्राबंती उनकी एक्स गर्लफ्रेंड को कॉल करके उनकी शिकायत करती हैं।


श्राबंती चटर्जी ने इसी साल बीजेपी जॉइन कर ली थी। इसके बाद श्राबंती ने बीजेपी के टिकट पर बेहाला पश्चिम की सीट से विधानसभा चुनाव भी लड़ा था। इस चुनाव में श्राबंती तृणमूल कांग्रेस के नेता पार्थ चटर्जी से हार गई थीं। 


वर्क फ्रंट की बात करें तो श्राबंती जल्दी ही अशुमन प्रत्युष की सायकोलॉजिकल थ्रिलर फिल्म 'धप्पा' में नजर आएंगी। इस फिल्म में उनके साथ प्रियंका सरकार भी नजर आने वाली हैं। इसके अलावा श्राबंती 'बीरपुरुष', 'नबजीबन बीमा कंपनी', 'काबेरी अंतर्धान', 'खेलाघोर', 'अचेना उत्तम' जैसी फिल्मों में भी नजर आएंगी। 






...

भाजपा सांसद पर हमले के आरोप में नौ लोग गिरफ्तार


प्रतापगढ़ (उत्तर प्रदेश) : प्रतापगढ़ से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद संगम लाल गुप्ता से मारपीट के आरोप में पुलिस ने नौ लोगों को गिरफ्तार किया है।


पुलिस सूत्रों ने बुधवार को बताया कि पिछले शनिवार को सांगीपुर ब्लाक सभागार में आयोजित गरीब कल्याण मेले में भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच मारपीट हुई थी। आरोप है कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा सांसद संगम लाल गुप्ता से भी मारपीट की।


इस मामले में वीडियो फुटेज और प्रत्यक्षदर्शियों के बयानों के आधार पर नौ आरोपियों को मंगलवार को गिरफ्तार किया गया।


सांगीपुर की घटना के मामले में भाजपा सांसद संगमलाल गुप्ता, उनके सुरक्षाकर्मी और कार्यकर्ताओं की तहरीर पर कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी, विधायक आराधना मिश्रा सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं के खिलाफ कुल पांच मामले दर्ज किए गए हैं।





...

न्यायाधीश को रिश्वत देने की कोशिश पर एएसआई समेत तीन को सजा

नई दिल्ली : न्यायाधीश को रिश्वत की पेशकश करने के मामले में विशेष अदालत ने दिल्ली पुलिस के एक सहायक उपनिरीक्षक समेत तीन लोगों को दोषी ठहराते हुए तीन-तीन साल कैद की सजा सुनाई है। आरोपियों ने अदालत में ग्रुप सी के पदों पर भर्ती के लिए न्यायाधीश को रिश्वत देने का प्रयास किया था।


राउज एवेन्यू स्थित विशेष न्यायाधीश किरण बंसल ने पुलिस के सहायक उपनिरीक्षक तारा दत्त के अलावा आरोपी मुकुल कुमार और रमेश कुमार को सजा सुनाई है। इस मामले में एक अन्य आरोपी दयानंद शर्मा की मुकदमा लंबित रहने के दौरान ही मौत हो गई। दयानंद शर्मा दिल्ली नगर निगम में स्पेशल मजिस्ट्रेट था।


अदालत ने आरोपियों को भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के प्रावधानों और आपराधिक साजिश करने के आरोप में दोषी ठहराते हुए सजा दी है। अदालत ने अपने फैसले में कहा है कि अभियोजन पक्ष पुख्ता साक्ष्य देकर बिना किसी संदेह के आरोपियों का अपराध साबित करने में सफल रहा है। न्यायाधीश ने कहा है कि तथ्यों से साफ है कि दोषी तारा दत्त, मुकुल कुमार और रमेश कुमार ने 50 हजार रुपये स्वीकार करने के लिए न्यायाधीश चंद्र शेखर को उकसाने के लिए आपराधिक साजिश रची थी। साथ ही कहा कि उक्त साजिश को अंजाम देने के लिए सुरेंद्र कुमार के माध्यम से रुपये से भरा लिफाफा न्यायाधीश को देने के लिए दिया था। दोषी मुकुल ने अदालत में ग्रुप सी (चपरासी) की नौकरी के लिए रिश्वत की पेशकश की थी। अदालत ने मामले में नायब कोर्ट की गवाही पर भरोसा किया। साथ ही आरोपियों की फोन कॉल रिकॉर्ड से भी पता चला कि वे उस समय एक-दूसरे से संपर्क में थे। इसके अलावा तीस हजारी अदालत में तारा दत्त की उपस्थिति सीसीटीवी फुटेज और उसकी मोबाइल फोन लोकेशन के माध्यम से स्पष्ट हुई। इससे पता चला कि सभी षड्यंत्र में शामिल थे।


2017 में अदालत में ग्रुप सी की भर्ती चल रही थी। न्यायिक अधिकारी चंद्रशेखर नियुक्ति समिति में सदस्य थे। अभियोजन पक्ष के अनुसार, सहायक पुलिस उपनिरीक्षक तारा दत्त ने न्यायाधीश चंद्रशेखर को उनके कोर्ट के नायब कोर्ट (कर्मचारी) के जरिए 50 हजार रुपये से भरा लिफाफा देने का प्रयास किया, ताकि न्यायाधीश मुकुल को चपरासी नियुक्त करने में मदद करें। मामले के चौथे आरोपी दयानंद शर्मा, जिसकी मौत हो गई, उस पर न्यायाधीश के नाम पर रिश्वत मांगने का आरोप था।





...

धन शोधन मामले में न्यायालय ने सचिन जोशी को दी चार महीने की अस्थायी जमानत


नई दिल्ली : उच्चतम न्यायालय ने अभिनेता और निर्माता सचिन जोशी को धन शोधन के एक मामले में मंगलवार को चार महीने की अस्थायी जमानत दे दी। जोशी को मुंबई स्थित कंपनी ओंकार रियलटर्स के साथ मिलकर 100 करोड़ रुपये की हेराफेरी करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।


न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की एक पीठ ने स्पष्ट किया कि जमानत की अवधि और बढ़ाने पर विचार नहीं किया जाएगा। पीठ ने कहा कि अस्थायी जमानत सत्र न्यायालय द्वारा लगाई गई शर्तो के अनुसार होगी।


जोशी की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता सिद्धार्थ लूथरा की दलीलों का पीठ ने संज्ञान लिया और कहा कि अभिनेता-निर्माता को चिकित्सकीय उपचार की जरूरत है। लूथरा ने पीठ के सामने कहा कि उच्च न्यायालय के सामने पेश किये गए चिकित्सा रिकॉर्ड से यह स्पष्ट है कि याचिकाकर्ता की रीढ़ की सर्जरी के अलावा उन्हें अन्य प्रकार की चिकित्सा की जरूरत है। उन्होंने कहा कि बीमार व्यक्ति को स्थायी जमानत मिलनी चाहिए लेकिन प्रवर्तन निदेशालय की ओर से पेश हुए अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल एस वी राजू ने चिकित्सा रिपोर्ट का हवाला देते हुए दलील दी कि जोशी को किसी बड़ी सर्जरी की जरूरत नहीं है और उन्हें जमानत नहीं मिलनी चाहिए। बंबई उच्च न्यायालय ने प्रवर्तन निदेशालय की अर्जी पर मई महीने में जोशी की जमानत रद्द कर दी थी। लेकिन उच्च न्यायालय ने उन्हें कोविड-19 से संक्रमित होने की वजह से निजी अस्पताल में इलाज की अनुमति देते हुये समर्पण करने के लिये दो महीने का वक्त दिया था।









...

धनशोधन मामले में समन रद्द करने की सांसद अभिषेक बनर्जी की याचिका में दम नहीं:ईडी ने अदालत से कहा

नई दिल्ली : प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को दिल्ली उच्च न्यायालय से कहा कि पश्चिम बंगाल में कथित कोयला घोटाले से जुड़े धन शोधन मामले में उसके समन को रद्द करने के अनुरोध वाली तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी और उनकी पत्नी की याचिका समय से पहले दायर की गई है और इसमें कोई दम नहीं है।


ईडी ने तर्क दिया कि बनर्जी और उनकी पत्नी रुजीरा समन को रद्द करने और पूछताछ के लिए जांच एजेंसी के सामने पेश नहीं होने का अनुरोध कर रहे हैं और फिर यह भी दावा कर रहे हैं कि वे जांच के खिलाफ नहीं हैं और इसके रास्ते में नहीं आ रहे हैं।


ईडी की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने न्यायमूर्ति योगेश खन्ना के समक्ष कहा, '' यह कुछ ऐसा कहने जैसा है कि मैं एक महिला से शादी नहीं कर रहा हूं, मैं केवल शादी का जश्न मना रहा हूं।''


अदालत पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी और उनकी पत्नी की याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें उन्हें जारी किए गए 10 सितंबर के समन को चुनौती दी गई। साथ ही ईडी को उन्हें दिल्ली तलब नहीं करने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया क्योंकि वे पश्चिम बंगाल के निवासी हैं।


एजेंसी ने बनर्जी दंपति को कुछ दस्तावेजों के साथ 21 सितंबर को दिल्ली में व्यक्तिगत रूप से पेश होने के लिए कहा था। दंपति ने तर्क दिया कि वे कोलकाता के निवासी हैं और उन्हें यहां जांच में शामिल होने के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए।


33 वर्षीय अभिषेक बनर्जी लोकसभा में डायमंड हार्बर सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं और तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हैं।


बनर्जी दंपति की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि ईडी धनशोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत जांच करने की हकदार है और इस पर कोई विवाद नहीं है।


सिब्बल ने कहा, '' मैं इस स्तर पर यह नहीं जानता कि क्या आप मुझसे एक आरोपी या गवाह के रूप में पूछताछ करना चाहते हैं। सीआरपीसी की धारा 160 के तहत, आप मुझसे उस पुलिस थाने के अधिकार क्षेत्र में पूछताछ करने के लिए बाध्य हैं जहां मैं रह रहा हूं।''


सिब्बल ने ईडी द्वारा याचिका समय से पूर्व दायर करने संबंधी दलील का जवाब देते हुए कहा कि यह समन जारी करने के चरण में दायर की गई है।


उन्होंने कहा, ''यह उनकी ओर से अहंकार का प्रश्न है ना कि मेरी तरफ से। उनके साथ मुद्दा यह है कि मैं भारत सरकार को कैसे चुनौती दे सकता हूं।''


सिब्बल ने कहा, '' आज वे दंपति को पूछताछ के लिए दिल्ली बुला रहे हैं और कल वे इन्हें मुंबई या केरल आने के लिए कह सकते हैं। क्या इस देश में कोई कानून है या नहीं।''


इसका जवाब देते हुए मेहता ने कहा, ''न्यायाधीश अखबार पढ़ते हैं और टीवी देखते हैं। जब भी कानून प्रवर्तन एजेंसियां कोलकाता जाती हैं, तो आप जानते हैं कि क्या होता है? वे अधिकारियों को रोकने के लिए घेराव और पथराव का सहारा लेते हैं। उनका एक पंक्ति तर्क है कि कोलकाता आओ, अगर आप आ सकते हो।''


सिब्बल ने इसका कड़ा विरोध किया और कहा, ''यहां राजनीतिक तर्क मत करिए, पत्थरों की बात मत करिए। कानूनी तर्क प्रस्तुत करें। जिस तरह से आपने कानून लागू करने वाली एजेंसियों का इस्तेमाल किया है, उसे देखें।''


इस मामले में अब अगली सुनवाई 30 सितंबर को होगी। 







...

एम्स-भोपाल के उप निदेशक के परिसरों की तलाशी में 2.65 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति मिली: सीबीआई

नई दिल्ली : सीबीआई ने सोमवार को दावा किया कि एम्स, भोपाल के उप निदेशक धीरेंद्र सिंह के परिसरों की तलाशी के दौरान 2.65 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति मिली है, जिन्हें दो लाख रुपये की रिश्वत मांगने के आरोप में गिरफ्तार किया जा चुका है।


एजेंसी ने कहा कि उसने (लगभग) 6.75 लाख रुपये नकद, आरोपी और उसके परिवार के सदस्यों के नाम पर खोले गये खातों से 1.11 करोड़ रुपये बरामद किये हैं। साथ ही म्यूचुअल फंड और 79.20 लाख रुपये के शेयर मिले हैं।


अधिकारियों ने कहा कि इसके अलावा एजेंसी ने सोने के सिक्के और (वर्तमान दरों के अनुसार लगभग) 21 लाख रुपये से अधिक मूल्य के 465 ग्राम के बार व संपत्तियों से संबंधित दस्तावेज भी जब्त किये हैं।


उन्होंने कहा कि सिंह को शिकायतकर्ता से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान चिकित्सा संस्था (एम्स), भोपाल को की गई दवाओं और अन्य सामग्रियों की आपूर्ति के लंबित बिलों के भुगतान के लिए कथित तौर पर दो लाख रुपये की रिश्वत मांगने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।


उन्होंने कहा कि उन्हें एक अक्टूबर तक सीबीआई की हिरासत में भेज दिया गया है।


एम्स को दवाएं और अस्पताल में उपभोग्य सामग्रियों की आपूर्ति करने वाले शिकायतकर्ता केमिस्ट ने सीबीआई से संपर्क किया था और आरोप लगाया था कि उप निदेशक (प्रशासन) सिंह ने 40 लाख रुपये के बिलों का भुगतान के भुगतान के बदले पांच प्रतिशत 'कमीशन' या 2 लाख रुपये मांगे थे।


सीबीआई ने एक बयान में कहा था कि सिंह को 25 सितंबर को रिश्वत की कुल राशि में से कथित तौर पर एक लाख रुपये लेते हुए रंगेहाथ पकड़ा गया था।


गिरफ्तारी के बाद सीबीआई ने उनके परिसरों की तलाशी ली थी।

...

एआईएफएफ ने फर्जी बैंक गारंटी देने के लिए हैदरया स्पोर्ट्स एफसी को डिस्क्वालीफाई किया

नई दिल्ली : अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) ने फर्जी बैंक गारंटी देने के लिए सोमवार को कश्मीर के हैदरया स्पोर्ट्स एफसी को आगामी आई-लीग क्वालीफायर से डिस्क्वालीफाई कर दिया।


कश्मीर के शीर्ष निजी क्लबों में से एक हैदरया स्पोर्ट्स ने आई-लीग क्वालीफायर में जगह बनाई थी क्योंकि जेकेएफए पेशेवर लीग में शीर्ष पर रहे जेएंडके बैंक ने आवेदन नहीं किया था।


राष्ट्रीय महासंघ ने कहा कि क्लब के प्रतिनिधित्व को वापस ले लिया गया है क्योंकि जांच में पाया गया कि जो बैंक गारंटी दी गई थी वह असली नहीं थी।


एआईएफएफ ने कहा, ‘‘एआईएफएफ आई-लीग क्वालीफाई 2021 के सभी हितधारकों को सूचित करता है कि हैदरया स्पोर्ट्स कश्मीर एफसी द्वारा सौंपी गई बैंक गारंटी की असलियत को लेकर कई शिकायतें मिलने के बाद एआईएफएफ ने इस मामले की जांच शुरू की। ’’


उन्होंने कहा, ‘‘जांच में खुलासा हुआ कि बैंक गारंटी असली नहीं थी और बैंक ने कभी आधिकारिक रूप से बैंक गारंटी जारी नहीं की। ’’


लीग में हिस्सा लेने के लिए बैंक गारंटी अनिवार्य जरूरतों में से एक है जो निश्चित समय सीमा के भीतर सौंपनी होती है।


एआईएफएफ ने कहा, ‘‘उपरोक्त समयसीमा अब खत्म हो गई है और क्लब ने अनिवार्य जरूरत को पूरा नहीं किया। इसे देखते हुए हैदरया के लीग में प्रतिनिधित्व को तुरंत प्रभाव से वापस लिया जाता है।





...

लॉटरी का झांसा देकर ठगी का प्रयास

नोएडा : साइबर ठग ने युवती को व्हाट्सएप कॉल कर केबीसी में 25 लाख रुपये की लॉटरी लगने का झांसा देकर ठगी का प्रयास किया। दस्तावेज न देने पर ठग ने युवकी के साथ अभद्र व्यवहार किया। पीड़ित ने नोएडा पुलिस के ट्विटर अकाउंट पर शिकायत की है।

नोएडा निवासी अमित ने पुलिस के ट्विटर अकाउंट पर शिकायत की है कि कुछ दिनों पहले उसकी बहन के मोबाइल फोन पर व्हाट्सएप कॉल आई। कॉल करने वाले व्यक्ति ने खुद को कौन बनेगा करोड़पति से बताया और 25 लाख रुपये की लॉटरी निकलने का झांसा दिया। आरोपी ने कुछ दस्तावेज जमा करने के लिए कहा। ऐसा न करने पर आरोपी ने उसकी बहन के साथ अभद्रता की। पुलिस ने युवक के ट्वीट का संज्ञान लिया है।




...

अदालत ने ऑनलाइन यात्रा कंपनी के मालिक के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई रद्द की

नई दिल्ली : दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक उपभोक्ता द्वारा दर्ज कराए गए धोखाधड़ी के मामले में एक ऑनलाइन यात्रा कंपनी के मालिक के खिलाफ यहां एक निचली अदालत द्वारा जारी सम्मन रद्द कर दिया है।


यात्रा कंपनी के मालिक ने वकील कल्याण निधि में 7.5 लाख रुपये स्वेच्छा से जमा करने की पेशकश की और दोनों पक्षों के बीच समझौता हो गया, जिसके बाद उच्च न्यायालय ने यह आदेश दिया।


न्यायमूर्ति मनोज कुमार ओहरी ने कहा कि चूंकि यह मामला ‘‘पूरी तरह वाणिज्यिक’’ है तो इसे जारी रखने से कोई सार्थक उद्देश्य हासिल नहीं होगा।


शिकायकर्ता ने कहा कि उसने अपनी मर्जी और बिना किसी दबाव के मालिक के साथ समझौता कर लिया है और उसे मामला रद्द किए जाने पर कोई आपत्ति नहीं है। वहीं यात्रा कंपनी के मालिक ने महामारी के समय विधि समुदाय के समक्ष पेश आयी मुश्किलों के मद्देनजर स्वेच्छा से 7.50 लाख रुपये जमा कराने की इच्छा जतायी है।


अदालत ने कहा कि यात्रा कंपनी का मालिक नई दिल्ली बार संघ सदस्य कल्याण निधि, दिल्ली उच्च न्यायालय बार संघ महामारी राहत कोष और दिल्ली उच्च न्यायालय (मध्यम आय समूह) कानूनी सहायता सोसायटी में क्रमश: चार लाख रुपये, ढाई लाख रुपये और एक लाख रुपये जमा कराए।


इस मामले में शिकायतकर्ता वकील तरुण राणा ने यात्रा वेबसाइट से छुट्टियां मनाने का एक पैकेज लिया था और उसे चार और पांच सितारा होटलों में ठहराने का वादा किया गया था। प्राथमिकी में शिकायतकर्ता ने कहा कि कंपनी ने अपने वादे के विपरीत उसे कम सुविधाओं वाले एवं सस्ते होटलों में ठहराया। निचली अदालत द्वारा सम्मन भेजे जाने के बाद यात्रा कंपनी के मालिक ने उच्च न्यायालय का रुख किया था।




...

उत्तर प्रदेश में आश्रम मालिक को धमकाने के आरोप में दो लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

मुजफ्फरनगर : उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर जिले के शुक्रताल में एक आश्रम मालिक को धमकी देने और पांच लाख रुपये की रंगदारी मांगने के आरोप में दो लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने रविवार को यह जानकारी दी।


थाना प्रभारी राजकुमार राणा के अनुसार विकास पंवार और संजीव संगम के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं 504, 506 और 387 के तहत मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि आरोपी फरार हैं।


गोदिया मठ आश्रम के मालिक ने पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में कहा था कि शनिवार को दो हथियारबंद लोग उनके पास आए और रंगदारी मांगी। उन्होंने कहा कि लोगों ने जब घटना का वीडियो रिकॉर्ड करने की कोशिश की तो वे फरार हो गए।






...

गाजियाबाद : सीवर लाइन बिछाने में अनियमितता का आरोप, पूर्व सभासद ने की आत्मदाह की कोशिश

गाजियाबाद :  मोदीनगर नगर पालिका के पूर्व सभासद लोकेश ढोडी ने शनिवार दोपहर तहसील गेट पर आत्मदाह करने की कोशिश की। उन्होंने खुद पर केरोसीन का तेल छिड़का ही था कि पुलिसकर्मियों ने रोक लिया। लोकेश ने काफी देर तक जान देने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। लोकेश ने मोदीनगर में सीवर लाइन बिछाने में अनियमितता बरतने का आरोप लगाया है।


उनका कहना है कि पूर्व में भी कई बार शिकायत कर चुके हैं। लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो रहा है। सीवर लाइन बिछाने में लापरवाही बरती गई है। इसी का नतीजा है कि लोगों को बारिश में जलभराव का सामना करना पड़ा। इलाके में रोजाना ओवरफ्लो की समस्या भी रहती है ओर चारों तरफ बदबू फैलने से लोगों का सांस लेना मुश्किल हो रहा है। इससे लोगों में संक्रामक बीमारी होने की आशंका है।


हाल में हुई बारिश ने भी सीवर लाइन के काम में हो रहे भ्रष्टाचार की पोल खोल दी और जहां भी लाइन बिछी, वहां सड़क पर कई फीट मिट्टी बैठ गई। इस लाइन से पानी की निकासी नहीं हो रही है। पूर्व सभासद को रोकते पुलिसकर्मियों का एक वीडियो फेसबुक पर पोस्ट किया गया है। इसमें लोकेश कह रहे हैं कि शहर को बचाना है। शहर के लिए कुर्बानी देनी है। कोई दलील नहीं चलने वाली है।







...

पति ने तीन तलाक देकर बच्चों सहित पत्नी को घर से निकाला, जेठ ने बनाया हलाला का दबाव

गाजियाबाद : गाजियाबाद में बीवी के साथ मारपीट के बाद तीन बार तलाक बोलकर बच्चों सहित घर से निकालने का मामला सामने आया है। पीड़िता की तहरीर पर नंदग्राम कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। आरोप है कि ससुरालियों ने तेज आवाज में म्यूजिक बजाकर पीड़िता की बंद कमरे में पिटाई की है।


नंदग्राम कोतवाली क्षेत्र में रहने वाली पीड़िता ने एसएसपी को दिए शिकायत में बताया कि उसका निकाह 21 जून 2013 में मसूरी में रहने वाले युवक के साथ हुई थी। निकाह के दो साल बाद उसका शौहर, जेठ, जेठानी और सास छोटी-छोटी बातों को लेकर उसका शारीरिक व मानसिक उत्पीड़न करने लगे।


बाद में पता चला कि शौहर और जेठ शराबी व जुआरी है। विरोध करने पर इस बात के लिए भी आरोपियों ने कई बार उसके साथ मारपीट की। उत्पीड़न बढ़ने पर उसके परिजनों ने ससुरालियों को समझाने का प्रयास किया, बावजूद इसके 12 अप्रैल 2021 को आरोपियों ने साजिश पूर्वक उसे कमरे में बंद कर दिया और तेज आवाज में म्यूजिक बजाकर उसके साथ मारपीट की।


तेज म्यूजिक की वजह से उसकी चीख-पुकार बाहर नहीं जा सकी और आरोपी उसे तबतक पीटते रहे जबतक कि वह बेहोश नहीं हुई। इस दौरान आरोपियों ने उसके दोनों बच्चों के साथ भी बुरी तरह मारपीट की। होश में आने पर आरोपियों ने मारपीट की वारदात किसी को बताने पर उसके दोनों बच्चों की हत्या की धमकी दी। लेकिन उसने अपने परिजनों को पूरी घटना की जानकारी दे दी। 


इस बात को लेकर आरोपियों ने एक बार फिर 16 अप्रैल को उसके साथ मारपीट की। पीड़िता ने पुलिस को दिए शिकायत में बताया कि उसके पति ने अपने बड़े भाई के साथ जुआ खेलते हुए उसका सारा स्त्रीधन दाव पर लगा दिया। इसके बाद उसके जेठ द्वारा अश्लील हरकत करने का विरोध करने पर आरोपी पति ने तीन बार तलाक बोलकर बच्चों सहित उसे घर से बाहर कर दिया। पुलिस ने बताया कि पीड़िता की तहरीर के अधार पर पति, जेठ, जेठानी और सास के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

जेठ ने बनाया हलाला का दबाव 


पीड़िता ने बताया कि उसका जेठ अपराधिक किस्म का व्यक्ति है और उसके खिलाफ पहले से कई मुकदमे दर्ज हैं। आरोप है कि जब उसके शौहर ने तलाक दे दिया तो उसके जेठ ने दोबारा घर में आने से पूर्व हलाला के लिए दबाव बनाया। कहा कि हलाला के रूप में पीड़िता को पहले उसके साथ रहना होगा।





...

पार्किंग में टहल रही महिला से मंगलसूत्र लूटा

गाज़ियाबाद : वसुंधरा सेक्टर-5 में एक बदमाश ने पार्किंग में टहल रही महिला को धक्का देकर मंगलसूत्र लूट लिया। घटना के समय महिला अपनी भाभी के साथ टहल रही थी। घटना के बाद से दोनों महिलाएं दहशत में हैं। मामले की शिकायत इंदिरापुरम थाने में दर्ज कराई गई है। वसुंधरा सेक्टर-पांच में ऋतु जैन परिवार के साथ रहती हैं। गुरुवार रात साढ़े नौ बजे वह ननद आयुषी जैन के साथ अपने घर की पार्किंग में टहल रही थीं। इस दौरान बाइक सवार एक युवक पहुंचा और अपनी बाइक सड़क पर खड़ी कर दी। इसके बाद पार्किंग में आया और आयुषी को धक्का देकर फर्श पर गिरा दिया। वह कुछ समझ पातीं उससे पहले बदमाश ने उनके गले से मंगलसूत्र लूट लिया। इसके बाद तेजी से बदमाश फरार हो गया। ऋतु के यहां घटना वाले समय कोई पुरूष नहीं था। इस कारण वह फौरन मामले का इंदिरापुरम थाने में शिकायत नहीं दे पाईं। उन्होंने गाजियाबाद पुलिस को ट्वीट कर शिकायत की। शुक्रवार सुबह उनके ससुर विकास जैन ने थाने पहुंचकर लिखित शिकायत दी है। ऋतु जैन ने बताया कि थाने पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने उनके ससुर से लिखित शिकायत की कापी ले ली। उसकी रिसीविंग नहीं दी। मामले में अब तक रिपोर्ट भी नहीं दर्ज हुई है। वहीं, इंदिरापुरम थाना प्रभारी निरीक्षक मनीष बिष्ट ने बताया कि कार्रवाई की जा रही है। घटना स्थल के पास एक भवन में लगे सीसीटीवी कैमरे खराब हैं। कैमरे सही होते तो लुटेरे की फुटेज उसमें कैद हो जाती। पुलिस मामले की जांच कर रही है।




...

वैक्सीन लगवाने आए एक व्यक्ति से दो सौ रुपए लेते कर्मचारी का बना वीडियो

नोएडा : सेक्टर-30 स्थित जिला अस्पताल में एक व्यक्ति को वैक्सीन लगवाने के नाम पर कर्मचारी द्वारा रुपए मांगने का मामला सामने आया है। जानकारी और सबूत मिलने पर अस्पताल प्रशासन ने कर्मचारी को ड्यूटी से हटा दिया और आगे की कार्रवाई करने की बात कही है।

जानकारी के अनुसार जिला अस्पताल में वैक्सीन लगवाने आए कपिल नामक एक व्यक्ति का स्लॉट बुक नहीं था लेकिन मौके पर स्लॉट बुक होने की उम्मीद में उन्होंने टोकन ले लिया था। हालांकि, बाद में दूसरी खुराक के ऑन द स्पॉट स्लॉट न खुलने की जानकारी देकर उन्हें लौटा दिया गया। वे हेल्पडेस्क पर पहुंचे, जहां नियुक्त कर्मचारी राशिद ने स्लॉट बुक कराकर उन्हें टीका लगवाने की बात करते हुए 400 रुपये की मांग की। इसकी शिकायत कपिल ने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ.सुषमा चंद्रा से की। जिसके बाद डॉ.सुषमा चंद्रा ने कपिल को दोबारा हेल्प डेस्क पर भेजा और कर्मचारी द्वारा टीके के लिए 200 रुपए लेते मोबाइल पर वीडियो बना लिया। डॉ.सुषमा चंद्रा ने बताया कि कर्मचारी राशिद को ड्यूटी से हटा दिया गया है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी को पत्र लिखकर कर्मचारी की सेवाएं समाप्त करने के लिए कहा गया है।

...

कोविड-19 से मौत के बाद साइबर ठगों ने खाते से निकाले 11 लाख रुपए

नोएडा :  थाना सेक्टर 39 क्षेत्र के सेक्टर 44 में रहने वाली एक महिला ने आरोप लगाया है कि उनके पति की मौत के बाद उनके खाते से साइबर ठगों ने कथित रूप से 11 लाख रुपये निकाल लिए। घटना की रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है। पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि सेक्टर 44 स्थित ओमेक्स सोसायटी में रहने वाली सलाखा पाटिल ने थाना सेक्टर 39 में रिपोर्ट दर्ज कराई कि अप्रैल माह में उनके पति शिवशक्ति उनियाल की कोविड-19 की वजह से मौत हो गयी थी। उन्होंने बताया कि इस घटना के बाद अज्ञात साइबर ठगों ने शिवशक्ति के बैंक खाते से कई बार में 11 लाख रुपए निकाल लिये।उन्होंने बताया कि घटना की रिपोर्ट दर्ज कर थाना सेक्टर 39 पुलिस मामले की जांच कर रही है। सलाखा ने दावा किया कि अनेक शिकायतों के बाद जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो उन्होंने गौतम बुद्ध नगर के पुलिस उपायुक्त (प्रथम) राजेश एस से इस मामले की शिकायत की। उसके बाद मामला दर्ज हुआ।





...

ड्रग्स मामले में फिर गिरफ्तार हुआ अर्जुन रामपाल की प्रेमिका का भाई: अधिकारी

पणजी : बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन रामपाल की प्रेमिका के भाई अगिसिलास डेमेट्रियड्स को दो साल में तीसरी बार ड्रग्स रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के एक अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी।


मुंबई और गोवा के एनसीबी के क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े के अनुसार, डेमेट्रियड्स एक दक्षिण अफ्रीकी नागरिक है और एजेंसी द्वारा सुशांत सिंह राजपूत की मौत के संबंध में दर्ज प्राथमिकी से जुड़ा है।


वानखेड़े ने कहा, अपराध संख्या 16 में, सुशांत सिंह राजपूत मामले से संबंधित, हमने एक दक्षिण अफ्रीकी नागरिक एगिसिलाओस डेमेट्रियड्स को गिरफ्तार किया था। हमने उसे कोकीन मामले में दूसरी बार फिर से गिरफ्तार किया है। हमें थोड़ी मात्रा में उसके पास से चरस मिला है।


वानखेड़े ने कहा कि गिरफ्तारी गोवा में की गई और डेमेट्रियड्स फिलहाल 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में है।


एनसीबी अधिकारी ने यह भी कहा कि पिछले तीन दिनों में गोवा में छापेमारी की सिरीज के दौरान ड्रग प्रवर्तन एजेंसी द्वारा किए गए दो अन्य छापों में तीन अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था।


वानखड़े ने कहा, हमने पिछले तीन दिनों में तीन छापे मारे हैं और एलएसडी और एमडीएमए की व्यावसायिक मात्रा जब्त की है। हमने अपोलो बार के एक होटल पर छापा मारा है, जिसका मालिक वांछित है और फरार है। हमने उसके दो पेडलर्स को गिरफ्तार किया है। उल्हासनगर का एक युवक , जो गोवा में पेडलिंग कर रहा था, उसे भी गिरफ्तार कर लिया गया है।






...

लोन दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाला दबोचा

नोएडा : सेक्टर 58 थाना पुलिस ने फर्जी कागजात से लोन कराने वाले एक वांछित को गिरफ्तार किया है। आरोपी ने खुद को सरकारी कर्मचारी बताकर लोगों के साथ ठगी की थी।

पुलिस ने शनिवार को एक सूचना के आधार पर सेक्टर 58 से मुरादनगर निवासी हरिराम को गिरफ्तार किया है। आरोपी खुद को सरकारी कर्मचारी बताता था। उसने एचडीबी फाइनेंशियल प्राइवेट लिमिटेड सेक्टर 58 में काम करने वाले कुछ साथियों के साथ मिलकर ग्राहकों के फर्जी दस्तावेज लगाकर लोन के नाम पर फर्जीवाड़ा किया था। इस गिरोह के लोग फर्जी कागजात तैयार कर ग्राहकों का बैंक में खाता खुलवाते थे। फिर उसी खाते पर लोन पास करा देते थे, जो लाभ ग्राहक को मिलना चाहिए था, उसे आपस में बांट लेते थे। इन लोगो ने अब तक कुल 282 लोन फर्जी तरीके से पास कराए थे। इन्होंने एचडीबी फाइनेंशियल प्राइवेट लिमिटेड को कुल 13 करोड़ का नुकसान पहुंचाया था। जब बैंक ने ऑडिट कराया, तब यह मामला प्रकाश में आया। आरोपियों ने गाजियाबाद, मोदीनगर के रहने वाले करीब 15 से 20 लोगों का फर्जी दस्तावेजों से लोन स्वीकृत कराया था। इस मामले में अब तक बैंक के एक पूर्व सेल्स ऑफिसर सहित 12 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।





...

ईडी ने देशमुख के धन शोधन मामले में महाराष्ट्र के मंत्री को भेजा सम्मन

मुंबई : प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री अनिल देशमुख और अन्य के खिलाफ दर्ज धन शोधन के मामले में अगले हफ्ते पूछताछ के लिए शिवसेना नेता और राज्य के परिवहन मंत्री अनिल परब को नया सम्मन जारी किया है। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। परब (56) को जारी यह दूसरा सम्मान है। वह मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास आघाडी (एमवीए) सरकार में संसदीय मामलों के भी मंत्री हैं।

महाराष्ट्र विधान परिषद में पार्टी के तीन बार के विधायक परब को एजेंसी ने पहली बार 31 अगस्त को पेश होने के लिए सम्मन भेजा था और उन्होंने आधिकारिक कामकाज का हवाला देते हुए पेश होने से इनकार कर दिया था। अधिकारियों ने बताया कि मंत्री को अब 28 सितंबर को दक्षिण मुंबई में ईडी के कार्यालय में मामले के जांच अधिकारी के समक्ष पेश होने के लिए कहा गया है। उन्होंने बताया कि परब से देशमुख के खिलाफ धन शोधन के मामले की जांच के सिलसिले में पूछताछ की जानी है। मामले से जुड़े लोगों और अन्य आरोपियों ने कुछ ''खुलासे'' किए हैं जिसके बाद परब से पूछताछ की जानी है। ये सम्मन महाराष्ट्र पुलिस में कथित तौर पर 100 करोड़ रुपये के घूस एवं वसूली गिरोह में ईडी द्वारा की जा रही आपराधिक जांच से जुड़े हैं। वसूली के आरोपों के कारण देशमुख ने अप्रैल में इस्तीफा दे दिया था। ईडी ने देशमुख और अन्य के खिलाफ मामला तब दर्ज किया जब सीबीआई ने मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा लगाए गए कम से कम 100 करोड़ की घूस के आरोपों से संबंधित भ्रष्टाचार के मामले में देशमुख पर मामला दर्ज किया। देशमुख ने कहा था कि सिंह ने मुंबई पुलिस आयुक्त के पद से हटाए जाने के बाद उनके खिलाफ आरोप लगाए हैं। ईडी जेल में बंद पुलिस अधिकारी और मामले में अन्य आरोपी सचिन वाजे के दो बार दर्ज किए गए बयान को लेकर परब से पूछताछ कर सकती है।






...

राजस्थान: पीडब्ल्यूडी ठेकेदार को 14 साल पुराने रिश्वत के मामले में पांच साल की कैद

कोटा (राजस्थान) :  झालावाड़ में लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) में रिश्वत लेने के 14 साल पुराने एक मामले में यहां भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो अदालत (एसीबी) ने एक ठेकेदार को पांच साल की कैद की सजा सुनाई और उस पर एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।


अदालत में सहायक निदेशक (अभियोजन) अशोक जोशी ने मीडिया को बताया कि न्यायाधीश प्रमोद कुमार मलिक ने बृहस्पतिवार को पीडब्ल्यूडी में ठेकेदार अब्दुल फरीद को 2007 में 10,000 रुपये की रिश्वत लेने का दोषी ठहराया।


मामले के मुख्य आरोपी, लोक निर्माण विभाग के सहायक इंजीनियर योगेंद्र कुमार शर्मा की मौत मामले के लंबित रहने के दौरान हो गई थी।


शर्मा की ओर से काम करने वाले फरीद को झालावाड़ जिले में खानपुर कस्बे के पीडब्ल्यूडी कार्यालय में एसीबी के एक अधिकारी ने 15 जून, 2007 को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया था।


जोशी ने बताया कि एसीबी की एक अन्य टीम ने उसी समय शर्मा को झालावाड़ के एक होटल से गिरफ्तार किया था।



...

रोहिणी कोर्ट में गोलीबारी में तीन की मौत

नई दिल्ली : दिल्ली की रोहिणी कोर्ट परिसर में गैंगस्टर जितेंद्र उर्फ गोगी पर दो बदमाशों ने हमला किया और पुलिस के साथ मुठभेड़ में गोगी समेत तीन लोगों की मौत हो गई। रोहिणी के पुलिस उपयुक्त ने बताया कि गोगी को तिहाड़ जेल में बंद किया था जिसे शुक्रवार को पेशी के लिए लाया गया था। इसी दौरान अदालत परिसर में दो बदमाशों ने गोगी पर हमला कर दिया। पुलिस ने जवाबी कार्रवाई की जिसमें गोगी के साथ दोनों बदमाश मारे गए। उन्होंने बताया कि हमलावर वकील की ड्रेस पहनकर कोर्ट परिसर में पहुंचे थे जिन्होंने गैंगस्टर जितेंद्र पर गोली चलाई। हमलावरों की फ़िलहाल पहचान नहीं हुई है। ग़ौरतलब है कि जितेंद्र को दो साल पहले ही स्पेशल सेल ने गुरुग्राम से गिरफ्तार किया था।







...

नीतीश ने उपमुख्यमंत्री से भ्रष्टाचार के आरोपों को स्पष्ट करने को कहा

पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कथित तौर पर उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद से अपने खिलाफ लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को स्पष्ट करने को कहा है।


प्रसाद को अपना रुख स्पष्ट करने के लिए मुख्यमंत्री के 1 ऐनी मार्ग स्थित उनके सरकारी आवास पर पेश होने के लिए कहा गया था। सूत्रों का कहना है कि नीतीश कुमार, प्रसाद से नाराज हैं, जिनपर हर घर नल का जल प्रोग्राम के तहत बहू समेत अपने रिश्तेदारों को 58 करोड़ रुपये का ठेका देने में शामिल होने का आरोप है।


नीतीश कुमार ने कथित तौर पर प्रसाद से एक सार्वजनिक मंच पर अपना रुख स्पष्ट करने को कहा। वह यह भी चाहते हैं कि भाजपा का शीर्ष नेतृत्व इस मामले का संज्ञान ले क्योंकि उनके डिप्टी के भ्रष्टाचार में कथित संलिप्तता के कारण राज्य सरकार को भारी शमिर्ंदगी का सामना करना पड़ रहा है।


इससे पहले विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कहा था कि कथित घोटाले का पता राम प्रकाश महतो ने अगस्त 2020 में लगाया था और उन्होंने फरवरी 2021 में नीतीश कुमार को एक पत्र भी लिखा, लेकिन फिर भी मुख्यमंत्री ने संज्ञान नहीं लिया।


यादव ने कहा, कानून के मुताबिक ठेका विशेषज्ञ कंपनियों या ठेकेदारों को दिया जाना चाहिए। इस मामले में नीतीश कुमार सरकार के मंत्रियों ने अपने ही रिश्तेदारों को ठेका दिया है। तारकिशोर प्रसाद ने बहू, बेटी और उसके पति को ठेका दिया है।


उन्होंने कहा, पीएचईडी विभाग वर्षों से भाजपा के अधीन है। पहले सुशील कुमार मोदी पीएचईडी और अब तारकिशोर प्रसाद का प्रभार संभाल रहे थे। नीतीश कुमार अपने कनिष्ठ मंत्रियों को संरक्षण दे रहे हैं, जिससे घोटाले हुए।


लोजपा नेता चिराग पासवान ने भी नीतीश कुमार पर हमला करते हुए आरोप लगाया कि उनकी सरकार के सभी मंत्री भ्रष्टाचार में लिप्त हैं।


उन्होंने कहा, सात निश्चय योजना जो कि नीतीश कुमार की परियोजना है, वास्तव में भ्रष्टाचार की जननी है। उनके मंत्रिमंडल में एक भी मंत्री ने रिश्तेदारों को सरकारी ठेके देने से नहीं रोका है। मुख्यमंत्री हमेशा जीरो टॉलरेंस की बात करते हैं लेकिन उनके मंत्री भ्रष्टाचार में शामिल हैं।






...

वकील के घर में घुसकर मारपीट व फायरिंग का आरोप,पीड़ित वकील के विरुद्ध ही एफआईआर दर्ज, वकीलों ने हड़ताल कर तहसील चौपलें पर लगाया जाम

हापुड़ : एक वकील के घर में घुसकर आरोपी पर मारपीट व फायरिंग की। पुलिस ने उल्टें वकील के विरुद्ध ही एफआईआर दर्ज कर दी। घटना से क्षुब्ध वकीलों ने कचहरी की हड़ताल कर तहसील चौपलें पर जाम लगाकर हंगामा व नारेबाजी की।
जानकारी के अनुसार थाना हाफिजपुर के रामपुर निवासी मिथुन कसाना ने आरोप लगाया था कि गांव के ही एक पक्ष ने उनके घर पर धावा बोलकर उनके परिजनों व उन पर जानलेवा हमला कर मारपीट व फायरिंग की। मामलें.की रिपोर्ट लिखवानें जब वकील थानें गए,तो थाना प्रभारी ने जांच की बात कही और बाद में पीड़ित वकील व परिजनों पर ही एफआईआर दर्ज कर दी।घटना के विरोध में बार अध्यक्ष अजीत चौधरी व सचिव रविन्द्र निमेष ने आज कचहरी की सांकेतिक हड़ताल की घोषणा कर विरोध प्रकट किया।
क्षुब्ध वकीलों ने न्याय ना मिलनें पर तहसील चौपलें पर जाम लगाकर धरना प्रदर्शन किया और जमकर हंगामा किया।
एडवोकेट शमवीर सिरोही,पीयूष सक्सेना,संजय कंसल,पुरुषोत्तम वर्मा,अशोक गिरी,गजेन्द्र त्यागी, भोपाल सिंह सूर्यकांत शर्मा, अनिल आजाद,मलका खान,गौरव नागर,पवन,इसरार अली, साजिद आदि ने घटना की निंदा की।
...

महिला के पीएफ खाते से निकाले 1.21 लाख रुपये

नोएडा : चार आरोपियों ने महिला के साथ धोखाधड़ी कर उनके पीएफ खाते से 1.21 लाख रुपये निकाल लिए। जब महिला को पता चला तो उन्होंने आरोपियों के खिलाफ सेक्टर-39 थाने में शिकायत दी है।

पुलिस को दी शिकायत में अंजू देवी ने बताया कि वह परिवार के साथ सलारपुर कॉलोनी में रहती हैं। उनका पीएफ खाता है। महिला का आरोप है कि रवि कुशवाहा, आर्दश कुमार, नरेश यादव और संजू देवी ने उनके साथ धोखाधड़ी कर पीएफ खाते से 1.21 लाख रुपये निकाल लिए। कई दिनों बाद उनको धोखाधड़ी का पता चला। इसके बाद उन्होंने पुलिस को शिकायत दी। पुलिस ने शिकायत के आधर पर केस दर्ज जांच शुरू कर दी है।





...

ईडी ने धन शोधन के मामले में झारखंड की कंपनी की संपत्ति अपने कब्जे में ली

नई दिल्ली :  प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने झारखंड की आभूषण कंपनी की 1.01 करोड़ रुपये की संपत्ति धनशोधन मामले की जांच के सिलसिले में अपने कब्जे में ले ली है।


एजेंसी के मुताबिक ईडी ने दिसंबर 2019 में इन संपत्तियों को कुर्क किया था और हाल में संबंधित न्यायिक अधिकारी ने इस संबंध में धनशोधन (निषेध) अधिनियम (पीएमएलए) के तहत वैकल्पिक आदेश जारी किया।


ईडी ने बयान में बताया कि डीजेएन ज्वेलर्स प्राइवेट लिमिटेड की 11 अचल संपत्तियों (जिसकी कुल कीमत करीब 1.01 करोड़ रुपये है) का कब्जा उसने चिटफंट घोटाले के सिलसिले में लिया है। ये संपत्ति कंपनी के सीएमडी जीतेंद्र मोहन सिन्हा, विपिन कुमार सिन्हा, राम किशुन ठाकुर और विशाल कुमार सिन्हा के स्वामित्व में थी।


ईडी ने बताया कि ये संपत्ति फ्लैट, दुकाने और प्लॉट के रूप में है जो राज्य की राजधानी रांची और दो अन्य जिलों लातेहार और गढ़वा में स्थित है।


केंद्रीय एजेंसी ने आरोप लगाया, ‘‘डीजेएन कॉमोडिटीज एमसीएक्स, मुंबई में विशाल कुमार सिन्हा की स्वामित्व वाली कंपनी के तौर पर पंजीकृत है। सिन्हा ने अन्य मालिकों/निदेशकों के साथ मिलकर ग्राहकों के साथ धोखाधड़ी करने की साजिश रची और ऑफलाइन कारोबार के लिए डीजेएन कॉमोडिटीज के नाम से सॉफ्टवेयर विकसित किया।’’


एजेंसी ने कहा, ‘‘ डीजेएन कॉमोडिटीज लोगों से ऑनलाइन कारोबार के नाम पर ऑफलाइन तरीके से पैसे जमा कराती थी और हर महीने अधिक ब्याज देने का वादा करती थी।’’



...

बीकानेर में पटवारी तीन हजार रुपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार

बीकानेर : राजस्थान के बीकानेर जिले में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की एक टीम ने बृहस्पतिवार को एक पटवारी को तीन हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया।


ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रजनीश पूनियां ने बताया कि एक व्यक्ति ने शिकायत की थी कि पटवारी सुभाष चंद्र चालिया रामसर क्षेत्र में उसकी भूमि का इंतकाल चढ़ाने के एवज में तीन हजार रुपये मांग रहा है।


उन्होंने कहा कि ब्यूरो की टीम ने शिकायत के सत्यापन के बाद आज आरोपी को तीन हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया जिससे पूछताछ की जा रही है।





...

दुष्कर्म मामला : आरोपी सांसद प्रिंस राज ने शिकायतकर्ता पर उगाही करने का लगाया आरोप

नई दिल्ली :  लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के सांसद प्रिंस राज की अग्रिम जमानत याचिका पर बुधवार को अदालत में सुनवाई हुई। इस दौरान आरोपी सांसद ने शिकायतकर्ता पर उगाही करने का आरोप लगाया। इस मामले में प्रिंस राज पर एक महिला ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है।


दिवंगत नेता रामविलास पासवान के भतीजे और चिराग पासवान के चचेरे भाई प्रिंस राज राउज एवेन्यू स्थित विशेष न्यायाधीश विकास ढल की अदालत में यह आरोप लगाया। यह अदालत उनकी अग्रिम जमानत की याचिका पर बुधवार को सुनवाई कर रही थी। प्रिंस राज की याचिका पर मंगलवार को विशेष न्यायाधीश एमके नागपाल को सुनवाई करनी थी, लेकिन उन्होंने निजी कारणों से खुद को मामले से अलग कर लिया। उन्होंने मामले को जिला न्यायाधीश को भेज दिया। उन्होंने आज मामले को नई अदालत को आवंटित कर दिया।


बिहार के समस्तीपुर से लोकसभा सदस्य प्रिंस राज के वकील ने अदालत को बताया कि कथित पीड़िता और उसके पुरुष मित्र उनके मुवक्किल को वर्ष 2020 से ही ब्लैकमेल कर धन उगाही की कोशिश कर रहे हैं। वरिष्ठ अधिवक्ता विकास पाहवा ने अदालत को बताया कि महिला और उसका पुरुष मित्र प्रिंस राज से एक करोड़ रुपये की मांग कर रहे थे। इसे नहीं मानने पर फर्जी शिकायत दर्ज कराने की धमकी भी दे रहे थे। उन्होंने बताया कि इस संबंध में 10 फरवरी को संसद मार्ग पुलिस थाने में महिला और उसके पुरुष साथी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई थी। इस मामले में दोनों को अदालत ने जुलाई में अग्रिम जमानत दी थी।


प्रिंस राज का पक्ष रख रहे अधिवक्ता नीतेश राणा ने अदालत को बताया कि इस बीच महिला ने 31 मई को उनके मुवक्किल के खिलाफ कथित दुष्कर्म की शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने बताया कि बाद में महिला ने प्रिंस राज के खिलाफ दुष्कर्म की प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए अदालत में मामला दायर किया। इस पर अदालत ने पुलिस से कार्रवाई रिपोर्ट तलब की। उन्होंने बताया कि पुलिस द्वारा अदालत में पेश कार्रवाई रिपोर्ट में कहा गया कि महिला की शिकायत में कोई तथ्य नहीं मिला। यह धन उगाही का मामला है। वहीं, पुलिस ने प्रिंस राज के आवेदन का विरोध करते हुए कहा कि मामले में उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ करने की जरुरत है। पुलिस ने अदालत में पेश अपने जवाब में कहा कि आरोपी को हिरासत में लेने की जरुरत है ताकि पीड़िता के आरोप के मुताबिक उस कथित वीडियो क्लिप बरामद किया जा सके जिसमें आपत्तिजनक सामग्री है। अदालत अब इस मामले को गुरुवार को सुनवाई करेगी।


गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस ने अदालत के आदेश पर प्रिंस राज के खिलाफ नौ सितंबर को दुष्कर्म का मामला दर्ज किया था। महिला का आरोप है कि वह लोजपा कार्यकर्ता है। सांसद प्रिंस राज ने बेहोशी की हालत में उसके साथ दुष्कर्म किया था।





...

पॉर्न केस: गहना वशिष्ठ को मिली राहत, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई गिरफ्तारी पर रोक

मुंबई : जबरन पॉर्न फिल्में बनवाने और उन्हें ऑनलाइन पब्लिश करने के आरोप में फंसी ऐक्ट्रेस गहना वशिष्ठ को सुप्रीम कोर्ट से राहत मिली है। कोर्ट ने अपने हालिया आदेश में कहा है कि गहना के खिलाफ दर्ज की गई तीसरी एफआईआर के आधार पर उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने यह भी साफ किया है कि जांच में जब भी जरूरत पड़ेगी तब गहना वशिष्ठ को क्राइम ब्रांच की पूरी मदद करनी होगी।


गहना वशिष्ठ ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर पॉर्न केस में अग्रिम जमानत की मांग की थी। इससे पहले इसी महीने बॉम्बे हाई कोर्ट ने गहना वशिष्ठ की अग्रिम जमानत की याचिका को खारिज कर दिया था। गहना वशिष्ठ के वकील ने कहा, 'जांच एजेंसी का कहना है कि वह गहना को इसलिए हिरासत में लेना चाहते हैं क्योंकि वह पॉर्नोग्रफी रैकेट का भांडाफोड़ करना चाहते हैं और जानना चाहते हैं कि किस ओटीटी प्लैटफॉर्म को ये फिल्में बेची गई। केवल इन दो चीजों के लिए गहना से पूछताछ की जानी है।'


गहना वशिष्ठ के खिलाफ पॉर्न फिल्में बनाने और उन्हें कुछ ओटीटी प्लैटफॉर्म्स पर अपलोड करने का आरोप है। गहना को पहले ही उनके खिलाफ दर्ज 2 एफआईआर में जमानत मिल चुकी है। तीसरी एफआईआर जुलाई के महीने में दर्ज की गई थी। गहना वशिष्ठ इससे पहले 133 दिनों तक जेल में रह चुकी हैं। पॉर्न फिल्में बनाने के आरोप में गहना के अलावा राज कुंद्रा सहित कई अन्य लोग भी फंसे हुए हैं। राज कुंद्रा को 20 सितंबर को ही 2 महीने जेल में रहने के बाद जमानत पर रिहा किया गया है।



...

नकली पिस्तौल दिखाकर की थी ज्वेलर्स की दुकान में लूटपाट

ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा वेस्ट स्थित गौर सिटी प्लाजा में सोमवार की देर रात दो बदमाशों ने नकली चाइनीज पिस्तौल दिखाकर ज्वेलर्स की दुकान से लूटपाट की थी। भीड़ ने बदमाशों को भागते समय दबोच लिया था। पुलिस ने लुटेरों के पास से नकली पिस्तौल, छूरा, एक तमंचा पर लूटे गए 25 हजार रुपये बरामद किए हैं। पुलिस ने दोनों को मंगलवार को अदालत में पेश कर जेल भेज दिया।


बिसरख कोतवाली प्रभारी अनीता चौहान ने बताया कि सोमवार की देर रात गौर सिटी प्लाजा स्थित ज्वेलर्स की दुकान में घुसकर दो लुटेरों ने लूटपाट की थी। इन लुटेरों ने दुकानदार ऋषभ को नकली चाइनीज पिस्तौल दिखाकर नगदी लूट ली थी। भीड़ ने भागते समय लुटेरों को धर दबोचा था। पुलिस ने बताया कि लुटेरों की पहचान अतीक निवासी छिजारसी और एजाज अंसारी निवासी स्प्रिंग मीडोज सोसाइटी निराला एस्टेट ग्रेनो वेस्ट के रूप में हुई है। उधर, ज्वेलर्स की दुकान में घुसकर हुई लूटपाट की घटना को लेकर व्यापारियों में आक्रोश है। व्यापारियों ने पुलिस से सुरक्षा व्यवस्था की मांग की है।




...

पुलिस की ओर से जारी नोटिस रद्द करने के अनुरोध वाली अर्जी सुनवायी योग्य नहीं: बंगाल सरकार ने अदालत से कहा

नई दिल्ली : पश्चिम बंगाल सरकार ने मंगलवार को दिल्ली उच्च न्यायालय से कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की वह याचिका ‘‘विचार योग्य नहीं है’’ जिसमें उसने तृणमूल कांग्रेस सांसद अभिषेक बनर्जी द्वारा दर्ज करायी गई एक प्राथमिकी के आधार पर एजेंसी के अधिकारियों के खिलाफ जारी दो नोटिस रद्द करने का अनुरोध किया है।


समय की कमी के कारण, न्यायमूर्ति योगेश खन्ना मामले पर विस्तार से सुनवाई नहीं कर सके और उन्होंने निदेशालय की याचिका को 24 सितंबर को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया।


ईडी ने आरोप लगाया है कि पश्चिम बंगाल पुलिस कथित कोयला चोरी घोटाले की जांच को पटरी से उतारने के लिए बनर्जी के इशारे पर काम कर रही है।


ईडी ने बनर्जी द्वारा अप्रैल में एक प्राथमिकी दर्ज कराये जाने के बाद एजेंसी के अधिकारियों के खिलाफ जारी दो नोटिस रद्द करने का निर्देश देने का अनुरोध किया।


गत अप्रैल में, टीएमसी सांसद की शिकायत पर, पश्चिम बंगाल में स्थानीय पुलिस ने प्रतिष्ठा धूमिल करने और मानहानि के उद्देश्य से रिकार्ड के साथ कथित तौर पर छेड़छाड़, जालसाजी को लेकर भारतीय दंड संहिता के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की थी।


संक्षिप्त सुनवाई के दौरान, पश्चिम बंगाल सरकार का प्रतिनिधित्व कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता सिद्धार्थ लूथरा ने कहा कि याचिका विचार योग्य नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि ईडी पश्चिम बंगाल में दर्ज प्राथमिकी के संबंध में राहत के लिए दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका कैसे दायर कर सकता है।


ईडी की ओर से पेश अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल एस वी राजू और अधिवक्ता अमित महाजन ने आग्रह किया कि सुनवाई की अगली तारीख तक ईडी अधिकारियों के खिलाफ कोई दंडात्मक कदम नहीं उठाया जाए।


ईडी के वकील ने कहा, ‘‘उन्हें क्यों परेशान किया जाना चाहिए और क्यों पश्चिम बंगाल बुलाया जाना चाहिए।’’


इस पर गौर करते हुए अदालत ने मौखिक रूप से कहा, ‘‘श्रीमान लूथरा कृपया देखें कि सुनवाई की अगली तारीख तक कुछ नहीं हो।’’


ईडी ने दलील दी है कि प्राथमिकी के आधार पर 22 जुलाई और 21 अगस्त का जारी नोटिस पूरी तरह गैरकानूनी , दुर्भावनापूर्ण और कोयला कांड की जांच का पटरी से उतारने के लिए हैं।







...

जावेद अख्तर मानहानि मामला : मुंबई की अदालत में पेश हुईं कंगना रनौत, कहा अदालत से उनका विश्वास उठ गया

मुंबई : अभिनेत्री कंगना रनौत गीतकार जावेद अख्तर द्वारा उनके खिलाफ दायर आपराधिक मानहानि शिकायत के संबंध में सोमवार को मुंबई की एक अदालत में पेश हुईं। अदाकारा ने कहा कि उनका मजिस्ट्रेट की अदालत पर ‘‘भरोसा’’ नहीं रहा क्योंकि अदालत ने जमानती अपराध के मामले में उसके समक्ष पेश नहीं होने पर उनके खिलाफ वारंट जारी करने की परोक्ष रूप से ‘‘धमकी’’ दी।


रनौत ने अख्तर की शिकायत के जवाब में उनके खिलाफ ‘‘जबरन वसूली और आपराधिक धमकी’’ का आरोप लगाते हुए याचिका भी दायर की। उनके वकील ने अदालत को सूचित किया कि उन्होंने मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष एक अर्जी दी थी जिसमें शिकायत की सुनवाई किसी अन्य अदालत में स्थानांतरित करने का अनुरोध किया गया है।


अदालत ने पिछले हफ्ते कहा था कि अगर अदाकारा सुनवाई की अगली तारीख 20 सितंबर को पर पेश नहीं होती हैं तो अदालत रनौत के खिलाफ वारंट जारी करेगी। इस साल फरवरी में समन जारी होने के बाद से रनौत पहली बार सोमवार को अंधेरी मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट आर आर खान के सामने पेश हुईं और जमानत की औपचारिकताएं पूरी कीं।


जैसे ही मामला अदालत के समक्ष सुनवाई के लिए आया अदाकारा के वकील रिजवान सिद्दीकी ने बताया कि रनौत इस अदालत (शिकायत के संबंध में) के साथ आगे नहीं बढ़ना चाहती हैं। सिद्दीकी ने कहा कि उनका ‘‘इस अदालत में विश्वास नहीं रहा क्योंकि प्रतीत होता है कि अदालत मामले में पक्षपाती रवैया अपना रही है।’’


वकील ने दावा किया कि अदालत ने अप्रत्यक्ष रूप से अभिनेत्री को गैर-संज्ञेय, क्षमा योग्य अपराध और जमानती अपराध के मामले में दो मौकों पर वारंट जारी करने की ‘‘धमकी’’ दी है, जहां कानून के अनुसार नियमित उपस्थिति की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि रनौत को बिना किसी वजह या कारण के अदालत में बुलाया गया है।


उन्होंने कहा कि आज तक ऐसा कोई आदेश नहीं आया है जिसमें यह बताया गया हो कि आखिर अभिनेत्री को जमानती, गैर-संज्ञेय और क्षमा योग्य अपराध के लिए नियमित रूप से उपस्थित होने की आवश्यकता क्यों है।


अख्तर के वकील जय भारद्वाज ने शिकायत को दूसरी अदालत में स्थानांतरित करने की रनौत की याचिका को ‘बेहद अजीब’ करार दिया। भारद्वाज ने कहा, ‘‘उन्होंने हमें न तो कोई नोटिस दिया है और न ही (स्थानांतरण) अर्जी की प्रति दी है।’’ अदालत मामले की अगली सुनवाई 15 नवंबर को करेगी।


इस महीने की शुरुआत में बंबई उच्च न्यायालय ने रनौत की उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें अख्तर की आपराधिक मानहानि शिकायत पर स्थानीय अदालत से उनके खिलाफ शुरू की गई कार्यवाही रद्द करने का अनुरोध किया गया था।


न्यायमूर्ति रेवती मोहिते-डेरे ने अपने आदेश में कहा था कि कार्यवाही शुरू करने के मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के आदेश में कोई प्रक्रियात्मक गैर कानूनी या अनियमितता नहीं है। अख्तर (76) ने पिछले साल नवंबर में अदालत में शिकायत दर्ज कराई थी और दावा किया गया था कि रनौत ने एक टेलीविजन साक्षात्कार में उनके खिलाफ अपमानजनक बयान दिया जिससे उनकी प्रतिष्ठा को कथित तौर पर नुकसान पहुंचा।


अपनी शिकायत में अख्तर ने दावा किया कि पिछले साल जून में अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की कथित आत्महत्या मामले में रनौत ने एक साक्षात्कार में बॉलीवुड में मौजूद ‘गुट’ का जिक्र करते हुए उनका नाम घसीटा।








...