Gold की कीमतों में आई तेजी के बाद भर रही है व्यापारियों की झोली, FY25 में 17-19 फीसदी बढ़ेगा रेवेन्यू

देश में सोने की कीमतों में शानदार तेजी देखने को मिल रही है। माना जा रहा है कि इस साल अंत में सोना 1 लाख रुपये के पार पहुंच जाएगा। सोने की कीमतों में आई तेजी से ज्वेलर्स को लाभ हो रहा है। रेटिंग एजेंसी क्रिसिल (CRISIL) ने इसको लेकर रिपोर्ट पेश किया है।

क्रिसिल की रिपोर्ट के अनुसार सोने की कीमतों में तेजी के बाद भी इसकी बिक्री पर कोई असर नहीं पड़ेगा। मजबूत बिक्री होने से खुदरा विक्रेता को मुनाफा होगा। चालू वित्तीय वर्ष 2024-25 में ज्वेलर्स के रेवेन्यू में 17 से 19 प्रतिशत की वृद्धि हो सकती है। रेटिंग एजेंसी ने कहा कि सोने की कीमतों में तेजी आने के बावजूद इसकी डिमांड स्थिर रहेगी।

निवेश के लिए सुरक्षित निवेश माना जाने वाला सोना काफी समय से मांग में है और इसकी कीमतें समय-समय पर रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच रही हैं।

सोने की कीमतों में क्यों आ रही है तेजी

पश्चिम एशिया में लंबे समय से चल रहे भू-राजनीतिक संघर्ष, आरबीआई सहित कई केंद्रीय बैंकों की खरीदारी, भौतिक मांग की वजह से सोने की कीमतों में तेजी आई है।

क्रिसिल ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि सोने की बढ़ती कीमतों के बीच मांग में कमी से निपटने के लिए खुदरा विक्रेता इस वित्तीय वर्ष में मार्कटिंग और प्रमोशनल अभियान बढ़ा सकते हैं। ऐसे में परिचालन से होने वाला मुनाफा साल-दर-साल 20-40 आधार अंक (100 आधार अंक 1 प्रतिशत अंक के बराबर है) से मामूली रूप से कम होकर 7.7-7.9 प्रतिशत हो सकती है।

सोने की कीमतों में भारी वृद्धि और नए स्टोरों के जुड़ने के कारण बढ़ी हुई इन्वेंट्री के परिणामस्वरूप कार्यशील पूंजी की आवश्यकताएं भी बढ़ सकती हैं। संगठित गोल्ज सेक्टर का बाजार में एक तिहाई से थोड़ा अधिक हिस्सा है, जबकि अत्यधिक खंडित असंगठित क्षेत्र बाकी हिस्सा बनाता है।

वर्तमान में क्या है गोल्ड प्राइस

वित्तीय वर्ष 2024 के दौरान घरेलू सोने की कीमत में 15 प्रतिशत की वृद्धि हुई और मार्च 2024 के अंत तक 67,000 रुपये प्रति 10 ग्राम तक पहुंच गई। अब, वे 74,000 रुपये से अधिक पर कारोबार कर रहे हैं।

वैश्विक स्तर पर भी सोने की कीमतें भी अपने चरम पर हैं। ऐतिहासिक रूप से एक संपत्ति के रूप में सोना को स्वर्ग माना जाता है क्योंकि यह आमतौर पर अशांति के समय में अपने अंतर्निहित मूल्य को बनाए रखने या सराहना करने का प्रबंधन करता है।


...

शेयर बाजार के निवेशकों को हो रहा है भारी नुकसान, मार्केट बंद होने से पहले सेंसेक्स 1000 अंक से ज्यादा लुढ़का

गुरुवार के कारोबारी सत्र में शेयर बाजार सीमित दायरे में खुला है। बाजार में इस हफ्ते भारी गिरावट देखने को मिली। माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव का असर बाजार पर पड़ा है।

विदेशी फंड की भारी निकासी और रिलायंस इंडस्ट्रीज और टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज में बिकवाली की वजह से आज बाजार में गिरावट आई है।

आज सेंसेक्स 33.10 अंक या 0.05 फीसदी की तेजी के साथ 73,499.49 अंक पर खुला है। वहीं निफ्टी 16.80 अंक या 0.08 प्रतिशत गिरकर 22,285.70 अंक पर कारोबार कर रहा है।

इसके बाद बाजार में भारी गिरावट देखने को मिली। दोपहर 1.50 बजे निफ्टी 233.50अंक गिरकर 22,069.00 अंक पर कारोबार कर रहा था। सेंसेक्स भी 712 अंक लुढ़क कर 72,753.88 अंक पर कारोबार कर रहा हैबाजार में गिरावट का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। 3 बजे सेंसेक्स 1000 अंक से ज्यादा गिरकर कारोबार कर रहा था। वहीं निफ्टी भी 300 अंक से ज्यादा गिर गया।  

टॉप गेनर और लूजर स्टॉक

टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, टेक महिंद्रा, आईटीसी, बजाज फिनसर्व, भारती एयरटेल और रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर लाल निशान पर हैं।वहीं, महिंद्रा एंड महिंद्रा, टाइटन, मारुति और टाटा मोटर्स के शेयर बढ़त के साथ कारोबार कर रहे हैं।

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार ने कहा

ग्लोबल मार्केट का हाल

एशियाई बाजारों में, टोक्यो, शंघाई और हांगकांग बढ़त के साथ कारोबार कर रहे थे जबकि सियोल गिरावट के साथ कारोबार कर रहा था।

वॉल स्ट्रीट बुधवार को मिश्रित रुख के साथ समाप्त हुआ।

वैश्विक तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.43 प्रतिशत चढ़कर 83.94 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। एक्सचेंज डेटा के मुताबिक, विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने बुधवार को 6,669.10 करोड़ रुपये की इक्विटी बेची।

रुपये में तेजी

आज डॉलर के मुकाबले रुपये बढ़त के साथ खुला है। शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 8 पैसे बढ़कर 83.49 पर पहुंच गया। अंतरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में भारतीय करेंसी ग्रीनबैक के मुकाबले 83.49 पर खुली। बाद में शुरुआती कारोबार में यह 83.44 पर पहुंच गया, जो पिछले बंद से 8 पैसे की बढ़त दर्शाता है। बुधवार को रुपया सीमित दायरे में रहा और अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 1 पैसे गिरकर 83.52 पर बंद हुआ।


...

1 मई से सस्ता हुआ एलपीजी गैस सिलेंडर

लोकसभा चुनाव 2024 (lok sabha election 2024)के बीच एलपीजी सिलेंडर (lpg cylinder)के उपभोक्ताओं (consumers)को थोड़ी राहत (relief)मिली है। एलपीजी सिलेंडर के रेट 19 रुपये बुधवार से कम हो गए हैं। एलपीजी के रेट में कटौती केवल कॉमर्शियल सिलेंडर में हुई है। घरेलू सिलेंडर के दाम में इस महीने फिलहाल कोई बदलाव नहीं हुआ है।

आईओसी के मुताबिक दिल्ली में 19 किलो वाला इंडेन का एलपीजी सिलेंडर एक मई यानी आज से अब 1764.50 रुपये की जगह 1745.50 रुपये में मिलेगा। मार्च में 1795 रुपये का मिल रहा था। कोलकाता में यह अब 1879.00 रुपये की जगह 1859 रुपये में मिलेगा।

यहां एलपीजी के रेट 20 रुपये की कटौती हुई है। मुंबई में अब यह 1717.50 की जगह 1698.50 रुपये में मिलेगा। चेन्नई में कॉमर्शियल एलपीजी सिलेंडर अब 1930.00 रुपये की जगह 1911 रुपये में मिलेगा।

आगरा से लेकर अगरतला और कश्मीर से कन्याकुमारी तक घरेलू एलपीजी सिलेंडर के दाम में आज कोई बदलाव नहीं हुआ है। लखनऊ में आज घरेलू एलपीजी सिलेंडर 840.5 रुपये में मिलेगा। राजस्थान के जयपुर में घरेलू एलपीजी सिलेंडर 806.50 रुपये है।

गुरुग्राम में घरेलू सिलेंडर की कीमत 811.50 रुपये पर स्थिर है। पंजाब के लुधियाना में घरेलू सिलेंडर के रेट 829 रुपये है। बिहार के पटना में घरेलू सिलेंडर अपने पुराने रेट 901 रुपये में मिलेगा।

कब-कब घटे दाम

इससे पहले महिला दिवस के दिन मोदी सरकार ने घरेलू सिलेंडर के उपभोक्ताओं को बड़ा तोहफा मिला था। इस दिन छह महीने में दूसरी बार एलपीजी सिलेंडर की कीमतों में बड़ी कटौती की गई थी।

रक्षाबंधन पर एलपीजी सिलेंडर की कीमत में 200 रुपये की कमी के बाद सरकार ने मार्च में घरेलू सिलेंडर के रेट 100 रुपये और कम कर दिए। 14 किलो वाला घरेलू सिलेंडर दिल्ली में 803 रुपये का हो गया। आज भी यह इसी रेट पर मिल रहा है।


...

जीएसटी कलेक्शन ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, अप्रैल में 2.10 लाख करोड़ रुपये पर पहुंचा

देश में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) कलेक्शन के आंकड़े ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं और यह अब तक के सर्वाधिक उच्च स्तर पर आ गया है. अप्रैल 2024 में जीएसटी कलेक्शन 2.10 लाख करोड़ रुपये पर आया है.

जीएसटी कलेक्शन ने भरा सरकार का खजाना

जीएसटी कलेक्शन ने इस बार छप्परफाड़ राजस्व हासिल किया है और सरकार का खजाना भर दिया है. पहली बार किसी महीने में जीएसटी राजस्व 2 लाख करोड़ रुपये के पार चला गया है. अप्रैल 2024 में जीएसटी संग्रह 2.10 लाख करोड़ रुपये रहा है जो कि एक ऐतिहासिक कलेक्शन है. ग्रास रेवेन्यू ने साल दर साल आधार पर 12.4 फीसदी की शानदार ग्रोथ हासिल की है. रिफंड के बाद के नेट रेवेन्यू को देखें तो ये 1.92 लाख करोड़ रुपये रहा है जो कि सीधे-सीधे सालाना आधार पर 17.1 फीसदी की बढ़ोतरी है.

रिकॉर्ड जीएसटी कलेक्शन से खुश हुई सरकार

रिकॉर्ड जीएसटी कलेक्शन से सरकार को बेहद खुशी हुई है और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस आंकड़े को अपने एक्स अकाउंट पर पोस्ट करके खुशी जाहिर की है.

गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स कलेक्शन में ये बढ़ोतरी घरेलू ट्रांजेक्शन में 13.4 फीसदी की शानदार ग्रोथ के बाद देखी गई है और इंपोर्ट में 8.3 फीसदी की बढ़त का भी इसमें साथ है.

जीएसटी कलेक्शन का सिलसिलेवार आंकड़ा

सेंट्रल गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (CGST): 43,846 करोड़ रुपये

स्टेट गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (SGST)-53,538 करोड़ रुपये;

इंटीग्रेटेड गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (IGST)- 99,623 करोड़ रुपये, इसमें 37,826 करोड़ रुपये करोड़ रुपये इंपोर्टेड गुड्स से एकत्रित किए गए

सेस: 13,260 करोड़ रुपये, इसमें 1008 करोड़ रुपये इंपोर्टेड गुड्स से एकत्रित किए गए.

अंतर-सरकारी समझौते के आंकड़े

अप्रैल 2024 के महीने में केंद्र सरकार ने एकत्रित आईजीएसटी से सीजीएसटी को 50,307 करोड़ रुपये और एसजीएसटी को 41,600 करोड़ रुपये का निपटान किया गया. नियमित निपटान के बाद अप्रैल, 2024 के लिए सीजीएसटी के लिए कुल राजस्व 94,153 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के लिए 95,138 करोड़ रुपये है.


...

OpenAI ने भारत में पहला एम्प्लॉई नियुक्त किया

चैटजीपीटी बनाने वाली कंपनी OpenAI ने भारत में अपने पहले एम्प्लॉई को नियुक्त किया है। कंपनी ने 39 साल कि प्रज्ञा मिश्रा को अपना गवर्नमेंट रिलेशन हेड बनाया है। प्रज्ञा मिश्रा पहले ट्रूकॉलर और मेटा में काम कर चुकी हैं। वे महीने के आखिर में OpenAI में काम शुरू करेंगी।

इस अपॉइंटमेंट को अभी तक पब्लिक नहीं किया गया है। ब्लूमबर्ग ने मामले से परिचित लोगों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी है। प्रज्ञा मिश्रा को OpenAI ने ऐसे समय में नियुक्त किया है, जब भारत में 2024 के लोकसभा चुनावों के लिए वोटिंग हो रही है। ये वोटिंग तय करेगी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीसरी बार सत्ता में लौटेंगे या नहीं।

गोल्फ खिलाड़ी और पॉडकास्टर भी हैं पज्ञा, 4 बड़ी बातें

जुलाई 2021 से ट्रूकॉलर के लिए डायरेक्टर ऑफ पब्लिक अफेयर्स के रूप में काम कर रही हैं। इस पोजीशन पर उन्हें कंपनी के एजेंडे को आगे ले जाने के लिए सरकारी मंत्रालयों, स्टेकहोल्डर्स, इन्वेस्टर्स और मीडिया पार्टनर्स के साथ मिलकर काम करना पड़ता है।

इससे पहले, वह 3 साल तक मेटा प्लेटफॉर्म्स इंक के साथ थीं। मेटा में, प्रज्ञा ने 2018 में गलत सूचनाओं के खिलाफ वॉट्सएप की कैंपेन को लीड किया था। उन्होंने अर्न्स्ट एंड यंग और नई दिल्ली में रॉयल डेनिश दूतावास में भी काम किया है।

प्रज्ञा की लिंक्डइन प्रोफाइल के अनुसार, 2012 में उन्होंने इंटरनेशनल मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट से MBA किया है। वह दिल्ली यूनिवर्सिटी से कॉमर्स में स्नातक हैं। उन्के पास लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स एंड पॉलिटिकल साइंस से बार्गेनिंग एंड नेगोसिएशन में डिप्लोमा भी है।

प्रज्ञा गोल्फ खिलाड़ी भी हैं और उन्होंने 1998 से 2007 के बीच कई अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। इसके अलावा वह एक हार्टफुलनेस मेडिटेशन ट्रेनर हैं। वह एक पॉडकास्टर और एक इंस्टाग्राम इंफ्लूएंसर भी हैं, जिनके 35,000 फॉलोअर्स हैं।

पिछले साल भारत आए थे OpenAI के CEO सैम ऑल्टमैन

OpenAI के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर (CEO) सैम ऑल्टमैन पिछले साल भारत आए थे। अपनी भारत यात्रा के दौरान उन्होंने कहा था कि भारत जैसे देशों को AI रिसर्च का ऐसे तरीकों से सपोर्ट करना चाहिए, जिससे हेल्थ केयर जैसी सरकारी सर्विसेज में सुधार हो सके।

सैम ऑल्टमैन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात की थी

अपनी इस यात्रा के दौरान सैम ऑल्टमैन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात की थी। ऑल्टमैन ने यह भी कहा था कि भारत OpenAI की जेनरेटिव-AI सर्विस चैटजीपीटी को सबसे पहले अपनाने वाला देश है।

ऑल्टमैन ने AI पर ज्यादा से ज्यादा रेगुलेशन लगाने को कहा था

ऑल्टमैन ने AI पर ज्यादा से ज्यादा रेगुलेशन लगाने को कहा था। तब ऑल्टमैन ने कहा था कि उनका सबसे बड़ा डर यह है कि टेक्नोलॉजी नुकसान भी पहुंचा सकती है। उन्होंने यह भी कहा था कि टेक्नोलॉजी के करंट वर्जन के लिए बड़े रेगुलेटरी चेंजेस की जरूरत नहीं है, लेकिन जल्द ही होंगे।


...

ऑल टाइम हाई पर सोना-चांदी, गोल्ड पहली बार ₹69,000 पार

कल की बड़ी खबर सोना-चांदी के दाम से जुड़ी रही। सोना और चांदी ने आज यानी 3 अप्रैल को ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया। इंडिया बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन (IBJA) की वेबसाइट के मुताबिक, कारोबार के दौरान 10 ग्राम सोना 295 रुपए महंगा होकर 69,256 रुपए का हो गया।

वर्ल्ड बैंक ने FY24 के लिए भारत का GDP अनुमान 1.2% बढ़ाकर 7.5% कर दिया है। वर्ल्ड बैंक को सर्विस और इंडस्ट्रियल सेक्टर में तेजी की उम्मीद है जिस कारण उसने अनुमान बढ़ाया है। वहीं FY25 के लिए GDP अनुमान 0.2% बढ़ाकर 6.6% कर दिया है।

कल की बड़ी खबरों से पहले आज के प्रमुख इवेंट, जिन पर रहेगी नजर...

शेयर मार्केट में आज गुरुवार (4 अप्रैल) को तेजी देखने को मिल सकती है।

पेट्रोल-डीजल के दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ है।

1. ऑल टाइम हाई पर सोना-चांदी:सोना पहली बार ₹69 हजार के पार निकला, चांदी ने भी ₹77,664 रुपए का ऑल टाइम हाई बनाया

सोना और चांदी ने आज यानी 3 अप्रैल को ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया। इंडिया बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन (IBJA) की वेबसाइट के मुताबिक, कारोबार के दौरान 10 ग्राम सोना 295 रुपए महंगा होकर 69,256 रुपए का हो गया। इस साल अब तक सिर्फ 3 महीने में ही सोने के दाम 5,954 रुपए बढ़ चुके हैं। 1 जनवरी को सोना 63,302 रुपए पर था।

चांदी में भी आज ऑल टाइम हाई पर पहुंच गई है। ये 1,537 रुपए महंगी होकर 77,664 रुपए प्रति किलो ग्राम पर पहुंच गई। इससे पहले ये 76,127 रुपए पर थी। चांदी ने इससे पहले बीते साल, यानी 2023 में 4 दिसंबर को 77,073 का ऑल टाइम हाई बनाया था।

2. FY-2024 में 7.5% रह सकती है भारत की GDP:ये वर्ल्ड बैंक के पहले के अनुमान से 1.2% ज्यादा, सर्विस सेक्टर में तेजी इसका कारण

वर्ल्ड बैंक ने FY24 के लिए भारत का GDP अनुमान 1.2% बढ़ाकर 7.5% कर दिया है। वर्ल्ड बैंक को सर्विस और इंडस्ट्रियल सेक्टर में तेजी की उम्मीद है जिस कारण उसने अनुमान बढ़ाया है। वहीं FY25 के लिए GDP अनुमान 0.2% बढ़ाकर 6.6% कर दिया है।

FY24 से FY25 के बीच ग्रोथ में स्लोडाउन पिछले साल की तुलना में निवेश में गिरावट को दर्शाती है। वहीं, दूसरी ओर आने वाले महीनों में महंगाई का दबाव कम होने की उम्मीद है। इससे RBI के लिए ब्याज दरों में कटौती करना आसान होगा। सरकारी कर्ज में भी गिरावट का अनुमान है।

3. विस्तारा ने लगातार तीसरे दिन उड़ाने रद्द कीं:एक हफ्ते में 110 से ज्यादा फ्लाइट्स कैंसिल, 160 से ज्यादा लेट; सरकार ने मांगी थी रिपोर्ट

विस्तारा एयरलाइन ने आज यानी 3 अप्रैल को 10 फ्लाइट कैंसिल कर दी। इन्हें दिल्ली से उड़ान भरना था। ये लगातार तीसरा दिन है जब विस्तारा ने फ्लाइट कैंसिल की है। एयरलाइन ने कल मुंबई से 15, दिल्ली से 12 और बेंगलुरु से 11 उड़ाने कैंसिल की और 1 अप्रैल को करीब 50 उड़ाने रद्द की थीं।

कंपनी के प्रवक्ता ने बताया था विस्तारा फिलहाल पायलटों की कमी से जूझ रही है। ऐसे में उड़ानों में कटौती करने का फैसला किया गया है। जब तक पायलट की कमी दूर नहीं हो जाती, तब तक लिमिटेड फ्लाइट्स ही ऑपरेट की जाएंगी। कैंसिल हुई फ्लाइट के यात्रियों को रिफंड भी देगी।

4. अडाणी ग्रीन की रिन्यूएबल एनर्जी कैपेसिटी 10,000 मेगावॉट पहुंची:ऐसा करने वाली पहली भारतीय कंपनी, खावड़ा में बना रही सबसे बड़ा सोलर प्लांट

अडाणी ग्रीन रिन्यूएबल एनर्जी कैपेसिटी में 10,000 मेगावाट का आंकड़ा पार करने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई है। इसमें 7,393 MW सोलर, 1,401 MW विंड और 2,140 MW सोलर-विंड हाइब्रिड कैपेसिटी शामिल है। कंपनी ने एक्सचेंज फाइलिंग में इसकी जानकारी दी।

कंपनी ने कहा- अडाणी ग्रीन एनर्जी का 10,934 मेगावाट ऑपरेशनल पोर्टफोलियो 58 लाख से ज्यादा घरों को बिजली देगा और हर साल 2.1 करोड़ टन कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन से बचाएगा। ये उपलब्धि अडाणी ग्रीन एनर्जी और उसके डेवलपमेंट पार्टनर्स के लिए एक प्रमाण है जो 2030 तक 45,000 गीगावॉट रिन्यूएबल एनर्जी के लक्ष्य की ओर मजबूती से आगे बढ़ रहे हैं।

5. वोडाफोन आइडिया के शेयरहोल्डर्स ने फंड जुटाने की दी मंजूरी:₹20 हजार करोड़ जुटाएगी कंपनी, 5G रोलआउट और 4G सर्विस को बेहतर करने पर फोकस

टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड (VIL) के शेयर होल्डर्स ने इक्विटी और इक्विटी-लिंक्ड सिक्योरिटीज के माध्यम से 20 हजार करोड़ रुपए जुटाने की मंजूरी दे दी है। वोडाफोन आइडिया ने स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग में इसके बारे में जानकारी दी।

इस खबर के बाद वोडाफोन आइडिया के शेयर में 1.12% की तेजी देखने को मिली। दिनभर कारोबार करने के बाद कंपनी का शेयर 13.60 रुपए के स्तर पर बंद हुआ। इस साल अब तक (YTD) वोडाफोन आइडिया का शेयर 20% गिर चुका है।

6. टोयोटा की सबसे सस्ती SUV भारत में लॉन्च:अर्बन क्रूजर टैजर एक लीटर पेट्रोल में 22.8km चलेगी, शुरुआती कीमत ₹7.73 लाख

टोयोटा किर्लोस्कर मोटर ने आज इंडियन मार्केट में (3 अप्रैल) अपनी सबसे सस्ती SUV भारतीय बाजार में लॉन्च कर दी है। कंपनी का दावा है कि कार 22.8kmpL का माइलेज देगी।

मारुति सुजुकी फ्रॉन्क्स पर बेस्ड ये कंपनी की सबसे सस्ती SUV है। इसकी कीमत 7.73 लाख रुपए से शुरू होती है, जो टॉप-एंड वैरिएंट के लिए 13.03 लाख रुपए तक जाती है, दोनों कीमतें एक्स-शोरूम हैं।

7. टेस्ला की एक टीम इस महीने भारत आएगी:इलेक्ट्रिक कार मैन्युफैक्चरिंग प्लांट के लिए जगह की तलाश करेगी; ₹25 हजार करोड़ निवेश का प्लान

इलेक्ट्रिक व्हीकल (EV) बनाने वाली एलन मस्क की कंपनी टेस्ला इस महीने भारत में एक टीम भेजेगी, जो देश में 2 से 3 बिलियन डॉलर (₹16 हजार करोड़ से ₹25 हजार करोड़) के इलेक्ट्रिक कार मैन्युफैक्चरिंग प्लांट के लिए जगह की तलाश करेगी। ब्रिटेन की फाइनेंशियल टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी।

रिपोर्ट के अनुसार, इलेक्ट्रिक कार मैन्युफैक्चरिंग प्लांट के लिए टीम का ध्यान महाराष्ट्र, गुजरात और तमिलनाडु जैसे ऑटोमोटिव हब वाले राज्यों पर होगा। रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि कुछ व्हीकल मैन्युफैक्चरर्स के प्लांट हरियाणा में भी हैं, लेकिन टेस्ला की फैक्ट्री अन्य तीन राज्यों में होगी।

8. मोटोरोला एज-50 प्रो स्मार्टफोन ₹31,999 की शुरुआती कीमत पर लॉन्च:इसमें 50W वायरलेस चार्जिंग, 3D कर्व्ड डिस्प्ले और 50MP का सेल्फी कैमरा

स्मार्टफोन मेकर कंपनी मोटोरोला ने भारतीय बाजार में 'मोटोरोला एज 50 प्रो' स्मार्टफोन लॉन्च कर दिया है। इसमें 4,500mAh की बैटरी को चार्ज करने के लिए 125W बायर्ड और 50W का वायरलेस चार्जिंग सपोर्ट दिया गया है।

परफॉर्मेंस के लिए स्मार्टफोन में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 7 जेन 3 प्रोसेसर दिया गया है, जो एंड्रॉयड 14 ऑपरेटिंग सिस्टम पर वर्क करता है। कैमरे की बात करें तो इसके बैक पैनल पर 50MP+13MP+10MP का ट्रिपल कैमरा सेटअप दिया गया है। जबकि सेल्फी कैमरा 50MP का है।

मिड-कैप फंड्स ने एक साल में दिया 71% रिटर्न:इसमें निवेश करना रहता है रिस्की, जानें इसमें पैसा लगाना कितना सही

बीते एक साल में BSE मिड कैप इंडेक्स में 65% से ज्यादा की तेजी देखने को मिली है। इसके चलते म्यूचुअल फंड्स की मिड कैप इक्विटी फंड कैटेगरी ने भी बीते 1 साल में 71% तक का रिटर्न दिया है। अगर आप इन दिनों म्यूचुअल फंड्स में निवेश करने का प्लान बना रहे हैं तो मिड कैप इक्विटी फंड अच्छा ऑप्शन हो सकता है।


...

पुलिस द्वारा अवैध वाटर पैकेजिंग कंपनी के हित में किया जा रहा प्रचार

गाज़ियाबाद: उपभोक्ता जनघोष:- गाज़ियाबाद नगर निगम क्षेत्र में लग-भग 4 मीटर से ज्यादा प्रतिवर्ष ग्राउंड वाटर स्तर गिर रहा है जिससे नगर निगम द्वारा लगाए गए बड़े बोरवेल भी फेल हो रहे है जिसके कारण निगम का आर्थिक नुक्सान हो रहा है। हमारे यहाँ अवैध वाटर पैकेजिंग करने वाली कम्पनीयों की भरमार है जो ग्राउंड वाटर डिपार्टमेंट के लिए बहुत बड़ा चैलेंजे है। अनमोल वाटर कंपनी जो बहुत लम्बे समय से वाटर पैकेजिंग कर रही है जनपद गाज़ियाबाद में बिसलेरी के बाद यह दूसरे स्थान पर वाटर पैकेजिंग कर रही है जिसका पानी गाज़ियाबाद नॉएडा दिल्ली जैसे राज्य में भी बिक रहा है उक्त कंपनी का ग्राउंड वाटर रिचार्ज के लिए कोई योगदान नही है।

 अनमोल वाटर कम्पनी के मालिक ने लगभग 25 वर्ष पहले छोटे स्तर पर पानी बेचने का काम शुरू किया था जिसके बाद एरिया में ग्राउंड वाटर क्वालिटी/स्वाद ख़राब होने के कारण प्यासी जनता को पानी बेचने का धंदा उक्त व्यक्ति को फलफूल गया और इनकम लाखों से करोड़ों में पहुँच गई। जिसके बाद 2003 में अनमोल वाटर कंपनी की स्थापना की और अवैध बोरवेल से वाटर पैकेजिंग कर पानी बेचने का काम आसमान छूने लगा और देखते ही देखते बिसलेरी को टक्कर देने वाली यह कंपनी बन गई। लेकिन देखने वाली बात यह है कि अवैध वाटर पकेजिंग के इतने लम्बे कार्यकाल में अनमोल कंपनी के बोरवेल के विरुद्ध कोई कार्यवाही नही हुई, यदि ऐसी संचालित कंपनियों के पास अनुमति होती और अनुमति की शर्तों का पालन किया गया होता तो आज हमें ग्राउंड वाटर की यह गिरती स्तिथि नही देखनी पड़ती।

 डीएम साहब ने दिए कंपनी के अवैध बोरवेल को सील करने के आदेश, पुलिस बोर्ड लगाकर कंपनी के हित में कर रही प्रचार.....   

जनपद पुलिस उक्त अनमोल वाटर कंपनी के हित में बोर्ड लगाकर प्रचार करने पर तुली हुई है जिससे अवैध वाटर पैकेजिंग वाटर कंपनी की सेल में इजाफा हो जाये, बताया जा रहा है उक्त बोर्ड बनवाने का भुगतान अनमोल वाटर कंपनी द्वारा किया गया है सवाल ये है कि किस पुलिस अधिकारी द्वारा अनुमति दी गई है जिस कंपनी पर पांच लाख रुपये का जुर्माना करते हुए बोरवेल सील करने का आदेश डीएम साहब ने दिया है उसका प्रचार पुलिस कर रही है, गाज़ियाबाद लालकुआ एवं बज़रिय पुलिस चौकी के बोर्ड पर AQAFAST अनमोल वाटर कंपनी के बोर्ड लगे है जिले में और भी पुलिस थाने चौकी होंगे जिसपर यह बोर्ड लगे होंगें या लगें है।

जिलाधिकारी इंद्र विक्रम सिंह ने इतने लम्बे समय से संचालित अवैध वाटर पैकेजिंग के कारोबार का अंत करने की तेयारी कर दी है। जिला भूगर्भ जल प्रबंधन परिषद् के अध्यक्ष/जिलाधिकारी ने अनमोल वाटर कंपनी पर पांच लाख का जुर्माना और बोरवेल सील करने के आदेश दिए है। नोडल अधिकारी हरिओम ने बताया कि मजिस्ट्रेट नियुक्ति हो चुकी है समय मिलते ही डीएम साहब के आदेश का पालन किया जायेगा हमारे द्वरा पूर्व में अनमोल वाटर कंपनी को बोरवेल बंद/सील/ध्वस्तीकरण करके सूचना देने के लिए नोटिस जारी किया जा चुका था। 

ऐसे हुई कार्यवाही की शुरुआत.....

ग्राउंड वाटर के स्तर गिरने का जब नया सरकारी आंकड़ा सामने आया जिसमें चार मीटर से भी ज्यादा जनपद गाज़ियाबाद का भूजल स्तर प्रति वर्ष गिर रहा है चिंता का विषय है यही हाल रहा तो अगले 20 वर्षों में गाज़ियाबाद के हालात क्या होंगे। उपभोक्ता जनघोष के संपादक जानेआलम (Janu choudhary) को जब यह जानकारी हुई कि बिसलेरी के बाद AQAFAST अनमोल वाटर कंपनी का वाटर सबसे ज्यादा बिक रहा है और जानकारी के बाद पता चला अनुमति भी नही है जिससे अनुमति में दी गई शर्तों का पालन हो और ग्राउंड वाटर रिचार्ज हो सके। जानू चौधरी द्वारा शिकायत की गई जिसपर संज्ञान लेते हुए ग्राउंड वाटर पोर्टल के नोडल अधिकारी हरिओम द्वारा परिषद् की मीटिंग के बाद नोटिस जरी किया गया जिसमें अवैध बोरवेल सील करने को कहा गया था लेकिन कंपनी के मालिक ने नोटिस को नजरंदाज़ कर दिया। जिसके बाद ग्राउंड वाटर डिपार्टमेंट लखनऊ ने अग्रिम कार्यवाही करने को कहा जिसके बाद यह कार्यवाही की गई है। 

  1. अवैध बोरवेल से करोड़ों रुपये की वाटर पैकेजिंग। 
  2. लगभग बीस वर्षों से चल रहा अवैध कारोबार।  
  3. ग्राउंड वाटर डिपार्टमेंट से कोई अनुमति नही।  
  4. पुलिस कर रही अवैध बोरवेल कर वाटर पैकेजिंग करने वाली अनमोल वाटर कंपनी के हित में प्रचार। 
  5. शिकायत के बाद उत्तर प्रदेश ग्राउंड वाटर डिपार्टमेंट लखनऊ द्वारा संज्ञान के बाद जिलाधिकारी महोदय ने लगाया 5 लाख का जुर्माना एवं सील करने के आदेश दिए है। 
  6. जनपद गाज़ियाबाद व हापुड़ में जानेआलम (Janu choudhary) के सहयोग से अनुमति मिलने तक सभी संचालित कामर्शियल बोरवेल सील करने के सन 2018 में NGT ने आदेश दिए थे 
  7. भूजल स्तर गिरने के कारण केन्द्रीय भूजल प्राधिकरण (CGWA) ने 1998 में नगर निगम गाज़ियाबाद को अधिसूचित क्षेत्र घोषित किया था। 
...

मार्च में 12 दिन बंद रहेगा शेयर बाजार

भारतीय शेयर बाजार के लिए मार्च का महीना कम कारोबारी दिनों वाला साबित होने वाला है. ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि वित्त वर्ष 2024 के आखिरी महीने यानी मार्च 2024 में पूरे 12 दिन भारतीय शेयर बाजार बंद रहेगा और केवल 19 दिनों ही इसमें ट्रेड होगा. 31 मार्च 2024 को वित्त वर्ष 2023-24 का समापन हो जाएगा.

मार्च में पड़ रहीं तीन छुट्टी- 2 राष्ट्रीय और एक ग्लोबल इवेंट

मार्च में 2 बड़े त्योहार और एक वैश्विक शोक दिवस आ रहा है जिनके उपलक्ष्य में इन तीन दिनों पर शेयर बाजार बंद रहेंगे. 8 मार्च को हिंदुओं का पर्व महाशिवरात्रि है और इस दिन शुक्रवार है जिसमें शेयर बाजार बंद रहेगा. 25 मार्च को रंग वाली होली (धुलेंडी) के उपलक्ष्य में सोमवार को शेयर बाजार बंद रहेंगे. इसके अलावा ईसाइयों के शोक दिवस गुड फ्राइडे के उपलक्ष्य में 29 मार्च शुक्रवार को इंडियन स्टॉक मार्केट बंद रहेंगे.

शेयर बाजार में बड़ा संयोग- तीन छुट्टी और तीनों ही लॉन्ग वीकेंड

8 मार्च शुक्रवार- महाशिवरात्रि

भगवान शिव की आराधना का महापर्व महाशिवरात्रि इस बार 8 मार्च को है और इस दिन स्टॉक मार्केट में कामकाज नहीं होगा. इसके अगले दिन शनिवार और रविवार क्रमशः 9 और 10 मार्च को पड़ रहे हैं. लिहाजा 3 दिन शेयर बाजार बंद रहेंगे. 8 मार्च को ही अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस भी मनाया जाता है.

25 मार्च सोमवार- होली

रंगों का त्योहार होली इस साल 25 मार्च को है और दिन है सोमवार. यानी 23 और 24 मार्च को शनिवार-रविवार के चलते शेयर बाजार बंद रहेंगे और ये वीकेंड भी लॉन्ग वीकेंड साबित होगा.

29 मार्च शुक्रवार- गुड फ्राइडे

गुड फ्राइडे मुख्य रूप से दुनिया भर में फैले ईसाइयों द्वारा मनाया जाता है. ये ईसा मसीह के सूली पर चढ़ने की याद में शोक दिवस के रूप में माना जाता है. ईसाइयों के बीच ये मान्यता है कि इस दिन यीशू को सूली पर चढ़ाया गया था. इस दिन ग्लोबल बाजार भी बंद रहेंगे और अमेरिकी बाजारों के साथ भारतीय बाजारों में भी अवकाश रहेगा.

मार्च में 12 दिन स्टॉक मार्केट हॉलिडे पर एक शनिवार रहेगा वर्किंग

शनिवार 2 मार्च को NSE और BSE ने स्पेशल ट्रेडिंग सेशन आयोजित करने का ऐलान किया है जिसके चलते मार्च का पहला शनिवार वर्किंग रहेगा. 2 मार्च को इक्विटी और इक्विटी डेरिवेटिव्स सेगमेंट में ट्रेडिंग होगी. इस दिन डिजास्टर रिकवरी साइट (DR Site) पर इंट्रा डे स्विच ओवर किया जाएगा. इस दिन दो स्पेशल ट्रेडिंग सेशन आयोजित होंगे जिसमें पहला ट्रेडिंग सेशन सुबह 9.15 बजे से 10 बजे तक और दूसरा ट्रेडिंग सेशन 11.30 बजे से दोपहर 12.30 बजे तक आयोजित किया जाएगा.

इस स्पेशल सेशन को पहले 20 जनवरी को होना था लेकिन अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के चलते 22 जनवरी को घरेलू शेयर बाजार बंद रखे गए थे. इसके एवज में 20 जनवरी (शनिवार) को शेयर बाजार ओपन रखा गया था जिस दिन सामान्य कामकाज हुआ था.

...

4.5 हजार गुना बड़ा हो गया यूपी बजट

वर्ष 2024-25 का उत्तर प्रदेश का बजट कल यानी कि 5 फरवरी सोमवार को पेश किया जाएगा. उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना कल इस बजट को विधानमंडल में पेश करेंगे. एक अनुमान के मुताबिक यह बजट अब तक का सबसे बड़ा बजट होने वाला है , इसका आकार लगभग 7.50 लाख करोड रुपए से अधिक का होने का अनुमान है.  सूत्रों की माने तो इस बजट में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कई बड़ी सौगातों को धन आवंटित हो सकता है.

बजट के पहले होगी कैबिनेट बैठक

बजट पेश होने से पहले कैबिनेट बैठक होगी. ये बैठक सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में होगी इसमें बजट के मसौदे को मंजूरी दिलाई जाएगी. इसके बाद वित्त मंत्री सुरेश खन्ना विधानसभा में बजट पेश करेंगे ही बजट. पिछले दिनों केंद्र सरकार के अंतरिम बजट को उत्तर प्रदेश सरकार का यह बजट काफी कुछ सपोर्ट करते हुए नजर आएगा.

औद्योगिक गलियारों को बढ़ावा देने पर रहेगा फोकस

सूत्रों की माने तो कल पेश होने वाले उत्तर प्रदेश के इस बजट में तीन से चार नए औद्योगिक गलियारे बनाने के लिए वित्त मंत्री की तरफ से एक बड़ा बजट आवंटित किया जा सकता है. उत्तर प्रदेश में मौजूद औद्योगिक गलियारों के विकास के साथ नई औद्योगिक गलियारे बनाने पर सरकार का फोकस है, जिससे बड़े स्तर पर इन्वेस्टमेंट उत्तर प्रदेश में आए और 1 ट्रिलियन डॉलर इकोनामी बनाने में उत्तर प्रदेश अग्रणी भूमिका निभा सके.

धार्मिक स्थलों के विकास पर भी रहेगा फोकस

औद्योगिक गलियारों के साथ ही धार्मिक स्थलों के विकास पर भी विशेष फोकस बजट में देखने को मिल सकता है.अयोध्या, काशी और मथुरा जैसे धार्मिक स्थलों के विकास पर सरकार का विशेष फोकस दिखने वाला है तो वही कुंभ की तैयारी के लिए भी स्पेशल पैकेज सरकार इस बजट में आवंटित कर सकती है.

मेट्रो का होगा विस्तार 

योगी आदित्यनाथ की सरकार इस बजट में मेट्रो के विस्तार पर भी बड़ा पैसा खर्च करने वाली है. जानकारी के मुताबिक इस बात की उम्मीद जताई जा रही है कि योगी आदित्यनाथ की सरकार लखनऊ में मेट्रो के विस्तार के साथ ही गोरखपुर, प्रयागराज ,वाराणसी में मेट्रो को बनाने के लिए भी बड़ा बजट देने वाली है.

किसानों को मिलेगी सौगात

योगी आदित्यनाथ की सरकार इस बजट में किसानों को भी बड़े स्तर पर सौगात देने का मन बना रही है. इसमें सरकार बिजली में रियायत देने के साथ ही गन्ना भुगतान के लिए पैसे का आवंटन तो वहीं एमएसपी बढ़ाने के लिए भी बड़ा बजट आवंटित कर सकती है.

पेश होगा पेपरलेस बजट

योगी सरकार में वित्त मंत्री सुरेश खन्ना इस बार आठवां बजट पेश करने जा रहे हैं. इस कार्यकाल के पहले भी सुरेश खन्ना योगी आदित्यनाथ की सरकार का बजट पेश करते आए हैं. 2023 का बजट पेपरलेस बजट था और इस बार का भी बजट पेपरलेस बजट रहने वाला है.




...

इंफ्रास्ट्रक्चर की मजबूती के लिए 11.11 लाख करोड़ रुपये का प्रावधान

मोदी सरकार ने देश के आधारभूत ढांचे की मजबूती के लिए बजट में भारी भरकम बढ़ोतरी करने का एलान किया है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इंफ्रास्ट्रक्चर बजट में 11.1 फीसदी की बढ़ोतरी का एलान करते हुए इसे बढ़ाकर 11,11,111 करोड़ रुपये कर दिया है जो कि जीडीपी का 3.4 फीसदी है.  

देश का इंफ्रास्ट्रक्चर होगा वर्ल्ड क्लास 

आधारभूत ढांचे की मजबूती पर जोर देते हुए वित्त मंत्री ने कैपिटल एक्सपेंडिचर के बजट  को लगातार चौथे वर्ष बढ़ाने का फैसला किया है. इंफ्रास्ट्रक्चर बजट को 11.1 फीसदी बढ़ाकर 11.11 लाख करोड़ रुपये कर दिया गया है जो कि जीडीपी का 3.4 फीसदी है.  

तीन आर्थिक रेलवे कॉरिडोर का होगा निर्माण 

कैपिटल एक्सपेंडिचर के बजट के बढ़ाने जाने के बाद ये उम्मीद की जा रही कि सरकार का फोकस आधारभूत ढांचे की मजबूती के साथ रेलवे पर रहने वाला है. तीन प्रमुख आर्थिक रेलवे कॉरिडोर  कार्यक्रम को लागू किया जाएगा जिसमें एनर्जी, मिनल्स सीमेंट कॉरिडोर  शामिल है. इसके अलावा पोर्ट कनेक्टिविटी और हाई डेनसिटी कॉरिडोर तैयार किया जाएगा. 

40,000 बोगियों को वंदे भारत स्टैंडर्ड में बदला जाएगा 

मल्टी-मोडल कनेक्टिविटी के लिए पीएम गति शक्ति के तहत इन प्रोजेक्ट्स की पहचान की गई है. इससे देश में लॉजिस्टिक कॉस्ट को बढ़ाने में कमी मिलेगी. इन प्रोजेक्ट्स के चलते हाई ट्रैफिक कॉरिडोर  में कंजेशन दूर करने से पैसेंजर ट्रेनों के ऑपरेशन में सुधार होगा. जिससे रेल यात्रा सुरक्षित होगी और ट्रेनों के स्पीड को बढ़ाने में भी मदद मिलेगी.  वित्त मंत्री ने एलान किया कि 40,000 नॉर्मल बॉगियों को वंदे भारत के स्टैंडर्ड के बराबर ट्रेनों में बदला जाएगा जिससे रेल यात्रा सुरक्षित और आरामदायक बनाया जा सके. 

पूर्ण बजट में बढ़ सकता है प्रावधान  

अंतरिम बजट में 11.11 लाख करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है. लेकिन नई सरकार के गठन के बाद जब फुल बजट पेश किया जाएगा तो इस रकम को बढ़ाया भी जा सकता है. पिछले साल 2023-24 के बजट में कैपिटल एक्सपेंडिचर के लिए 10 लाख करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया था.  


...